You are here
Home > QB Subjectwise > 028 Hindi Language Previous Year Questions for CTET & TET Exams

028 Hindi Language Previous Year Questions for CTET & TET Exams

Hindi Language Previous Year Questions for CTET & TET Exams

Q1. इस कविता में कौन किसे सम्बोधित कर रहा है?
(1) कोई किसी को नहीं
(2) लेखक नाविक की माँ को
(3) लेखक अपनी माँ को
(4) लेखक के रूप में एक बच्चा माँ को
Ans: (4) उपर्युत्त कविता में लेखक के रूप में एक बच्चा अपनी माँ को सम्बोधित कर रहा है और वह कह रहा है कि माँ मैं बड़ा होकर नाव चलाना चाहता हूँ। जिससे मैं नदी के उस पार का आनन्द ले सकूं लेकिन उसे पता है कि माँ उसे नांव चलाने वाला नहीं बनने देंगी।
Q2. लेखक नाविक क्यों बनना चाहता है?
(1) वह नाव चलाने सम्बन्धी अपने शौक को पूरा करना चाहता है
(2) वह नदी की यात्रा का मजा लेना चाहता है
(3) वह नदी पार के सौन्दर्य का आनन्द उठाना चाहता है
(4) वह हल चलाना चाहता है
Ans: (3) उपर्युत्त कविता में लेखक नाविक बनकर नदी के उस पार के सौन्दर्य का आनन्द उठाना चाहता है। इसीलिए वह अपनी माँ से नदी के उस पार के सौन्दर्य का वर्णन करता है तथा कहता है कि माँ अगर तुम बुरा न मानो तो मैं बड़ा होकर नाव खेने वाला एक नाविक बनूँगा।
Q3. नावों को बाँसों की खूँटियों से क्यों बाँधा गया होगा?
(1) बाँसों की खूँटियाँ पानी में तैरती रहती है
(2) कहीं लहरें नाव को बहाकर न ले जाएँ
(3) ताकि कोई दूसरा व्यत्ति नाव न ले जाए
(4) नाविक ऐसा ही करते है
Ans: (2) नाँव को बाँसों की खूटियों से इसलिए बाँधा गया है ताकि कहीं लहरें नाँव को बहाकर न ले जाएँ।
Q4. ‘माँ तू बुरा न माने तो’ पंक्ति किस ओर संकेत नहीं करती?
(1) माँ को बुरा लग गया है
(2) लेखक माँ की इच्छा के अनुसार कार्य करना चाहता है
(3) लेखक माँ के संवेगों का ध्यान रखता है
(4) लेखक जानता है कि माँ उसे नाविक नहीं बनने देगी
Ans: (4) लेखक जानता है कि माँ उसे नाविक नहीं बनने देगी।
Q5. कविता में पुनरुत्त शब्द-युग्म आए हैं
(1) गाय-बैल
(2) दूर-दूर, ऊँची-उँची
(3) दूर-दूर
(4) ऊँची-ऊँची
Ans: (2) दूर-दूर, ऊँची-ऊँची कविता में प्रयुत्त पुनरुत्त शब्द है। शब्दों के इस तरह के प्रयोग से भाषा में सौन्दर्य आ जाता है।
Q6. ‘तैरकर जाते हैं उस पार’ पंत्ति में ‘तैरकर’ शब्द को पहले रखा गया है क्योंकि
(1) लेखक तुक मिला रहा है
(2) लेखक तैरने पर बल देना चाहता है
(3) वह क्रिया शब्द है
(4) कविता में क्रिया शब्द पहले आते हैं
Ans: (1) ‘तैर कर जाते हैं उस पार’ पंत्ति में तैरकर शब्द को पहले रखा गया है क्योंकि कविता में लेखक तुकबन्दी को मिला रहा है।
निर्देश (प्र. सं. 715) नीचे दिए गद्यांश को ध्यानपूर्वक पढ़िए और उस पर आधारित प्रश्नों के उचित उत्तर दीजिए। क्या आपने कभी महसूस किया है कि किसी सवाल का सही उत्तर मिल जाने के बाद सिर्फ उकताहट के सिवा कुछ बाकी नहीं बचता। इसके बाद सारे रास्ते बन्द से लगने लगते हैं। दूसरी ओर एक गलत जवाब उतना ही रोचक होता है जितना कोई रहस्यमय कत्ल
मुझे इस बात पर आश्चर्य होता है कि अपने अट्‌ठाइस वर्षों के अध्यापन के अनुभव में मैंने गलत उत्तरों से कितना कुछ सीखा है। अपनी खुद की और अपने विद्यार्थियों, दोनों द्वारा की गई गलतियों से। अब जब भी कोई विद्यार्थी किसी प्रश्न का गलत उत्तर देता है, तो मैं उससे सबसे पहले यह पूछता हूँ कि उसने ऐसा उत्तर क्या सोचकर दिया?
