You are here
Home > Previous Papers > GEOGRAPHY UGC NTA NET JRF PREVIOUS PAPERS IN HINDIयूजीसी नेट/जेआरएफ परीक्षा‚ दिसम्बर- 2006 भूगोल व्याख्या सहित द्वितीय प्रश्न-पत्र का हल 0035.

GEOGRAPHY UGC NTA NET JRF PREVIOUS PAPERS IN HINDIयूजीसी नेट/जेआरएफ परीक्षा‚ दिसम्बर- 2006 भूगोल व्याख्या सहित द्वितीय प्रश्न-पत्र का हल 0035.

GEOGRAPHY UGC NTA NET JRF PREVIOUS PAPERS IN HINDIयूजीसी नेट/जेआरएफ परीक्षा‚ दिसम्बर- 2006 भूगोल व्याख्या सहित द्वितीय प्रश्न-पत्र का हल

1. उत्तरी-ध्रुव आर्कटिक महासागर के अंतर्गत अवस्थित है जबकि दक्षिणी-ध्रुव अंटार्कटिक महाद्वीप के अन्तर्गत अवस्थित है। निम्नलिखित में से कौन-सा सिद्धान्त इस तथ्य का उपयोग समर्थनकारी तर्क के रूप में करता है।
(a) थियरी ऑफ आइसोस्टेसी
(b) थियरी ऑफ प्लैट टेस्टोनिन्स
(c) कान्बेन्टिव करेंट थियरी
(d) टेट्राहेड्रल थियरी
उत्तर-(d) : उत्तरी ध्रुव आर्कटिक महासागर के अन्तर्गत अवस्थित है‚ जबकि दक्षिणी ध्रुव अंटार्कटिक महाद्वीप के अन्तर्गत अवस्थित है। टेट्राहेड्रल थ्योरी इस तथ्य का उपयोग समर्थनकारी तर्क के रूप में करता है। ज्यामिति के आधार पर महाद्वीपों तथा महासागरों की उत्पत्ति की समस्या के निदान के लिए कुछ वैज्ञानिकों ने प्रयास किया है। इसमें ईली डी ब्यूमाण्ट की पोण्टागोनल डोडीकाहेड्स परिकल्पना को इस क्षेत्र में प्रथम प्रयास बताया जाता है। परन्तु ज्यामितीय सिद्धान्तों में लोथियन ग्रीन की चतुष्कफलकीय परिकल्पना अधिक महत्वपूर्ण है।
2. सिंधु तथा ब्रह्मपुत्र के उदाहरण हैं:
(a) उत्तरवर्ती अपवाह तंत्र (b) अध्यारोपित अपवाह तंत्र
(c) पूर्ववर्ती अपवाह तंत्र (d) अनुवर्ति अपवाह तंत्र
उत्तर-(c) : पूर्ववर्ती अपवाह तंत्र‚ अक्रमवर्ती अपवाह तन्त्र के अन्तर्गत आता है। पूर्ववर्ती जलधारा उसे कहते हैं जिसका अविर्भाव स्थलखण्ड में उत्थान के पहले हो चुका है। साधारण अर्थो में पहले से प्रवाहित होने वाली जलधारा को पूर्ववर्ती जलधारा कहते है‚ जिस पर संरचना या स्थलखण्ड के उत्थान का प्रभाव नहीं पड़ता। इस प्रकार पूर्ववर्ती नदियाँ वे जलधाराएँ हैं‚ जो स्थलखण्ड में उत्थान होने पर भी अपने पहले वाले मार्ग को ही अपनाती है। चूँकि ये जलधाराऐं स्थानीय ढाल का अनुसरण नहीं करती अत: इन्हें विलोम अनुवर्ती या प्रति अनुवर्ती जलधारा भी कहा जा सकता है। सिन्धु तथा ब्रह्मपुत्र पूर्ववर्ती अपवाह तन्त्र के उदाहरण हैं।
3. दो आनुक्रमिक ज्वारों के बीच का औसत समय-अंतराल
(a) 6 घण्टे‚ 13 मिनट (b) 12 घण्टे‚ 26 मिनट
(c) 24 घण्टे‚ 50 मिनट (d) 18 घण्टे‚ 39 मिनट
उत्तर-(b) : दो आनुक्रमिक ज्वार-भाटा के बीच का औसत समय-
अन्तराल 12 घण्टे 26 मिनट का होता है एक ही स्थान पर एक दिन में दो बार ज्वार-भांटा आता है तो उसे अर्द्ध-दैनिक ज्वार-
भांटा कहा जाता है ऐसा ज्वार-भांटा प्रतिदिन समयानुसार 12 घण्टे 26 मिनट के पश्चात आता है।
4. स्थान को निर्धारित करने के लिए अक्षांश तथा देशांतर दोनों को जानना आवश्यक है:
(a) स्थानीय समय (b) उच्चता
(c) मानक समय (d) अवस्थिति
उत्तर-(d) : अवस्थिति को निर्धारित करने के लिए अक्षांश तथा देशान्तर दोनों को जानना आवश्यक है। अक्षांश तथा देशान्तर के ज्ञात होने पर किसी स्थान की सही अवस्थिति ज्ञात की जा सकती है।
5. नीचे दो वक्तव्य दिये गए हैं‚ एक को कथन (A) तथा दूसरे को कारण (R) कहा गया है। नीचे दिये गए कूटों से अपना उत्तर चुनें।
कथन (A):
क्षोभमंडल वायुमंडल का वह निचला भाग है जिसमें बादल छाने तथा तूफान उठने जैसी मौसमजन्य घटनाएँ घटित होती हैं।
कारण (R): क्षोभमंडल में तापमान ऊँचाई के साथ घटता है।
कूट:
(a) (A) और (R) दोनों सही हैं तथा (R), (A) की सही व्याख्या है।
(b) (A) और (R) दोनों सही हैं परन्तु (R), (A) की सही व्याख्या नहीं है।
