You are here
Home > Previous Papers > GEOGRAPHY UGC NTA NET JRF PREVIOUS PAPERS IN HINDIयूजीसी नेट/जेआरएफ परीक्षा‚ दिसम्बर- 2010 भूगोल व्याख्या सहित द्वितीय प्रश्न-पत्र का हल 0027.

GEOGRAPHY UGC NTA NET JRF PREVIOUS PAPERS IN HINDIयूजीसी नेट/जेआरएफ परीक्षा‚ दिसम्बर- 2010 भूगोल व्याख्या सहित द्वितीय प्रश्न-पत्र का हल 0027.

GEOGRAPHY UGC NTA NET JRF PREVIOUS PAPERS IN HINDIयूजीसी नेट/जेआरएफ परीक्षा‚ दिसम्बर- 2010 भूगोल व्याख्या सहित द्वितीय प्रश्न-पत्र का हल

1. डेल्टा केम परिणाम है
(a) हिमनद अपरदन (b) वायु निक्षेपण
(c) नदिय निक्षेपण (d) हिमनद निक्षेपण
उत्तर-(d) : डेल्टा केम हिमनद निक्षेपण का परिणाम है। हिमनद के अग्रभाग पर हिम के पिघलने के कारण कुछ मलबे का निक्षेपण ढेर के रूप में या टीले के रूप में हो जाता है। इस तरह के टीलों को केम कहा जाता है। केम के किनारे तीव्र ढाल होते हैं। केम की रचना रेत तथा बजरी द्वारा होती है।
2. सूची- I का सूची-II के साथ मिलान कीजिये और नीचे दिये संकेतों से सही उत्तर का चयन कीजिये:
सूची-I सूची-II
(पुस्तक का नाम) (लेखक)
(a) ऐसेज इन (i) एल.सी. किंग जियोमॉरफॉलॉजी
(b) मॉरफॉलॉजी ऑफ (ii) जी.एच. डूरी द अर्थ
(c) अनस्टेबल अर्थ (iii) सी.ए.एम. किंग
(d) टेक्नीक्स इन (iv) जे.ए. स्टीयर्स जियोमॉरफॉलॉजी संकेत:
(a) (b) (c) (d)
(a) (ii) (i) (iv) (iii)
(b) (i) (iii) (iv) (ii)
(c) (iv) (ii) (iii) (i)
(d) (iv) (iii) (i) (ii)
उत्तर-(a) :
पुस्तक का नाम लेखक
ऐसेज इन जियोमॉरफॉलॉजी – जी. एच. डूरी मॉर्फोलॉजी ऑफ द अर्थ – एल. सी. किंग अनस्टेबल अर्थ – जे. ए. स्टीयर्स टेक्नीक्स इन जियोमॉर्फोलॉजी – सी. ए. एम. किंग
3. शुष्क प्रदेशों में पर्वत पदीप ढलवाँ मार्ग पर नदियों द्वारा निक्षेपित बालू कहलाती है
(a) हमादा (b) बजादा
(c) मरु प्रक्षालन (d) पेडीमेंट
उत्तर-(b) : शुष्क प्रदेशों में पर्वतपदीय ढलवाँ मार्ग पर नदियों द्वारा निक्षेपित बालू बजादा कहलाती है। प्लेया तथा पर्वतीय अग्र भाग के मध्य मन्द ढाल वाले मैदान होते हैं। इस मैदान का निचला भाग‚ जो कि प्लेया से मिलता है‚ बजादा कहलाता है इसका निर्माण मलवा के निक्षेप द्वारा होता है। ऊपरी भाग पेडीमेण्ट कहा जाता है। बजादा का निर्माण पेडीमेण्ट के नीचे तथा प्लेया के किनारे पर जलोढ पंखों के मिलने से होता है।
4. पर्वत निर्माण के सिद्धान्तों को उनके प्रकाशित होने के अनुक्रम में व्यवस्थित कीजिये। नीचे दिये संकेतों का प्रयोग कीजिये:
(i) महाद्वीपीय विस्थापन सिद्धान्त
(ii) संवहन तरंग सिद्धान्त
(iii) समुद्री फैलाव सिद्धान्त
(iv) प्लेट विवर्तनीकी सिद्धान्त संकेत:
(A) (i) (ii) (iii) (iv)
(B) (ii) (i) (iii) (iv)
(C) (iv) (ii) (i) (iii)
(D) (iii) (i) (ii) (iv)
उत्तर-(a) : पर्वत निर्माण के सिद्धान्तों को उनके प्रकाशित होने का सही अनुक्रम निम्न हैमहाद्वीपीय विस्थापन सिद्धान्त (1912) ↓ संवहन तरंग सिद्धान्त ↓ समुद्र फैलाव सिद्धान्त ↓ प्लेट विवर्तनिकी सिद्धान्त (1962) महाद्वीपीय विस्थापन सिद्धान्त वेगनर ने दिया था संवहन तरंग सिद्धान्त होम्स द्वारा प्रतिपादित किया गया है। समुद्री फैलाव सिद्धान्त हैरी हैस द्वारा प्रकाशित किया गया है।
5. नीचे दो कथन दिये गये हैं‚ एक को अभिकथन (A) और दूसरे को कारण (R) का नाम दिया गया है। नीचे दिये संकेतों से अपने उत्तर का चयन कीजिये:
अभिकथन (A) :
भू धरातल पर एक चादर की भाँति प्रवाहित होने वाला जल तलछटों को अपने साथ ले जाता है तथा एक जलमार्ग के अनुढाल में उन्हें खिसका देता है।
कारण (R) : धारा का प्रवाह सभी तलछटों को सदैव अनुढाल में परिवाहित कर देता है। 253 संकेत:
(a) (A) तथा (R) दोनों सही हैं।
(b) (A) तथा (R) दोनों सही हैं‚ परन्तु (R) सही व्याख्या नहीं है।
(c) (A) सही है‚ परन्तु (R) गलत है।
(d) (A) गलत है‚ परन्तु (R) सही है।
उत्तर-(a) : धारा जिस दिशा की ओर प्रवाहित होती है प्राय: वह क्षेत्र ढाल का रूप लेती चली जाती है। प्रवाह की दिशा सभी तलछटों को सदैव अनुढाल में प्रवाहित कर देती है। इस तरह कथन एवं कारण दोनों सत्य हैं‚ एवं कारण कथन की सही व्याख्या भी कर रहा है। ध्यातव्य है कि भारत में तलछटीकरण एक गम्भीर समस्या बन गया है। नदी का उद्गम स्थल हिमालयी क्षेत्र हो या प्रायद्विपीय पठार भारत में अधिकांश नदियाँ तलछटीकरण की समस्या से ग्रस्त हैं।
