You are here
Home > Previous Papers > GEOGRAPHY UGC NTA NET JRF PREVIOUS PAPERS IN HINDIयूजीसी नेट/जेआरएफ परीक्षा‚ जून- 2011 भूगोल व्याख्या सहित द्वितीय प्रश्न-पत्र का हल 0026.

GEOGRAPHY UGC NTA NET JRF PREVIOUS PAPERS IN HINDIयूजीसी नेट/जेआरएफ परीक्षा‚ जून- 2011 भूगोल व्याख्या सहित द्वितीय प्रश्न-पत्र का हल 0026.

GEOGRAPHY UGC NTA NET JRF PREVIOUS PAPERS IN HINDIयूजीसी नेट/जेआरएफ परीक्षा‚ जून- 2011 भूगोल व्याख्या सहित द्वितीय प्रश्न-पत्र का हल

1. ‘फर्न’ निम्नलिखित में से किससे संबंधित है?
(a) नदीय निक्षेप
(b) हिमनदीय जमाव तथा पुनर्क्रिस्टलीकरण
(c) वायु-संचयन
(d) तटीय संचयन
उत्तर (b) : फर्न हिमनदीय जमाव तथा पुनर्क्रिस्टलीकरण से सम्बन्धित है
2. ‘मोहो’ असांतत्य____ के बीच का सीमांकन तल है
(a) पर्पटी तथा प्रावार
(b) प्रावार तथा क्रोड
(c) प्रावार तथा बाह्य-क्रोड
(d) बाह्य-क्रोड तथा आंतरिक क्रोड
उत्तर (a) : मोहो असांतत्य पर्पती (crust) तथा प्रावार (mentle) के सीमान्त पर पायी जाती है जिसकी खोज सर्वप्रथम 1909 में Mohorovicic ने की थी। मोहो असांतत्य से 700 km की गहरायी तक का मण्डल Upper meutle कहलाता है। तथा 700 से 2900 km तक का भाग lower meutle कहलाता है। यह ठोस है। पृथ्वी अन्दर 2900 km की गहरायी से 6371 km की गहरायी तक का भाग कोर कहलाता है।
3. सूची- I को सूची- II के साथ सुमेलित कीजिए तथा नीचे दिए गए कूटों से सही उत्तर चुनिए:
सूची- I सूची- II
(सिद्धांत) (प्रवर्तक)
(a) महाद्वीपीय विस्थापन (i) हैरी हेस सिद्धांत
(b) समुद्र तल प्रसरण (ii) रीड सिद्धांत
(c) संवहन तरंग सिद्धांत (iii) वेगनर
(d) प्रत्यास्थ प्रतिक्षेप सिद्धांत (iv) होम्स
कूट:
A B C D
(a) (iii) (i) (iv) (ii)
(b) (i) (ii) (iv) (iii)
(c) (iv) (i) (iii) (ii)
(d) (i) (iii) (iv) (ii)
उत्तर (a) : सिद्धान्त प्रवर्तक महाद्वीपीय विस्थापन सिद्धान्त – वेगनर समुद्र तल प्रसरण सिद्धान्त – हेरी हेस संवहन तरंग सिद्धान्त – होम्स प्रत्यास्थ प्रतिक्षेप सिद्धान्त – रीड
4. नीचे दो कथन दिए गए हैं: एक को अभिकथन (A) कहा गया है तथा दूसरे को कारण (R) कहा गया है। नीचे दिए गए कूटों से अपना उत्तर चुनिए:
अभिकथन (A) :
विषुवतीय क्षेत्र‚ जहाँ व्यापारिक पवन का अभिसरण होता है‚ को अन्तराउष्णकटिबंधीय अभिसरण क्षेत्र
(ITCZ) कहते हैं।
कारण (R) : ITCZ सामान्यत: मौसम-विज्ञान संबंधी विषुवत-वृत्त पर या के निकट स्थित होता है।
कूट :
(a) (A) तथा (R) दोनों सही हैं‚ तथा (R)‚ (A) की सही व्याख्या है।
(b) (A) तथा (R) दोनों सही हैं‚ परन्तु (R)‚ (A) की सही व्याख्या नहीं है।
(c) (A) सही है‚ परन्तु (R) गलत है।
(d) (A) गलत है‚ परन्तु (R) सही है।
उत्तर (a) : फ्लीन महोदय के अनुसार व्यापारिक पवनों के मिलन के फलस्वरूप भूमध्यरेखीय शान्त पेटी के दोनों ओर सीमान्त उत्पन्न हो जाते है जिसे अत: उष्ण कटिबन्धीय अभिसरण क्षेत्र कहते है। ऋतु परिवर्तन के अनुसार सूर्य की स्थिति में परिवर्तन होता है जिसके फलस्वरूप ITCZ की उपस्थिति में भी परिवर्तन होता रहता है। जुलाई में ITCZ की उत्तर दिशा में खिसक जाता है। और उत्तरी अत: उष्णकटिबन्धीय अभिसरण कहलाता है। जनवरी में यह दक्षिण की ओर खिसक जाता है और दक्षिणी अत: उष्ण कटिबन्धीय अभिसरण कहलाता है।
5. पक्षाभ मेघ लगभग कितनी ऊँचाई पर होते हैं
(a) 0 – 1.5 कि.मी. (b) 1 – 3 कि.मी.
(c) 4 – 6 कि.मी. (d) 8 – 14 कि.मी.
उत्तर (d) : पक्षाभ मेघ लगभग 8-14 कि.मी. की ऊँचाई पर पाये जाते है। ये मेघ सबसे अधिक ऊचाई पर प्राय: छितराये रूप में रेशम के सदृश दिखते हैं‚ क्योंकि इनका निर्माण छोटे-छोटे हिमकणों द्वारा होता है जिनसे होकर सूर्य की किरणें गुजरती है तथा श्वेत रंग हो जाता है। जब ये मेघ छितराये रूप में होते है तो साफ मौसम की सूचना होती है परन्तु जब संगठित होकर विस्तृत क्षेत्र में फैल जाते है तो खराब मौसम अवश्यम्भावी हो जाता है। चक्रवात के आगमन के पहले आकाश में पक्षाभ मेघ दिखने लगते हैं।
6. समुद्र तल पर मानक वायु दाब होता है:
(a) 1010.25 मि.बा. (b) 1013.25 मि.बा.
(c) 1015.25 मि.बा. (d) 1017.25 मि.बा.