(c) (A) सही है परन्तु (R) गलत है।
(d) (A) गलत है परन्तु (R) सही हैं।
उत्तर-(b) : क्षोभमण्डल वायुमण्डल का वह निचला भाग है जिसमें बादल छाने तथा तूफान उठने जैसी मौसमजन्य घटनाएँ घटित होती है। यह कथन‚ सत्य है। इस मण्डल को परिवर्तन मण्डल के नाम से भी जाना जाता है। लेकिन कारण कथन की व्याख्या नही कर रहा है।
6. कथन (A): समुद्री तलें महाद्वीपीय तलों से कम पुरानी होती हैं।
कारण (R): कम घनत्ववाली तथा फलस्वरूप उत्प्लावक होने के कारण समुद्री तलें ‘सबडन्शन जोन’ के ‘मेंटल’ में धकेली नहीं जाती। 315
(a) (A) और (R) दोनों सही हैं तथा (R), (A) की सही व्याख्या है
(b) (A) और (R) दोनों सही हैं परन्तु (R), (A) की सही व्याख्या नहीं है।
(c) (A) सही हैं परन्तु (R) गलत हैं।
(d) (A) गलत है परन्तु (R) सही हैं।
उत्तर-(a) : समुद्री तलें महाद्वीपीय तलों से कम पुरानी होती है क्योंकि महासागरीय तलों में महासागरीय कटक के द्वारा लावा का निरन्तर उद्गार होता रहता है जिससे नयी महासागरीय तलों का निर्माण होता रहता है।
7. कथन (A): भूदृश्य के अपरदन को संभव बनाने वाली ऊर्जा का परम-दोत सूर्य है।
कारण (R): सौर-ऊर्जा भूतलीय जल को वाष्पित करता है जिसमें से कुछ बाद में वर्षा तथा बर्फ के रूप में पर्वतीय प्रदेशों में गिरता हैं।
(a) (A) और (R) दोनों सही हैं तथा (R), (A) की सही व्याख्या है।
(b) (A) और (R) दोनों सही हैं परन्तु (R), (A) की सही व्याख्या नहीं है।
(c) (A) सही हैं परन्तु (R) गलत हैं।
(d) (A) गलत है परन्तु (R) सही हैं।
उत्तर-(a) : सौर उर्जा द्वारा जल को वाष्प में बदलना तथा वाष्प द्वारा पुन: वर्षा के माध्यम से जल में परिवर्णित होने की क्रिया को जल चक्र भी कहते हैं।
8. कथन (A): भूकम्प का आकार-प्रकार अधिकेन्द्र के निकट अधिकतम होता है तथा यह दूरी के साथ घटता जाता है।
कारण (R): भूकम्प द्वारा निष्कासित ऊर्जा को उसके आकारप्रकार के द्वारा स्थापित किया जा सकता है।
(a) (A) और (R) दोनों सही हैं तथा (R), (A) की सही व्याख्या है।
(b) (A) और (R) दोनों सही हैं परन्तु (R), (A) की सही व्याख्या नहीं है।
(c) (A) सही हैं परन्तु (R) गलत हैं।
(d) (A) गलत है परन्तु (R) सही हैं।
उत्तर-(b) : भूकम्प का आकार प्रकार अधिकेन्द्र के निकट अधिकतम होता है तथा यह दूरी के साथ घटता जाता है। साथ ही साथ भूकम्प द्वारा निष्कासित ऊर्जा उसके आकार प्रकार के द्वारा स्थापित किया जा सकता है। इस तरह कथन और कारण दोनों सही है लेकिन कारण कथन का सही स्पष्टीकरण नहीं है।
9. क्षेत्रीय रूपांकन के लिए इनमें से किसका उपयोग किया जा सकता है?
(a) ग्रैविटी पोटेंशियल मॉडल
(b) रैंक-साइज रूल
(c) लोस्व सेटलमेण्ट मॉडल
(d) सेंट्रल प्लेस मॉडल
उत्तर-(b) : क्षेत्रीय रूपांकन के लिए रैंक-साइज रूल का प्रयोग किया जा सकता है। रैंक साइज रूल (कोटि आकार नियम) एक प्रकार का मॉडल है‚ जो किसी क्षेत्र की नगरीय बस्तियों के आकार के अनुसार उनके आपसी सम्बन्धों को दर्शाता है।
10. क्षेत्रीय असंतुलन इनमें से किस कारण से उत्पन्न नहीं होता हैं?
(a) संसाधनों का विषम वितरण
(b) टिकाऊ आर्थिक विकास
(c) संसाधनों का अभाव
(d) प्रौद्योगिकी का अभाव
उत्तर-(b) : क्षेत्रीय असन्तुलन टिकाऊ आर्थिक विकास के कारण उत्पन्न नहीं होता है। टिकाऊ आर्थिक विकास द्वारा क्षेत्रीय असन्तुलन को दूर किया जा सकता है। जबकि संसाधनों का विषम वितरण‚ संसाधनों का अभाव प्रोद्योगिकी को अभाव के कारण क्षेत्रीय असन्तुलन को बढ़ावा मिलता है। जिन क्षेत्रों में संसाधनों की अधिकता पायी जाती है वहाँ उच्च स्तर का विकास उनके दोहन के द्वारा प्राप्त किया जा सकता है। जबकि संसाधनों के अभाव वाले प्रदेशों में संसाधनों के न होने के कारण विकास सम्भव हो पाना मुश्किल होता है।
11. ‘नोडल रीजन्स’ का परिसीमन किया जाता हैं?