6. कठोर चट्टान से निर्मित खड़े ढालवाला उच्च सपाट भाग‚ जो सामान्यत: शुष्क प्रदेशों में पाया जाता है‚ को……… कहते हैं।
(a) अर्ग (b) क्वेस्टा
(c) मेसा (d) कगार
उत्तर-(c) : कठोर चट्टान से निर्मित खड़े ढाल वाला उच्च सपाट भाग‚ जो सामान्यत: शुष्क प्रदेशों में पाया जाता है। उसे मेसा कहते हैं। मेसा एक स्पेनिश शब्द है जिसका शाब्दिक अर्थ टेबुल अथवा मेज होता है यह मेज के आकार की एक ऐसी आकृति होती है जिसका निर्माण लावा से पुरानी चट्टान के ऊपर होता है। इसके किनारे चारों तरफ से काफी बड़े होते हैं। इस तरह की मेसा संयुक्त राज्य अमेरिका के कोलोरेडो‚ बायोमिंग तथा न्यू मैक्सिको प्रान्तों के लावा क्षेत्र में सर्वाधिक पायी जाती है। कभी-कभी मेसा का आकार इतना विस्तृत होता है कि वह छोटे-छोटे पठार सी लगती है। कोलेरेडो प्रान्त की ‘ग्रांड मेसा’ इस प्रकार की एक विस्तृत मेसा है। जिसका ऊपरी भाग कोलेरेडो तथा गन्नीसन नदियों की घाटियों से 5000 फीट ऊपर स्थित है। क्वेस्टा- कठोर तथा अवरोही शैलों वाली लम्बी तथा संकरी पर्वत श्रेणी जिसकी नति तथा ढाल झुका हुआ होता है। यह हागबैक से इस बात में भिन्न है कि हागबैक की नति तथा ढाल खड़े होते हैं। अवसादी शैल के नीचे लावा गुबंद की स्थिति होने पर जब कोमल अवसादी शैल अनाच्छादन द्वारा कट जाती है। लावा गुबंद की कठोर एवं प्रतिरोधी शैल ऊपर निकल आती है‚ जिससे क्वेस्टा अथवा हागबैक जैसी स्थलाकृतियों का निर्माण होता है।
7. नीचे दो कथन दिये गये हैं‚ एक की अभिकथन (A) तथा दूसरे को कारण (R) का नाम दिया गया है। नीचे दिये गये संकेतों से अपने उत्तर का चयन कीजिये:
अभिकथन (A) :
एक उष्णकटिबंधीय चक्रवात की अभिलक्षणात्मक विशिष्टता उसकी केन्द्रीय अक्षि है।
कारण (R) : उष्णकटिबंधीय चक्रवात झंझावात के उत्कट सर्पिल-घूर्णन से उत्पन्न मेघ-शून्य चक्रवात से संबद्ध नहीं है। संकेत:
(a) (A) तथा (R) दोनों सही है तथा (R), (A) की सही व्याख्या है।
(b) (A) तथा (R) दोनों सही हैं‚ परन्तु (R), (A) की सही व्याख्या नहीं है।
(c) (A) गलत है‚ परन्तु (R) सही है।
(d) (A) सही है‚ परन्तु (R) गलत है।
उत्तर-(d) : उष्णकटिबंधीय चक्रवातों की अभिलक्षण विशिष्टता उसकी केन्द्रीय अक्षि होती है इस तरह कथन सत्य है एवं कारण असत्य। उष्णकटिबंधीय चक्रवात केन्द्र तक पहुँचने पर वायु मेघ और वर्षा की मात्रा में बाहर से भीतर की ओर वृद्धि होती जाती है। केन्द्र स्वयं एक शान्त क्षेत्र होता है इसे चक्रवात का चक्षु कहते हैं।
8. निम्नलिखित में से किसके आकलन के लिए रेटिंग वक्र उपयोगी है?
(a) नदी का निस्सरण (b) धारा का वेग
(c) विघटित भार (d) जलीय परास
उत्तर-(b) : ‘धारा के वेग के ऑकलन के लिए रेटिंग वक्र उपयोगी है।’
9. नीचे दो कथन दिये गये हैं। एक को अभिकथन (A) और दूसरे को कारण (R) का नाम दिया गया है। नीचे दिये गये संकेतों से अपने उत्तर का चयन कीजिये:
अभिकथन (A) :
प्रवाल भित्ति उथले तथा उष्णजल में विकसित होती है।
कारण (R) : प्रवाल भित्ति को विकसित होने के लिए अनिवार्यत: लगभग ऊर्ध्वाधर तथा प्रत्यक्ष सौर विकिरण की आवश्यकता होती है। संकेत:
(a) (A) तथा (R) दोनों सही हैं।
(b) (A) तथा (R) दोनों गलत हैं।
(c) (A) सही है‚ परन्तु (R) गलत है।
(d) (A) गलत है‚ परन्तु (R) सही है।
उत्तर-(c) : प्रवाल भित्ति उथले तथा उष्ण जल में विकसित होती है। प्रवाल 60-100 मी. की गहरायी वाले जल में जीवित नहीं रह सकते हैं। इस प्रकार महाद्वीपीय मग्नतट‚ गहरे महासागरों में ज्वालामुखी शिखर‚ जलमग्न वेदिका कटक तथा पठार जो लगभग 60 मी. की गहरायी तक जलमग्न है‚ प्रवाल जीवों को आश्रय प्रदान करते हैं। प्रवाल भित्ति को विकसित होने के लिए अनिवार्यत: लगभग उर्ध्वाधर तथा प्रत्यक्ष सौर विकिरण की आवश्यकता नहीं होती है। प्रवाल के विकास के लिए 180 C से 210 C तापमान आवश्यक होता है। जिन महासागरों में लवणता अधिक पायी जाती है वहाँ प्रवालों का विकास नहीं हो पाता है। 254
10. ऊर्ध्वपातन किससे किसमें परिवर्तन को व्यंजित करता है?
(a) ठोस से वाष्प (b) वाष्प से ठोस
(c) द्रव से वाष्प (d) वाष्प से द्रव
उत्तर-(a) : उर्ध्वपातन एक भौतिक−रासायनिक प्रक्रिया है। किसी तत्व द्वारा अपनी अवस्था को ठोस से सीधे गैस में परिवर्तित करने को कहते हैं‚ इस पूरी प्रक्रिया के दौरान तत्व की अवस्था किसी मध्यवर्ती द्रव अवस्था में परिवर्तित नहीं होती है।
11. सवाना बायोम सामान्यत: किससे संबंधित है?
