You are here
Home > QB Subjectwise > 018 Hindi Language Previous Year Questions for CTET & TET Exams

018 Hindi Language Previous Year Questions for CTET & TET Exams

Hindi Language Previous Year Questions for CTET & TET Exams

Q1. काव्यांश में ‘चमकीली सुबह’ का आशय है –
(1) सूर्य की किरणों से चमकती सुबह
(2) अन्धकार समाप्ति के बाद आशाभरी सुबह
(3) सफेद कोहरे से चमकती सुबह
(4) प्रातः काल का समय
Ans : (2) काव्यांश में ‘चमकीली सुबह’ से आशय अन्धकार समाप्ति के बाद आशा भरी सुबह से है।
Q2. कवि को विश्वास है कि –
(1) कल की सुबह आज से अच्छी होगी
(2) सुबह का समय सदा सुहाना होता है
(3) सुबह का सूर्य कष्ट दूर करता है
(4) आज की सुबह सबसे अच्छी होगी
Ans : (1) कवि को विश्वास है कि सुबह आज से अच्छी होगी क्योंकि कवि के अन्दर जो कुण्ठा की भावना थी वह धीरे-धीरे समाप्त हो रही थी इसीलिए उसको विश्वास था कि अब अन्धकार समाप्त होने वाला है और अच्छी सुबह होने वाली है।
Q3. ‘कुण्ठाओं की टहनी छिन्न-भिन्न होगी’ से तात्पर्य है–
(1) पुरानी डाल टूट जाएगी
(2) दुःख की अनुभूति खत्म होगी
(3) निराशा दूर होगी
(4) मन का दुःख दूर होगा
Ans : (3) कुण्ठाओं की टहनी छिन्न-भिन्न होगी से तात्पर्य है निराशा दूर होगी।
Q4. ‘चाँदनी’ का विशेषण है–
(1) तड़पती
(2) चटकीली
(3) गमकती
(4) महकती
Ans : (2) चाँदनी का विशेषण ‘चटकीली’ है।
Q5. ‘दिल के दरवाजे खुल जाएँगे’ का क्या अर्थ है?
(1) दिलों में सबके प्रति मित्रता रहेगी
(2) आपस में बातें करेंगे
(3) कोई बात छिपी नहीं रहेगी
(4) हृदय से हृदय मिलेंगे
Ans : (1) दिल के दरवाजे खुल जायेगें का अर्थ है दिलों में सबके प्रति मित्रता रहेगी।
Q6. ‘कुसुम’ का पर्यायवाची शब्द नहीं है–
(1) प्रसून
(2) कमल
(3) पुष्प
(4) सुमन
Ans : (2) कुसुम का पर्यायवाची शब्द प्रसून, सुमन, पुष्प है, जबकि कमल कुसुम का पर्यायवाची नहीं है कमल के पर्यायवाची शब्द हैं – पंकज, नीरज, जलज, अम्बुज, वारिज आदि (स्रोत- प्रामाणिक हिन्दी – डा . पृथ्वी नाथ पाण्डेय)
निर्देश (प्र. सं. 715) नीचे दिए गए गद्यांश को पढ़कर निम्नलिखित प्रश्नों में सबसे उचित विकल्प को चुनिए। गद्यांश पर्यावरण के प्रति गहरी संवेदनशीलता प्राचीनकाल से ही मिलती है। अथर्ववेद में लिखा है- भूमि माता है, हम पृथ्वी की सन्तान है। एक स्थान पर यह भी लिखा है कि हे पवित्र करने वाली भूमि, हम कोई ऐसा काम न करें जिससे तेरे हृदय को आघात पहुँचे। हृदय को आघात पहुँचाने का यहाँ अर्थ है पृथ्वी के पारिस्थितिकी तन्त्र के साथ व्रूर छेड़छाड़। हमें प्राकृतिक संसाधनों के अप्राकृतिक और असीमित दोहन से बचना होगा। आज आवश्यकता इस बात की है कि विश्व के तमाम राष्ट्र जलवायु परिवर्तन के गम्भीर खतरे को लेकर आपसी मतभेद भुला दें और अपनी-अपनी जिम्मेदारी ईमानदारी से निभाएँ, ताकि समय रहते सर्वनाश से उबरा जा सके। विश्व-विनाश से निपटने के लिए सामूहिक एवं व्यत्तिगत प्रयासों की जरूरत है। इस दिशा में आन्दोलन हो रहे हैं। अरण्य-रोदन के बदले अरण्य-संरक्षण की बात हो रही है, सचमुच हमें आत्मरक्षा के लिए पृथ्वी की रक्षा करनी होगी। भूमि माता है और हम उसकी सन्तान-इस कथन को चरितार्थ करना होगा।
Q7. ‘हम पृथ्वी की सन्तान है’-‘हम’ से तात्पर्य है–
(1) हम सभी नागरिक
(2) संसार के सभी लोग
(3) एक खास देश के लोग
(4) हम भारतवासी
Ans : (2) उपर्युत्त गद्यांश के अनुसार ‘हम पृथ्वी की संतान हैं में ‘हम’ से तात्पर्य संसार के सभी लोगों से है।
Q8. ‘पर्यावरण’ का सन्धि-विच्छेद होगा–
