You are here
Home > QB Subjectwise > 009 Hindi Language Previous Year Questions for CTET & TET Exams

009 Hindi Language Previous Year Questions for CTET & TET Exams

Hindi Language Previous Year Questions for CTET & TET Exams

Q1. अपमान
(1) उप
(2) अव
(3) अति
(4) अप
Ans: (4) ‘अपमान’ शब्द में ‘अप’ उपसर्ग का प्रयोग हुआ है। ‘उपसर्ग’ उस शब्दांश या अव्यय को कहते है, जो किसी शब्द के पहले आकर उनका विशेष अर्थ प्रकट करता है। जैसे ‘अप’ उपसर्ग – अपशब्द, अपहरण, अपराध, अपकार ‘अव’ उपसर्ग – अवगत, अवलोकन, अवनत, अवसान ‘अति’ उपसर्ग – अतिकाल, अतिरित्त , अतिशय, अत्याचार ‘उप’ उपसर्ग – उपकार, उपकूल, उपदेश, उपासना
Q2. दुरवस्था
(1) दुर्‌
(2) दुस्‌
(3) अव
(4) दु
Ans: (1) ‘दुरवस्था’ शब्द में ‘दुर्‌’ उपसर्ग का प्रयोग हुआ है। ‘दुर्‌’ उपसर्ग – दुरवस्था, दुराचार, दुर्दशा, दुर्जन ‘दुस्‌’ उपसर्ग – दुस्साहस, दुःसाहय, दुःसह, दुष्कर्म ‘अव’ उपसर्ग – अवतार, अवशेष, अवनति, अवस्था ‘दु’ उपसर्ग – दुकाल, दुबला, दुबारा, दुसाह
Q3. पराजय
(1) प्र
(2) परि
(3) परा
(4) आ
Ans: (3) ‘पराजय’ शब्द में ‘परा’ उपसर्ग का प्रयोग हुआ है। ‘परा’ उपसर्ग – पराक्रम, परामण, परामर्श, पराभूत ‘परि’ उपसर्ग – परिक्रमा, परिजन, परिणाम, परिधि ‘प्र’ उपसर्ग – प्रकाश, प्रख्यात, प्रचार, प्रबल ‘आ’ उपसर्ग – आरत्त, आगमन, आकाश, आजन्म
Q4. द्विगु समास का उदाहरण है
(1) यथाशक्ति
(2) माता-पिता
(3) नवग्रह
(4) पीताम्बर
Ans: (3) नवग्रह – नौ ग्रहों का समूह (द्विगुसमास) जिस समास का प्रथम पद संख्यावाचक हो और जिससे एक समुदाय का बोध हो, उसे द्विगु समास कहते है। यथाशक्ति – शक्ति के अनुसार (अव्ययीभाव समास) माता-पिता – माता और पिता (द्वन्द्व समास) पीताम्बर – पीत है जो अम्बर (कर्मधारय समास)
Q5. हिन्दी किस लिपि में लिखी जाती है?
(1) देवनागरी
(2) ब्राह्मी
(3) खरोष्ठी
(4) गुरुमुखी
Ans: (1) ‘हिन्दी’ देवनागरी लिपि में लिखी जाती है। जबकि पंजाबी, गुरुमुखी लिपि में लिखी जाती है। ब्राह्मी तथा खरोष्ठी – लिपियाँ भारत की प्राचीन लिपियाँ है जिसका प्रयोग प्राचीन काल में होती थी।
Q6. सर्वनाम के कितने भेद होते हैं?
(1) पाँच
(2) छह
(3) सात
(4) चार
Ans: (2) सर्वनाम – सर्वनाम उस विकारी शब्द को कहते है, जो पूर्वापर सम्बन्ध से किसी भी संज्ञा के बदले आता है। सर्वनाम के 6 भेद होते हैं- (2) पुरुषवाचक सर्वनाम (1) निजवाचक सर्वनाम (3) निश्चयवाचक सर्वनाम (4) अनिश्चयावाचक सर्वनाम (5) सम्बन्धवाचक सर्वनाम (6) प्रश्नवाचक सर्वनाम
Q7. आकाश-पाताल के बीच लगने वाला (-) चिह्न है-
(1) विस्मयादि बोधक
(2) अल्पविराम चिह्न
(3) योजक चिह्न
(4) उद्धरण चिह्न
Ans: (3) आकाश-पाताल के बीच लगने वाला (-) चिह्न योजन चिह्न कहलाता है। (2) अल्पविराम चिह्न (,) (1) विस्मयादिबोधक चिह्न (
) (3) उद्धरण चिह्न (‘‘ ’’) (4) पूर्णविराम (।) (5) प्रश्नवाचक (?)
