You are here
Home > QB Subjectwise > 008 Hindi Language Previous Year Questions for CTET & TET Exams

008 Hindi Language Previous Year Questions for CTET & TET Exams

Hindi Language Previous Year Questions for CTET & TET Exams

Q1. ‘चन्दायन’ के रचयिता है –
(1) कुतुबन
(2) मलिक मोहम्मद जायसी
(3) मंझन
(4) मुल्ला दाऊद
Ans: (4) चन्दायन (1379 ई.) की रचना मुल्ला दाऊद ने की, यह सूफी प्रेमाख्यान ग्रन्थ है। डॉ. रामकुमार वर्मा ने इसे सूफी काव्यधारा का प्रथम ग्रन्थ माना। जबकि मलिक मुहम्मद जायसी ने पद्‌मावत तथा कुतुबन ने मृगावती और मंझन ने मधुमालती की रचना की। (स्रोत-हिन्दी साहित्य का इतिहास : आचार्य राम चन्द्र शुक्ल)
Q2. ‘द्विवेदी युग’ नामकरण किया गया है–
(1) शान्तिप्रिय द्विवेदी के नाम पर
(2) आचार्य हजारी प्रसाद द्विवेदी के नाम पर
(3) महावीर प्रसाद द्विवेदी के नाम पर
(4) सोहनलाल द्विवेदी के नाम पर
Ans: (3) द्विवेदी युग का नामकरण आचार्य महावीर प्रसाद द्विवेदी के नाम पर हुआ है। द्विवेदी युग की समय सीमा (1900-1918 ई.) है।
Q3. छायावादी प्रवृत्ति की रचना सबसे पहले दिखाई पड़ी –
(1) मुकुटधर पाण्डेय की रचनाओं में
(2) सुमित्रानन्दन पन्त की कविता में
(3) सूर्यकान्त त्रिपाठी ‘निराला’ में
(4) श्रीधर पाठक में
Ans: (2) वस्तुतः छायावाद की प्रथम रचना जयशंकर प्रसाद की झरना (1918) को माना जाता है। इसको छायावाद की प्रथम प्रयोगशाला कहा जाता है तथा सुमित्रानन्दन पंत की प्रथम छायावादी रचना-उच्छवास (1920) है और अन्तिम छायावादी रचना-गुंजन है तथा मुकुटधर पाण्डेय को छायावाद का प्रवर्तक कहा जाता है।
Q4. एक-दूसरे से भिन्न-भिन्न, नये-नये विचारों एवं रचना शैलियों के जो सात कवि प्रयोगवाद के कवि के रूप में प्रसिद्ध हुए, उनकी कविताओं के संग्रह का सही नाम था–
(1) प्रथम तार सप्तक
(2) पहला तार सप्तक
(3) तार शप्तक
(4) तार सप्तक
Ans: (4) 1943 में अज्ञेय के नेतृत्व में एक पत्रिका प्रकाशित हुई जिसमें सात कवियों को एक ढंग की रचनाओं के कारण एक सूत्र में पिरोया गया जिसे तार सप्तक नाम दिया गया। तार सप्तक के कवियो में- अज्ञेय, गिरिजाकुमार माथुर, भारत भूषण अग्रवाल, मुत्तिबोध, प्रभाकर माचवे, नेमिचन्द्र जैन, राम विलास शर्मा थे। (स्रोत- हिन्दी साहित्य का इतिहास : डा . नगेन्द्र)
Q5. ‘अपने-अपने पिंजरे’ आत्मकथा किसकी है?
(1) मोहनदास नैमिशराय
(2) ओमप्रकाश वाल्मीकि
(3) जयप्रकाश कर्दम
(4) श्योराज सिंह ‘बेचैन’
Ans: (1) अपने-अपने पिंजरे (1995) दो भाग में मोहन दास नैमिशराय की आत्म कथा है। यह हिन्दी की पहली दलित आत्मकथा है। (स्रोत-हिन्दी साहित्य का इतिहास : डा . नगेन्द्र)
Q6. ‘इदन्नमम्‌’ रचना किसकी है?
