You are here
Home > Previous Papers > GEOGRAPHY UGC NTA NET JRF PREVIOUS PAPERS IN HINDIयूजीसी नेट/जेआरएफ परीक्षा‚ दिसम्बर- 2011 भूगोल व्याख्या सहित द्वितीय प्रश्न-पत्र का हल 0025.

GEOGRAPHY UGC NTA NET JRF PREVIOUS PAPERS IN HINDIयूजीसी नेट/जेआरएफ परीक्षा‚ दिसम्बर- 2011 भूगोल व्याख्या सहित द्वितीय प्रश्न-पत्र का हल 0025.

GEOGRAPHY UGC NTA NET JRF PREVIOUS PAPERS IN HINDIयूजीसी नेट/जेआरएफ परीक्षा‚ दिसम्बर- 2011 भूगोल व्याख्या सहित द्वितीय प्रश्न-पत्र का हल

निर्देश : इस प्रश्न-पत्र में पचास (50) बहु-विकल्पीय प्रश्न हैं। प्रत्येक प्रश्न के दो (2) अंक हैं। सभी प्रश्नों के उत्तर दीजिए।
1. ढाल पतन मॉडल के प्रस्तावक थे
(a) डब्ल्यू. पेंक (b) डब्ल्यू. एम. डेविस
(c) एल.सी. किंग (d) वुड
उत्तर-(a) : ढाल पतन मॉडल के प्रस्तावक डब्ल्यू पेंक थे। ढाल पृथ्वी के ठोस सतह का ज्यामितीय तत्व होता है। जो समुद्र तत्व से ऊपर तथा नीचे पाया जाता है। ढाल तत्व ही भूदृश्य की रचना करते हैं। अतः इसके आधार पर किसी क्षेत्र की भूआकृति विशेषताओं का निर्धारण किया जा सकता है। पृथ्वी सतह पर निर्मित विभिन्न प्रकार के स्थल रूप मुख्यतः कई प्रकार के ढालों के समूह मात्र होते हैं। इस प्रकार किसी भी स्थल रूप का निर्माण तथा विकास ढाल के आकार तथा प्रक्रिया पर निर्भर करता है।
2. नाजका प्लेट स्थित है
(a) दक्षिणी अमरीका के पश्चिम में
(b) दक्षिणी अमरीका के पूर्व में
(c) उत्तरी अमरीका के पूर्व में
(d) उत्तरी अमरीका के पश्चिम में
उत्तर-(a) : स्थलमण्डल के टुकड़ों को सबसे पहले टुजों विल्सन ने 1903 में प्लेट की संज्ञा दी। 1968 में डब्ल्यू जे. मार्गन ने सम्पूर्ण पृथ्वी प्लेट को 6 प्रमुख प्लेट तथा 20 गौण प्लेट में विभाजित किया। नाजका प्लेट गौण प्लेट है। नाजका प्लेट दक्षिण अमेरिका के पश्चिम में प्रशान्त महासागर के दक्षिण पूर्व भाग में स्थित है और यह पूर्वी दिशा में आगे बढ़ती है। पेरू की खाई नाजका महासागरीय प्लेट तथा दक्षिणी अमेरिकी महाद्वीपीय प्लेट के अभिसरण के फलस्वरूप निर्मित हुयी है।
3. दो सामान्य भ्रंशों के बीच उत्थित सँकरा खंड
(ब्लॉक) कहलाता है
(a) ग्रैबेन (b) हार्स्ट
(c) एकनताक्ष (मोनोक्लाइन) (d) अपनति
उत्तर-(b) : दो सामान्य भं्रशों के बीच उत्थित संकरा खंड हार्स्ट खंड कहलाता है। ब्लैक फारेस्ट तथा ओडेनवाल्ड पर्वत प्रमुख हार्स्ट पर्वत के उदाहरण हैं। किसी स्थान पर दो सामान्य भं्रश कई किलोमीटर की लम्बाई में इस तरह पड़ती है कि इसके बीच का भाग नीचे धँस जाता है और एक बेसिन या घाटी का निर्माण हो जाता है तो उसे रिफ्ट घाटी या ग्राबेन कहते हैं।
4. सूची−I को सूची−II के साथ सुमेलित कीजिए और नीचे दिये गये कूटों से सही उत्तर चुनिए। सूची−I सूची−II