उत्तर (b) : समुद्र तल पर मानक वायु दाब 1013.25 मिली बार होता है।
7. सूची- I को सूची- II से सुमेलित कर सूचियों को नीचे दिए गए कूटों से सही उत्तर चुनिए:
सूची- I सूची- II
(कोपेन के वर्गीकरण पर (जिस क्षेत्र में पाया गया) आधारित जलवायु के प्रकार)
(a) As (i) उत्तरी हिमालय क्षेत्र
(b) E (ii) मरूस्थल
(c) Bw (iii) सिन्धु गंगा का मैदान
(d) Cwg (iv) कोरोमण्डल तट
कूट:
A B C D
(a) (i) (iv) (ii) (iii)
(b) (ii) (i) (iii) (iv)
(c) (ii) (iv) (i) (iii)
(d) (iii) (iv) (i) (ii)
उत्तर (b) : सूची I सूची II As – कोरोमण्डल तट E – उत्तरी हिमालय क्षेत्र Bw – मरूस्थल Cwg – सिन्धु गंगा का मैदान
8. सूची- I को सूची- II के साथ सुमेलित कर सूचियों को नीचे दिए गए कूटों से सही उत्तर चुनिए:
सूची- I सूची- II
(ज्वार/प्रवाल की ) (प्रतिपादक) उत्पत्ति के सिद्धांत)
(a) प्रगामी तरंग सिद्धांत (i) डार्विन
(b) संतुलन सिद्धांत (ii) व्ही‚ व्हेवल
(c) अवतलन सिद्धांत (iii) आर.पी.डैली
(d) हिमनदीय नियंत्रण (iv) आइजक न्यूटन सिद्धांत
कूट:
A B C D
(a) (i) (iv) (ii) (iii)
(b) (ii) (i) (iii) (iv)
(c) (ii) (iv) (i) (iii)
(d) (iii) (iv) (i) (ii)
उत्तर (c) : प्रवाल की उत्पत्ति प्रतिपादक के सिद्धानत प्रगामी तरंग सिद्धान्त – वी व्हेवल सन्तुलन सिद्धान्त – आइजक न्यूटन अवतलन सिद्धान्त – डार्विन हिमनदीय नियन्त्रण सिद्धान्त – आर.पी. डेली
9. सूची- I को सूची- II के साथ सुमेलित कीजिए तथा नीचे दिए गए कूटों से सही उत्तर चुनिए:
सूची- I सूची- II
(महाद्वीप) (शीतोष्ण घास-स्थल के नाम)
(a) उत्तरी अमेरिका (i) वेल्ड
(b) दक्षिणी अमेरिका (ii) डाउन्सलैंड
(c) अफ्रीका (iii) प्रेयरी
(d) ऑस्ट्रेलिया (iv) पम्पाज
कूट:
A B C D
(a) (i) (ii) (iii) (iv)
(b) (ii) (iv) (iii) (i)
(c) (iii) (i) (iv) (ii)
(d) (iii) (iv) (ii) (i)
उत्तर (d) : महाद्वीप शीतोष्ण घास-स्थल के नाम
उत्तरी अमेरिका – प्रेयरी दक्षिणी – पम्पाज अफ्रीका – डाउन्सलैंड ऑस्ट्रेलिया – वेल्ड
10. भूमध्यरेखा से ध्रुव तक के वनस्पति क्षेत्रों का क्रम पहचानिए:
(a) टैगा‚ टुण्ड्रा‚ सेल्वा‚ सवाना
(b) सेल्वा‚ सवाना‚ टैगा‚ टुण्ड्रा
(c) सवाना‚ टैगा‚ सेल्वा‚ टुण्ड्रा
(d) टुण्ड्रा‚ टैगा‚ सवाना‚ सेल्वा
उत्तर (b) : भूमध्यरेखा से ध्रुव तक के वनस्पति क्षेत्रों का क्रम इस प्रकार हैसेल्वा – सवाना – टैगा – टुण्ड्रा
11. नीचे दो वक्वत्य दिए गए हैं। एक को अभिकथन (A) तथा दूसरे को कारण (R) कहा गया है। नीचे दिए गए कूटों से अपना उत्तर चुनिए:
अभिकथन (A) :
उष्णकटिबन्धीय क्षेत्रों में समुद्र का जल अधिक लवणीय है।
कारण (R) : समुद्र के जल की लवणीयता ताप तथा शुद्ध जल के मिश्रित होने पर निर्भर है।
कूट:
(a) (A) सही है‚ (R) गलत है
(b) (A) गलत है‚ (R) सही है
(c) (A) तथा (R) दोनों सही हैं
(d) (A) तथा (R) गलत हैं
उत्तर (a) : उष्ण कटिबन्धीय क्षेत्रों में समुद्र के जल का लवणीय होने का प्रमुख कारण वाष्पीकरण का अधिक होना है। गर्म समुद्री धाराये भी लवणता को बढ़ा देती है। समुद्र के जल की लवणीयता तापक्रम तथा वाष्पीकरण पर निर्भर करती है जहाँ पर तापक्रम ऊचा रहता है और वाष्पीकरण अधिक होता है वहाँ पर लवणता अधिक होती है। जबकि शुद्ध जल के कारण लवणता की मात्रा कम हो जाती है
12. अपनी अवस्थिति के आधार पर निम्नलिखित में से कौन अन्य तीनों से भिन्न है?