(1) पर्‌ यावरण
(2) पर्‌ आवरण
(3) परि आवरण
(4) परि यावरण
Ans : (3) पर्यावरण का सन्धि विच्छेद परि आवरण होगा। पर्यावरण का अर्थ है ‘परि’ (चारों तरफ) ‘आवरण’ (घेरे हुए)। जो हमें चारों तरफ से घेरे हुए है, उसे पर्यावरण कहते है।
Q9. हम प्रकृति के हृदय को आघात पहुँचाते हैं यदि हम–
(1) पृथ्वी की खुदाई करते हैं
(2) पारिस्थितिकी से छेड़छाड़ करते हैं
(3) संसाधनों का दोहन करते हैं
(4) पृथ्वी से बुरा व्यवहार करते हैं
Ans : (2) यदि हम परिस्थितिकी से छेड़-छाड़ करते हैं तो हम प्रकृति के हृदय को आघात पहुँचाते हैं क्योंकि गद्यांश में वर्णित है ‘हे पवित्र करने वाली भूमि, हम कोई ऐसा काम न करें जिससे तेरे हृदय को आघात पहुँचे। हृदय को आघात पहुँचाने का अर्थ है पृथ्वी के परिस्थितिकी तन्त्र के साथ व्रूर छेड़-छाड।
Q10. ‘सर्वनाश से उबरा जा सके’- ‘उबरा’ का अर्थ है–
(1) बचा
(2) हटा
(3) निपटा
(4) तैरा
Ans : (1) ‘सर्वनाश से उबरा जा सके’ में ‘उबरा’ का अर्थ है ‘बचा’ जा सके।
Q11. गद्यांश में ‘चरितार्थ करना’ का उल्लेख है। इसका आशय है–
(1) सिद्ध करना
(2) बहस करना
(3) अपनाना
(4) चरित्र-चित्रण करना
Ans : (1) गंद्याश में ‘चरितार्थ करना’ का उल्लेख सिद्ध करना है, क्योंकि कवि यह सिद्ध करना चाहता है कि ‘भूमि माता है और हम उसकी सन्तान हैं।’
Q12. विश्व के सभी देशों से अपेक्षा की गई कि वे–
(1) अपने उत्तरदायित्व ईमानदारी से निभाऐं
(2) पर्यावरण की रक्षा करें
(3) व्यत्तिगत प्रयास करें
(4) मिलजुल कर कार्य करें
Ans : (1) प्रकृति के असीमित दोहन से बचने के लिए एवं जलवायु परिवर्तन के खतरे को लेकर विश्व के सभी देशों से अपेक्षा की गई है कि वे आपसी मदभेद भुला दें और अपना उत्तरदायित्व इमानदारी से निभाएँ।
Q13. ‘अरण्य-संरक्षण’ का अर्थ है–
(1) प्रकृति की रक्षा
(2) वनों की रक्षा
(3) पर्यावरण की रक्षा
(4) सभी की रक्षा
Ans : (2) अरण्य-संरक्षण का अर्थ वनों की रक्षा से है।
Q14. जो सम्बन्ध माँ और उसकी सन्तान में है, वही सम्बन्ध है–
(1) माता और पुत्र में
(2) पृथ्वी और पृथ्वी निवासियों में
(3) धरती और सभी देशों में
(4) प्रकृति और पर्यावरण में
Ans : (2) जो सम्बन्ध माँ और उसकी संतान में है वही सम्बन्ध पृथ्वी और पृथ्वी निवासियों में है क्योंकि गद्यांश में वर्णित है कि भूमि हमारी माता है हम पृथ्वी की सन्तान हैं।
Q15. ‘व्रूर’ शब्द है–
(1) क्रिया
(2) सर्वनाम
(3) विशेषण
(4) संज्ञा
Ans : (3) संज्ञा या सर्वनाम की विशेषता बताने वाले शब्द विशेषण कहलाते है और ‘व्रूर’ विशेषण का शब्द है।
निर्देश (प्र. सं. 1620) नीचे दिए गए प्रश्नों के लिए सबसे उचित विकल्प चुनिए।
Q16. भाषा-अर्जन में बच्चे भाषा को–
(1) अभ्यास और यान्त्रिकता से सीखते हैं
(2) सहज और स्वाभाविक रूप से सीखते हैं
(3) स्वाभाविक और प्रयासपूर्ण तरीके से सीखते हैं
(4) सहजता और अभ्यास से सीखते हैं
Ans : (2) भाषा अर्जन में बच्चे भाषा को सहज और स्वाभाविक रूप से सीखते हैं।
Q17. जो बच्चे विशेष रूप से पढ़ने में कठिनाई महसूस करते हैं, वे–
(1) मन्दबुद्धि होते हैं
(2) डिस्ग्राफिया से ग्रस्त होते हैं
(3) डिस्लेक्सिया से ग्रस्त होते हैं
(4) सीखने में अक्षम होते हैं
Ans : (3) डिस्लेक्सिया से ग्रस्त बच्चे पढ़ने में कठिनाई महसूस करते हैं। और मौखिक रूप से सीखने की अक्षमता को अफेज्यॉ, डिस्फेज्याँ तथा गणित सम्बन्धी समस्याओं को डिस्कैल्कुलिया कहा जाता है।
Q18. हिन्दी भाषा शिक्षक के रूप में आप किसे सबसे अधिक महत्वपूर्ण मानते है?