(a) उष्णकटिबंधीय शुष्कार्द्र जलवायु
(b) विषुवतीय आर्द्र जलवायु
(c) उष्णकटिबंधीय शुष्क जलवायु
(d) मानसूनी जलवायु
उत्तर-(a) : सावाना बायोम उष्णकटिबन्धीय शुष्कार्द्र जलवायु से सम्बन्धित है। सवाना बायोम की जलवायु की प्रमुख विशेषताएं हैंस्पष्ट शुष्क‚ आर्द्र ऋतुएँ‚ वर्ष भर उच्च तापमान। सवाना प्रकार के बायोम दक्षिणी में ब्राजील‚ अफ्रीका उ. आस्ट्रेलिया आदि में पाए जाते हैं। कोलम्बिया तथा वेनेजुएला में इन्हे लानोज‚ ब्राजील में कम्पोस तथा अफ्रीका में पार्कलैण्ड आदि नामों से जाना जाता है।
12. भूमध्य रेखा की लम्बाई का निर्धारण करने वाला प्रथम भूगोलवेत्ता कौन था?
(a) इरेटोस्थनीज (b) हेरोडोटस
(c) एनेक्सिमेंडर (d) थेल्स
उत्तर-(a) : भूमध्यरेखा की लम्बाई का निर्धारण करने वाले प्रथम भूगोलवेत्ता इरेटोस्थनीज थे। इरेटोस्थनीज ने ज्योग्राफिया नामक ग्रन्थ की रचना की। इन्होंने सर्वप्रथम ज्योग्राफिया नामक शब्द का प्रयोग किया। इन्होंने पृथ्वी तल का मानव के निवास के रूप में अध्ययन को भूगोल का विषय वस्तु बताया। इरेस्टोस्थनीज ने भूगोल के क्षेत्र में 3 प्रमुख योगदान दिये- प्रथम- पृथ्वी की परिधि का ऑकलन‚ दूसरा- निवास्य जगत का मानचित्रण‚ तीसरा- इस निवास्य जगत का विवरण करते हुए एक पुस्तक लिखा।
13. बंगाल की खाड़ी का आलेखन करने वाला प्रथम व्यक्ति कौन था?
(a) स्ट्रॉबो (b) टॉलेमी
(c) अल-मसूदी (d) हम्बोल्ट
उत्तर-(b) : बंगाल की खाड़ी का आलेखन करने वाला प्रथम व्यक्ति टॉलमी था। टॉलमी ने गणितीय भूगोल में निम्न योगदान दिया- पृथ्वी की परिधि‚ अवासीय विश्व का विस्तार‚ प्रमुख याम्योत्तर प्रक्षेप की रचना आदि। टॉलमी प्रथम विद्वान थे जिसने वोल्गा नदी की जानकारी प्राप्त की और उसे मानचित्र पर अंकित किया।
14. ‘मॉडर्न जिओग्राफिकल थॉट’ नामक पुस्तक का लेखक कौन है?
(a) डेविड हार्वे (b) आर. जे. जॉन्सटन
(c) ब्रेयन जे. एल. बेरी (d) रिचर्ड पीट
उत्तर-(d) : रिचर्ड पीट अमेरिकन भूगोलवेत्ता हैं। इन्होंने क्रान्तिकारी भूगोल को स्वतन्त्र रूप में विकसित करने का कार्य सर्वप्रथम किया। इनकी प्रमुख पुस्तकें निम्न है- मॉडर्न जिओग्राफिकल थॉट‚ रेडिकलिज्म इन जिओग्राफी।
15. सूची- I का सूची- II के साथ मिलान कीजिए और नीचे दिये गये संकेतों से सही उत्तर का चयन कीजिए:
सूची- I सूची- II
(a) हम्बोल्ट (i) ऐंथ्रोपोजिओग्राफी
(b) ऑस्कर पेस्चेल (ii) ईराटेल
(c) रिचथोफेन (iii) कॉस्मोस
(d) रैटजेल (iv) दास ऑसलैंड संकेत:
(a) (b) (c) (d)
(a) (i) (ii) (iii) (iv)
(b) (ii) (iv) (iii) (i)
(c) (iii) (ii) (iv) (i)
(d) (iii) (iv) (ii) (i)
उत्तर-(d) : सूची-I सूची-II हम्बोल्ट कॉस्मोस ऑस्कर पेस्चल दास ऑसलैण्ड रिचथोफेन ईराटेल रेटजेल ऐंथ्रोपोजिओग्राफी
16. सूची- I का सूची- II के साथ मिलान कीजिए और नीचे दिये गये संकेतों से सही उत्तर का चयन कीजिए:
सूची- I सूची- II
(a) आइसोक्रोन मानचित्र (i) समान जैविक घटना
(b) आइसोनेफ मानचित्र (ii) समान समय
(c) आइसोटिम मानचित्र (iii) समान मेघमयता
(d) आइसोफीन मानचित्र (iv) समान परिवहन लागत संकेत:
(a) (b) (c) (d)
(a) (ii) (iii) (iv) (i)
(b) (ii) (iv) (i) (iii)
(c) (iv) (iii) (ii) (i)
(d) (iii) (ii) (iv) (i)
उत्तर-(a) :
सूची-I सूची-II
आइसोक्रोन मानचित्र समान समय आइसोनेफ मानचित्र समान मेघमयता आइसोटिम मानचित्र समान परिवहन लागत आइसोफीन मानचित्र समान जैविक घटना 255
17. मानव प्रवास से संबंधित ‘प्रिंसिपल ऑफ लीस्ट एफर्ट’ का प्रतिपादक कौन है?
(a) स्टॉफर (b) रिवेंस्टीन
(c) वेबर (d) जिफ्फ
उत्तर-(d) : वेबर एक जर्मन अर्थशाध्Eाी थे जिन्होंने 1917-18 में ओद्योगिक स्थनीयकरण से सम्बन्धित अपना न्यूनतम परिवहन लागत सिद्धान्त प्रस्तुत किया। रोवेस्टीन की महत्वपूर्ण कृति लाँज आफ माइग्रेशन है। स्टॉफर ने अन्तरालयी अवसर सिद्धान्त तथा स्पर्द्धात्मक स्थानान्तर मॉडल सिद्धान्त प्रस्तुत किया।
18. निम्नलिखित देशों को उनकी जनसंख्या के अनुसार व्यवस्थित कीजिए:
(a) पाकिस्तान‚ बंग्लादेश‚ श्रीलंका‚ नेपाल
(b) पाकिस्तान‚ श्रीलंका‚ नेपाल‚ बंग्लादेश
(c) बंग्लादेश‚ पाकिस्तान‚ नेपाल‚ श्रीलंका
(d) श्रीलंका‚ बंग्लादेश‚ नेपाल‚ पाकिस्तान
उत्तर-(*) :
जनसंख्या (करोड़ में)
बांग्लादेश − 162951560 पाकिस्तान − 209,970,000 नेपाल − 28,982771 श्रीलंका − 21,444000 उपरोक्त आँकड़ों के अनुसार देशों का क्रम इस प्रकार है− पाकिस्तान−बांग्लादेश−नेपाल−-श्रीलंका। अत: उपरोक्त में से कोई भी विकल्प सुमेलित नहीं है।
19. निम्नलिखित दक्षिण-एशियाई देशों में कौन सा सर्वाधिक नगरीकृत है?