(a) कनारी धारा (b) बेंगुएला धारा
(c) गिनी धारा (d) लेब्रोडोर धारा
उत्तर (c) : गिनी धारा अफ्रीका के गिनी तट के सहारे प्रवाहित होती है। यह दक्षिणी अटलांटिक महासागर की गर्म जल धारा है जबकि लेब्रोडोर एक ठण्डी जल धारा है जो कि वेफिन की खाड़ी तथा डेविस जलडमरूमध्य से प्रारम्भ होकर 50पश्चिमी देशान्तर के पूर्व में गल्फ स्ट्रीम से मिल जाती है। लेब्रोडोर धारा के साथ बर्फ के बड़े-बड़े खण्ड न्यूफाउण्टलैण्ड तक बहे चले जाते है जिस कारण जलयानों को बहुत क्षति होने की सम्भावना होती है । लेब्रोडोर को छोड़कर प्रश्नगत दी गयी अन्य सभी धाराये अपवेलिंग धाराये है
13. सूची- I (संकल्पना/ पुस्तक) को सूची- II
(प्रतिपादक/लेखक) के साथ सुमेलित कीजिए तथा नीचे दिए गए कूटों से सही उत्तर चुनिए:
सूची- I सूची- II
(संकल्पना/पुस्तक) (प्रतिपादक/लेखक)
(a) अर्डकुंडे (i) हम्बोल्ट
(b) कॉस्मोस (ii) रिटर
(c) कोरोलॉजी (iii) हेटनर
(d) एरियल डिफरेंसिएशन (iv) रत्जेल
(v) रिच्थोफेन
कूट:
A B C D
(a) (i) (ii) (v) (iv)
(b) (ii) (i) (iii) (iv)
(c) (i) (ii) (iv) (v)
(d) (ii) (i) (v) (iii)
उत्तर (d) : पुस्तक लेखक अर्डकुंडे – रिटर कॉस्मोस – हम्बोल्ट कोरोलॉजी – रिच्थोफेन एरियल – हेटनर डिफरेंसिएशन
14. सूची- I को सूची- II के साथ सुमेलित कीजिए तथा नीचे दिए गए कूटों से सही उत्तर चुनिए:
सूची- I सूची- II
(पुस्तके) (लेखक)
(a) एक्स्पलेनेशन इन (i) आर.जे.
जिओग्राफी जॉन्सटन
(b) पिं्रसिपुल्स ऑफ (ii) डब्लू.डी.
जिओमार्फो लॉजी थॉर्नबरी
(c) जिओग्राफी एण्ड (iii) डी.एम. स्मिथ जिओग्राफर
(d) व्हेअर दि ग्रास इन (iv) डेविड हॉर्वे ग्रीनर
कूट:
A B C D
(a) (iv) (ii) (i) (iii)
(b) (ii) (iv) (iii) (i)
(c) (iii) (iv) (ii) (i)
(d) (i) (ii) (iii) (iv)
उत्तर (a) : एक्स्पलेनेशन इन जिओग्राफी – डेविड हार्वे पिं्रसिपुल्स ऑफ जिओमार्फो लॉजी – डब्ल्यू.डी. थॅर्नबरी जिओग्राफी एण्ड जिओग्राफर – आर.जे. जान्सटन व्हेअर दि ग्रास इज ग्रीनर – डी.एम. स्मिथ
15. नीचे दो वक्तव्य दिए गए हैं: एक को अभिकथन (A) तथा दूसरे को कारण (R) कहा गया है। नीचे दिए गए कूटों से अपना उत्तर चुनिए:
अभिकथन (A) :
भूगोंल पर स्ट्रैबो की कृति मुख्य रूप से ग्रीक लोगों द्वारा ज्ञात विश्व का विश्वकोशीय विवरण था।
कारण (R) : स्ट्रैबो की पुस्तक ने भूगोलसंबंधी लेखन के लिए एक सुस्पष्ट आधार प्रदान किया।
कूट:
(a) (A) तथा (R) दोनों सही हैं‚ तथा (R)‚ (A) की सही व्याख्या करता है।
(b) (A) तथा (R) दोनों सही हैं‚ परन्तु (R)‚ (A) की सही व्याख्या नहीं करता।
(c) (A) सही है‚ परन्तु (R) गलत है।
(d) (A) गलत है‚ परन्तु (R) सही है।
उत्तर (a) : स्ट्रेबो ने पृथ्वी को 360में विभक्त किया तथा प्रत्येक अंश की पारस्परिक दूरी 700 स्टेडिया निर्धारित की । इन्होने मानवीय भू-भाग की लम्बाई और चौड़ाई क्रमश: 70‚000 एवं 30‚000 स्टेडिया निश्चित की।
16. निम्नलिखित भूगोलवेत्ताओं के आगमन का सही अनुक्रम क्या है?
(a) रिटर – हम्बोल्ट – रिचथोफेन – रेटजेल
(b) हम्बोल्ट – रिटर – रेटजेल – रिचथोफेन
(c) हम्बोल्ट – रिटर – रिचथोफेन – रेटजेल
(d) रिटर – हम्बोल्ट – रेटजेल – रिचथोफेन
उत्तर (b) : प्रश्नगत भूगोलवेत्ताओं के आगमन का सही क्रम इस प्रकार हैहम्बोल्ट – (1769-1859) ↓रिटर – (1779-1869) ↓रिचथोफेन (1833-1905) ↓रेटजेल (1844- 1904)
17. जनसंख्या के निम्नलिखित सिद्धांतों / मॉडलों में से कौन एक ओर आधुनिकता तथा दूसरी ओर प्रजननता तथा मृत्युदर में ह्नास के बीच आवश्यक संबंध होने की अवधारणा प्रस्तुत करता है
(a) माल्थस का मॉडल
(b) साम्यवादी – समाजवादी सिद्धांत
(c) जनांकिकीय संक्रमण मॉडल
(d) नव-माल्थसवादी मॉडल
उत्तर (c) : जनांकिकीय संक्रमण सिद्धान्त का मूल प्रतिपादन नोटेस्टीन ने सन् 1945 में किया था। उन्होंने पश्चिमी यूरोपीय देशों के अनुभवों का प्रयोग करके जनसंख्या के कालिक वृद्धि प्रतिरूप का सामान्यीकरण जन्मदर और मृत्युदर में होने वाले कालानुक्रमीय परिवर्तनों के आधार पर किया। इन्होंने अपने सिद्धान्त में 4 अवस्थाये बतायी-
1.उच्च स्थायी अवस्था – इसमें जन्म दर तथा मृत्युदर दोनों उच्च होते है 2.प्रारम्भिक वर्द्धमान अवस्था – इसमें जन्मदर उच्च और लगभग स्थायी होती है किन्तु मृत्युदर में हास होने लगता है
3. उत्तर वर्द्धमान अवस्था – मृत्यु दर निम्न हो जाती है जन्मदर में हास होने लगता है 4.निम्न स्थायी अवस्था – इसमें जन्म दर तथा मृत्यु दर दोनों निम्न हो जाती है यह सिद्धान्त हमें बताता है कि जैसे ही ग्रामीण‚ खेतिहर और अशिक्षित अवस्था से उन्नति करके नगरीय‚ ओद्योगिक और साक्षर बनता है तो किसी प्रदेश की जनसंख्या उच्च जन्म और मृत्यु से निम्न जन्म और मृत्यु दर में परिवर्तित होती है।
18. नगरों के आकार तथा उनके कोटिक्रम के बीच नियमितता का सर्वप्रथम उल्लेख निम्नलिखित में से किसके द्वारा किया गया?