Q7. गलत जवाब को रोचक क्यों कहा गया है?

(1) गलत जवाब प्रश्नकर्ता को सोचने के लिए प्रेरित कर सकते है
(2) गलत जवाब पर हँसने को मिलता है
(3) गलत जवाब रोचक ही होते है
(4) गलत जवाब में बेतुकी बातें होती हैं
Ans: (1) गलत जबाव प्रश्नकर्ता को सोचने के लिए प्रेरित कर सकते हैं इसलिए गलत जवाब को रोचक कहा गया है। किसी भी सवाल का सही जवाब मिल जाने के बाद सिर्फ बेचैनी के सिवाय कुछ नहीं बचता जबकि कवि ने गलत जवाब की रोचकता को रहस्यमय कत्ल के समान बताया है।
Q8. लेखक ने अपने और अपने विद्यार्थियों के गलत जवाब से क्या सीखा?
(1) लोग गलत जवाब देकर रोमांच महसूस करते हैं
(2) गलत जवाब देने से रोमांच समाप्त हो जाता है
(3) सवालों के सही जवाब
(4) लोगों के सोचने के तरीके अलग-अलग होते हैं
Ans: (4) लेखक ने अपने और अपने विद्यार्थियों के द्वारा दिये गये गलत जवाब से सीखा कि लोगों के सीखने के तरीके अलग- अलग होते हैं।
Q9. कला-संकाय के छात्रों को विज्ञान की परीक्षाएँ उतनी रोमांचक नहीं लगती थीं, क्योंकि
(1) विज्ञान की परीक्षाओं में चुनौतीपूर्ण प्रश्न होते हैं
(2) विज्ञान की परीक्षाएँ अनुमान लगाने का अवसर नहीं देती क्योंकि उसके जवाब तयशुदा है
(3) विज्ञान के सभी सवालों के जवाब सुनिश्चित हैं
(4) विज्ञान की परीक्षाओं में अच्छे सवाल नहीं होते थे
Ans: (3) कला संकाय के छात्रों को विज्ञान की परीक्षाएं उतनी रोमांचक नहीं लगती क्योंकि विज्ञान के सभी सवालों के जवाब सुनिश्चित होते हैं।
Q10. अनुच्छेद के आधार पर इनमें से कौन-सा कथन गलत है?
(1) गलत उत्तर से दिमाग में कशमकश होने लगती है
(2) गलत जवाब बच्चों के दिमाग में चल रही चिन्तन प्रक्रिया को उजागर करने की कोशिश करते हैं
(3) भौतिक विज्ञान के शिक्षक बच्चों से सही जवाब चाहते थे
(4) भौतिक विज्ञान के शिक्षक सही उत्तर के लिए बहुत मेहनत करते थे
Ans: (1) अनुच्छेद के आधार पर कथन गलत उत्तर से दिमाग में कशमकश होने लगती है। गलत कथन है क्योंकि दिमाग में कशमकश तब होती है जब कोई विद्यार्थी किसी पहलू पर पकड़ बनाने की कोशिश कर रहा होता है। जबकि भौतिक विज्ञान के शिक्षक बच्चों से सही उत्तर के लिए बहुत मेहनत करते हैं और बच्चों के दिमाग में चल रहे चिन्तन प्रक्रिया को उजागर करते है। सही कथन है।
Q11. गलत जवाब का क्या कारण नहीं हो सकता?