(a) नेपाल (b) बंग्लादेश
(c) मालदीव (d) श्रीलंका
उत्तर-(c) : दक्षिण-एशियाई देशों में 45.5% के साथ मालदीव सर्वाधिक नगरीकरण प्रतिशत वाला देश है। जबकि अन्य देशों− पाकिस्तान का 38%‚ बांग्लादेश का 34.3%‚ भारत का 31%‚ नेपाल का 18.6% एवं श्रीलंका का 18.4% आबादी शहरों में निवास करती है। इस तरह विकल्प (c) सही है।
20. नीचे दो कथन दिये गये हैं‚ एक को अभिकथन (A) तथा दूसरे को कारण (R) का नाम दिया गया है। नीचे दिये गये संकेतों से अपने उत्तर का चयन कीजिये:
अभिकथन (A) :
सम्प्रति ग्राम से नगर में प्रवास के रूप में नगरीय विकास की उच्च दर में नगरीय जनसंख्या में प्राकृतिक वृद्धि एक महत्वपूर्ण योगदानकर्ता नहीं है।
कारण (R) : न्यून मृत्युदर के कारण‚ ऐतिहासिक भूतकाल की अपेक्षा आधुनिक युग में जनसंख्या की प्राकृतिक वृद्धि दर उच्चतर है। संकेत:
(a) (A) तथा (R) दोनों सही है तथा (R), (A) की सही व्याख्या है।
(b) (A) तथा (R) दोनों सही हैं‚ परन्तु (R), (A) की सही व्याख्या नहीं है।
(c) (A) सही है‚ परन्तु (R) गलत है।
(d) (A) गलत है‚ परन्तु (R) सही है।
उत्तर-(b) : उपरोक्त कथन एवं कारण दोनों सही हैं लेकिन कारण कथन की सही व्याख्या नहीं है। ज्ञातव्य है कि जनसंख्या वृद्धि के दो आधार होते हैं−(1) प्राकृतिक वृद्धि‚ (2) जनसंख्या स्थानांतरण। प्राकृतिक वृद्धि में अभूतपूर्व वृद्धि की प्रवृत्ति विकासशील देशों में देखी जाती है।
21. निम्नलिखित में से कौन पुनर्नवीकरणीय संसाधन है?
(a) कोयला (b) वायु-ऊर्जा
(c) लौह अयस्क (d) अभ्रक
उत्तर-(b) : वायु ऊर्जा पुनर्नवीकरणीय संसाधन है। – पुनर्नवीकरणीय संसाधन वे संसाधन हैं जिनका स्वरूप या गुण में परिवर्तन करके उनके उपयोग अवधि तथा उपयोगिता आदि में वृद्धि या सुधार है।
22. समय के किसी न किसी पैमाने पर समस्त संसाधन पुनर्नवीकरणीय होते हैं …….. भविष्य की आपूर्तियों की
उत्तरजीविता के लिए पुनर्भरण तथा उपयोग की सापेक्षिक दर ही मायने रखती है………
इस कथन के दृष्टिकोण से संसाधन सातत्यक के सही क्रम की पहचान‚ पुनर्नवीकरण के अवरोही क्रम में कीजिए।
(a) हवा‚ ज्वार-शक्ति‚ बॉक्साइट‚ वन
(b) हवा‚ बॉक्साइट‚ वन‚ ज्वार-शक्ति
(c) ज्वार-शक्ति‚ हवा‚ बॉक्साइट‚ वन
(d) वन‚ हवा‚ ज्वार-शक्ति‚ बॉक्साइट
उत्तर-(d) : उपरोक्त का क्रम इस प्रकार हैं− वन‚ हवा‚ ज्वार-शक्ति‚ एवं बाक्साइट
23. भारत के महा पंजीयक तथा जनगणना आयुक्त का कार्यालय निम्नलिखित में से किनके लिए उत्तरदायी है?
I. दशवार्षिक जनगणना संचालन एवं उससे सम्बन्धित आँकड़ों का प्रकाशन।
II. वार्षिक भूमि-उपयोग के आँकड़ों का प्रकाशन।
III. वार्षिक स्वास्थ्य तथा शिक्षा के आँकड़ों का प्रकाशन।
IV. प्रतिचयनित पंजीकरण प्रणाली के आधार पर प्राप्त वार्षिक जन्म-मरण की सांख्यिकी का प्रकाशन।
(a) I तथा II सही हैं।
(b) I तथा IV सही हैं।
(c) 1 तथा III सही हैं।
(d) उपरिलिखित सभी सही हैं।
उत्तर-(b) 256 व्याख्या : भारत के महापंजीयक तथा जनगणना आयुक्त का कार्यालय वार्षिक भूमि- उपयोग के आँकड़ों का प्रकाशन तथा वार्षिक स्वास्थ्य तथा शिक्षा के ऑकड़ों के प्रकाशन के लिए
उत्तरदायी नहीं है।
24. नीचे दो कथन दिये गये हैं‚ एक को अभिकथन (A) तथा दूसरे को कारण (R) का नाम दिया गया है। नीचे दिये गये संकेतों से अपने उत्तर का चयन कीजिये:
अभिकथन (A) :
बायोमास ऊर्जा दोत‚ जो नाजुक परिसीमा में आते हैं‚ पुनर्नवीकरणीय संसाधन हैं।
कारण (R) : एक समयसीमा के बाद बायोमास का पुनर्भरण किया जा सकता है। इन दो कथनों के परिप्रेक्ष्य में‚ निम्नलिखित में से कौन सा कथन सही है?
संकेत:
(a) (A) तथा (R) दोनों सही हैं तथा (R), (A) की सही व्याख्या है।
(b) (A) तथा (R) दोनों सही हैं‚ परन्तु (R), (A) की सही व्याख्या नहीं है।
(c) (A) सही है‚ परन्तु (R) गलत है।
(d) (A) गलत है‚ परन्तु (R) सही है।
उत्तर-(a) : बायोमास‚ सौर ऊर्जा‚ पवन ऊर्जा‚ ज्वारीय ऊर्जा‚ भू तापीय ऊर्जा और यहाँ तक कि अपशिष्ट पदार्थों से प्राप्त की गयी ऊर्जा का महत्व बढ़ रहा है। एक समय सीमा के बाद बायोमास का पुनर्भरण किया जा सकता है। ऊर्जा के ये ध्Eोत पर्यावरण का प्रदूषण नहीं करते हैं।
25. निम्नलिखित में से कौन सा स्टील प्लांट बंदरगाह-
आधारित है?