(a) स्थानिक परस्पर क्रिया के आधार पर
(b) एकरूपता के आधार पर
(c) संसाधन आधार पर
(d) जिंसों के प्रवाह के आधार पर
उत्तर-(a) : नोडल रीजन्स स्थानिक परस्पर क्रिया के आधार पर परिसीमन किया जाता है। नोडल रीजन्स में उद्योग वाणिज्य‚ व्यापार‚ परिवहन‚ प्रशासन आदि प्रमुख होता है। यह प्रदेश प्रमुख आर्थिक गतिविधियों का केन्द्र होता है।
12. लोगों के प्रवास का लाभकारी प्रभाव आरंभिक समय से ही रहा है। इनमें से महत्वपूर्ण हैं:
(a) विचारों का विसरण
(b) भाषा का प्रचार-प्रसार
(c) विज्ञान तथा प्रौद्योगिकीय नवप्रवर्तना का प्रचार-प्रसार
(d) सभी ऊपर के
उत्तर-(d) : किसी व्यक्ति अथवा व्यक्तियों के समूह द्वारा अपना निवास स्थान छोड़कर अन्य स्थान के लिए स्थायी अथवा अस्थायी रूप से किया गया स्थान परिवर्तन जनसंख्या प्रवास कहलाता है। प्रश्नगत दिये गये सभी विकल्प महत्वपूर्ण है।
13. ग्रामीण क्षेत्रों में सामान्य रूप से उपलब्ध कराने के लिए छोटे शहर पनपते हैं।
(a) बाजार की सुविधा (b) शैक्षिक सुविधाएँ
(c) स्वास्थ्य सुविधाएँ (d) प्रशासनिक सुविधाएँ
उत्तर-(d) : ग्रामीण क्षेत्रों में सामान्य रूप से प्रशासनिक सुविधाएँ उपलब्ध कराने के लिए छोटे शहर पनपते हैं। 316
14. भारत में शहरी केंद्रों के वर्गीकरण की सर्वाधिक महत्वपूर्ण कसौटी है:
(a) स्थल (b) आकार
(c) आबादी (d) कार्य
उत्तर-(c) : भारत में शहरी केन्द्रों के वर्गीकरण की सर्वाधिक महत्वपूर्ण कसौटी आबादी है। जिसके द्वारा प्रतिपादित कोटि आकार नियम भी नगरों के वर्गीकरण में जनसंख्या को महत्वपूर्ण कारक मानता है। यदि किसी प्रदेश के नगरों को उनकी जनसंख्या के अवरोही क्रम में व्यवस्थित किया जाए तो कोटि आकार नियम के अनुसार दूसरे कोटि क्रम वाले नगर की जनसंख्या प्रथम कोटि वाले नगर की जनसंख्या की आधी होगी और तीसरे क्रम वाले नगर की जनसंख्या प्रथम कोटि वाले जनसंख्या का एक तिहायी भाग होगी।
15. ‘रैंक साइज रूल’ में निम्नतर दर्जा वाले शहर की जनसंख्या के अनुपात में होती हैं।
(a) लघुतम शहर की जनसंख्या
(b) विशालतम शहर की जनसंख्या
(c) मध्यक्रम वाले शहर की जनसंख्या
(d) इनमें से कोई नहीं
उत्तर-(a) : रैंक साइज रूल में निम्नतर दर्जा वाले शहर की जनसंख्या लघुतम शहर की जनसंख्या के अनुपात में होगी?
16. राजनीतिक भूगोल का जनक किसे कहा जाता है?
(a) रूडोल्फ जेलेन (b) हैसोफर. के.
(c) रैट्जेल. एफ. (d) हार्टशोर्म. आर.
उत्तर-(c) : राजनीतिक भूगोल का जनक रेटजेल को कहा जाता है राजनीतिक भूगोल राज्यों की सीमाओं‚ स्थानीय प्रशासन‚ प्रादेशिक नियोजन आदि से सम्बन्धित है। यह मानवीय समूहों की राजनीतिक स्थितियों‚ समस्याओं व क्रियाओं में भूगोल के महत्व को आँकता है। रेटजेल ने ‘राजनीतिक भूगोल’ नामक पुस्तक भी लिखी। रेटजेल का निश्चयवादी दृष्टिकोण फ्रांस‚ इंग्लैण्ड‚ अमेरिका में बहुत लोकप्रिय हुआ। ‘एलेन चर्चिल’ उनकी प्रमुख शिष्या थी। रेटजेल ने ‘लेबेन्सराय’ की संकल्पना का प्रतिपादन किया। इसका अर्थ होता है ऐसा भौगोलिक क्षेत्र जिसमे जीवित प्राणियों का विकास होता है।
17. राजनीतिक भूगोल में रिमलैण्ड थियरी की विचारधारा किसकी देन है?
(a) स्पाइकमैन एन. जे. (b) वार्नर ई.
(c) वेगर्ट एच. डब्लू. (d) महान ए. टी.
उत्तर-(a) : राजनीतिक भूगोल में रिमलैण्ड थ्योरी स्पाइकमैन एन.
