You are here
Home > QB Subjectwise > 024 Hindi Language Previous Year Questions for CTET & TET Exams

024 Hindi Language Previous Year Questions for CTET & TET Exams

Hindi Language Previous Year Questions for CTET & TET Exams

Q1. शिक्षा का अर्थ है –
(1) बच्चों को केवल अक्षर ज्ञान देना
(2) बच्चों को जानकारी देना
(3) बच्चों को शक्तिशाली बनाना
(4) बच्चों में विद्यमान शक्तियों का प्रस्फुटित करना
Ans: (4) उपर्युत्त गद्यांश के अनुसार शिक्षा का अर्थ है बच्चों में विद्यमान शक्तियों को प्रस्फुटित करना, क्योंकि गद्यांश में लेखक ने बताया है कि बालक की जन्मजात मिली प्रतिभा को जगाने के लिए हमें शिक्षा की आवश्यकता पड़ती है और इसी शिक्षा के माध्यम से ही हम बच्चों के अन्दर छुपी हुई प्रतिभा को प्रस्फुटित कर सकते हैं।
Q2. लेखक के अनुसार–
(1) बच्चों में अलग-अलग प्रतिभा होती है
(2) सभी बच्चे समान रूप से प्रतिभाशाली होते हैं
(3) सभी बच्चे शाला जाकर प्रतिभाशाली बन जाते हैं
(4) सभी बच्चों की शक्तियाँ सुषुप्त अवस्था में ही रहती है
Ans: (1) लेखक के अनुसार सभी बच्चों में अलग-अलग प्रतिभा होती है और वह प्रतिभा बच्चा जन्म से लेकर आता है।
Q3. बच्चों को शिक्षा देने के लिए सबसे पहले क्या जरूरी है?
(1) बच्चों को प्रतिभाओं के अनुसार वर्गीकृत करना
(2) प्रतिभाओं के विभिन्न रूप जानना
(3) बच्चों की समस्त क्षमताओं, प्रतिभाओं को जानने के लिए उन्हें पढ़ना
(4) बच्चों को पढ़ाना
Ans: (3) बच्चों को शिक्षा देने के लिए सबसे पहले जरूरी है कि बच्चों की समस्त क्षमताओं, प्रतिभाओं को जानने के लिए उन्हे पढ़ना जिससे यह पहचान हो सके कि बालक में प्रदत्त प्रतिभा क्या है और उसके मन मस्तिष्क में कौन-कौन सी शक्तियाँ विद्यमान हैं।
Q4. इस गद्यांश में शिक्षा का कौन-सा सिद्धान्त निहित है?
(1) सभी बच्चों में वैयत्तिक भिन्नता होती है
(2) सभी बच्चे समान रूप से प्रतिभाशाली होते हैं
(3) शक्तियाँ सदैव सुषुप्त अवस्था में ही रहती हैं
(4) पढ़े-लिखे लोग अनपढ़ होते हैं
Ans: (4) दिये गये गद्यांश में शिक्षा का सिद्धान्त ‘पढ़े लिखे लोग अपनढ़ होते हैं’ को बताया गया है। क्योंकि गद्यांश के अनुसार गुरुदयाल चन्द्र जी सोनी ने कहा किसे कहूँ शिक्षा? क्या है शिक्षा का सच कैसा होता है शिक्षित व्यक्ति, क्योंकि उन्होंने प्रत्येक शिक्षकों से बालकों को पढ़कर पहचानने को कहा कि उनके अन्दर क्या प्रतिभा छिपी है तथा उनके अन्दर विद्यमान शक्ति को जागृति करने की कल्पना की है।
Q5. हर बालक को पढ़-पढ़ कर पहचानें कि वह क्या है?र्विांक्य में ‘पहचानें’ क्रिया का कर्ता हो सकता है–
(1) हम
(2) मैं
(3) तुम
(4) वह
Ans: (1) ‘‘हर बालक को पढ़-पढ़ कर पहचानें कि वह क्या है?’’ वाक्य में ‘पहचानें’ क्रिया का कर्त्ता ‘हम’ है।
Q6. ‘उसकी प्रदत्त प्रतिभा क्या है?’ वाक्य है–
(1) नकारात्मक
(2) विधानवाचक
(3) प्रश्नवाचक
(4) सन्देहवाचक
Ans: (3) उसकी प्रदत्त प्रतिभा क्या है? एक प्रश्नवाचक वाक्य है। जिसमें किसी प्रकार के प्रश्न किए जाने का बोध हो, प्रश्नवाचक वाक्य होता है। जैसे – राम को कौन सी बिमारी है?