(स्थलाकृति) (एजेंट)
(A) तीक्ष्णकटक (अरेत) (i) बहता हुआ जल
(B) पोलजे (ii) हिमानी
(C) यारडांग (iii) भौमजल
(D) गॉर्ज (iv) पवन
कूट :
(A) (B) (C) (D)
(a) (ii) (iii) (iv) (i)
(b) (i) (ii) (iv) (iii)
(c) (iv) (iii) (ii) (i)
(d) (iii) (ii) (i) (iv)
उत्तर-(a) : स्थलाकृति एजेंट तीक्ष्णकटक अरेत हिमानी पोलजे भौमजल यारडांग पवन गार्ज बहता हुआ जल
5. नीचे दो कथन दिये गये हैं‚ एक को अभिकथन (A) और दूसरे को कारण (R) नाम दिया गया है। नीचे दिये गये कूटों से अपना उत्तर चुनिए :
अभिकथन(A):
गोलाभ अपक्षय रासायनिक अपक्षय का परिणाम है।
कारण (R) : गोलाभ अपक्षय तब होता है जब जल शैलों के जोड़ों में प्रवेश करता है और शैल संयोजी पदार्थ को घोलता है।
कूट :
(a) (A) और (R) दोनों सही हैं और (R),(A)का सही स्पष्टीकरण है।
(b) (A) और (R) दोनों सही हैं‚ लेकिन (R),(A)का सही स्पष्टीकरण नहीं है।
(c) (A) सही है‚ परन्तु (R) गलत हैं।
(d) (A) गलत है‚ परन्तु (R) सही है।
उत्तर-(c) : गोलाभ अपक्षय रासायनिक अपक्षय का ही परिणाम है यह कथन सत्य है। जबकि कारण असत्य है। अपक्षय क्रिया के अन्तर्गत वायु‚ जल एवं ताप के कारण चट्टानों में यात्रिक एवं रासायनिक क्रिया के माध्यम से अपने ही स्थानों पर टूटन-फूटन की क्रिया सम्पन्न होती रहती है।
6. नीचे दो कथन दिये गये हैं‚ एक को अभिकथन (A) और दूसरे को कारण (R) नाम दिया गया है। नीचे दिये गये कूटों से अपना उत्तर चुनिए :
अभिकथन(A):
मध्य अटलांटिक कटक के सहारे स्थित द्वीप ज्वालामुखी क्रिया से अत्यधिक प्रभावित हैं।
कारण (R) : अटलांटिक महासागर में समुद्र तल प्रसरण भूकम्पों का मुख्य कारण है।
कूट :
(a) (A)और (R) दोनों सही हैं और (R),(A)का सही स्पष्टीकरण है।
(b) (A)और (R) दोनों सही हैं‚ लेकिन (R),(A)का सही स्पष्टीकरण नहीं है।
(c) (A)सही है‚ परन्तु (R) गलत हैं।
(d) (A)गलत है‚ परन्तु (R) सही है।
उत्तर-(a) : मध्य अटलांटिक कटक के सहारे स्थित द्वीप ज्वालामुखी क्रिया से अत्यधिक प्रभावित है क्योंकि अटलांटिक महासागर में समुद्र तल प्रसरण भूकम्पों का मुख्य कारण है। इस तरह कथन और कारण दोनों सही है और कारण कथन की सही व्याख्या कर रहा है।
7. तापीय विषुवत रेखा की सामान्य स्थिति है
(a) 0पर (b) 5उ. पर
(c) 5द. पर (d) 10उ. पर
उत्तर-(b) : तापीय विषुवत रेखा की स्थिति 50 उ0 तथा 50 दक्षिणी अक्षाशों तक पायी जाती है। विषुवत रेखा पर वर्ष भर सूर्य की किरणें लम्बवत पड़ती है तथा वर्ष भर दिन व रात बराबर होते हैं‚ जिस कारण इस पेटी में अधिक तापमान के कारण हवाएँ गर्म होकर ऊपर फैलती है तथा ऊपर उठती है। जिस कारण यहाँ सदैव निम्न वायु दाब बना रहता है।
8. निम्नलिखित में से कौन-सा हिमयुग परिकल्पना से सम्बन्धित नहीं है?