(a) भिलाई (b) दुर्गापुर
(c) विशाखापटनम (d) राउरकेला
उत्तर-(c) : विशाखापटनम स्टील प्लांट एक बन्दरगाह है। भारत के आन्ध्र प्रदेश राज्य में कोलकाता एवं चेन्नई के मध्यवर्ती भाग में स्थित यह प्राकृतिक एवं सर्वाधिक गहरा बन्दरगाह है। इस बन्दरगाह के मुख पर डालफिन नोज नामक पहाड़ी के समुद्र में निकले होने के कारण यह तूफानों से स्वत: सुरक्षित है। यह जापान को लोहा निर्यात के लिए प्रसिद्ध है तथा यह डीजल जहाज निर्माण व निर्मित टाईल्स का निर्माण केन्द्र है।
26. निम्नलिखित में से किसका संबंध राजनीतिक भूगोल से नहीं है?
(a) एफ. रैटजेल (b) ईसा बोमेन
(c) आर. जे. जॉन्सटन (d) एच. जे. मेकिंडर
उत्तर-(c) : आर. जे. जॉन्सटन का सम्बन्ध राजनीतिक भूगोल से नही है। एफ. रेटजेल‚ ईसा बोमेन तथा एच. जे. मेकिंडर का सम्बन्ध राजनीतिक भूगोल से है। ईसा बोमेन ने एण्डीज पर्वत‚ विशेषकर पेरू‚ बोलीविया और चिली के नामों में विस्तृत यात्राएँ की थी। बाद में उसने अटाकामा मरुस्थल को पार किया। इस क्षेत्र कार्य की सहायता से उसने अपना लघु शोध प्रबन्ध ‘दी ज्योग्राफी आफ दी सैन्ट्रल एण्डीज‚ लिखा। 1931 में उन्होंने पायोनियर फ्रिंज नामक पुस्तक प्रकाशित की। ज्योग्राफी इन रिलेशन टू सोशल सांइसेज 1934 में प्रकाशित हुयी।
27. सूची- I का मिलान सूची- II से कीजिए तथा नीचे दिये गये संकेतों से सही उत्तर का चयन कीजिए:
सूची- I सूची- II
(भूगोलवेत्ता) (के साथ संबंधित है)
(a) सी. सावर (1) आमूलचूल परिवर्तन परक भूगोल
(b) डी. हार्वे (2) सांस्कृतिक भूगोल
(c) एफ. रैटजेल (3) सामाजिक भूगोल
(d) एच. जे. जॉन्सटन (4) राजनीतिक भूगोल संकेत:
(a) (b) (c) (d)
(a) (1) (3) (4) (2)
(b) (2) (1) (4) (3)
(c) (4) (3) (2) (1)
(d) (2) (1) (3) (4)
उत्तर-(b) :
भूगोलवेत्ता के साथ सम्बन्धित है
सी. सावर सांस्कृतिक भूगोल
डी. हार्वे आमूलचूल परिवर्तनपरक भूगोल एफ रेटजेल राजनीतिक भूगोल
एच. जे. जॉन्सटन सामाजिक भूगोल
28. भारत में राज्य का उपयोग राष्ट्रीय नियोजन की इकाई के रूप में किया जाता है
(a) क्योंकि यह एक प्रशासनिक इकाई है।
(b) क्योंकि यह एक समरूप इकाई है।
(c) राजनीतिक विचार के कारण।
(d) समान भौतिक विशेषताओं के कारण।
उत्तर-(a) : भारत में राज्य का उपयोग राष्ट्रीय नियोजन की इकाई के रूप में किया जाता है क्योंकि राज्य एक प्रशासनिक इकाई है।
29. नगरीय भूमि के मूल्यनिर्धारण के लिए एक महत्त्वपूर्ण तत्त्व क्या है?
(a) जलवायु (b) ऐतिहासिक कारण
(c) स्थलाकृति (d) सुगम्यता
उत्तर-(d) 257 व्याख्या : नगरीय भूमि के मूल्यनिर्धारण के लिए सुगम्यता सर्वाधिक महत्वपूर्ण तत्व है। जिस नगरीय भूमि में सुगम्यता सर्वाधिक पायी जाती है वहाँ-वहाँ का मूल्य अधिक होगा। जलवायु ऐतिहासिक कारण तथा स्थलाकृति सुगम हो और वहाँ सुगम्यता न हो तो उस नगरीय भूमि का मूल्य स्वत: कम हो जायेगा।
30. संसाधन विकास के नियंत्रण अथवा निदेशन को क्या कहा जाता है?
(a) संसाधन प्रयोज्यता (b) संसाधन आबंटन
(c) संसाधन प्रबंधन (d) संसाधन उपलब्धता
उत्तर-(c) : संसाधन विकास के नियन्त्रण अथवा निदेशन को संसाधन प्रबन्धन कहा जाता है। संसाधन प्रबन्धन का तात्पर्य है किसी संसाधन के कुशल नियन्त्रण तथा व्यवस्थापन से है जो वर्तमान सामाजिक‚ आर्थिक आवश्यकताओं‚ उपलब्ध तकनीकी ज्ञान‚ भावी उपयोगिता एवं आवश्यकता‚ पर्यावरण संरक्षण आदि को ध्यान में रखकर संचालित होता है।
31. समरूपता तथा अंतर्संबंद्धता के सिद्धांत का उपयोग………..के लिए इकाइयों के चित्रण हेतु किया जाता है।
(a) विकास नियोजन
(b) संसाधन विश्लेषण
(c) संसाधनों के आबंटन
(d) स्थान-विशिष्ट सुविधाओं
उत्तर-(b) : समरूपता तथा अन्तर्सम्बद्धता के सिद्धान्त का उपयोग संसाधन विश्लेषण के चित्रण हेतु किया जाता है।
32. निम्नलिखित में से किस वर्ष में भारत में राष्ट्रीय जल नीति को सूत्रबद्ध किया गया?
(a) 2002 (b) 1987
(c) 2007 (d) 1985
उत्तर-(b) : भारत में पहली बार 1987 को राष्ट्रीय जलनीति को सूत्रबद्ध किया गया। इसके बाद 2002 एवं 2012 में इसे संशोधित किया गया। ध्यातव्य है कि भारत विश्व के कुल जलसंसाधन का 4% उपयोग करता है।
33. निम्नलिखित में से कौन भारत का कृषीय जलवायु प्रदेश नहीं है?