(1) नियमों में कमियाँ
(2) व्याख्या को सही रूप में प्रस्तुत न करना
(3) तर्क का अभाव, तथ्यों की सही उपलब्धि
(4) समझ न आना
Ans: (1) उपर्युत्त अवतरण के अनुसार नियमों में कमियाँ रह जाना, गलत जवाब का कारण नहीं हो सकता जबकि व्याख्या को सही रूप में प्रस्तुत न करना तर्क का अभाव, तथ्यों की सही उपलब्धि समझ न आना गलत जवाब का कारण हो सकता है।
Q12. पाठ में मुख्य रूप से यह कहा गया है कि–
(1) गलत जवाब की मुख्य जिम्मेदारी बच्चे की है
(2) गलत जवाब यह बताता है कि बच्चे के दिमाग में क्या चल रहा है?
(3) गलत जवाब बच्चों की चिन्तन-प्रक्रिया को कुन्द कर देते हैं
(4) गलत जवाब शिक्षकों को अच्छे लगते हैं
Ans: (2) पाठ में मुख्य रूप से यह कहा गया है कि गलत जवाब यह बताता है कि बच्चे के दिमाग में क्या चल रहा है।
Q13. ‘विज्ञान’ में ‘इक’ प्रत्यय लगाने से शब्द बनेगा–
(1) विज्ञानीक
(2) वेज्ञानिक
(3) विज्ञानिक
(4) वैज्ञानिक
Ans: (4) विज्ञान में ‘इक’ प्रत्यय लगाने से वैज्ञानिक शब्द बनेगा। प्रत्यय – ये शब्दों अथवा धातुओं के अन्त में लगाये जाते हैं। इनके प्रयोग से शब्द भेद और उनके अर्थ में भी अन्तर हो जाता है। इनका प्रयोग स्वतन्त्र रूप में नहीं होता।
Q14. परीक्षा, प्रश्न, गलती शब्द के बहुवचन रूप है–
(1) परीक्षाएँ, प्रश्न, गलतियाँ
(2) परीक्षाएँ, प्रश्न, गलतियों
(3) परीक्षाएँ, प्रश्नों, गलतियाँ
(4) परीक्षाओं, प्रश्नों, गलतियों
Ans: (4) परीक्षा, प्रश्न, गलती शब्द के बहुवचन रुप क्रमशः परीक्षाओं, प्रश्नों, गलतियों हैं।
Q15. अपनी खुद की और अपने विद्यार्थियों……….वाक्य में रेखांकित सर्वनाम है।
(1) अनिश्चयवाचक सर्वनाम
(2) निजवाचक सर्वनाम
(3) पुरुषवाचक सर्वनाम
(4) सम्बन्धवाचक सर्वनाम
Ans: (2) अपनी खुद की और अपने विद्यार्थियों वाक्य में रेखांकित शब्द ‘खुद’ निजवाचक सर्वनाम का उदाहरण है। सर्वनाम – सर्वनाम उस विकारी शब्द को कहते है जो पूर्वापर सम्बन्ध से किसी भी संज्ञा से पहले आता है। हिन्दी में सर्वनाम की कुल सं. (11) है तथा सर्वनाम के कुल 6 भेद है। 1. पुरुषवाचक सर्वनाम 2. निजवाचक सर्वनाम 3. निश्चयवाचक सर्वनाम 4. अनिश्चयवाचक सर्वनाम 5. सम्बन्धवाचक सर्वनाम 6. प्रश्नवाचक सर्वनाम (स्रोत-हिन्दी व्याकरण और रचना (पृष्ठ-108) वासुदेव नन्दन प्रसाद)
Q16. माधुरी पढ़ते समय कभी-कभी वाक्यों, शब्दों की पुनरावृत्ति करती है। इसका यह भाषायी व्यवहार दर्शाता है कि
(1) वह अटक-अटककर ही पढ़ सकती है
(2) वह समझ के साथ पढ़ने की कोशिश कर रही है
(3) उसे पढ़ना बिल्कुल नहीं आता
(4) वह पढ़ने में ज्यादा समय लेती है