Q7. ‘शरीर’ में इक प्रत्यय लगाने पर शब्द बनेगा–
(1) शारीरीक
(2) शरीरिक
(3) शारीरिक
(4) शारिरिक
Ans: (3) शरीर में ‘इक’ प्रत्यय लगाने से शारीरिक शब्द बनेगा। प्रत्यय – शब्दों के बाद जो अक्षर या अक्षर समूह लगाया जाता है उसे ‘प्रत्यय’ कहते हैैं।
Q8. लेखक के अनुसार शिक्षित होना और साक्षर होना–
(1) दोनों में मूलभूत अन्तर होता है
(2) दोनों समान है
(3) दोनों पर्यायवाची हैं
(4) दोनों में थोड़ा-बहुत अन्तर है
Ans: (1) लेखक के अनुसार शिक्षित होना और साक्षर होना दोनों में मूल भूत अन्तर होता है। क्योंकि शिक्षित होने का आशय है पढ़े-लिखे लोग और साक्षर का अर्थ है– जो पढ़ना लिखना जानता हो।
Q9. यहाँ ‘पढ़ा-लिखा’ होने से तात्पर्य है–
(1) अशिक्षित होना
(2) शिक्षित होना
(3) साक्षर होना
(4) निरक्षर होना
Ans: (3) यहाँ पढ़ा लिखा होने से तात्पर्य शिक्षित होना है।
निर्देश (प्र.सं. 1015) निम्नलिखित पंत्तियों को पढ़कर नीचे दिए गए प्रश्नों के लिए सबसे उचित विकल्प का चयन कीजिए। दम्भ का जहाँ-जहाँ पड़ाव था, सत्य से जहाँ-जहाँ दुराव था, वह चला कि अग्नि-बाण मारता, पाप की अहा-अहा उजाड़ता, वज्र बन गिरा गिरे विचार पर

Q10. ‘गिरे विचार’ से तात्पर्य है

(1) मिथ्या विचार
(2) सभी प्रकार के विचार
(3) सत्य और हित से परे विचार
(4) उलझे विचार
Ans: (3) ‘गिरे विचार’ से तात्पर्य सत्य और हित से परे विचार से है। अर्थात कवि का दम्भ (अहंकार) से युत्त विचार जहाँ सत्य भी नहीं है उस विचार की चर्चा करता है।
Q11. नौजवान शहीद ने अग्नि-बाण इसलिए चलाए क्योंकि वह–
(1) सुराज स्थापित करना चाहता था
(2) अपना साम्राज्य स्थापित करना चाहता था
(3) व्रज गिराना चाहता था
(4) अपनी शक्ति की गरिमा बनाए रखना चाहता था
Ans: (1) उपर्युत्त पंत्ति के अनुसार नौजवान शहीद अग्नि बाण चलाकर सुराज स्थापित करना चाहता है वह अहंकार को समाप्त कर सत्य की स्थापना करना चाहता है तथा पाप को अपने बज्र से उखाड़ कर सुराज स्थापित करना चाहता है।
Q12. ‘दुराव’ शब्द से तात्पर्य है–
(1) आवरण
(2) दुर्गम स्थल
(3) काठिन्य
(4) बैर
Ans: (4) ‘दुराव’ शब्द से तात्पर्य बैर या दुश्मनी से है। क्योंकि कवि ने दुराव शब्द का प्रयोग सत्य के लिए किया है। वह बताता है कि सत्य की रक्षा के लिए नौजवान सैनिक किस तरह लोगों से दुश्मनी करता है।
Q13. ‘जहाँ-जहा’ शब्द है–
(1) पुनरुक्त शब्द-युग्म
(2) एकार्थी शब्द-युग्म
(3) विपरीतार्थक शब्द-युग्म
(4) भिन्नार्थी शब्द-युग्म
Ans: (1) ‘जहाँ-जहाँ’ शब्द पुनरुत्त शब्द-युग्म का उदाहरण है। एकार्थी शब्द युग्म-जिन शब्दों के अर्थ में समानता हो उसे एकार्थी शब्द युग्म कहते हैं। विपरीतार्थी शब्द या विलोम शब्द- ऐसे शब्द जो अपने सामने वाले शब्द के सर्वथा विपरीत अर्थ प्रकट करते हैं– विलोम या विपरार्थी शब्द कहते हैैं।
Q14. ‘पाप’ का विलोम शब्द है–
(1) अपाप
(2) प्रायश्चित्त
(3) पुण्य
(4) निरपराध
Ans: (3) पाप का विलोम पुण्य है। नौजवान शहीद ने अपनी सत्य रूपी शक्ति से पापियों को मारता हुआ अहंकार एवं असत्य को नष्ट किया।
Q15. नौजवान शहीद ने किसे नष्ट किया?