(a) जेफरसन (b) जिफ
(c) क्रिस्टालर (d) ऑरबाख
उत्तर (d) : नगरों के आकार तथा उनके कोटिक्रमों के बीच नियमितता का सर्वप्रथम उल्लेख ऑरबाख ने किया। कोटि आकार नियम किसी प्रदेश में नगरीय बस्तियों का उनके आकार के अनुसार वितरण के प्रतिरूप का सही चित्रण प्रस्तुत करता है
19. बर्गेस के अनुसार‚ केंद्र से बाहरी सीमा तक नगरों के संकेंद्रित क्षेत्रों का सही अनुक्रम क्या है?
(a) सी.बी.डी.‚ संक्रमण क्षेत्र‚ आवासीय क्षेत्र‚ श्रमिक गृह क्षेत्र‚ अभिगमन क्षेत्र
(b) आवासीय क्षेत्र‚ सी बी डी‚ संक्रमण क्षेत्र‚ अभिगमन क्षेत्र‚ श्रमिक गृह क्षेत्र
(c) आवासीय क्षेत्र‚ संक्रमण क्षेत्र‚ सी बी डी‚ श्रमिक गृह क्षेत्र‚ अभिगमन क्षेत्र
(d) सी बी डी संक्रमण क्षेत्र‚ श्रमिक गृह क्षेत्र‚ आवासीय क्षेत्र‚ अभिगमन क्षेत्र
उत्तर (d) : नगरों के संरचना और उसके विकास के सिद्धान्त के रूप में सर्वप्रथम संकल्पना शिकागो के समाजशाध्Eाीय बर्गेस ने 1920 के दशक में प्रस्तुत किया। बर्गेस के अनुसार नगर की आन्तरिक संरचना की पाँच संकेन्द्रीय पेटियॉ निम्न है-
1.केन्द्रीय व्यापार क्षेत्र 2.संक्रमण का क्षेत्र 3.स्वतन्त्रता का क्षेत्र 4.अच्छे आवास का क्षेत्र 5.संचरण का क्षेत्र
20. सूची- I को सूची- II से सुमेलित कीजिए तथा नीचे दिए गए कूटों से सही उत्तर चुनिए:
सूची- I सूची- II
(A) स्थानान्तरण सिद्धान्त (i) एडविन केनन
(B) अनुकुलतम जनसंख्या (ii) एस. स्टोफर
(C) जनांकिकी संक्रमण (iii) ई.जी. रेवेन्स्टीन सिद्धान्त
(D) मध्यवर्ती अवसर (iv) डब्ल्यू थाम्पसन सिद्धान्त
कूट:
A B C D
(a) (iii) (i) (ii) (iv)
(b) (iii) (i) (iv) (ii)
(c) (iii) (iv) (ii) (i)
(d) (iv) (i) (iii) (ii)
उत्तर (b) : सूची I सूची II स्थानान्तरण सिद्धान्त – ई.जी. रेवेन्स्टीन अनुकूलतम जनसंख्या सिद्धान्त – एडविन कैनन जनांकिकी संक्रमण सिद्धान्त – डब्ल्यू थाम्पसन मध्यवर्ती अवसर सिद्धान्त – एस. स्टोफर
21. नीचे दो वक्तव्य दिए गए हैं। एक को अभिकथन (A) तथा दूसरे को कारण (R) कहा गया है। नीचे दिए गए कूटों से अपना उत्तर चुनिए:
अभिकथन (A) : जापान एक विकसित राष्ट्र है
कारण (R) : प्राकृतिक संसाधनों की विविधता तथा उनकी प्रचुर आपूर्ति किसी देश के आर्थिक विकास के लिए लाभकारी होता है।
कूट:
(a) (A) तथा (R) दोनों सही हैं‚ तथा (R)‚ (A) की सही व्याख्या है।
(b) (A) तथा (R) दोनों सही हैं‚ परन्तु (R)‚ (A) की सही व्याख्या नहीं है।
(c) (A) सही है‚ परन्तु (R) गलत है।
(d) (A) गलत है‚ परन्तु (R) सही है।
उत्तर (b) : जापान एक विकसित देश है जबकि वहॉ प्राकृतिक संसाधनों की प्रचुरता नहीं है। जापान का विकसित होने का कारण उन्नत प्राद्योगिकी विकास व कुशल मानवीय संसाधन है। इसी आधार पर यह कहा जा सकता है कि प्राकृतिक संसाधनों की विविधता तथा उनकी प्रचुर आपूर्ति से ही देश का आर्थिक विकास सम्भव होता है।
22. नीचे दो वक्तव्य दिए गए हैं। एक को अभिकथन (A) तथा दूसरे को कारण (R) कहा गया है। नीचे दिए गए कूटों से अपना उत्तर चुनिए:
अभिकथन (A) : स्वच्छन्द उद्योग वह उद्योग है जिसका पदार्थ सूचकांक 1 हो।
कारण (R) : एक स्वच्छन्द उद्योग‚ बिना किसी आर्थिक लाभ या हानि के किसी भी स्थान पर स्थित हो सकता है।
कूट:
(a) (A) तथा (R) दोनों सही हैं तथा (R)‚ (A) की सही व्याख्या है।
(b) (A) तथा (R) दोनों सही हैं‚ परन्तु (R)‚ (A) की सही व्याख्या नहीं है।
(c) (A) सही है‚ परन्तु (R) गलत है।
(d) (A) गलत है‚ परन्तु (R) सही है।
उत्तर (d) : स्वछन्द उद्योग किसी विशिष्ट कच्चेमाल जिनके भार में कमी हो रही है अथवा नहीं‚ पर निर्भर नहीं रहते है यह उद्योग संघटक पूर्जों पर निर्भर रहते है‚ जो कहीं से भी प्राप्त किए जा सकते है। इनकी स्थापना में महत्वपूर्ण कारक सड़कों के जाला द्वारा अभिगम्यता होती है।
23. निम्नलिखित सांकेतकों में कौन सामाजिक कल्याण का सर्वोत्तम संकेतक है
(a) प्रति-व्यक्ति आय (b) जनसंख्या वृद्धि दर
(c) अशोधित साक्षरता दर (d) जीवन प्रत्याशा
उत्तर (a) : समाजिक कल्याण के सर्वोत्तम संकेतक निम्न है 1.प्रति व्यक्ति आय 2.साक्षरता 3.लम्बी जीवन प्रत्याशा 4.लोगों में जीवन की उच्च गुणवत्ता के प्रति जागरूकता
24. परिवहन नेटवर्क के आनुक्रमिक विस्तार का सुझाव देने वाले परिवहन मॉडल का प्रतिपादक कौन है?