(a) पूर्वी समुद्रतटीय मैदान तथा पहाड़ी भाग
(b) पूर्वी पठार तथा पहाड़ी क्षेत्र
(c) पश्चिमी घाट
(d) गंगापार के मैदान क्षेत्र
उत्तर-(d) : भारत के कृषीय जलवायविक प्रदेशों को 15 प्रदेशों में विभाजित किया गया है।
(i) उत्तर पश्चिमी पर्वतीय प्रदेश
(ii) उत्तर-पूर्वी प्रदेश
(iii) सतलुज यमुना मैदान
(iv) गंगा का ऊपरी मैदान
(v) गंगा का मध्य मैदान
(vi) गंगा का निचला मैदान
(vii) दक्षिण पूर्वी पठार प्रदेश
(viii) अरावली मालवा पठार
(ix) महाराष्ट्र का पठारी प्रदेश
(x) अन्तपर्वतीय दक्कन प्रदेश
(xi) पूर्वी तट
(xii) पश्चिमी तट
(xiii) गुजरात प्रदेश
(xiv) पश्चिमी राजस्थान
(xv) अण्डमान व निकोबार एवं लक्ष द्वीप समूह
34. निम्नलिखित में से कौन सा पर्वत शिखर सुमेलित नहीं है?
पर्वत शिखर ऊँचाई
(a) अनैमुडी -2965 मीटर
(b) नंगा पर्वत -7756 मीटर
(c) माउण्ट एवरेस्ट -8848 मीटर
(d) के -2 -8611 मीटर
उत्तर-(b) :
पर्वत शिखर ऊँचाई
(a) अनैमुडी -2965 मीटर
(b) नंगा पर्वत -8126 मीटर
(c) माउण्ट एवरेस्ट -8848 मीटर
(d) के 2 -8611 मीटर
35. नीचे दो कथन दिये गये हैं‚ एक को अभिकथन (A) तथा दूसरे को कारण (R) का नाम दिया गया है। नीचे दिये गये संकेतों से अपने उत्तर का चयन कीजिये:
अभिकथन (A) :
भारत के उत्तरी मैदानी क्षेत्र तथा पूर्वी समुद्रतटीय क्षेत्र में रेल की पटरियों का सघन जाल बिछा हुआ है।
कारण (R) : इन क्षेत्रों में सुविकसित उद्योग-धंधे हैं। संकेत:
(a) (A) तथा (R) दोनों सही है और (R), (A) की सही व्याख्या है।
(b) (A) तथा (R) दोनों सही हैं‚ परन्तु (R), (A) की सही व्याख्या नहीं है।
(c) (A) सही है‚ परन्तु (R) गलत है।
(d) (A) गलत है‚ परन्तु (R) सही है।
उत्तर-(b) 258 व्याख्या : भारत के उत्तरी मैदान अर्थात् उत्तर प्रदेश‚ बिहार‚ पंजाब एवं हरियाणा जैसे राज्यों में रेल पटरियों का जाल बिछा हुआ है क्योंकि मैदानी भाग होने के कारण सघन आबादी है। इसी तरह पूर्वी तटीय भागों में भी रेल पटरियों का आधिक्य है। इस क्षेत्र में उद्योग-धन्धों का भी पर्याप्त विकास हुआ है। इस तरह कथन एवं कारण दोनों सत्य हैं लेकिन कारण कथन की सही व्याख्या नहीं कर रहा है।
36. सूची- I का मिलान सूची-II के साथ कीजिए तथा नीचे दिये गये संकेतों से सही उत्तर का चयन कीजिए:
सूची-I सूची-II
(नदी) (डैम)
(a) दामोदर (i) पौंग
(b) महानदी (ii) कोनार
(c) चम्बल (iii) नराज
(d) सतलज (iv) गांधी सागर संकेत:
(a) (b) (c) (d)
(A) (ii) (i) (iii) (iv)
(B) (ii) (iii) (iv) (i)
(C) (iv) (iii) (ii) (i)
(D) (i) (ii) (iii) (iv)
उत्तर-(b) :
सूची-I सूची-II
दामोदर कोनार महानदी नराज चम्बल गाँधी सागर सतलज पौंग
37. विश्व की जनसंख्या की 2001 की जनगणना के अनुसार भारत की जनसंख्या के संबंध में निम्नलिखित में से कौन सा कथन सही है?
(a) 14.7% (b) 15.7%
(c) 16.7% (d) 17.7%
उत्तर-(c) : विश्व की जनसंख्या‚ 2001 की जनगणना के अनुसार भारत की जनसंख्या 16.7% थी। जबकि 2011 की जनगणना के अनुसार भारत की जनसंख्या का दशकीय वृद्धि दर 17.6% रहा है। ध्यातव्य है कि भारत चीन के बाद विश्व का दूसरा सबसे अधिक जनसंख्या वाला देश है। 2011 की जनगणना के अनुसार भारत की जनसंख्या 121 करोड़ है।
38. रिमोट सेसिंग प्रणालियों में निम्नलिखित में से कौन सा सेंसर प्राकृतिक रूप से उपलब्ध ऊर्जा का मापन करता है?
(a) ऐक्टिव सेंसर
(b) पैसिव सेंसर
(c) सिंथेटिक अपार्चर राडार
(d) माइक्रोवेव रिमोट सेंसिंग
उत्तर-(b) : रिमोट सेंसिंग प्रणालियों पैंसिव सेंसर प्राकृतिक रूप से उपलब्ध ऊर्जा का मापन करता है। पैंसिव सेंसर में ऊर्जा परावर्तित अथवा विकरित कोई भी हो सकती है। इसका प्रमुख उदाहरण कैमरे की सहायता से फोटोग्राफी है‚ जिससे परावर्तित सौर ऊर्जा का प्रयोग होता है।
39. निम्नलिखित में से किस आरेख में आर्द्रता तथा तापमान के सापेक्षिक संबंध का चित्रण किया जाता है?
(a) हीदरग्राफ
(b) क्लाइमोग्राफ
(c) एगोग्राफ
(d) बैंड ग्राफ
उत्तर-(b) : क्लाइमोग्राफ आर्द्रता तथा तापमान के सापेक्ष सम्बन्ध का चित्रण करने के लिए प्रयोग किए जाने वाला आरेख है इसकी सहायता से मौसम की जानकारी तुरन्त प्राप्त की जा सकती है। हीदरग्राफ में औसत मासिक तापमान व औसत मासिक वर्षा के मूल्यों को क्रमश: कोटियों व भुजों के रूप में अंकित करते हैं।
40. मानचित्रण के लिए परिवर्तीय वर्ग अन्तराल अधिक सार्थक तब सिद्ध होगा‚ जब चर………..होगा।
(a) सामान्यत: वितरित है।
(b) अत्यधिक विषम है।
(c) अत्यधिक संगत है।
(d) क्रमसूचक पैमान पर मापित है।
उत्तर-(c) : मानचित्रण के लिए परिवर्तीय वर्ग अन्तराल अधिक सार्थक तब सिद्ध होगा जब चर अत्यधिक संगत होगा।
41. केंद्रीय प्रवृत्ति की एक विधि के रूप में हरात्मक माध्य किस प्रकार के आँकड़े के लिए उपयुक्त है?