जे. की विचारधारा की देन है। स्पाइकमैन ने 1994 में ‘शान्ति का भूगोल’ नामक पुस्तक लिखी जिसमे उन्होंने रिमलैण्ड के सिद्धान्त को प्रस्तुत किया। उन्होंने मैकिण्डर के विचारों के विपरीत विचार प्रकट किया और बताया कि हृदयस्थल तथा रिमलैण्ड का सापेक्षिक महत्व है हृदयस्थल के इर्द-गिर्द रिमलैण्ड है जो अंशत:
महाद्वीपीय तथा अंशत: महासागरीय है। स्पाइकमैन की मान्यता है कि हृदयस्थल की तुलना में रिमलैण्ड अधिक महत्वपूर्ण हैं।
18. सूची- I को सूची- II से सुमेलित कर सूचियों के नीचे दिये गए कूटों का उपयोग कर सही उत्तर चुनें। सूची- I सूची- II
(भूगोलवेत्ता) (सिद्धांत)
(a) विडाल डि-ला ब्लांश (i) यूनिटी इन डाइवर्सिटी
(b) जीन ब्रून्स (ii) सोशल डिटर्मिनेशन
(c) कार्ल रिटर (iii) टेरेस्ट्रियल होल
(d) फ्राइड रैट्जेल (iv) इंटरैन्शन
कूट:
(a) (b) (c) (d)
(A) (iii) (ii) (iv) (i)
(B) (iv) (ii) (i) (iii)
(C) (iii) (iv) (i) (ii)
(D) (ii) (i) (iii) (iv)
उत्तर-(b) : सूची-I सूची-II
(a) विडाल डि-ला ब्लांश – इंटरैक्शन
(b) जीन ब्रून्स – सोशल डिटर्मिनेशन
(c) कार्ल रिटर – यूनिटी इन डाइवर्सिटी
(d) फ्रेड रेटजेल – टेरेस्ट्रियल होल
19. वह दार्शनिक दृष्टिकोण जो इस बात का पक्षपोषण करता है कि मनुष्य अपनी प्रकृति के निर्माण के लिए उत्तरदायी होता है।
(a) पॉजिटविज्म (वस्तुनिष्ठवाद)
(b) फंन्शनलिज्म (प्रकार्यवाद)
(c) एज्जिस्टेंशियालिज्य (अस्तित्ववाद)
(d) प्रैग्मैटिज्म (व्यावहारिकतावाद)
उत्तर-(a) : वह दार्शनिक दृष्टिकोण जो इस बात का पक्षपोषण करता है कि मनुष्य अपनी प्रकृति के निर्माण के लिए उत्तरदायी होता है‚ पॉजिटिविज्म (वस्तुनिष्ठवाद) कहलाता है। पॉजिटिविज्म एक ऐसी विचारधारा है जिसके अनुसार मानव पर्यावरण का दास नहीं है। यद्यपि वह प्रकृति से प्रभावित होता है तथापि वह अपनी बुद्धि‚ बल तथा कार्यकुशलता के आधार पर पर्यावरण को प्रभावित करता है और प्रकृति के निर्माण के लिए उत्तरदायी होता है। प्रैग्मैटिज्म एक दर्शन है जिसके अनुसार अर्थ और ज्ञान की परिभाषा उसके अनुभव की भूमिका के सन्दर्भ में की जा सकती है। प्रैग्मैटिज्म के प्रमुख लक्षण-
1. वास्तविकता की अपूर्णता
2. ज्ञान का भ्रमात्मक विचार
3. वैज्ञानिक पद्धति और परिकल्प निगमनात्मक प्रैग्मैटिज्म भूगोलवेत्ताओं का मुख्य उद्देश्य मानव तत्व को अधिक महत्व देना है।
20. फसल संयोजन का परिकलन के आधार पर किया जाता है।
(a) निवल कृष्यित क्षेत्र का प्रतिशत क्षेत्र
(b) सकल कृष्यित क्षेत्र का प्रतिशत क्षेत्र
(c) एक क्षेत्र में फसलों का दर्जाकरण
(d) इनमें से किसी के आधार पर नहीं
उत्तर-(c) 317 व्याख्या : फसल संयोजन का परिकलन एक क्षेत्र में नए फसलों के दर्जीकरण के आधार पर किया है। फसल संयोजन का सम्बन्ध किसी क्षेत्र विशेष में किसी विशिष्ट समय अवधि में फसलों की संख्या अथवा विविधता से है। भारतीय कृषि में फसल संयोजन का बड़ा महत्व है क्योंकि यह फसलों का शुद्ध चित्रण प्रस्तुत करता है और कृषि के क्षेत्रीयकरण के लिए ठोस आधार प्रदान करता है।
21. झरिया कोयला-क्षेत्र कहाँ अवस्थित है?
(a) बिहार (b) झारखंड
(c) उड़ीसा (d) छत्तीसगढ़
उत्तर-(b) : झरिया कोयला क्षेत्र झारखण्ड राज्य के धनवाद जिले में स्थित है। यह झारखण्ड राज्य का सबसे बड़ा कोयला उत्पादक क्षेत्र है। देश के 90% से अधिक कोकिंग कोयले के भण्डार यहाँ स्थित है कोयला धोवन शालाएँ सुदामडिह तथा मोनिडिह में स्थित है।
22. भूगोल के विकास के परिप्रेक्ष्य में प्रमुख ब्रिटिश भूगोलवेत्ताओ का सही अनुक्रम है:
(a) ए. जे. हर्बर्टसन‚ एस. डब्लू. वुलरिज‚ एच. जे. मैकिंडर
एल. डी. स्टैम्प
(b) एस. डब्लू‚ वुलरिज‚ ए. जे. हर्बर्टसन‚ एल. डी. स्टैम्प‚
एच. जे. मैकिंडर
(c) एच. जे. मैकिंडर‚ ए. जे. हर्बर्टसन‚ एस. डब्लू‚ वुन लरिज एल. डी. स्टैम्प
(d) एल. डी. स्टैम्प‚ ए. जे. हर्बर्टसन‚ एस. डब्लू वुलरिज‚
एच. जे. मैकिंडर
उत्तर-(b) : भूगोल के विकास के परिप्रेक्ष्य में प्रमुख ब्रिटिश भूगोलवेत्ताओं का सही अनुक्रम इस प्रकार है-
एस. डब्ल्यू. बुलरिज‚ ए. जे. हर्बर्टसन‚ एल. डी. स्टैम्प‚ एच.