(a) एलेन गिल्बर्ट
(b) टाफे‚ मोरिल तथा गूल्ड
(c) डी सूजा तथा पोर्टर
(d) एडवर्ड सोजा
उत्तर (b) : परिवहन नेटवर्क के आनुक्रमिक विस्तार का सुझाव देने वाले परिवहन मॉडल के प्रतिपादक टाफे‚ मोरिल तथा गूल्ड थे।
25. निम्नलिखित आर्थिक क्रियाकलापों को खण्डों
(सेक्टरों) के साथ सुमेलित कीजिए तथा सही मेल बतलाइए:
क्षेत्र आर्थिक क्रियाकलाप
(a) प्राथमिक सेक्टर (i) बी.पी.ओ.
(b) माध्यमिक सेक्टर (ii) मत्स्यपालन
(c) तृतीयक सेक्टर (iii) हाथ करघा वध्Eा
(d) चतुर्थक सेक्टर (iv) नगर बस सेवा
कूट:
A B C D
(a) (i) (ii) (iii) (iv)
(b) (ii) (iii) (iv) (i)
(c) (ii) (iii) (i) (iv)
(d) (iv) (iii) (ii) (i)
उत्तर (b) : क्षेत्र आर्थिक क्रियाकलाप प्राथमिक सेक्टर – मत्स्यपालन माध्यमिक सेक्टर – हाथकरघा वध्Eा तृतीयक सेक्टर – नगर बस सेवा चतुर्थ सेक्टर – बी.पी.ओ.
26. मानव प्रजातियों के उद्भव एवं विस्तार से संबंधित खण्ड एवं स्तर सिद्धांत का प्रतिपादन किसने किया था
(a) रिप्ल (b) टेलर
(c) हँटिंगटन (d) बेकर
उत्तर (b) : मानव प्रजातियों के उद्भव एवं विस्तार से सम्बन्धित खण्ड एवं स्तर सिद्धांत का प्रतिपादन टेलर ने किया था। टेलर के अनुसार ‘प्रजाति नस्ल को प्रकट करती है न कि संस्कृति को।’ एल्सवर्थ हटिंगटन अमेरिकन भूगोलवेत्ता थे। इनकी प्रमुख पुस्तक निम्न थी−
1. Civilzation and Climates
2. Principles of Human Geography
3. Pulse of Asia
4. Mainsporings of Civilzation
27. किसी क्षेत्र में महत्वपूर्ण बसाव के पहले निर्धारित तथा परिसीमित की जाने वाली सीमाओं को कहते हैं:
(a) पूर्ववर्ती सीमाएँ (b) उत्तरवर्ती सीमाएँ
(c) अध्यारोपित सीमाएँ (d) अवशेष सीमाएँ
उत्तर (a) : किसी क्षेत्र में महत्वपूर्ण बसाव से पहले निर्धारित तथा परिसीमित की जाने वाली सीमाओं को पूर्ववर्ती सीमाऍ कहते है। अवशेष सीमा से तात्पर्य है जिस सीमा की समाप्ति हो गयी हो किन्तु वहॉ के सांस्कृतिक वातावरण में वह विद्यमान रहती है। इसके लिए हार्टशोर्न ने रूस-जर्मन सीमा का उदाहरण दिया है।
28. नीचे दो वक्तव्य दिए गए हैं। एक को अभिकथन (A) तथा दूसरे को कारण (R) कहा गया है। नीचे दिए गए कूटों से अपना उत्तर चुनिए:
अभिकथन (A) :
मैकिण्डर का केन्द्र-स्थल (हार्ट लैण्ड) का सिद्धांत एक मूल-सूत्र देता है- ‘जो पूर्वी-यूरोप पर शासन करता है उसका प्रभुत्व केन्द्र स्थल पर होता है; जो केन्द्रस्थल पर शासन करता है उसका प्रभुत्व विश्व-द्वीप पर होता है; जो विश्वद्वीप पर शासन करता है उसका प्रभुत्व विश्व पर होता है’।
कारण (R) : मैकिण्डर के सूत्र ने पोलैण्ड को सीमान्त विस्तार तथा अंतर्राष्ट्रीय प्रभुत्व की रणनीति दी।
कूट:
(a) (A) तथा (R) दोनों सही हैं तथा (R)‚ (A) की सही व्याख्या है।
(b) (A) तथा (R) दोनों सही हैं‚ परन्तु (R)‚ (A) की सही व्याख्या नहीं है।
(c) (A) सही है‚ परन्तु (R) गलत है।
(d) (A) गलत है‚ परन्तु (R) सही है।
उत्तर (c) : मैकिंडर के सूत्र ने पोलैण्ड को सीमान्त विस्तार तथा अन्तर्राष्ट्रीय प्रभुत्व की रणनीति दी। यह कथन असत्य है। इस प्रकार कथन सत्य है एवं कारण असत्य है।
29. नीचे दो वक्तव्य दिए गए हैं। एक को अभिकथन (A) तथा दूसरे को कारण (R) कहा गया है। नीचे दिए गए कूटों से अपना उत्तर चुनिए:
अभिकथन (A) : डेनमार्क सही अर्थ में एक राष्ट्र-राज्य है।
कारण (R) : एक राष्ट्र-राज्य का एक राजक्षेत्रीय आधार होता है परन्तु अनिवार्यत: एक सामाजिक अथवा सांस्कृतिक आधार नहीं होता ।
कूट:
(a) (A) तथा (R) दोनों सही हैं तथा (R)‚ (A) की सही व्याख्या है।
(b) (A) तथा (R) दोनों सही हैं‚ परन्तु (R)‚ (A) की सही व्याख्या नहीं करता है।
(c) (A) सही है‚ परन्तु (R) गलत है।
(d) (A) गलत है‚ परन्तु (R) सही है।
उत्तर (c) : डेनमार्ग सही अर्थ में एक राष्ट्र-राज्य है। डेनमार्ग की राजधानी कोपेनहेमेन है। एक राष्ट्र राज्य का केवल राजक्षेत्रीय आधार ही नहीं अपितु सांस्कृतिक आधार भी होता है। इस तरह कारण असत्य है।