(1) बच्चों को विभिन्न सन्दर्भों में भाषा प्रयोग सिखाना
(2) बच्चों की लेखन-क्षमता का विकास करना
(3) बच्चों की मौखिक अभिव्यत्ति की क्षमता का विकास करना
(4) बच्चों के व्याकरण के नियम सिखाना
Ans : (1) हिन्दी भाषा शिक्षक के लिए बच्चों की लेखन क्षमता का विकास एवं मौखिक अभिव्यत्ति का विकास एवं व्याकरण के नियमों के सिखाने की अपेक्षा सबसे महत्वपूर्ण है उन्हें विभिन्न सन्दर्भों में भाषा प्रयोग को सिखाना।
Q19. हिन्दी भाषा की बारीकी को सही रूप में समझने की क्षमता का विकास करने के लिए आप क्या करेंगे?
(1) संस्कृतनिष्ठ हिन्दी भाषा से युत्त सामग्री उपलब्ध कराना
(2) हिन्दी भाषा के विभिन्न प्रयोगों से युत्त सामग्री उपलब्ध कराना
(3) हिन्दी भाषा के प्राचीनतम प्रयोगों से युत्त सामग्री उपलब्ध कराना
(4) गूढ़ अर्थ वाली भाषा से युत्त सामग्री पढ़वाना
Ans : (2) हिन्दी भाषा के विभिन्न प्रयोगों से युत्त सामग्री उपलब्ध कराकर हिन्दी भाषा की बारीकी को सही रूप में समझने की क्षमता का विकास किया जा सकता है।
Q20. सातवीं कक्षा में पढ़ने वाली रूबी कक्षा में सबसे पहले अपना कार्य समाप्त कर लेती है। हिन्दी भाषा शिक्षक के रूप में आप क्या करेंगे?
(1) रूबी की दूसरों से तुलना करेंगे
(2) रूबी को दूसरे बच्चों के कार्य की जाँच का एकमात्र अधिकारी बताएँगे
(3) रूबी को उसकी पसन्द का कार्य करने के लिए कहेंगे
(4) रूबी से शान्त बैठने के लिए कहेंगे
Ans : (3) यदि रूबी कक्षा में सबसे पहले अपना कार्य समाप्त कर लेती है तो भाषा शिक्षक को चाहिए कि रूबी को उसकी पसन्द का कार्य करने के लिए कहे जिससे उसका मनोबल बना रहेगा तथा अन्य विद्यार्थियों को अपने कार्य के प्रति जिज्ञासा जगेगी।
Q21. उच्च प्राथमिक स्तर पर भाषा सीखने को प्रभावित करता है–
(1) शिक्षक का भाषा-शिक्षण सम्बन्धी रवैया
(2) बच्चों द्बारा किया जाने वाला सुलेख
(3) शिक्षक द्वारा ली गई लिखित परीक्षा
(4) भाषा सम्बन्धी गृहकार्य
Ans : (1) शिक्षक का भाषा सम्बन्धी ‘रवैया’ उच्च प्राथमिक स्तर पर भाषा सीखने को प्रभावित कर सकता है।
Q22. उच्च प्राथमिक स्तर पर हिन्दी भाषा-शिक्षण के लिए क्या अपेक्षित नहीं है?