जे. मैकिण्डर
23. निम्नलिखित सागरों पर विचार करें।
(i) रेड सी (ii) ब्लैक सी
(iii) डेड सी (iv) बाल्टिक सी खारापन के अवरोही क्रम के आधार पर इन सागरों का सही अनुक्रम हैं?
(a) (i), (ii), (iii), (iv) (b) (ii), (i), (iv), (iii)
(c) (iv), (ii), (iii), (i) (d) (iii), (i), (ii), (iv)
उत्तर-(d) : खारापन के अवरोही क्रम के आधार पर प्रसंगत सागरो का सही अनुक्रम इस प्रकार हैसागर खारापन (लवणता) डेड सी 238 प्रति हजार रेड सी 37-41 प्रति हजार ब्लैक सी 18 प्रति हजार बाल्टिक सी 20-35 प्रति हजार
24. ‘प्रोजेक्ट टाइगर’ के नाम से‚ एक सर्वाधिक सघन संरक्षण प्रयास भारत‚ में कब शुरू किया गया।
(a) 1963 (b) 1967
(c) 1973 (d) 1977
उत्तर-(c) : प्रोजेक्ट टाइगर के नाम से एक सर्वाधिक सघन संरक्षण प्रयास भारत में वर्ष 1973 ई. में शुरू हुआ।
25. ‘‘रिशोर्सेज आर नॉट दे बिकम’’‚ संसाधन की यह परिभाषा किसने दी?
(a) वॉन थुनेन (b) ़िजम्मरमैन
(c) हार्टशीर्न (d) सिन्पल
उत्तर-(b) : ‘रिशोर्सेज आर नॉट टू बिकम’ संसाधन की परिभाषा जिम्मरमैन ने दी। जिम्मरमैन के अनुसार- संसाधन कोई वस्तु या पदार्थ नही है बल्कि वह कार्य है जिसे कोई वस्तु या पदार्थ मानवीय आवश्यकता की पूर्ति के लिए कर सकता है।
26. पशु-पालन वाणिज्यिक पैमाने पर भली-भाँति विकसित हुआ है।
(a) मानसून क्षेत्रों में (b) सावना क्षेत्रों में
(c) प्रेयरी तथा स्टेपी क्षेत्रों में (d) साहेल क्षेत्रों में
उत्तर-(c) : पशुपालन वाणिज्यिक पैमाने पर प्रेयरी तथा स्टेपी क्षेत्रों में भली-भाँति विकसित हुआ क्योंकि इन क्षेत्रों में पशुओं के जीवनयापन हेतु बड़े-बड़े चारागाह पाये जाते हैं। प्रेयरी तथा स्टेपी प्रदेशों की कोमल घासें पशुओं के आहार हेतु अत्यन्त उपयुक्त होती है।
27. भारत में गेहूँ का सबसे अधिक उत्पादन किस राज्य में होता है?
(a) हरियाणा (b) पंजाब
(c) उत्तर प्रदेश (d) बिहार
उत्तर-(c) : भारत में गेहूँ का सर्वाधिक उत्पादन उत्तर प्रदेश में होता है। गेहूँ की कृषि के लिए उपजाऊ दोमट मिट्टी तथा 50-75 सेमी.
वर्षा उपयुक्त होती है। गेहूँ के लिए आरम्भ में तापमान 100 C से 150 C तथा बाद में 200 C से 250 C तक आवश्यक माना जाता है।
28. निम्नलिखित में से कौन एक स्वच्छन्द उद्योग है।
(a) सूती वध्Eा (b) चीनी
(c) सीमेंट (d) हाथकरघा
उत्तर-(d) : हथकरघा उद्योग स्वछन्द उद्योग है। स्वछन्द उद्योग वह होता है जिसे कहीं भी स्थापित किया जा सकता है। तथा जिसे कच्चे माल के दोत के पास ही लगाना आवश्यक नहीं होता है। 318
29. ‘आइसोडापेन’ का संबंध है:
(a) समतुल्य ऊँचाई की रेखा
(b) समतुल्य वृष्टिमान की रेखा
(c) असमानता की रेखा
(d) समतुल्य परिवहन लागत की रेखा
उत्तर-(d) : आइसोडापेन का सम्बन्ध समतुल्य परिवहन लागत की रेखा से है। वेबर ने औद्योगिक अवस्थिति सिद्धान्त में आइसोडापेन शब्द का प्रयोग किया है। वेबर के अनुसार उद्योग को स्थापित करने में वह स्थान उपयुक्त होता है जहाँ कच्चे मालों को एकत्रित करने का परिवहन व्यय और निर्मित माल को बाजार तक भेजने आदि में लगने वाली लागत न्यूनतम हो तथा निर्मित माल के विक्रय से प्राप्त आय अधिकतम हो।
30. निम्नलिखित में से कौन किसी परिवहन प्रणाली से संबंधित नहीं है?