30. सूची- I तथा सूची- II से सुमेलित कीजिए तथा नीचे दिए गए कूटों से सही उत्तर चुनिए:
सूची- I सूची- II
(भाषा) (परिवार)
(A) तमिल (i) इण्डो-आर्यन
(B) सिंहलीज (ii) द्रविडियन
(C) बर्मीज (iii) ऐस्ट्रेनिसियन
(D) जावानीज (iv) सिंध तिब्बतन
कूट:
A B C D
(a) (i) (ii) (iii) (iv)
(b) (iii) (i) (iv) (ii)
(c) (ii) (i) (iv) (iii)
(d) (iv) (iii) (ii) (i)
उत्तर (c) : भाषा परिवार तमिल द्रवीडियन सिंहलीज इंडो आर्यन बर्मीज सिन्ध तिब्बत जावानीज एस्ट्रोनिसियन
31. कार्यात्मक प्रदेश का सीमांकन किसके आधार पर किया जाता है:
(a) राजनीतिक-प्रशासनिक सीमाओं
(b) सममानरेखाओं
(c) भौतिक विभाजन
(d) अंतरक्रिया के क्षेत्र
उत्तर (d) : प्रदेश जिसके सम्पूर्ण भाग में एक विशेष प्रकार की प्राकृतिक दशाओं से एक विशेष प्रकार का आर्थिक जीवन विकसित होता है। क्षेत्रीय स्वरूप में विभिनता होते हुये भी जहॉ तक का क्षेत्र किसी एक केन्द्र से कार्यात्मक अन्तर्सम्बन्धों से घनिष्ठ रूप से जुड़ा होता है वहाँ तक एक संकेन्द्रीय प्रदेश का विस्तार होता है। मानव की सामाजिक एवं आर्थिक क्रियाएँ प्राकृतिक प्रदेशों की सीमाओं को पार करके अन्य प्रदेशों की ओर अग्रसर होने लगती है जोकि कार्यात्मक प्रदेश की ओर अग्रसर होती है
32. स्थान-कार्य-लोक के अनुक्रम में मानव-समुदायों के अध्ययन की प्रविधि का विकास किसने किया?
(a) टी.एच. हक्सले (b) पैट्रिक गेडेस
(c) एच.आर.मिल (d) विडाल डि-ला ब्लाश
उत्तर (b) : स्थान कार्य लोक के अनुक्रम में मानव समुदायों के अध्ययन की प्रविधि का विकास पैट्रिक गिड्डिस ने किया। विडाल डि ला ब्लाश सम्भववाद के प्रवर्तक थे तथा इन्हें मानव भूगोल का पिता कहा जाता है। ब्लाश ने फ्रांस के लघु स्वरूपीय क्षेत्रों को पेज कहा।
33. भारत में सन् 1991 में आर्थिक उदारीकरण के आरम्भ होने के बाद देश में राज्यों की प्रतिव्यक्ति आय
(a) का अभिसरण हुआ है (b) अपरिवर्तित रही है
(c) का अपसरण हुआ है (d) का प्रसरण हुआ है
उत्तर (d) : भारत में सन् 1991 में आर्थिक उदारीकरण के आरम्भ होने के बाद देश में राज्यों की प्रति व्यक्ति आय का प्रसरण हुआ है
34. नीचे दो वक्तव्य दिए गए हैं। एक को अभिकथन (A) तथा दूसरे को कारण (R) कहा गया है। नीचे दिए गए कूटों से अपना उत्तर चुनिए:
अभिकथन (A) : शरणार्थियों के बसाव के लिए दण्डकारण्य पहला बड़ा अंतर्राज्यीय प्रयास था।
कारण (R) : दण्डकारण्य क्षेत्र आंशिक रूप से बिहार में तथा आंशिक रूप से पश्चिम बंगाल में है।
कूट:
(a) (A) तथा (R) दोनों सही हैं तथा (R)‚ (A) की सही व्याख्या करता है।
(b) (A) तथा (R) दोनों सही हैं‚ परन्तु (R)‚ (A) की सही व्याख्या नहीं करता है।
(c) (A) सही है‚ परन्तु (R) गलत है।
(d) (A) गलत है‚ परन्तु (R) सही है।
उत्तर (c) : शरणार्थियों के बसाव के लिए दण्डकारण्य पहला बड़ा अन्तर्राज्यीय प्रयास था। दण्डकारण्य क्षेत्र के अन्तर्गत छत्तीसगढ़‚ ओड़िशा‚ महाराष्ट्र और आन्ध्रप्रदेश के नाम सम्मलित है। दण्डकारण्य क्षेत्र खनिजों से सम्पन्न होने भी अर्थिक विकास की दृष्टि से पिछड़ा हुआ है।
35. आँग्ल-अमरीकी परम्परा में नियोजकों का सही अनुक्रम क्या है?
(a) अनविन‚ पेरी‚ हावर्ड‚ गेडिस
(b) गेडिस‚ होवर्ड‚ पेरी‚ अनविन
(c) होवर्ड‚ गेडिस‚ अनविन‚ पेरी
(d) पेरी‚ गेडिस‚ अनविन‚ होवर्ड
उत्तर (d) : आग्ंल अमेरिकी परम्परा में नियोजकों का सही अनुक्रम हैपेरी ↓गिड्डिस ↓अनविन ↓होवर्ड
36. भारत का कौन सा राज्य गेहँू का सबसे बड़ा उत्पादक है?
(a) उत्तर प्रदेश (b) हरियाणा
(c) पंजाब (d) राजस्थान
उत्तर (a) : गेहूँ का सबसे बड़ा उत्पादक राज्य उत्तर प्रदेश है। यहाँ अधिकांश उत्पादन गंगा यमुना दोआब और रूहेलखण्ड के मैदानी क्षेत्रों से प्राप्त होता है। गेहूँ उत्पादक प्रमुख जिले- अलीगढ़‚ बुलन्द शहर‚ मेरठ‚ मुरादाबाद‚ मथुरा‚ सहारनपुर‚ कानपुर‚ बदॉयु‚ आगरा आदि।
37. भारत में कोयले के द्वारा विद्युत उत्पादन का प्रतिशत
(%) क्या है?