(a) तापीय संकुचन सिद्धान्त
(b) कार्बन डाइऑक्साइड परिकल्पना
(c) ओ़जोन क्षीणता परिकल्पना
(d) ज्वालामुखी धूल परिकल्पना
उत्तर-(d) : तापीय संकुचन सिद्धान्त‚ कार्बनडाई आक्साइड परिकल्पना ओजोन क्षीणता परिकल्पना हिमयुग परिकल्पना से सम्बन्धित है। ज्रबकि ज्वालामुखी धूल परिकल्पना हिमयुग परिकल्पना से सम्बन्धित नहीं है।
9. नीचे दो कथन दिये गये हैं‚ एक को अभिकथन (A) और दूसरे को कारण (R) नाम दिया गया है। नीचे दिये गये कूटों से अपना उत्तर चुनिए :
अभिकथन (A):
क्षोभमंडल में ऊँचाई में वृद्धि के साथ वायु दाब घटता जाता है।
कारण (R) : ऊपरी वायुमंडल में तापमान अपेक्षाकृत कम होता है।
कूट :
(a) (A)और (R) दोनों सही हैं और (R),(A)का सही स्पष्टीकरण है।
(b) (A)और (R) दोनों सही हैं‚ परन्तु (R),(A)का सही स्पष्टीकरण नहीं है।
(c) (A)सही है‚ परन्तु (R) गलत हैं।
(d) (A)गलत है‚ परन्तु (R) सही है।
उत्तर-(a) : क्षोभमण्डल वायुमण्डल की सबसे निचली तथा सघन परत है। वर्षा‚ बिजली चमकता‚ चक्रवात‚ तूफान‚ कुहरा बादल निर्माण जैसी वायुमण्डलीय घनाएँ इसी मण्डल में सम्पन्न होती है इसी कारण इसे क्षोभमण्डल के नाम से जाना जाता है। क्षोभमण्डल की ऊंचाई विषुवत रेखा पर 16 किमी. तथा ध्रुवों पर 8 कि.मी. तक पायी जाती है। धरातल से ऊपर जाने पर प्रति एक हजार मीटर पर 6.50c की दर से तापमान कम हो जाता है। विषुवत रेखा से धु्रवों की ओर जाने पर ऊँचाई घटती जाती है। क्षोभमण्डल में ऊँचाई में वृद्धि के साथ वायुदाब तापमान की कमी के कारण घटता जाता है।
10. नीचे दो कथन दिये गये हैं‚ एक को अभिकथन (A) और दूसरे को कारण (R) नाम दिया गया है। नीचे दिये गये कूटों से अपने उत्तर का चयन कीजिए :
अभिकथन (A):
भारतीय मानसून एल निनो द्वारा प्रभावित होते हैं।
कारण (R) : एल निनो के घटित होने पर पेरू के तट के उच्च वायु दाब क्षेत्र निर्मित होते हैं।
कूट :
(a) (A)और (R) दोनों सही हैं और (R),(A) का सही स्पष्टीकरण है।
(b) (A)और (R) दोनों सही हैं‚ परन्तु (R),(A)का सही स्पष्टीकरण नहीं है।
(c) (A)सही है‚ परन्तु (R) गलत हैं।
(d) (A)गलत है‚ परन्तु (R) सही है।
उत्तर-(c) : प्रशान्त महासागर के पूर्वी तट पर प्रति विषुवत रेखीय धारा पहुँचती है तब इसका ताप इसकी गति अत्यधिक हो जाती है। यहाँ इस धारा को अलग विशेषता के कारण एल निनों की संज्ञा दी जाती है। पूर्वी प्रशान्त महासागर में जब यह दक्षिण मुड़कर दक्षिणी अमेरिका के पश्चिमी तट के सहारे सामान्यत: 30 से 360 दक्षिणी अक्षांशों तक प्रवाहित होने लगती है तब यह एल निनो दशा के लिए उत्तरदायी होती है। एल निनो एक गर्म जल धारा है जिस कारण पेरू के तट पर निम्न वायुदाब उत्पन्न होता है। एल निनो धारा तथा इसके स्वरूप का परिणाम विश्व के विभिन्न प्राकृतिक प्रदेशों तक व्याप्त हो जाता है। भारत में यह मानसून की सक्रियता को प्रभावहीन कर देता है।
11. निम्नलिखित में से कौन सा चूनाप्रधान पंक नहीं है?