(1) असत्य को
(2) अहंकार को
(3) अहंकार और सत्य को
(4) अहंकार और असत्य को
Ans: (4) नौजवान शहीद ने अहंकार एवं असत्य को नष्ट किया।
Q16. उच्च प्राथमिक स्तर पर कहानी, कविता पढ़ने के बाद यह जरूरी है कि बच्चे–
(1) उसे अपने शब्दों में दोहरा सवें
(2) प्रश्नों के लिखित उत्तर दे सवें
(3) विपरीत भाव की कहानी या कविता लिख सवें
(4) उन्हें अपने अनुभव संसार से जोड़ सवें
Ans: (4) उच्च प्राथमिक स्तर पर कहानी, कविता पढ़ने के बाद यह जरूरी है कि बच्चे उन्हें अपने अनुभव संसार से जोड़ सकें। यदि वे ऐसा कर सकेगें तो यह माना जायेगा कि अधिगम हुआ है।
Q17. प्लेटो का यह कथन कि ‘बच्चा बड़ों के बीच एक विदेशी की तरह होता है’ किस भाषिक सचाई की ओर संकेत करता है?
(1) बच्चा बड़ों से उम्र में छोटा होने के कारण अजनबी बना रहता है
(2) बच्चे अपनी भाषा में बोलते हैं, जिसे बड़े सही-सही नहीं समझ पाते
(3) बच्चों की भाषा अपरिपक्व होती है
(4) बच्चों की भाषा के प्रति बड़ों का दृष्टिकोण संकीर्णता से परिपूर्ण होता है
Ans: (2) बच्चे अपनी भाषा में बोलते है जिसे बड़े सही-सही नहीं समझ पाते, क्योंकि बच्चा बड़ों के बीच में एक विदेशी की तरह होता है।
Q18. ‘भाषा की कक्षा’ में कहानियाँ–
(1) पाठय-पुस्तक का एक पाठ हैं
(2) मनोरंजन का साधन है
(3) विभिन्न प्रकार की भाषायी संरचनाएँ और चिन्तन-विकास की सम्भावनाएँ लिए होती है
(4) भाषा-कौशल के विकास का एकमात्र साधन है
Ans: (3) भाषा की कक्षा में कहानियाँ विभिन्न प्रकार की भाषायी संरचनाएँ और चिन्तन विकास की सम्भावनाएं लिए होती है। क्योंकि कहानियां हमें वास्तविक जीवन के विकास के साथ-साथ भाषाई संरचना का भी विकास करती है। इनके ही माध्यम से अमूर्त चिन्तन शक्ति का भी विकास होता है।
Q19. राष्ट्रीय पाठ्‌यचर्या की रूपरेखा 2005 के अनुसार कौनसा कथन सही है?
(1) भाषा-शिक्षण एक प्रकार से अन्य विषयों की कक्षाओं में भी मौजूद रहता है
(2) भाषा केवल भाषा की कक्षा तक सीमित होनी चाहिए
(3) बच्चे विद्यालय आकर ही भाषा सीखते हैं
(4) प्राथमिक स्तर पर भाषा सीखने-सिखानें में केवल पढ़ने पर बल देना चाहिए
Ans: (1) राष्ट्रीय पाठ्‌यचर्या की रूपरेखा 2005 के अनुसार भाषा शिक्षण एक प्रकार से अन्य विषयों की कक्षाओं में भी मौजूद रहता है।
Q20. भाषा-कौशलों के सन्दर्भ में कौन-सा कथन सही है?