(a) 60 (b) 30
(c) 90 (d) 10
उत्तर (a) : भारत में कोयले के द्वारा विद्युत उत्पादन का प्रतिशत 60% है। भारत में कोयले का सर्वाधिक उत्पादन झारखाण्ड राज्य की झरिया खनन से होता है। भारत की सबसे प्राचीन कोयले की खान पश्चिम बंगाल की रानीगंज है।
38. निम्नलिखित में से कौन सा वक्तव्य सही है। नीचे दिए गए कूटों से अपना उत्तर चुनिए:
(i) भारतीय पठार की मिट्टी वाहित मिट्टी है।
(ii) हिमालय क्षेत्र में नदियों ने काट कर जलोढ़ वेदिकाएँ बनाई हैं।
(iii) तमिलनाडु‚ दक्षिण कर्नाटक पठार तथा केरल में लाल मिट्टी मिलती है।
(iv) भारत में पेट्रोलियम वाणिज्यिक ऊर्जा का प्रधान ध्Eोत है।
कूट:
(a) (i) तथा (iii) (b) (i) तथा (iv)
(c) (ii) तथा (iii) (d) (ii) तथा (iv)
उत्तर (a) : भारतीय पठार की मिटि्टयाँ वाहित मिटि्टयाँ हैं। तमिलनाडु दक्षिण‚ कर्नाटक पठार तथा केरल में लाल मिट्टी पायी जाती है। इस तरह वक्तव्य I एवं III सही है।
39. सूची- I तथा सूची- II के साथ सुमेलित कीजिए। नीचे दिए गए कूटों से सही उत्तर चुनिए:
सूची- I सूची- II
(जनजाति के नाम) (राज्य)
(A) संथाल (i) राजस्थान
(B) मिकिर (ii) अण्डमान निकोबार
(C) जारवा (iii) झारखण्ड
(D) भील (iv) असम
कूट:
A B C D
(a) (iv) (iii) (ii) (i)
(b) (iii) (iv) (ii) (i)
(c) (i) (ii) (iii) (iv)
(d) (ii) (iii) (i) (iv)
उत्तर (b) : जनजाति का नाम राज्य संथाल – झारखण्ड मिकिर – असम जारवा – अण्डमान निकोबार भील – राजस्थान
40. वर्ष 1991-2001 में दक्षिण भारतीय राज्यों में बढ़ते क्रम में जनसंख्या वृद्धि दर का कौन क्रम सही है?
(a) तामिलनाडु‚ केरल‚ आंध्रप्रदेश‚ कर्नाटक।
(b) केरल‚ तामिलनाडु‚ आंध्रप्रदेश‚ कर्नाटक।
(c) केरल‚ आंध्रप्रदेश‚ कर्नाटक‚ तामिलनाडु।
(d) कर्नाटक‚ केरल‚ आंध्रप्रदेश‚ तामिलनाडु।
उत्तर (b) : वर्ष 1991-2001 में दक्षिण भारतीय राज्यों में बढ़ते क्रम में जनसंख्या वृद्धि दर का निम्न क्रम सही हैकेरल ↓तमिलनाडु ↓आन्ध्र प्रदेश ↓कर्नाटक
41. वेक्टर तथा रास्टर डेटा का उपयोग किसमें किया जाता है:
(a) ग्लोबल पोजिशनिंग सिस्टम
(b) रिमोट सेंसिग सिस्टम
(c) जिओग्राफिकल इंफार्मेशन सिस्टम
(d) उपरिलिखित सभी में
उत्तर (d) : वेक्टर तथा रास्टर डेटा का उपयोग प्रश्नगत दिये गये सभी विकल्पों में किया जाता है।
42. निम्नलिखित वक्तव्यों पर विचार कीजिए तथा बतलाइए कि इनमें से कौन सा सही है?
(a) माध्यिका प्रकृत्या स्थितीय औसत है
(b) 2.15 का Rn मान का प्रकीर्ण औसत है
(c) उद्भव के परिवर्तित होने से मानक विचलन बदल जाएगा
(d) गिनी गुणांक वितरण में असमानता का माप है
(a) (A), (B) तथा (D)
(b) (A), (B), (C) तथा (D)
(c) (A), (C) तथा (D)
(d) (A) तथा (D)
उत्तर (d) : किसी समंक श्रेणी के मूल्यों को आरोही अवरोही क्रम में व्यवस्थित करने के पश्चात् जो मूल्य श्रेणी के मध्य में स्थित होता है उसे श्रेणी का माध्यिका मूल्य कहते है। उदाहरण के लिए यदि 5‚7‚9‚11‚13‚15‚17 किसी समंक श्रेणी के सात मूल्य है तो इस श्रेणी का चतुर्थ मूल्य अर्थात 11 माध्यिका मूल्य होगा क्योंकि यह मूल्य श्रेणी के मध्य में स्थित हैं गिनी गुणांक वितरण में असमानता की माप की जाती है।
43. खण्ड आरेख को ____ भी कहा जाता है
(a) चित्रीय आरेख (b) वलय आरेख
(c) इष्टिकापुंज आरेख (d) पाई आरेख (डाइग्राम)
उत्तर (d) : खण्ड आरेख को पाई आरेख कहा जाता है। पाई आरेख में संख्या का कुल योग प्रकट करने वाले किसी वृत्त के क्षेत्रफल को उस संख्या के विभिन्न उपविभागों या घटकों के मूल्यों के अनुपात में बॉट देते है। अत: इस आरेख को विभाजित वृत्त आरेख भी कहा जाता है।
44. सूची- I को सूची- II के साथ सुमेलित कीजिए तथा नीचे दिए गए कूटों से सही उत्तर चुनिए:
सूची- I सूची- II
(भूमि उपयोग लक्षण) (पारंपरिक रंग कूट)
(A) कृष्य क्षेत्र (i) लाल
(B) जलाशय (ii) भूरा
(C) निर्मिति (iii) नीला
(D) अकृष्य अवशिष्ट (iv) हरा
(v) पीला
कूट :
A B C D
(a) (ii) (i) (v) (iv)
(b) (iv) (v) (ii) (iii)
(c) (v) (iii) (i) (ii)
(d) (iv) (ii) (iii) (v)
उत्तर (c) : भूमि उपयोग लक्षण परम्परिक रंग कूट
(a) कृष्य क्षेत्र – पीला
(b) जलाशय – नीला
(c) निर्मित – लाल
(d) अकृष्ट अवशिष्ट – भूरा
45. निम्नलिखित दर्राओं का पश्चिम से पूरब की ओर सही अनुक्रम बतलाइए?