(a) टेरोपॉड पंक
(b) डायटम पंक
(c) ग्लोबिजेरिना पंक
(d) उपरोक्त में से कोई नहीं।
उत्तर-(b) : 30% से अधिक चूना होने पर इसे चूना प्रधान ऊज/पंक कहते हैं। उष्णकटिबन्धीय महासागरों में ये अधिकता में पाये जाते हैं। इन्हें टेरोपॉड पंक तथा ग्लोबिजेरिना पंक में विभाजित किया गया है। टेरोपॉड पंक जीवों के अवशेषों से निर्मित होते हैं इनमें 80% तक चूना पाया जाता है। ग्लोविजेरिना का निर्माण जीवों के कोष या कवक से होता है। डायटम सिलिका प्रधान पंक होता है। ये उष्ण कटिबन्धीय तथा उपोष्ण कटिबन्धीय श्रंखला में पाये जाते हैं। ये 2000 से 5000 फैदम की गहरायी तक पाये जाते हैं। इनका विस्तार प्रशान्त महासागर में 50 से 250 अक्षाशों के बीच पाया जाता है। यह हिन्द महासागर के पूर्वी भाग में कहीं-कहीं पाया जाता है परन्तु अटलांटिक महासागर में इनका पूर्णतया अभाव पाया जाता है।
12. निम्नलिखित में से कौन सा पारिस्थितिक तंत्र का महत्त्वपूर्ण तत्व है?
(a) ऊर्जा प्रवाह (b) पारिस्थितिकीय अनुक्रम
(c) खाद्य शृंखला (d) खाद्य जल
उत्तर-(c) : खाद्य शृंखला पारिस्थितिक तन्त्र का महत्वपूर्ण तत्व हैं खाद्य शृंखला में पारिस्थितक तन्त्र के विभिन्न जीवों की परस्पर भोज्य निर्भरता को प्रदर्शित करते हैं। किसी भी पारिस्थितिक तंत्र में कोई भी जीव भोजन के लिए सदैव किसी दूसरे जीव पर निर्भर होता है।
13. निम्नलिखित में से किसे भूमण्डलीय कार्बन सिंक माना जाता है?
(a) अंटार्कटिक हिमखंड (b) सहारा मरूस्थल
(c) भूमध्यरेखीय वर्षा के वन (d) आर्कटिक महासागर
उत्तर-(c) : भूमध्यरेखीय वर्षा के वन भूमण्डलीय कार्बन सिंक माने जाते हैं। इन क्षेत्रों में अत्यधिक मात्रा में वर्षा तथा ताप की प्राप्ति होती है जिस कारण यहाँ अत्यधिक मात्रा में वन पाये जाते हैं।
14. मरूस्थलीय बायोम वनस्पति के संदर्भ में निम्नलिखित में से कौन सही नहीं है?