Ans: (2) जब कोई विद्यार्थी पढ़ते समय कभी-कभी वाक्यों शब्दों की पुनरावृत्ति करता है तो उसका यह भाषायी व्यवहार दर्शाता है कि वह समझ के साथ पढ़ने की कोशिश कर रहा है। इसलिए माधुरी का वाक्यों का दोहराना एवं शब्दों की पुनरावृत्ति यह दर्शाता है कि वह समझ के साथ पढ़ने की कोशिश कर रही है।
Q17. ‘उसने पढ़ा।’, ‘उसने खाया।’ और ‘उसने चीखा।’ जैसे भाषा-प्रयोग दर्शाते हैं
(1) सन्दर्भ की समझ न होना
(2) नियम का उल्लंघन
(3) नियम कंठस्थ न होना
(4) नियमों का अति सामान्यीकरण
Ans: (3) उसने पढ़ा
उसने खाया
और उसने चीखा
जैसा भाषा प्रयोग यह दर्शाता है उसे नियम कंठस्थ नहीं है।
Q18. व्याकरण-शिक्षण के सन्दर्भ में कौन-सा कथन सही है?
(1) भाषा-प्रयोग की अपेक्षा भाषा-नियमों को ही महत्व देना चाहिए
(2) व्याकरण-शिक्षण के लिए समय-सारणी में अलग से काव्यांशों की व्यवस्था होनी चाहिए
(3) बच्चे परिवेश में उपलब्ध भाषिक प्रयोगों के आधार पर स्वयं भाषा के नियम बनाने की क्षमता रखते हैं
(4) व्याकरण-शिक्षण अत्यन्त आवश्यक है
Ans: (4) व्याकरण-शिक्षण के सन्दर्भ में व्याकरण शिक्षण अत्यन्त आवश्यक है। क्योंकि जब तक विद्यार्थी को व्याकरण की अच्छी जानकारी नहीं होगी तब तक उसे भाषा प्रयोग में कठिनाई होगी।
Q19. भाषा की पाठ्‌य-पुस्तक में ऐसे पाठ रखे जाएँ जो
(1) अत्यन्त छोटे हों
(2) केवल व्याकरणिक नियमों का ही अभ्यास कराते हों
(3) सरल भाषा से युत्त हों
(4) बच्चों के परिवेश से जुड़े हों
Ans: (4) भाषा की पाठ्‌यपुस्तक में ऐसा पाठ रखना चाहिए जो बच्चों के परिवेश से जुड़ा हो ऐसा करने से भाषा के प्रति उनका लगाव बढ़ेगा तथा उनका मानसिक तथा बौद्धिक विकास भी अधिक होगा।
Q20. कक्षा में मौजूद बहुभाषिकता
(1) शिक्षक के लिए एक जटिल और कठोर चुनौती है
(2) बच्चों को ‘लक्ष्य भाषा’ सीखने के लिए हतोत्साहित करती है
(3) भाषा-शिक्षण में बाधक है
(4) भाषा-शिक्षण में एक संसाधन के रूप में प्रयुत्त हो सकती है
Ans: (4) कक्षा में मौजूद बहुभाषिकता भाषा शिक्षण में एक संसाधन के रूप में प्रयुत्त हो सकती है।
Q21. द्वितीय भाषा के रूप में हिन्दी सीखने का मुख्य उद्देश्य है
(1) हिन्दी और अपनी मातृभाषा के अन्तर को कंठस्थ करना
(2) मानक हिन्दी लिखने में निपुणता प्राप्त करना
(3) हिन्दी के व्याकरण पर अधिकार प्राप्त करना
(4) दैनिक जीवन में हिन्दी में समझने तथा बोलने की क्षमता का विकास करना
Ans: (4) द्वितीय भाषा के रूप में हिन्दी सीखने का मुख्य उद्देश्य है दैनिक जीवन में हिन्दी में समझने तथा बोलने की क्षमता का विकास करना।
Q22. निम्नलिखित में से कौन-सा उच्च प्राथमिक स्तर पर भाषा शिक्षण का उद्देश्य नहीं है?