(1) मन्नू भण्डारी
(2) ममता कालिया
(3) चित्रा मुद्‌गल
(4) मैत्रेयी पुष्पा
Ans: (4) ‘इदन्नमम्‌’ मैत्रेयी पुष्पा का उपन्यास है। इनके अन्य उपन्यासों में स्मृतिदंश, बेतवा बहती रही, चाक, झूलानट, अल्मा कबूतरी आदि हैं।
Q7. कौन-सा उपन्यास बालकृष्ण भट्‌ट का है?
(1) धूर्त रसिकलाल
(2) सौ अजान और एक सुजान
(3) निस्सहाय हिन्दू
(4) श्यामास्वप्न
Ans: (2) ‘सौ अजान और एक सुजान’ बालकृष्ण भट्‌ट का उपन्यास है इनके अन्य उपन्यासों में नूतन ब्रह्मचारी और रहस्य कथा (अपूर्ण) है तथा ‘धूर्त रसिक लाल’ मेहता लज्जा राम शर्मा का उपन्यास है, ‘निस्सहाय हिन्दू’ राधाकृष्ण दास और ‘श्यामा स्वप्न’ ठाकुर जगमोहन सिंह का उपन्यास है। (स्रोत-हिन्दी साहित्य का इतिहास : डा . नगेन्द्र)
Q8. ‘गोदान’ उपन्यास की कथावस्तु की कसावट में कमी आई है –
(1) शहरी और ग्रामीण पृष्ठभूमि के दो विस्तृत और लगभग विरोधी वातावरणों को समेट लेने से
(2) बहुत कम चरित्रों को शामिल करने से
(3) दार्शनिक श्रेणी के चरित्रों द्वारा लम्बे भाषण तथा अल्पज्ञ चरित्रों द्वारा उपदेश दिलाने से
(4) साधारण स्तर की स्त्रियों के साथ उत्कृष्ट कोटि की स्त्रियों को एक ही मंच पर ले आने से
Ans: (1) गोदान (1936) ई. मुंशी प्रेम चन्द का अन्तिम उपन्यास है। इसमें शहरी और ग्रामीण पृष्ठभूमि के दो विस्तृत और लगभग विरोधी वातावरणों को समेटने से इसकी कथा वस्तु की कसावट में कमी आई है। प्रेमचन्द इसकी तुलना-टालस्टॉय के ‘वार एण्ड पीस’ से की है और गोदान से ही प्रेमचन्द्र को आदर्शोन्मुखी एवं यथार्थवादी कहा जाता है। (स्रोत- हिन्दी साहित्य का इतिहास : डा . नगेन्द्र)
Q9. कवि केशवदास की कौन-सी कृति अपने वर्ण्य-विषय की अपेक्षा छन्दों की विविधता में भटक गई लगती है?
(1) कविप्रिया
(2) रामचन्द्रिका
(3) रसिकप्रिया
(4) रतन बावनी
Ans: (2) केशवदास की रामचन्द्रिका (1601ई.) अपने वर्ण्यविषय की अपेक्षा छन्दों में भटक गई। रामचन्द्रिका में 39 प्रकास (अध्याय) है। यह राम के चरित्र पर आधारित है। (स्रोत- हिन्दी साहित्य का इतिहास : आचार्य रामचन्द्रशुक्ल)
Q10. ‘‘विभावानुभावव्यभिचारिसंयोगाद्रसनिष्पतिः’’ सूत्र किसका है?