Q8. यह नई साड़ी है। वाक्य में ‘नई’ शब्द है –
(1) क्रिया
(2) सर्वनाम
(3) क्रिया विशेषण
(4) विशेषण
Ans: (4) ‘यह नई साड़ी है’। वाक्य में ‘नई’ शब्द विशेषण है। जो संज्ञा या सर्वनाम की विशेषता बताए, उसे विशेषण कहते हैं। जबकि ‘यह’ सर्वनाम, तथा ‘नई’ साड़ी शब्द का विशेषण है।
Q9. नीचे दिए गए विकल्पों में से तत्सम शब्द का चयन कीजिए-
(1) दूध
(2) आम्र
(3) शहीद
(4) खिड़की
Ans: (2) ‘आम्र’ शब्द तत्सम है इसका तद्‌भव आम होगा। जबकि दूध, शहीद, खिड़की आदि तद्‌भव है दूध का तत्सम दुग्ध होगा।
Q10. दिए गए विकल्पों में से तद्‌भव शब्द का चयन कीजिए –
(1) अमीर
(2) बैंक
(3) अग्नि
(4) मुँह
Ans: (4) ‘मुँह’ तद्‌भव शब्द है इसका तत्सम मुख होगा। जबकि अग्नि तत्सम है इसका तद्‌भव आग होगा। अमीर अरबी शब्द है तथा बैंक अंग्रेजी शब्द है।
Q11. निम्नलिखित में से कौन-सा शब्द ‘सूर्य’ का पर्यायवाची नहीं है?
(1) रवि
(2) दिनकर
(3) अंशुमाली
(4) यामिनी
Ans: (4) ‘यामिनी’ रात्रि का पर्यायवाची है। इसके अन्य पर्यायवाची रात, रैन, रजनी, निशा, निशीथ, छाया, विभावरी, शर्वरी, तमी, तमिदाा, समदााा, तथा विभा आदि है। जबकि दिनकर, रवि, अंशुमाली, भानु, दिवाकर, भाष्कर, प्रभाकर, सविता, आदित्य सूर्य के पर्यायवाची हैं।
Q12. ‘मनोरथ’ का सन्धि-विच्छेद होगा –
(1) मन + ओरथ
(2) मनः रथ
(3) मनो + रथ
(4) मन + रथ
Ans: (2) मनः + रथ – मनोरथ (विसर्ग सन्धि) यदि विसर्ग के पहले ‘अ’ हो और वर्णों के प्रथम तथा द्वितीय वर्ण को छोड़कर अन्य कोई वर्ण अथवा य, र, ल, व, ह, हो तो अ और विसर्ग का ओ हो जाता है। जैसे- अधः + गति – अधोगति मनः + ज – मनोज मनः + हर – मनोहर
Q13. विद्यार्थी उदाहरण है –
(1) गुण स्वर सन्धि का
(2) वृद्धि स्वर सन्धि का
(3) व्यंजन संधि का
(4) दीर्घ स्वर सन्धि का
Ans: (4) विद्या + अर्थी विद्यार्थी (दीर्घस्वर सन्धि) यदि प्रथम शब्द के अन्त में ह्रस्व अथवा दीर्घ अ, इ, उ, ऋ में से कोई एक वर्ण हो और द्वितीय शब्द के आदि (प्रारम्भ) में उसी के समान वर्ण हो तो दोनों के स्थान पर दीर्घ हो जाता है, यह दीर्घ स्वर सन्धि कहलाती है। देह + अंत देहान्त परम + आनंद परमानंद रवि + इन्द्र रवीन्द्र हरि + ईश हरीश मही + इन्द्र महीन्द्र नदी + ईश नदीश भानु + उदय भानूदय लघु + उत्ति लघूत्ति लघु + ऊर्मि लघूर्मि वधु + उत्सव वधूत्सव मातृ + ऋणाम्‌ मातृणाम्‌
Q14. दिग्भ्रम उदाहरण है –
(1) अयादि स्वर सन्धि का
(2) विसर्ग सन्धि का
(3) व्यंजन सन्धि का
(4) यण स्वर सन्धि का
Ans: (3) दिक्‌ + भ्रम दिग्भ्रम (व्यंजन संन्धि) व्यंजन से स्वर अथवा व्यंजन के मेल से उत्पन्न विकार को व्यंजन सन्धि कहते हैं। यदि क्‌, च्‌ , ट्‌ , त्‌ , प्‌ के बाद किसी वर्ग का तृतीय या चतुर्थ वर्ण आये, या, य, र, ल, व , या कोई स्वर आए, तो क्‌, च्‌, ट्‌, त्‌, प्‌ के स्थान पर अपने ही वर्ण का तीसरा वर्ण हो जाता है। जैसेदिक्‌ + गज दिग्गज षट्‌ + आनन षडानन अप्‌ + धि अब्धि अच्‌ + आदि अजादि तत्‌ + इच्छा तदिच्छा
Q15. बिल्ली छत से कूद पड़ी। कौन-सा कारक है?