(1) व्याकरण के नियमों को रटना
(2) सही रूप में समझना
(3) निजी अनुभवों के आधार पर भाषा का सृजनशील प्रयोग
(4) दूसरों के अनुभवों से जुड़ पाना और सन्दर्भों में चीजों को समझना
Ans: (1) व्याकरण के नियमों को रटना उच्च प्राथमिक स्तर पर भाषा शिक्षण का मुख्य उद्देश्य नहीं है जबकि निजी अनुभवों के आधार पर भाषा का सृजनशील प्रयोग तथा दूसरों के अनुभवों से जुड़ पाना और सन्दर्भो को सही रूप से समझना उच्च प्राथमिक स्तर पर भाषा शिक्षण का उद्देश्य है।
Q23. सपना अपनी कक्षा के बच्चों को मौखिक अभिव्यत्ति के अवसर देने के लिए अनेक क्रिया-कलाप करती है। आप निम्नलिखित में से सबसे ज्यादा प्रभावी किसे मानते हैं?
(1) शब्दों को जोर-जोर से बोलना
(2) विभिन्न परिस्थितियों से संवाद-अदायगी करना
(3) कहानी को बोल-बोलकर पढ़ना
(4) समाचार-पत्र का वाचन करना
Ans: (2) मौखिक अभिव्यत्ति के लिए सबसे प्रभावी विधि है विभिन्न परिस्थितियों में संवाद अदायगी करना अतः सपना का बच्चों को मौखिक अभिव्यत्ति के लिए सर्वाधिक अच्छा क्रिया कलाप विभिन्न परिस्थितियों में संवाद अदायगी करना होगा।
Q24. सुहेल एक साल पहले असोम से पंजाब आया है। वह हिन्दी भाषा का प्रयोग करते समय त्रुटियाँ करता है। एक शिक्षक के रूप में आप किस कथन को सही मानेंगे?
(1) सुहेल को भाषा प्रयोग के अधिकाधिक अवसर व प्रोत्साहन देना चाहिए
(2) उसे रोज एक घण्टा हिन्दी भाषा के शब्द बोलने का अभ्यास कराना चाहिए
(3) सुहेल को बार-बार उसकी त्रुटियों के बारे में बताना चाहिए
(4) सुहेल की मातृभाषा का प्रभाव लक्ष्य भाषा पर नहीं पड़ने देना चाहिए
Ans: (1) एक शिक्षक को चाहिए कि वह सुहेल को भाषा के प्रयोग के अधिक से अधिक अवसर दे व प्रोत्साहन दे जिससे भाषा के प्रति उसकी रुचि बढ़ेगी तथा उसकी त्रुटियों में सुधार होगा। क्योंकि अधिगम एक सतत्‌ एवं व्यापक प्रक्रिया है।
Q25. भाषा के सन्दर्भ में निदानात्मक परीक्षण का उद्देश्य है
(1) बच्चों को अगली कक्षा में प्रोन्नत करना
(2) बच्चों हेतु भाषा-प्रयोग के अवसर जुटाना
(3) बच्चों की विभिन्न श्रेणियों में विभत्त करना
(4) बच्चों की भाषा-प्रयोग सम्बन्धी कठिनाइयों के सम्भावित कारणों की पहचान करना
Ans: (4) भाषा के शिक्षण में निदानात्मक शिक्षण का उद्देश्य बच्चों की भाषा प्रयोग सम्बन्धी कठिनाइयों के सम्भावित कारणों की पहचान करना है।
Q26. भाषा के सतत्‌ और व्यापक मूल्यांकन का उद्देश्य है