(1) सुनकर शब्दशः दोहराने की क्षमता का विकास
(2) स्वाध्यायशीलता का विकास
(3) भाषा-प्रयोग की क्षमता का विकास
(4) चिन्तनशीलता का विकास
Ans : (1) सुनकर शब्दशः दोहराने की क्षमता का विकास उच्च प्राथमिक स्तर पर हिन्दी भाषा-शिक्षण के लिए अपेक्षित नहीं है।
Q23. उच्च प्राथमिक स्तर पर हिन्दी भाषा-शिक्षण में सर्वोपरि महत्वपूर्ण सामग्री है–
(1) पाठ्‌य-पुस्तक
(2) अभ्यास-पत्रक
(3) अभ्यास पुस्तिका
(4) बाल साहित्य
Ans : (4) उच्च प्राथमिक स्तर पर ‘बाल साहित्य’ की पुस्तकें हिन्दी भाषा शिक्षण के लिए सर्वोपरि महत्वपूर्ण सामग्री हैं।
Q24. उच्च प्राथमिक स्तर पर बहुभाषिक कक्षा में बच्चों की भाषा/भाषाएँ–
(1) एक कठिन समस्या है/हैं
(2) एक संसाधन है/हैं
(3) एक पहेली है/हैं
(4) एक जटिल चुनौती है/हैं
Ans : (2) उच्च प्राथमिक स्तर पर बहुभाषिक कक्षा में बच्चों की भाषाएं एक संसाधन हैं।
Q25. उच्च प्राथमिक स्तर पर हिन्दी भाषा की समावेशी कक्षा का स्वरूप निर्धारित करने में सर्वाधिक महत्वपूर्ण है–
(1) शिक्षण प्रक्रिया
(2) अभ्यास कार्य
(3) आकलन
(4) पाठ्‌य-पुस्तक
Ans : (1) शिक्षण प्रक्रिया का उच्च प्राथमिक स्तर पर हिन्दी भाषा की समावेशी कक्षा का स्वरूप निर्धारण करने में सर्वाधिक महत्वपूर्ण स्थान है।
Q26. उच्च प्राथमिक स्तर पर बच्चों की मौखिक अभिव्यत्ति का सतत्‌ आकलन करने के लिए सर्वाधिक उचित तरीका है–
(1) प्रतिक्रिया व्यत्त करना
(2) प्रश्न पूछना
(3) परिचर्चा
(4) ये सभी
Ans : (4) प्रश्न पूछना, प्रतिक्रिया व्यत्त करना एवं परिचर्चा करना उच्च प्राथमिक स्तर पर बच्चों की मौखिक अभिव्यत्ति का सतत्‌ आकलन करने के लिए सर्वाधिक उचित तरीका है।
Q27. भाषा सीखने में सामाजिक अन्तःक्रिया का महत्वपूर्ण स्थान है। इस कथन का सम्बन्ध………से है।–
(1) चोंम्स्की
(2) स्किनर
(3) वाइगोत्सकी
(4) पियाजे
Ans : (3) भाषा सीखने में सामाजिक अन्तः क्रिया का महत्वपूर्ण स्थान है। इस कथन का सम्बन्ध वाइगोत्स्की से है।
Q28. उच्च प्राथमिक स्तर पर समझकर पढ़ने के सन्दर्भ में सर्वाधिक महत्वपूर्ण है–
(1) बोल-बोलकर शुद्ध उच्चारण के साथ पढ़ना
(2) तीव्र गति से पढ़ जाना
(3) लिखित सामग्री में शब्दों की पहचान करना
(4) किसी लिखित सामग्री का निहितार्थ समझना
Ans : (4) किसी लिखित सामग्री का निहितार्थ समझना उच्च प्राथमिक स्तर पर समझकर पढ़ने के सन्दर्भ में सर्वाधिक महत्वपूर्ण है।
Q29. व्याकरण की समझ को सन्दर्भपरक प्रश्नों के माध्यम से आँकना–
(1) आंशिक रूप से उचित है
(2) पूर्णतः उचित है
(3) पूर्णतः असम्भव है
(4) बिल्कुल अनुचित है
Ans : (2) व्याकरण की समझ को सन्दर्भ परक प्रश्नों के माध्यम से आँकना पूर्णतः उचित है।
Q30. उच्च प्राथमिक स्तर पर बच्चों की हिन्दी भाषा की क्षमता के आकलन में प्रकार्यपरक पक्ष पर बल देने का आशय है–
(1) भाषा के कार्यों को बढ़ावा देना
(2) भाषा-प्रयोग पर बल देना
(3) भाषा-प्रयोग का पक्ष बताना
(4) भाषा के कार्यों की सूची बनाना
Ans : (2) उच्च प्राथमिक स्तर पर बच्चों की हिन्दी भाषा की क्षमता के आकलन में प्रकार्यपरक पक्ष पर बल देने का आशय भाषा प्रयोग पर बल देना है।
निर्देश : नीचे दिए गए प्रश्नों के लिए सबसे सही विकल्प चुनिए।

Top
error: Content is protected !!