(1) कुन्तक
(2) भरतमुनि
(3) वामन
(4) क्षेमेन्द्र
Ans: (2) आचार्य भरत मुनि रस निष्पत्ति के सर्वप्रथम व्याख्याता है। इन्होंने इसी परिभाषा में लिखा-‘‘विभानुभावव्यभिचारी संयोगाद्रसनिष्पतिः।’’ अर्थात विभाव, अनुभाव और संचारी भाव (व्यभिचारी भाव) के संयोग से रस की निष्पति होती है। (स्रोत-भारतीय काव्यशास्त्री : योगेन्द्र प्रताप सिंह)
Q11. आदर्श हिन्दी शिक्षक के लिए आवश्यक है –
(1) हिन्दी साहित्य का ज्ञान होना
(2) व्याकरण का ज्ञान होना
(3) शुद्ध उच्चारण कराना
(4) उपरोत्त सभी
Ans: (4) एक आदर्श शिक्षक के लिए आवश्यक है कि उसे व्याकरण का ज्ञान हो तथा हिन्दी साहित्य का ज्ञान हो एवं वह शुद्ध उच्चारण भी करता हो।
Q12. नाटक शिक्षण की उपयुत्त विधि है –
(1) रंगमंच प्रणाली
(2) कक्षा अभिनय प्रणाली
(3) अर्थबोध प्रणाली
(4) व्याख्या प्रणाली
Ans: (2) कक्षा अभिनय प्रणाली नाटक शिक्षण के लिए सर्वाधिक उपयुत्त विधि है।
Q13. लोकमंगल की भावना के सर्वश्रेष्ठ कवि इनमें से कौन-से हैं?
(1) गोस्वामी तुलसीदास
(2) मलिक मोहम्मद जायसी
(3) सच्चिदानन्द हीरानन्द वात्स्यायन ‘अज्ञेय’
(4) मुत्तिबोध
Ans: (1) लोकमंगल की भावना के सर्वश्रेष्ठ कवि गोस्वामी तुलसीदास जी है। तुलसी को ‘लोक मंगल का कवि’ आचार्य रामचन्द्र शुक्ल ने कहा है।
Q14. निम्नलिखित में से ‘दन्तव्य’ वर्ण है
(1) च्‌
(2) ट्‌
(3) त्‌
(4) उ
Ans: (3) जिस वर्ण के उच्चारण में जिह्‌वा ऊपरी दाँतों को स्पर्श करती है वे दन्त वर्ण कहलाते है- जैसे त, थ, द, ध, न, स सभी ‘क’ वर्ग कण्ठय कहलाते हैं, ‘च’ वर्ग तालव्य, ‘ट’ वर्ग मूर्धन्य, ‘त’ वर्ग दन्त्य एवं ‘प’ वर्ग ओष्ठ्‌य होते हैं। य, र, ल, व अन्तस्थ व्यंजन है तथा श, ष, स, ह ऊष्म हैं। (स्रोत- आधुनिक हिन्दी व्याकरण एवं रचना : डा . वासुदेव नन्दन प्रसाद)
Q15. निम्नलिखित में से ‘तत्सम’ शब्द है
(1) काठ
(2) ऊँट
(3) दुग्ध
(4) काम
Ans: (3) निम्न में ‘दुग्ध’ तत्सम है दुग्ध का तद्‌भव ‘दूध’ होगा। ‘ऊँट’ का तत्सम ‘उष्ट्र’, ‘काठ’ का ‘काष्ठ’ एवं ‘काम’ का तत्सम ‘कार्य’ होगा। (स्रोत- आधुनिक हिन्दी व्याकरण एवं रचना : डा . वासुदेव नन्दन प्रसाद)
Q16. हिन्दी शब्दकोष में पहले आने वाला शब्द है –
(1) वरक
(2) वत्त
(3) वक्र
(4) वर्ग
Ans: (2) ‘वत्त’ हिन्दी शब्दकोश में पहले आने वाले शब्द होगा क्योंकि – हिन्दी वर्ण माला में ‘क’ से पहले ‘व्‌’ आता है। उसके बाद त फिर र्‌ आता है। इसलिए दिए गये शब्दों में वत्त शब्द हिन्दी शब्द कोश में पहले आएगा।
Q17. ‘‘मोक्ष की इच्छा करने वाला’’ वाक्यांश के लिए सही शब्द है
(1) मुमूर्षू
(2) मुमुक्षा
(3) मुमुक्षु
(4) मुर्मुषा
Ans: (3) मोक्ष की इच्छा रखने वाले के लिए एक शब्द है ‘मुमुक्षु’।
Q18. हिन्दी शब्दकोष में अं किस वर्ण से पहले आता है?