(a) वॉन-थ्यूनेन थियरी
(b) डिस्टेंस डिके फंक्शन
(c) प्रिंसिपल ऑफ लीस्ट अफर्ट
(d) सेंट्रल प्लेस थियरी
उत्तर-(d) : डिस्टेंस डिके फंक्शन किसी परिवहन प्रणाली से सम्बन्धित है। सेन्ट्रल प्लेस थ्योरी क्रिस्ट्रालर ने 1933 में प्रतिपादित की थी। वॉन थ्यूनेन थ्योरी कृषि अवस्थित सिद्धान्त पर आधारित है जो 1826 ई. में वॉन थ्यूनेन द्वारा प्रस्तुत की गयी थी।
31. मंगोलायड प्रजाति प्रधान रूप से पाई जाती है।
(a) दक्षिण अफ्रिका (b) पूर्व-एशिया
(c) पश्चिमी यूरोप (d) पूर्व-अफ्रीका
उत्तर-(b) : मंगोलायड प्रणाली प्रधान रूप से पूर्व-एशिया में पायी जाती है। मंगोल जाति समूह का आदि स्थान चीन है‚ जो मलय द्वीपों तथा इण्डोनेशिया से प्रवास करते हुये पूर्वी पर्वतीय दर्रों को पार कर भारत में आकर बस गए। भारतीय उपमहाद्वीप में ये जाति समूह लद्दाख‚ नेपाल‚ सिक्किम‚ अरुणाचल प्रदेश तथा उत्तरी पूर्वी भारत के अन्य राज्यों में निवास करते हैं। मध्यम कद वाले मंगोलायड लोगों के शरीर और चेहरे पर बालों की कमी होती है। चेहरा सपाट तथा कपोलास्थियाँ उभरी हुयी होती है।
32. इनमें से किसका संबंध जनजातीय अर्थव्यवस्था से है?
(a) स्वच्छंद उद्योग (b) व्यवस्थित खेती-बारी
(c) स्थानांतरणयुक्त खेती-बारी (d) औद्योगिक अर्थव्यवस्था
उत्तर-(c) : स्थानान्तरण खेती-बाऱी का सम्बन्ध जनजातीय अर्थव्यवस्था से है। जनजातीय समूह अधिकांशत: वनों तथा पर्वतों में निवास करते हैं जिस कारण उनकी आय का प्रधान ध्Eोत खेती ही होती है।
33. मानव के प्रजातीय विशेष-गुणों का अध्ययन किस में किया जाता है?
(a) जीवाश्म-विज्ञान (b) जल विज्ञान
(c) समाजशाध्Eा (d) मानवविज्ञान
उत्तर-(d) : मानव के प्रजातीय विशेष गुणों का अध्ययन मानव विज्ञान में किया जाता है।
34. ‘हार्टलैंड थियरी’ का निरूपण किसने किया?
(a) एच. जे. मैकिंडर (b) आर. हार्टशोन
(c) पीटर हैगेट (d) हर्बर्टसन
उत्तर-(a) : हृदयस्थल थ्योरी का निरूपण मेकिण्डर ने किया था। इस सिद्धान्त को मेकिण्डर ने 1904 में अपने निबन्ध इतिहास की भौगोलिक धुरी में प्रस्तुत किया।
35. आर्द्र वातावरण से अनुकूलित पौधे को कहते हैं:
(a) जलोद्भिद् (b) मरुद्भिद्
(c) समोद्भिद् (d) शुष्काद्रोंद्भित
उत्तर-(a) : आर्द्र वातावरण में अनुकूलित पौधों को जलोद्भिद् कहते हैं। मरूद्भिद पौधे गर्म तथा शुष्क दशाओं में पाये जाते हैं। इस तरह के पौधो में शुष्कता को सहन करने के लिए अनुकूल विशिष्टतायें होती है। ऐसी दशाओं वाले पौधों में वाष्पीकरण अधिक होता है इन पौधों को जेरोफाइटिस कहते हैं।
36. पारिस्थितिक अनुक्रमण सामान्यतया जन्म देता है:
(a) हैबिटाट (b) बायोम
(c) ज्लाइमेटिक फ्राँटियर (d) क्लाइमेक्स
उत्तर-(a) : पारिस्थितिक अनुक्रमण सामान्यता हैबिटॉट को जन्म देता है। जब किसी पारिस्थितिक तन्त्र के समस्त पादपों एवं प्राणियों का सम्मिलित रूप में अध्ययन किया जाता है तो उसे बायोम कहा जाता है। बायोम के अन्तर्गत प्राय: स्थलीय भाग के समग्र पादप तथा प्राणी समुदाय को ही सम्मिलित किया जाता है क्योंकि सागरीय बायोम का निर्धारण कठिन कार्य होता है।
37. निम्नलिखित में से किस एक राज्य को पेट्रो-डालर अर्थव्यवस्था ने अधिकतम प्रभावित किया है?
(a) तमिल नाडु (b) केरल
(c) पंजाब (d) गुजरात
उत्तर-(d) : गुजरात राज्य को पेट्रो-डॉलर अर्थव्यवस्था ने अधिकतम प्रभावित किया। ध्यातव्य है कि गुजरात में सबसे अधिक कच्चे तेल के भण्डार पाये जाते हैं एवं यहाँ की अर्थव्यवस्था में भी पेट्रो उत्पाद ने भी अधिक प्रभावित किया है।
38. भारत में राज्य स्तर पर जनसंख्या के वितरण का उत्तम रीति से प्रतिनिधित्व इनमें से किसके द्वारा किया जाता है?
(a) डॉट मेथड (b) पाई डायग्राम
(c) कोरोप्लेथ (d) आइसोप्लेथ
उत्तर-(a) : भारत में राज्य स्तर पर जनसंख्या के वितरण का उत्तम रीति से प्रतिनिधित्व डॉट मेथड द्वारा किया जाता है। जनसंख्या की वृद्धि को निरपेक्ष आँकड़ों अथवा प्रतिशत मात्रा में व्यक्त किया जाता है। 319
39. एक डेटा-शीट में प्रत्यावर्तन मॉडल का उपयोग करने के प्रधान उद्देश्य क्या है?