(a) लीपू लेख‚ नाथूला‚ शिपकीला‚ जोजिला
(b) जोजिला‚ शिपकीला‚ नाथू ला‚ लीपू लेख
(c) जोजिला‚ शिपकीला‚ लीपू लेख‚ नाथू ला
(d) शिपकीला‚ जोजिला‚ नाथू ला‚ लीपू लेख
उत्तर (c) : प्रश्नगत दर्रो का पश्चिम से पूरब की ओर सही अनुक्रम इस प्रकार हैजोजिला
(कश्मीर) ↓शिपकीला (हिमाचल प्रदेश) ↓लिपुलेख (उत्तराखण्ड) ↓नाथुला (सिक्किम)
46. भारत में पूर्व की ओर प्रवाहित होने वाली नदियों का
उत्तर से दक्षिण का सही क्रम बतलाइए?
(a) महानदी‚ गोदावरी‚ कृष्णा‚ पेनार‚ कावेरी
(b) महानदी‚ कृष्णा‚ गोदावरी‚ पेनार‚ कावेरी
(c) महानदी‚ गोदावरी‚ कृष्णा‚ कावेरी‚ पेनार
(d) महानदी‚ कृष्णा‚ गोदावरी‚ पेनार‚ कावेरी
उत्तर (a) : भारत में पूर्व की ओर प्रवाहित होने वाली नदियों का
उत्तर से दक्षिण का सही क्रम इस प्रकार हैमहानदी – गोदावरी – कृष्णा – पेन्नार – कावेरी महानदी उड़ीसा राज्य में स्थित है तथा महानदी पर हीराकुण्ड बाँध बना है यह भारत का सबसे ऊँचा बांध है। गोदावरी नदी महाराष्ट्र राज्य में प्रवाहित होती है तथा गोदावरी पर जायकवाड़ी परियोजना निर्मित है। कृष्णा नदी आन्ध्र प्रदेश राज्य में स्थित है तथा कृष्णा नदी पर नागार्जुन सागर परियोजना है। निम्नांकित गद्यांश को पढ़िए तथा उस पर आधारित प्रश्नों के
उत्तर दीजिए:
भूगोल किसे कहते हैं? प्रश्न में रिचथोफेन का उत्तर अभिनव भूगोल की विषयवस्तु तथा विधितंत्र में एक उत्प्रेरक पथ प्रदर्शक कथन होगा। हार्टशोर्न के शब्दों में इस परिदृष्टि के माध्यम से रिचथोपेन ने भौगोलिक चिंतन के भावी विकास को नई दिशा प्रदान की। रिचथोफेन के अनुसार भौगोलिक अध्ययन का केन्द्रीय उद्देश्य पृथ्वी की सतह पर भिन्न-भिन्न क्षेत्रों में विद्यमान नाना प्रकार की घटनाओं के पारस्परिक सहअस्तित्व पर ध्यान केन्द्रित करना है। क्षेत्रीय सहअस्तित्व के रहस्योद्घाटन के लिए उन्होंने एक चरणबद्ध अध्ययन पद्धति का विकास किया। किसी भी क्षेत्र के भौगोलिक अध्ययन के लिए आवश्यक है कि विद्यार्थी सर्वप्रथम उस क्षेत्र के भौतिक लक्षण का सविस्तार निरूपण करे। इसके पश्चात उस क्षेत्र में पाए जाने वाले अन्य भूदृश्यों तथा तत्वों की व्याख्या उस क्षेत्र की प्राकृतिक संरचना के सन्दर्भ में करनी चाहिए। रिचथो़फेन के मतानुसार भौगोलिक अध्ययन का सर्वोच्च उद्देश्य पृथ्वी के प्रत्येक क्षेत्र में मनुष्य और भौतिक परिवेश तथा वहाँ पाए जाने वाले जैविक तत्वों की पारस्परिकता का उद्घाटन है।
47. रिचथोफेन का भूगोल के बारे में अंतिम लक्ष्य किस बात की गवेषणा करनी है?
(a) प्रादेशिक भूगोल का विकास
(b) क्षेत्रीय विभेदीकरण
(c) मानव पर्यावरण संबंध
(d) भौतिक भूगोल का विकास
उत्तर (d) : रिचथोपेन का भूगोल के बारे में अन्तिम लक्ष्य भौतिक भूगोल का विकास करना है।
48. हार्टशोर्न की इस राय- कि रिचथोफेन का भूगोल पर दृष्टिकोण ‘भविष्य के लिए चिन्तन था’ – का कारण है
(a) इसका वैज्ञानिक संदर्भ
(b) घटनाओं के पारस्परिक संबंध का इसका विचार
(c) अध्ययन की विधि पर इसका बल
(d) भूगोल के उद्देश्य पर इसका बल
उत्तर (b) : हार्टशोर्न की इस राय कि रिचथोपेन का भूगोल पर दृष्टिकोण ‘भविष्य के लिए चिन्तन था’ का कारण है- घटनाओं के पारस्परिक सम्बन्ध का इसका विचार।
49. रिचथोफेन की विधि को आधुनिक शब्दावली में किस कोटि में रखा जा सकता है?
(a) भावचित्रात्मक (ऐडियोग्राफिक)
(b) कोरोग्राफिक
(c) कोरोलॉजिकल
(d) नोमोथेटिक
उत्तर (c) : रिचथोपेन की विधि को आधुनिक शब्दावली में कोरोलॉजिकल कोटि में रखा जा सकता है।
50. भूगोल को पुनर्परिभाषित करने में रिच्थोफेन का उद्देश्य भूगोल को ____ के रूप में विकसित करना था।
(a) मानव भूगोल
(b) भौतिक भूगोल
(c) विज्ञान
(d) मानविकी
उत्तर (b) : भूगोल को पुन: परिभाषित करने में रिचथोपेन का उद्देश्य भूगोल को भौतिक भूगोल के रूप में विकसित करना था। रिचयोफेन के अनुसार भौगोलिक अध्ययन का सर्वोच्च उद्देश्य पृथ्वी के प्रत्येक क्षेत्र में मनुष्य और भौतिक परिवेश तथा वहॉ पाये जाने वाले जैविक तत्वों की पारस्परिकता का उद्घाटन है। 252

Top
error: Content is protected !!