(1) अगली कक्षा में प्रोन्नत करने हेतु साक्ष्य जुटाना
(2) बच्चों की सीखने की प्रक्रिया को समझकर उपयुक्त शिक्षण-अधिगम प्रक्रिया अपनाना
(3) बच्चों की त्रुटियों को पहचान करना
(4) मूल्यांकन की परम्परा का निर्वाह करना
Ans: (2) बच्चों की सीखने की प्रक्रिया को समझ कर उपयुक्त शिक्षण अधिगम प्रक्रिया अपनाना भाषा के सतत्‌ एवं व्यापक मूल्यांकन का उद्देश्य है।
Q27. उपचारात्मक शिक्षण की सफलता मुख्यतः निर्भर करती है
(1) बच्चों की भाषागत त्रुटियों की सूची बनाने पर
(2) बच्चों की समाज-सांस्कृतिक पृष्ठभूमि पर
(3) समस्याओं की पहचान पर
(4) समस्याओं के कारणों की सही पहचान पर
Ans: (3) उपचारात्मक शिक्षण की समस्या मुख्यतः समस्याओं की पहचान पर निर्भर करती है। क्योंकि शिक्षण में जिस प्रकार की भी समस्या आती है उसे उपचारात्मक शिक्षण के माध्यम से दूर किया जायेगा।
Q28. उच्च कक्षाओं में
(1) केवल छन्द-अलंकारों को समझने के प्रयास करना ही भाषा-शिक्षण का उद्देश्य है
(2) साहित्य साध्य है और भाषा-कौशल साधन
(3) भाषा-कौशल साध्य है और साधन है- साहित्य
(4) भाषा की पाठ्‌य-पुस्तक अत्यन्त महत्वपूर्ण है
Ans: (3) उच्च कक्षाओं में भाषा के सभी कौशल साध्य के रूप में प्रयोग किए जाते है तथा ‘साहित्य’ साधन के रूप में प्रयोग किया जाता है।
Q29. भाषा-अर्जन
(1) भाषा की कक्षा में ही सम्भव है
(2) शिक्षक की आवश्यक उपस्थिति की माँग करता है
(3) सहज, स्वाभाविक होता है
(4) प्रयासपूर्ण होता है
Ans: (3) भाषा अर्जन सहज एवं स्वाभाविक होता है। भाषा अर्जन पूर्णतः परिवेश पर निर्भर होता है। बालक जिस भाषा परिवेश में रहता है वही भाषा सीखता है।
Q30. उच्च प्राथमिक स्तर पर भाषा-शिक्षण की प्रक्रिया में सबसे अधिक महत्त्वपूर्ण है
(1) पठन-कौशल पर अधिक बल देना
(2) पाठ्‌य-पुस्तक में दिए गए साहित्यिक अंशों की विस्तृत व्याख्या
(3) पाठों के शब्दों का अर्थ जानने के लिए शब्दकोश का प्रयोग करना
(4) समाचार-पत्र, पत्रिकाओं या अन्य भाषिक सामग्री में कहीं गई बात के निहितार्थ, सोच, सरोकार की पहचान करना
Ans: (4) उच्च प्राथमिक स्तर पर भाषा शिक्षण की प्रक्रिया में समाचार पत्र, पत्रिकाओं या अन्य भाषिक सामग्री में कही गई बात के निहितार्थ, सोच, सरोकार की पहचान करना सबसे अधिक महत्वपूर्ण होगा।
निर्देश : निम्नलिखित प्रश्नों के उत्तर देने के लिए सबसे उचित विकल्प चुनिए।

Top
error: Content is protected !!