(a) आश्रित एवं स्वतंत्र चरों के बीच अनियमितता
(b) आश्रित एवं स्वतंत्र चरों के बीच सहसंबंध
(c) आंकड़ों में तिरछापन
(d) आंकड़ों में बिखराव
उत्तर-(b) : एक डेटा शीट में प्रत्यावर्तन मॉडल के उपयोग करने का प्रधान उद्देश्य आँकड़ों में बिखराव है। प्रश्नगत दिये गये अन्य विकल्प गलत है।
40. सूची- I को सूची- II से सुमेलित कर सूचियों के नीचे दिये गए कूटों का उपयोग कर सही उत्तर चुनें। सूची


कूट:
(a) (b) (c) (d)
(A) (iii) (ii) (v) (iv)
(B) (iii) (v) (ii) (iv)
(C) (iv) (i) (ii) (iii)
(D) (iii) (i) (ii) (iv)
उत्तर-(d)
41. विश्व के देशों में भारतीय रेल नेटवर्क का दर्जा है:
(a) प्रथम (b) द्वितीय
(c) तृतीय (d) चतुर्थ
उत्तर-(d) : विश्व के देशों में भारतीय रेल नेटवर्क का दर्जा चतुर्थ है। विश्व में संयुक्त राज्य अमेरिका‚ चीन एवं रूस क्रमश: प्रथम‚ द्वितीय एवं तृतीय स्थान पर हैं।
42. निम्नलिखित में से किसका संबंध सूती वध्Eा उद्योग से है?
(a) पुणे (b) वाराणसी
(c) अहमदाबाद (d) चंडीगढ़
उत्तर-(c) : प्रश्नगत दिये गये विकल्पों में से अहमदाबाद का सम्बन्ध सूती वध्Eा उद्योग से है। अहमदाबाद गुजरात में स्थित है। गुजरात में 130 कारखानों सहित देश का 7.5% सूती धागा तथा 26% कारखाना निर्मित वध्Eा तैयार किया जाता है। अहमदाबाद को ‘पूर्व का बोस्टन’ की उपमा प्रदान की गयी है। इसके अलावा अन्य सूती वध्Eा उत्पादक राज्य निम्न है- महाराष्ट्र‚ उत्तर प्रदेश‚ तमिलनाडु आदि भारत में आधुनिक स्तर की प्रथम सूती कपड़ा मिल वर्ष 1818 में कोलकाता के निकट फोर्ट ग्लोस्टर में लगायी गयी थी।
43. कारगिल किस नदी के किनारे पर स्थित है।
(a) सिंधु नदी् (b) झेलम नदी
(c) सुरू नदी् (d) चेनाब नदी
उत्तर-(c) : कारगिल सुरू नदी के किनारे स्थित है।
44. इंफाल किसकी राजधानी है।
(a) मणिपुर (b) नागालैण्ड
(c) मेघालय (d) अरूणाचल प्रदेश
उत्तर-(a) : राज्य राजधानी मणिपुर इम्फाल नागालैण्ड कोहिमा मेघालय शिलांग अरूणाचल प्रदेश ईटानगर 320
45. ‘मैक मोहन लाइन’ किन देशों के बीच अंतर्राष्ट्रीय सीमा है?
(a) भारत तथा बंगलादेश (b) भारत तथा चीन
(c) भारत तथा पाकिस्तान (d) फ्रांस तथा जर्मनी
उत्तर-(b) : मैकमोहन रेखा भारत तथा चीन के मध्य अन्तराष्ट्रीय सीमा है। भारत तथा चीन की सीमा की कुल लम्बाई 3439 किमी. है। मैक मोहन रेखा चीन और भारत के बीच अरूणाचल प्रदेश के बीच सीमा का निर्धारण करती है। भारत तथा पाकिस्तान के बीच अन्तर्राष्ट्रीय सीमा रेखा 240
उत्तरी अक्षांश से 27 किमी. उत्तर से होकर गुजरती है। इस सीमा रेखा को रेडक्लिक के नाम से जाना जाता है। निर्देश – निम्नलिखित पैसेज को ध्यानपूर्वक पढ़े तथा नीचे दिये गये प्रश्नों के उत्तर सही बतायें। समृद्ध राष्ट्र प्रधानतया एक-दूसरे के बीच व्यापार करते हैं। प्रवास बहुधा मानव समूहों के बीच होता हैं। जो लोग अधिक संवाद भेजते हैं‚ प्रत्युत्तर में वे बहुत सारे संपर्क पाते हैं। प्रवाहों में प्रत्येक गंतव्य स्थान पर बलशाली रूप में डाले गए प्रभावी खिंचाव के अनुरूप-प्राचुर्यता के स्थानों से प्रभावी मांगों के क्षेत्रों की ओर जाने की प्रवृत्ति होती है। प्रवाह जारी रहने के साथ साज्जावस्था की ओर प्रवृत्त होने की प्रवृत्ति आम प्रतीत होती है। भौतिक विश्व में सज्जाएँ स्थानों के बीच गतिमान होती है ताकि प्रभविष्णुता सम हो सके। गुरूत्वाकर्षण बल के कारण जल अधोतम बिंदु की ओर जाने की चेष्टा करता है‚ और यदि इसे समुद्र स्तर तक जाने की स्वतंत्रता हो तो यह ऐसा ही करेगा। इसी प्रकार‚ हवा उच्च दबाव वाले क्षेत्र से निम्न दबाव वाले क्षेत्र की ओर जाएगी। कारक अभिकर्ता के रूप में उच्च दबाव हवा को एक दिशा में अधिक दूरी तक नहीं ले जा सकता। यह हम आम अनुभव से जानते हैं जब हम पंखे की सहायता से किसी कमरे में हवा प्रवहित करते हैं अथवा माचिस की तीली को कुछ दूरी से फूंक कर बुझाते हैं। एक खिड़की में पंखा लगा कर बाहर