(1) सुनना और पढ़ना निष्व्रिय कौशल हैं
(2) सुनना, बोलना, पढ़ना और लिखना एक क्रम से सीखे जाते हैं
(3) पढ़ना और लिखना कौशल में कोई सम्बन्ध नहीं है
(4) सभी कौशल एक-दूसरे के साथ अन्तः सम्बन्धित होते हैं
Ans: (4) भाषा कौशल के सन्दर्भ में ‘‘सभी कौशल एक दूसरे के साथ अन्तः सम्बन्धित होते हैं’’ सही है। भाषा के दो स्वरूप हैं– (2) मौखिक, (1) लिखित। मौखिक भाषा बोलने और सुनने के कौशल से तथा लिखित भाषा पढ़ने और लिखने के कौशल से संबंधित है। स्पष्ट है कि पढ़ना-लिखना व बोलना-सुनना परस्पर अन्तः संबंधित कौशल हैं।
Q21. उच्च प्राथमिक स्तर पर भाषा की पाठ्‌य-पुस्तक में विविध प्रकार की साहित्यिक रचनाओं के समावेश का मुख्य उद्देश्य यह है–
(1) विभिन्न प्रकार की साहित्यिक विधाओं की भाषायी संरचनाओं से परिचित होने का अवसर देना
(2) बच्चों को सभी प्रकार की साहित्यिक विधाओं में पारंगत करना
(3) विभिन्न साहित्यिक विधाओं के प्रसिद्ध रचनाकारों से परिचित कराना
(4) पाठ्‌य-पुस्तक निर्माण की परम्परा का निर्वाह करना
Ans: (1) उच्च प्राथमिक स्तर पर भाषा की पाठ्‌यपुस्तक में विविध प्रकार की साहित्यिक रचनाओं के समावेश का मुख्य उद्देश्य विभिन्न प्रकार की साहित्यिक विधाओं की भाषायी संरचनाओं से परिचित होने का अवसर देना।
Q22. रश्मि अपनी कक्षा को बाहर मैदान में ले जाती है और पर्यावरण पर आधारित कविता-पाठ का कार्य करती है। रश्मि का उद्देश्य है–
(1) बच्चों को मैदान में घूमने का अवसर देना
(2) बच्चों को रोज़मर्रा की चर्चा से कुछ अलग माहौल देना
(3) मैदान के प्राकृतिक वातावरण के साथ सम्बन्ध जोड़ते हुए कविता को समझने का अवसर देना
(4) अपने शिक्षक-प्रशिक्षण में सीखी बातों का निर्वाह करना
Ans: (3) रश्मि का कक्षा को बाहर मैदान में ले जाना और पर्यावरण पर आधारित कविता पाठ के कार्य का उद्देश्य मैदान के प्राकृतिक वातावरण के साथ सामंजस्य एवं सम्बन्ध स्थापित करते हुए कविता को समझने का अवसर देना है।
Q23. भाषा में आकलन करने के बाद महत्वपूर्ण सोपान होना चाहिए–
(1) आँकड़ों को सहेज कर रखना
(2) आकलन से प्राप्त आँकड़ों के आधार पर बच्चों के अभिभावकों से विचार-विमर्श करना
(3) आँकड़ों की तत्काल नष्ट करना
(4) आँकड़ों का पुनः-पुनः परीक्षण करना
Ans: (2) भाषा में आकलन करने के बाद सबसे महत्वपूर्ण सोपान आकलन से प्राप्त आँकड़ों के आधार पर बच्चों के अभिभावकों से विचार-विमर्श करना।
Q24. विद्यालय में एक से अधिक भाषाओं का शिक्षण–
(1) अनेक भाषाओं के शिक्षकों के रोजगार को बढ़ावा देता है
(2) जटिल समस्याएँ उत्पन्न करता है
(3) बहुभाषिकता और राष्ट्रीय सद्‌भाव का प्रसार करता है
(4) व्यावहारिक नहीं है
Ans: (3) विद्यालय में एक से अधिक भाषाओं का शिक्षण बहुभाषिकता और राष्ट्रीय सद्‌भाव का प्रसार करता है।
Q25. भाषा-शिक्षण की ‘प्रत्यक्ष विधि’ में –
(1) भाषा-अर्जन की स्वाभाविक स्थिति का निर्माण होता है
(2) मातृभाषा का निरर्थक हस्तक्षेप होता है
(3) अतिरित्त शिक्षण सामग्री की कोई आवश्यकता नहीं
(4) भाषा की विविध संरचनाओं के लेखन हेतु अभ्यास पर बल दिया जाता है
Ans: (1) भाषा शिक्षण की प्रत्यक्ष विधि में भाषा अर्जन की स्वाभाविक स्थिति का निर्माण होता है।
Q26. भाषा में रचनात्मक आकलन का सर्वाधिक बेहतर उदाहरण है –
(1) श्रुतलेख
(2) बच्चे को अपने खट्‌टे-मीठे अनुभव लिखने के लिए कहना
(3) प्रश्नों के उत्तर लिखवाना
(4) इकाई-परीक्षा लेना
Ans: (2) ‘बच्चों के अपने खट्‌टे मीठे अनुभव लिखने के लिए कहना’ भाषा में रचनात्मक आकलन का सर्वाधिक बेहतर तरीका है।
Q27. हिन्दी भाषा के प्रश्न-पत्र में आप किस प्रश्न को सर्वाधिक उचित मानते हैं?