(1) कर्म कारक
(2) अधिकरण कारक
(3) सम्प्रदान कारक
(4) अपादान कारक
Ans: (4) ‘‘बिल्ली छत से कूद पड़ी’’ वाक्य में अपादान कारक है। संज्ञा के जिस रूप से पृथत्तत्व (अलगाव) का बोध हो उसे ‘अपादान’ कारक कहते हैं। इसका विभत्ति चिह्न ‘से’ है। कारक विभत्ति (कारक चिह्न) कर्त्ता ने कर्म को करण से, के द्वारा, के साथ सम्प्रदान के लिए, को अपादान से (पृथक्कता के अभी में) सम्बन्ध का, के, की, रा, रे, री, ना, ने नी, अधिकरण में, पर सम्बोधन हे, जो, अरे, अजी, अरा
Q16. नीचे लिखे वाक्य के लिए एक शब्द बताइए जो युद्ध में स्थिर रहता है –
(1) सत्याग्रही
(2) यशस्वी
(3) युधिष्ठिर
(4) अश्वारोह
Ans: (3) वाक्य एक शब्द जो युद्ध में स्थिर रहता युधिष्ठिर जिसने यश प्राप्त किया हो यशस्वी जो अश्व की सवारी करता हो अश्वारोही जो सत्य के लिए आग्रह करता हो सत्याग्रह
Q17. शैव कहते हैं –
(1) जो शिव की उपासना करता है
(2) जो शक्ति की उपासना करता है
(3) जो विष्णु की उपासना करता है
(4) जो किसी की उपासना नहीं करता है
Ans: (1) जो शिव की उपासना करते हैं उन्हें ‘शैव’ कहा जाता है तथा जो विष्णु की उपासना करते हैं उन्हें ‘वैष्णव’ कहा जाता है।
Q18. वाचाल कहते हैं –
(1) जिसकी चाल ठीक न हो
(2) जो जल्दी चलता है
(3) जो बहुत बोलता है
(4) जो चुप रहता है
Ans: (1) जो बहुत ज्यादा बोलता है उसे वाचाल कहते हैं।
Q19. श्याम धीरे-धीरे चलता है। ‘धीरे-धीरे’ शब्द है –
(1) क्रिया विशेषण
(2) क्रिया
(3) विशेषण
(4) इनमें से कोई नहीं
Ans: (1) श्याम धीरे-धीरे चलता है, शब्द में धीरे-धीरे क्रिया विशेषण है। जो शब्द क्रिया के अर्थ में विशेषता प्रकट करते हैं, वे क्रिया विशेषण कहलाते हैं। क्रिया विशेषण क्रिया के अर्थ की सीमा को मर्यादित करता है। क्रिया – जिस पद से किसी व्यापार (कार्य) का करना या होना प्रकट हो, उसे क्रिया कहते हैं। विशेषण- जो संज्ञा या सर्वनाम की विशेषता बताए, उसे विशेषण कहते हैं, जिसकी विशेषता बताई जाए, वह विशेष्य कहलाता है।
निर्देश (प्र. सं. 2022) निम्नलिखित शब्दों में वर्तनी के अनुसार शुद्ध शब्द का चयन कीजिए।
Q20. (1) आुनषंगिक (2) आनुसंगिक (3) अनुसंगिक (4) आनुषंगीक
Ans: (2) आनुषंगिक शब्द वर्तनी की दृष्टि से शुद्ध है। अन्य सभी विकल्प असंगत हैं।
Q21. (1) अन्ताक्षरी (2) अन्त्याक्षरी (3) अन्तअक्षरी (4) अन्ताक्षरि
Ans: (1) ‘अन्त्याक्षरी’ शब्द वर्तनी की दृष्टि से शुद्ध है। अन्य सभी विकल्प असंगत हैं।
Q22. (1) सुषमा (2) सुशम (3) शुषमा (4) सुसमा
Ans: (2) ‘सुषमा’ शब्द वर्तनी की दृष्टि से शुद्ध है। अन्य सभी विकल्प असंगत हैं।
निर्देश (प्र. सं. 2325) नीचे कुछ शब्द दिए गए है। प्रत्येक शब्द में प्रयुत्त प्रत्यय विकल्पों से चुनिए।
Q23. घुमक्कड़
(1) अक्कड़
(2) ओड़ा
(3) आक
(4) ऊ