(a) सूचकांक
(b) वृद्धि दर
(c) वायु गति
(d) जनसंख्या घनत्व
उत्तर-(b)
42. सूची- I का मिलान सूची-II के साथ कीजिए तथा नीचे दिये गये संकेतों से अपने उत्तर का चयन कीजिए:
सूची-I सूची-II
(मानचित्रण तकनीक) (अभिलक्षण)
(a) कोरोक्रोमेटिक (i) घनत्व
(b) कोरोस्कीमेटिक (ii) चिह्न तथा प्रतीक
(c) आइसोप्लेथिंग (iii) रंजित स्तरीकण
(d) कोरोप्लेथिंग (iv) अंतर्वेशन संकेत:
(a) (b) (c) (d)
(A) (i) (iii) (ii) (iv)
(B) (ii) (iv) (i) (iii)
(C) (iii) (ii) (iv) (i)
(D) (i) (ii) (iii) (iv)
उत्तर-(c) : सूची-I सूची-II कोरोक्रोमेटिक (i) रंजित स्तरीकण कोरोस्कीमेटिक (ii) चिह्न तथा प्रतीक आइसोप्लेथिंग (iii) अंतर्वेशन कोरोप्लेथिंग (iv) घनत्व
43. नीचे दो कथन दिये गये हैं‚ एक को अभिकथन (A) तथा दूसरे को कारण (R) का नाम दिया गया है। नीचे दिये गये संकेतों से अपने उत्तर का चयन कीजिये:
अभिकथन (A) :
यू एस ए का ‘ग्रेट लेक्स’ क्षेत्र उद्योग-धंधे से भली-भाँति विकसित है।
कारण (R) : यह क्षेत्र ब्रिटेन से यू एस ए में आये प्रवासियों को आरम्भिक पुनर्वास क्षेत्र था। संकेत:
(a) (A) तथा (R) दोनों सही है तथा (R), (A) की सही व्याख्या है।
(b) (A) तथा (R) दोनों सही हैं‚ परन्तु (R), (A) की सही व्याख्या नहीं है।
(c) (A) सही है‚ परन्तु (R) गलत है।
(d) (A) गलत है‚ परन्तु (R) सही है।
उत्तर-(a) : अभिकथन एवं कारण दोनों सही हैं एवं कारण अभिकथन की सही व्याख्या भी कर रहा है। ध्यातव्य है कि संयुक्त राज्य अमेरिका का महान झील (ग्रेट लेक्स) क्षेत्र सबसे विकसित क्षेत्र है क्योंकि यहीं पर ही सर्वप्रथम अंग्रेज लोग आये थे एवं यहीं पर ही सबसे पहले उद्योगों का विकास होना प्रारम्भ हुआ। इस क्षेत्र में वाहन‚ लौह-इस्पात‚ तेल शोधन‚ विद्युत उपकरण‚ मशीनें एवं प्रमुख रसायनों से सम्बन्धित उद्योग विकसित हैं।
44. ‘‘ए हैण्डबुक ऑफ कॉमर्शियल जिओग्राफी’’ 1889 में प्रकाशित एक अनुवादित कार्य है। निम्न में से कौन अनुवादक है?
(a) डडले स्टैम्प (b) जॉर्ज चिशोम
(c) वॉन थ्युनेन (d) कार्ल मार्क्स
उत्तर-(b) : ‘ए. हैंडबुक ऑफ कॉमर्शियल जिओग्राफी’ 1889 में प्रकाशित एक अनुवादित कार्य है जिसके अनुवादक जार्ज जिशोम थे।
45. नीचे दो कथन दिये गये हैं‚ एक को अभिकथन (A) तथा दूसरे को कारण (R) का नाम दिया गया है। नीचे दिये गये संकेतों से अपने उत्तर का चयन कीजिये:
अभिकथन (A) :
आधुनिक समय में संस्कृति के मेंटीफेक्ट्स की अपेक्षा आर्टिफेक्ट्स अधिक तीव्रता से परिवर्तित हो रहे हैं।
कारण (R) : आधुनिक उदारीकरण तथा आधुनिकीकरण के बल निर्णायक अर्थव्यवस्था तथा सांस्कृतिक बदलाव को प्रवृत्त करते हैं। संकेत:
(a) (A) तथा (R) दोनों सही है तथा (R), (A) की सही व्याख्या नहीं है।
(b) (A) तथा (R) दोनों सही हैं‚ परन्तु (R), (A) की सही व्याख्या है।
(c) (A) सही है‚ परन्तु (R) गलत है।
(d) (A) गलत है‚ परन्तु (R) सही है।
उत्तर-(b) : आधुनिक उदारीकरण तथा आधुनिकीकरण के बल निर्णायक अर्थव्यवस्था तथा सांस्कृतिक बदलाव को प्रवृत्ति करते हैं। क्योंकि आधुनिक समय में मेंटीफेक्टस की अपेक्षा आर्टिफेक्ट्स अधिक तीव्रता से परिवर्तित हो रहे हैं। इस तरह कथन एवं कारण दोनों सही हैं‚ एवं कारण कथन की सही व्याख्या भी कर रहा है अत: उत्तर (b) होगा।
46. सूची- I का मिलान सूची-II के साथ कीजिए तथा नीचे दिये गये संकेतों से अपने उत्तर का चयन कीजिए:
सूची-I सूची-II
(भूगोलवेत्ता) (सिद्धांत)
(a) लॉश (i) पुंज सिद्धांत
(b) वेबर (ii) बाजार क्षेत्र अवस्थिति सिद्धांत
(c) थॉम्बसन (iii) न्यून लागत सिद्धांत
(d) रेले (iv) गुरुत्वाकर्षण सिद्धांत संकेत:
(a) (b) (c) (d)
(A) (i) (ii) (iii) (iv)
(B) (ii) (iii) (i) (iv)
(C) (ii) (iv) (i) (iii)
(D) (iii) (i) (iv) (ii)
उत्तर-(b) 260 व्याख्या : भूगोलवेत्ता सिद्धान्त लॉश बाजार क्षेत्र अवस्थिति सिद्धान्त वेबर न्यून लागत सिद्धान्त थॉम्बसन पुंज सिद्धान्त रेले गुरुत्वाकर्षण सिद्धान्त नीचे दिए गए गद्यांश को पढ़िए और प्रश्न संख्या 47-50 के
उत्तर दीजिए:
यांग एवं लो (1996) तथा तसाका (1998) ने बतलाया है कि पूर्व एशिया तथा दक्षिण-पूर्व एशिया में नगरीकरण की गतिकी में 1980 के दशक में तीव्र परिवर्तन प्रारम्भ हुआ। तसाका (1998) ने विकासशील देशों में नगरीकरण को ‘‘नगरीय गहनता’’ के रूप में अभिलक्षित किया है तथा इस परिप्रेक्ष्य में विकासशील देशों में नगरीकरण के अभिलक्षणों का वर्णन तीन पदों के द्वारा किया है-