(1) प्रत्ययों की परिभाषा लिखिए
(2) विशेषणों के कितने और कौन-से भेद होते हैं?
(3) सर्वनाम के भेदों को उदाहरण सहित स्पष्ट कीजिए
(4) लेखक ने पहाड़ों पर होने वाली बारिश का वर्णन एक अलग तरीके से किया है। आप बारिश सम्बन्धी अपना अनुभव लिखिए
Ans: (4) हिन्दी भाषा के प्रश्न पत्र में ‘लेखक ने पहाड़ों पर होने वाली बारिस का वर्णन एक अलग तरीके से किया है। आप बारिस सम्बन्धी अपना अनुभव लिखिए’ सर्वाधिक उचित प्रश्न होगा। ऐसा करने से बच्चों का प्रकृति के प्रति लगाव होगा तथा वह अपने वातारण के सम्बन्ध में जानकारी हासिल कर सवेंगे। साथ ही साथ उन्हें मौलिक अनुभव की अभिव्यत्ति का अवसर भी मिलेगा, जो भाषायी विकास की प्रमुख कसौटी है।
Q28. चा म्स्की के अनुसार…….के कारण बच्चे भाषा सीखते हैं।
(1) भाषा-अर्जन क्षमता
(2) भाषायी समाज
(3) भाषा-आकलन क्षमता
(4) व्याकरणिक नियमों की जानकारी से ही
Ans: (1) चॉम्स्की के अनुसार भाषा अर्जन क्षमता के कारण बच्चे भाषा सीखते हैैं।
Q29. भाषा-शिक्षण में अनिवार्य है–
(1) समग्रतावादी दृष्टिकोण
(2) मानक भाषा पर बल
(3) विशेष आवश्यकता वाले बच्चों के साथ भिन्न व्यवहार
(4) वर्तनी सम्बन्धी गृहकार्य
Ans: (1) भाषा शिक्षण में अनिवार्य है समग्रतावादी दृष्टिकोण का होना। समग्रतावादी दृष्टिकोण से आशय समग्र विकास से है, शिक्षण में बालक का जब समग्र या सम्पूर्ण विकास होना ही समग्रता है।
Q30. विशेष आवश्यकता वाले बच्चों की भाषा का आकलन करते समय–
(1) उन्हें अधिक अंक देने का प्रयास करना चाहिए
(2) उन्हें प्रश्न-संख्या में विशेष छूट मिलनी चाहिए
(3) उनकी क्षमता और सीमाओं का ध्यान रखना चाहिए
(4) उनके प्रति दया भाव रखना चाहिए
Ans: (3) विशेष आवश्यकता वाले बच्चों की भाषा का आकलन करते समय उनकी क्षमता और सीमाओं का ध्यान रखना चाहिए। ऐसा करने से उनमें कुण्ठा की भावना नहीं व्याप्त होगी तथा उन्हें प्रोत्साहित करने से वे सीखने के प्रति प्रेरित होंगे।
निर्देशः निम्नलिखित प्रश्नों के उत्तर देने के लिए सबसे उचित विकल्प चुनिए।

Top
error: Content is protected !!