Ans: (1) ‘घुमक्कड़’ शब्द में अक्कड़ प्रत्यय प्रयुत्त हुआ है। ‘अक्कड़’ प्रत्यय – पियक्कड़, बुझक्कड़, कुदक्कड़, घुमक्कड़ ‘आक’ प्रत्यय – तैराक, उडाक, पैराक ‘ऊ’ प्रत्यय – खाऊ, चालू, लागू, बिकाऊ ‘ओडा’ प्रत्यय – भगोड़ा, हँसोड़ा, चटोरा, बटोरा
Q24. डिबिया–
(1) आ
(2) इया
(3) आई
(4) ई
Ans: (2) डिबिया शब्द में ‘इया’ प्रत्यय का प्रयोग हुआ है। ‘इया’ प्रत्यय – दुनिया, जड़िया, लखिया, धुनिया ‘आई’ प्रत्यय – लिखाई, लड़ाई, चढ़ाई, पिटाई ‘ई’ प्रत्यय – हँसी, बोली, धमकी, धुड़की ‘आ’ प्रत्यय – चढ़ा, रखा, कटा, फोड़ा
Q25. भिक्षुक–
(1) उ
(2) अ
(3) उक
(4) अक
Ans: (3) भिक्षुक शब्द में ‘उक’ प्रत्यय का प्रयोग हुआ है। ‘उक’ प्रत्यय – भिक्षुक, भावुक ‘अक’ प्रत्यय – चालक, लेखक, पालक, वाचक ‘अ’ प्रत्यय – काम, भार, देव, सर्प उ प्रत्यय – तनु, बंधु, पृफ
Q26. निम्नलिखित में से कौन-सा शब्द ‘बादल’ का पर्यायवाची है?
(1) नीरज
(2) नीरद
(3) अम्बुज
(4) अम्बु
Ans: (2) ‘बादल’ शब्द का पर्यायवाची नीरद है। बादल के अन्य पर्यायवाची शब्द – मेघ, धर, अभ्र, जीमूत, वारिधर, पयोदि, जलधर, जलद, बलाधर, पयोधर तथा सारंग। जबकि नीरज, अम्बुज, उत्थल, कुवलय, इन्दीवर, पद्य, नलिन, सरेाद, अरविन्द, शतपत्र, सरसिज, शतदल, सरसी-रूह, राजीव, कंज, पंकज, पायोज, पुण्डरीक, वारिज, सरोरूह, जलज, तथा कोकनद आदि कमल के पर्यायवाची है।
Q27. इन्द्रियों को जीतने वाले के लिए एक शब्द है?
(1) दत्त चित्त
(2) दूरदर्शी
(3) कुशाग्र बुद्धि
(4) जितेन्द्रिय
Ans: (4) वाक्य एक शब्द इन्द्रियों को जीतने वाला जितेन्द्रिय दूर तक सोचने वाला दूरदर्शी बहुत तेज बुद्धि वाला व्यत्ति कुशाग्रबुद्धि किसी काम को चित्त लगाकर करना दत्तचित्त
Q28. ‘अहा
आप आ गए’ वाक्य में ‘अहा’ शब्द है –

(1) सर्वनाम
(2) संज्ञा
(3) अव्यय
(4) विशेषण
Ans: (3) ‘अहा
आप आ गए’ वाक्य में ‘अहा’ शब्द अव्यय है। ‘अव्यय’ ऐसे शब्द को कहते है, जिसके रूप में लिंग, वचन, पुरुष, कारक इत्यादि के कारण कोई विकार उत्पन्न नही होता है। संज्ञा- संज्ञा उस विकारी शब्द को कहते हैं, जिससे किसी विशेष वस्तु, भाव और जीव के नाम का बोध हो। सर्वनाम – सर्वनाम उस विकारी शब्द को कहते हैं। जो पूर्वा पर सम्बन्ध से किसी भी संज्ञा के बदले आता है। विशेषण – जो संज्ञा या सर्वनाम की विशेषता बातए, उसे विशेषण कहते हैं। जिसकी विशेषता बताई जाए, वह विशेष्य कहलाता है।
Q29. निम्नलिखित में से पुलिंग शब्द कौन-सा है?
(1) पानी
(2) नदी
(3) इलायची
(4) प्यास
Ans: (1) पानी शब्द पुलिंग है। अन्य सभी नदी, इलायची, तथा प्यास शब्द स्त्रीलिंग है।
Q30. ‘पवन’ का सन्धि-विच्छेद है –
(1) प + वन
(2) प + अवन
(3) पो + अन
(4) पौ + अन
Ans: (3) पो + अन पवन (अयादि स्वर सन्धि) यदि ‘ए’, ‘ऐ’, ‘ओ’ और ‘औ’ के बाद कोई भिन्न स्वर आए तो ए का ‘अय्‌’ ऐ का आय्‌, ओ का अव्‌ और औ का आव्‌ हो जाता है। ने + अन नयन नै + अक नायक श्रौ + अन श्रावण

Top
error: Content is protected !!