(1) अ
(2) औ
(3) अः
(4) आ
Ans: (1) हिन्दी शब्दकोष में ‘अं’, ‘अ’ वर्ण से पहले आता है।
Q19. ‘‘उपकार को न मानने वाला’’ वाक्यांश के लिए सही शब्द है
(1) उपकारी
(2) कृतघ्न
(3) कृतज्ञ
(4) अपकारी
Ans: (2) ‘‘उपकार को न मानने वाला’’ के लिए एक शब्द है ‘कृतघ्न’ तथा कृतज्ञ का आशय है जो किए गये उपकार को मानता है।
Q20. ताजमहल……….का अद्‌भुत नमूना है। रित्त स्थान की पूर्ति किस शब्द से होगी?
(1) मूर्तिकला
(2) शिल्पकला
(3) चित्रकला
(4) स्थापत्यकला
Ans: (4) ताजमहल स्थापत्यकला का एक अद्‌भुत नमूना है।
Q21. ……….व्यत्ति को किंकर्तव्यविमूढ़ बना देती है।
(1) सुविधा
(2) दुविधा
(3) विविधा
(4) अविधा
Ans: (2) ‘दुविधा’ व्यत्ति को किंकर्तव्यविमूढ बना देती है।
Q22. ‘लेखक’ शब्द के अन्त में कौन-सा प्रत्यय लगा हुआ है?
(1) इक
(2) क
(3) आक
(4) अक
Ans: (4) लेखक शब्द के अन्त में अक प्रत्यय लगा है। शब्दों के बाद जो अक्षर या अक्षर समूह लगाया जाता है उसे प्रत्यय कहते है। लेखक में ‘लेख’ धातु में अक प्रत्यय लगाकर लेखक शब्द बना है। (स्रोत- आधुनिक हिन्दी व्याकरण एवं रचना : डा . वासुदेव नन्दन प्रसाद)
Q23. निम्न में से कौन-सा पाठ्‌य-पुस्तक का गुण नहीं है?
(1) उपयुत्तता
(2) सोद्‌देश्यता
(3) अशुद्धता
(4) क्रमबद्धता
Ans: (3) एक अच्छी पाठ्‌यपुस्तक के निर्माण में सोद्‌देश्यता, उपयुक्तता तथा क्रमबद्धता का गुण होना चाहिए। लेकिन अशुद्धता पाठ्‌यपुस्तक का गुण नहीं अवगुण है।
Q24. ‘अन्या से अनन्या’ किसकी रचना है?
(1) मृदुला गर्ग
(2) मैत्रेयी पुष्पा
(3) कृष्णा सोबती
(4) प्रभा खेतान
Ans: (4) ‘अन्या से अनन्या’ प्रभाखेतान की आत्म कथा है। मैत्रेयी पुष्पा की आत्मकथा, ‘कस्तूरीकुण्डल वसै’ तथा गुड़िया भीतर गुड़िया है।
Q25. निम्नलिखित पंत्तियों में कौन-सा अलंकार है? ‘फूले कास सकल महि छाई। जनु बरसा रितु प्रकट बुढ़ाई।।’
(1) उत्प्रेक्षा
(2) उपमा
(3) रूपक
(4) श्लेष
Ans: (1) उपर्युत्त दी गई पंत्तियों में उत्प्रेक्षा अलंकार होगा। जब उपमेय में उपमान की कल्पना या सम्भावना की जाय वहां उत्प्रेक्षा अलंकार होगा। अथवा जब प्रस्तुत में अप्रस्तुत की कल्पना हो तब वहां उत्प्रेक्षा अलंकार होगा। इसमें मनु, मानो, मनहुँ, जनु, जानो, जनहुँ वाचक शब्द आते हैं। (स्रोत-हिन्दी व्याकरण, शब्द, अर्थ, प्रयोग : हरदेव बाहरी)
Q26. ‘अमिय हलाहल मदभरे, सेत, स्याम रतनार जियत मरत, झुकि-झुकि परत जेहि चितवत एक बार।’ किस कवि द्वारा लिखी काव्य पंत्तियाँ हैं?