हवा फेंकने तथा कमरे की दूसरी ओर एक अन्य खिड़की खोल देने से अधिक हवा फेंकी जाएगी। इस प्रक्रिया को अच्छी तरह समझने के लिए धकेलने वाले कारकों पर बल देने की अपेक्षा निम्न दबाव वाले क्षेत्र द्वारा किसी विशेष दिशा में खींची जाने वाली हवा पर विचार करना बेहतर होगा‚ ठीक उसी प्रकार जैसे पर्वत की चोटी से पानी नीचे गिरता है। इसी प्रकार‚ मानव से जुड़े क्रियाकलापों मे्रं‚ किसी अन्य स्थान पर अत्यधिक आपूर्ति के परिप्रेक्ष्य में‚ खिंचाव एक प्रत्यक्ष बल लगाता है। अत: इस बात की व्याख्या करने के लिए‚ कि ज्यों कोई सज्जा अ से ब की ओर गतिमान होती है‚ इससे अधिक सहायता मिलेगी की अ पर धकेल के बनिस्पत ब पर खिंचाव पर अधिक ध्यान केंद्रित किया जाय। अ पर के धकेल की दिशात्मकता बहुधा सूचना का गठन नवीन तथ्यों‚ आंकड़ों‚ विचारों तथा दिन-प्रतिदिन के संदेशों और विचारों के आदान-प्रदान से होता है। व्यक्तियों‚ जिंसों तथा सेवाओं की भाँति‚ सूचना‚ अपने उत्पन्न होने के स्थान से अपनी मांग के क्षेत्रों में एक स्थान पर प्रभावी मांग के स्थानों का भ्रम नहीं होना चाहिए। लोगों या व्यक्तियों के प्रवाह के सदंर्भ में‚ दलित क्षेत्रों की घटती आबादी वाले पिछड़े इलाकों के प्रवास की तुलना में बड़े तथा प्रबल केंद्रों में आने-जाने का कार्य अधिक बड़ी मात्रा में होता है। जिंसों के लाने-भेजने के परिप्रेक्ष्य में‚ विकसित देशों से अर्धविकसित देशों के बीच व्यापार की तुलना में विकसित देशों के मध्य एक दूसरे के बीच व्यापार अत्यधिक बड़ी मात्रा में होता है। इसी प्रकार सूचना प्रधानतया एक प्रणाली के सबल विचार-केंद्रों के मध्य प्रवाहित होती है। इस प्रक्रिया में आलस्य के टापू परे कर दिये जाते हैं ज्योंकि वस्तुत: वे प्रणाली से बाहर होते हैं। अनिर्दिष्ट होती है; जबकि ब पर खिंचाव न केवल अ के लिए बल्कि किसी भी अन्य संभावी आपूर्ति-दोत के लिए महत्व रखता है
46. निम्नलिखित में से कौन सा सूचना के प्रवाह को उत्पन्न करने का कारक है?
(a) माँग (b) उपयोग
(c) गुणवत्ता (d) मात्रा
उत्तर-(a) : प्रवाहों में प्रत्येक गन्तव्य स्थान पर बलशाली रूप से डाले गए प्रभावी खिचाव के अनुरूप प्राचुर्यता के स्थानों से प्रभावी मांगों के क्षेत्रों की ओर जाने की प्रवृत्ति होती है। व्यक्तियों‚ जिंसों तथा सेवाओं की भाँति सूचना अपने उत्पन्न होने के स्थान से अपनी माँग के क्षेत्रों में एक स्थान से दूसरे स्थान तक प्रवाहित होती है।
47. समृद्ध देशों के बीच जिंसों के विनिमय को प्रधानरूप से प्रभावित करने वाले कारक कौन से हैं?
(a) उत्पादन का प्राचुर्य (b) प्रभावी मांग
(c) आर्थिक विकास का स्तर (d) सूचना का उत्पन्न होना
उत्तर-(b) : समृद्ध देशों के बीच जिंसों के विनिमय को प्रधानरूप से प्रभावित करने वाले कारक प्रभावी माँग है।
48. सूचना का उत्पन्न होना निम्नलिखित में से किस पर आश्रित है?
(a) विचारों की प्रकृति
(b) एक प्रणाली में विचार केंद्रों की शक्ति
(c) विचारों की अवधि
(d) विचारों की प्रभावशीलता
उत्तर-(b) : सूचना का उत्पन्न होना एक प्रणाली में विचार केन्द्रों की शक्ति पर आश्रित है।
49. उत्पन्न होने के स्थान से गंतव्य स्थान तक सूचना मुख्य रूप से निम्नलिखित में से किस कारण से प्रवाहित होती है?
(a) उत्पन्न होने के स्थान पर विकर्षण
(b) गंतव्य स्थान पर आकर्षण
(c) उत्पन्न होने के स्थान तथा गंतव्य स्थान के बीच दूरी
(d) उत्पन्न होने के स्थान पर प्रचुरता
उत्तर-(b) : उत्पन्न होने के स्थान से गन्तव्य स्थान तक सूचना मुक्त रूप से गन्तव्य स्थान पर अकर्षण के कारण प्रवाहित होती है।
50. उपरिलिखित पैसेज का सर्वाधिक उपयुक्त शीर्षक निम्नलिखित में से कौन है?
(a) सेवाओं का प्रवाह (b) जिंसों का प्रवाह
(c) लोगों का प्रवास (d) सूचना का प्रवाह
उत्तर-(d) : सूचना का प्रवाह उपरलिखित पैसेज का सर्वाधिक उपर्युक्त शीर्षक है। 321

Top
error: Content is protected !!