‘‘संकेंद्रित नगरीकरण’’ (नगरीकरण तब होता है जब ग्रामीण जनसंख्या का स्तर विकसित देशों की तुलना में अधिक होता है); ‘‘प्रमुख नगर’’ (प्रमुख नगरों में आर्थिक‚ राजनीतिक तथा सांस्कृतिक क्रियाव्यापारों का अति-संकेंद्रण होना); तथा ‘‘अति-नगरीकरण’’
(जनसंख्या का अन्तर्वाह उस स्तर से अधिक हो जाय जिस स्तर तक नगर उसे फलप्रद रूप में आत्मसात् कर सकता हो)। अति-नगरीकरण से संबद्ध कारकों में शामिल हैं- अत्यधिक बेरोजगारी तथा रोजगारपरक असुरक्षा; जन-परिवहन प्रणालियों‚ जलापूर्ति तथा मलजल-निर्यास व्यवस्था तथा अवशिष्ट पदार्थों के उपचार की सुविधाओं जैसी मूलभूत अवसंरचना की व्यापक अपर्याप्तता:
पर्यावरणीय प्रदूषण‚ शहरी अभिशासन पर प्रचण्ड दबाव तथा समग्र गरीबी का स्तर जो नगर की पर्यावरण संबंधी मूलभूत अवसंरचना को समुन्नत करने वाली आर्थिक क्रियाविधियों को बाधिक करता है
(किडोकोरो‚ 1998)। इस बात पर ध्यान देना महत्वपूर्ण है कि नगरीय विकास के उपरिलिखित प्रक्रमों के अतिरिक्त एशिया में नगरीकरण प्रक्रिया के अन्य प्रेरक बल भी हैं तथा विभिन्न देशों में ये भिन्न-भिन्न होते हैं। एशिया में नगरीकरण एक समान प्रक्रिया नहीं है। नगरीय विकास के उपरिलिखित प्रक्रमों को नगरीय पर्यावरणीय मुद्दों पर एक विशाल प्रभाव के रूप में देखा जा सकता है। नगरीकरण की गति के तीव्र होने के साथ नगरीय पर्यावरणीय मूलभूत अवसंरचना की अपर्याप्तता के कारण पर्यावरण संबंधी समस्याएँ बदतर हो सकती हैं। दूसरी ओर‚ आर्थिक विकास के उन्नयन से पर्यावरणीय समस्याओं के समाधान की गति तीव्र की जा सकती है।
47. उपरिलिखित गद्यांश के भाव को निम्नलिखित में से किस रूप में सुचारु रूप में वर्णित किया जा सकता है?
(a) विश्लेषणात्मक तथा वैज्ञानिक
(b) तथ्यात्मक परन्तु विवरणात्मक
(c) व्यवहार परक
(d) अस्थायी तथा अनिर्णायक
उत्तर-(b) : उपरोक्त गद्यांश के भाव को तथ्यात्मक परन्तु विवरणात्मक रूप में वर्णित किया जा सकता है। लेखक ने गद्यांश के माध्यम से दक्षिण-पूर्व एशिया के नगरीकरण की प्रक्रिया को तथ्यात्मक रूप में प्रस्तुत किया है।
48. लेखक का संबंध मुख्य रूप से किससे है?
(a) नगरीकरण की प्रक्रिया की आलोचना से।
(b) विकासशील देशों में नगरीकरण तथा अति-नगरीकरण की प्रक्रिया से।
(c) विकासशील देशों में नगरोपांतिकरण के कारकों से।
(d) एशिया में नगरीय मूलभूत अवसंरचना वृद्धि से।
उत्तर-(b) : लेखक का सम्बन्ध मुख्य रूप से विकासशील देशों में नगरीकरण तथा अति-नगरीकरण की प्रक्रिया से है। उपरोक्त गद्यांश के माध्यम से लेखक ने उन देशों के सन्दर्भ में ध्यान आकृष्ट किया है जो सामाजिक आर्थिक एवं राजनीतिक दृष्टि से संक्रमण की अवस्था से गुजर रहे हैं।
49. लेखक के अनुसार निम्नलिखित में से किसके द्वारा पर्यावरणीय समस्याओं में सुधार लाया जा सकता है?
(a) सामाजिक अन्तर्वेशन
(b) आर्थिक विकास
(c) राजनीतिक इच्छाशक्ति
(d) सशक्त अधिनियम
उत्तर-(b) : लेखक के अनुसार आर्थिक विकास के उन्नयन से पर्यावरणीय समस्याओं में सुधार लाया जा सकता है। लेखक का मानना है कि विकासशील देशों में पर्यावरण एक प्रमुख समस्या बना हुआ है। क्योंकि पर्यावरणीय मूलभूत अवसंरचना के अभाव में यह समस्या बनी हुई है। जिसका निदान आर्थिक विकास ही है।
50. विकासशील देशों में ‘‘नगरीय गहनता’’ इनमें से किसके द्वारा अभिलक्षित नहीं होती?
(a) विकसित देशों की अपेक्षा ग्रामीण जनसंख्या का स्तर उच्चतर होना।
(b) ग्रामीण-नगरीय परिवर्तन की एक समान प्रक्रिया।
(c) प्रमुख शहरों में आर्थिक‚ राजनीतिक तथा सांस्कृतिक क्रियाव्यापारों का अतिसंक्रेंद्रण।
(d) जनसंख्या का अंतर्वाह उस स्तर से अधिक हो जाना जिस स्तर तक नगर उसे फलप्रदरूप में आत्मसात् कर सकता हो।
उत्तर-(b) : विकासशील देशों में ‘ग्रामीण-नगरीय परिवर्तन की एक समान प्रक्रिया’ नगरीय-गहनता को अभिलक्षित नहीं करता। ‘नगरीय-गहनता’ नगरीकरण की प्रक्रिया को अभिलक्षित करता है लेखक ने जिसे तीन पदों के माध्यम से वर्णित किया है−(i) संकेन्द्रित नगरीकरण (ii) प्रमुख नगर‚ (iii) अति-नगरीकरण। 261

Top
error: Content is protected !!