(1) बिहारी
(2) देव
(3) रसलीन
(4) मतिराम
Ans: (3) उपर्युत्त पंत्तियां रीतिकालीन कवि ‘रसलीन’ की है, रसलीन रीतिकाल में रीतिबद्ध धारा के विशिष्टांग निरुपक आचार्य है। इनकी प्रमुख कृति है- अंगदर्पण, रस प्रवोध। (स्रोत- हिन्दी साहित्य का वस्तुनिष्ठ इतिहास : आचार्य रामचन्द्र शुक्ल)
Q27. ‘आवारा मसीहा’ जीवनी में किसका जीवन-चरित्र है?
(1) शरतचन्द्र चट्‌टोपाध्याय
(2) बंकिमचन्द्र चटर्जी
(3) भगतसिंह
(4) जैनेन्द्र
Ans: (1) ‘आवारा मसीहा’ में शरतचन्द्र चट्‌टोपाध्याय का जीवन चरित्र वर्णित है। इसके लेखक विष्णु प्रभाकर है। इसकी रचना तिथि 1974 ई. है।
Q28. ‘पिता’ कहानी के लेखक कौन हैं?
(1) उषा प्रियंवदा
(2) शेखर जोशी
(3) उदयप्रकाश
(4) ज्ञानरंजन
Ans: (4) ‘पिता’ कहानी के लेखक-ज्ञानरंजन है इनकी अन्य कहानियां हैं- पेंस के इधर-उधर, यात्रा, क्षणजीवी, सपना नही उदय प्रकाश की कहानी है- तिरिछ, मोहनदास, पालगोमरा का स्कूटर, पीली छतरी वाली लड़की, उषा प्रियंवदा की कहानी है- वापसी तथा शेखर जोशी की कहानी है- कोसी का घटवार।
Q29. ‘हिन्दी नये चाल में ढली’ कथन किसका है?
(1) भारतेन्दु हरिश्चन्द्र
(2) हजारी प्रसाद द्विवेदी
(3) रामचन्द्र शुक्ल
(4) नगेन्द्र
Ans: (1) ‘हिन्दी नये चाल में ढ़ली’ कथन भारतेन्दु हरिश्चन्द जी का है। भारतेन्दु ने राजाशिवप्रसाद ‘सितारे हिन्द’ और राजा लक्षमण सिंह की भाषा के मध्य का मार्ग निकाला और अपनी ‘काल चक्र’ नामक पुस्तिका में कहा- ‘हिन्दी नये चाल में ढ़ली’। (स्रोत-हिन्दी साहित्य का इतिहास : आचार्य रामचन्द्र शुक्ल)
Q30. ‘‘हम दीवानों की क्या हस्ती है आज यहाँ कल वहाँ चले’’ किसकी पंत्तियाँ हैं?
(1) हरिवंश राय बच्चन
(2) नरेन्द्र शर्मा
(3) बालकृष्ण शर्मा ‘नवीन’
(4) भगवतीचरण वर्मा
Ans: (4) उपर्युत्त पत्तियां भगवती चरण वर्मा की है। (स्रोत- हिन्दी साहित्य का इतिहास : डा . नगेन्द्र)
निर्देश (प्र. सं. 13) नीचे कुछ शब्द दिए गए हैं, उनमें प्रयुत्त उपसर्ग चुनकर लिखिए।

Top
error: Content is protected !!