(a) छोटी टेप रूट (b) पत्ते की परावर्तक सतह
(c) अल्पायु पौधे (d) मोमी लेप
उत्तर-(a) : मरुस्थलीय बायोम वनस्पति का विस्तार 150 से 300 अक्षांशों के बीच भूमध्यरेखा के दोनों ओर महाद्वीपों के पश्चिमी भागों में पाया जाता है। इन वनस्पतियों की जड़े लम्बी होती है ताकि अधिक गहरायी तक प्रविष्ट होकर नमी प्राप्त कर सकें। पत्ते की परावर्तक सतह होती तथा तने की छाल मोटी व मोमी लेप युक्त होती है।
15. सूची−I को सूची−II से सुमेलित कीजिए और नीचे दिये गए कूटों से सही उत्तर चुनिए। सूची−I सूची−II
(भूगोलवेत्ताओ (सहभागिता) के नाम)
(a) रोजर मिंशुल (i) सिटीस इन इवोल्युशन
(b) रिचार्ड हार्टशौन (ii) द ह्यूमेन यूस ऑफ ह्यमेन बींग
(c) पेड्रिक गेडिस (iii) रीजनल ज्योग्राफी थ्योरी एंड प्रेक्टिस
(d) नार्बट वीनर (iv) नेचर ऑफ ज्योग्राफी
कूट :
(a) (b) (c) (d)
(1) (iii) (iv) (i) (ii)
(2) (ii) (i) (iii) (iv)
(3) (iv) (iii) (ii) (i)
(4) (i) (ii) (iii) (iv)
उत्तर-(a) :
भूगोल वेत्ताओं के नाम सहभागिता
रोजर मिशुंल रीजनल ज्योग्राफी थ्योरी एण्ड प्रैक्टिस रिचर्ड हार्टशोर्न नेचर आफ ज्योग्राफी पैट्रिक गिडि्डस सिटीज इन इवील्युशन नार्बट वीनर द ह्यूमन यूज आफ ह्यूमन बींग
16. विवेचित आइसोडापेन किसे इंगित करता है?
(a) न्यूनतम परिवहन लागत बिन्दु
(b) अधिकतम परिवहन लागत बिन्दु
(c) अल्पतम कच्चा-माल लागत बिन्दु
(d) अधिकतम कच्चा-माल लागत बिन्दु
उत्तर-(a) : वेबर ने अपने औद्योगिक अवस्थापन मॉडल में श्रम की लागत को बहुत प्रभावशाली बताया। वेबर ने माना कि श्रम की लागत भी एक स्थान से दूसरे स्थान तक बदलती है और उद्योग की अवस्थिति को प्रभावित करती है। वेबर ने श्रम की लागत के सम्बन्ध में आइसोडापेन रेखा का प्रयोग किया। आइसोडापेन वह रेखा है जो समान कुल लागतों के बिन्दुओं के विन्दुपथ को जोड़ती है अर्थात यह न्यूनतम परिवहन लागत बिन्दु को इंगित करती है।
17. नीचे दो कथन दिये गये हैं‚ एक को अभिकथन (A) और दूसरे को कारण (R) कहा गया है। नीचे दिए कूटों से अपने उत्तर का चयन कीजिए :
अभिकथन (A):
भूगोल में पर्यावरणीय निश्चयवाद का संबंध प्रमुखत: प्रजातीय वितरण तथा जलवायु से है।
कारण (R) : पर्यावरणीय निश्चयवाद उपनिवेशक का दर्शन था।
कूट :
(a) (A)और (R) दोनों सही हैं और (R),(A) का सही स्पष्टीकरण है।
(b) (A)और (R) दोनों सही हैं‚ परन्तु (R),(A) का सही स्पष्टीकरण नहीं है।
(c) (A)सही है‚ परन्तु (R) गलत हैं।
(d) (A)गलत है‚ परन्तु (R) सही है।
उत्तर-(d) : पर्यावरणीय निश्चयवाद को पर्यावरणवाद भी कहते हैं। इस विचारधारा के अनुसार मनुष्य प्रकृति का दास है। पर्यावरण सर्वशक्तिमान है और मानवीय क्रियाकलापों को पूर्णतया नियंत्रित करता है। अतः स्पष्ट है कि इसका सम्बन्ध प्रजातीय वितरण तथा जलवायु से नहीं है। भूगोल में पर्यावरण निश्चयवाद की विचारधारा इतिहास के प्रारम्भिक काल से चली आयी है। और यह किसी न किसी रूप से द्वितीय विश्व युद्ध तक प्रचलित रही। अतः स्पष्ट है कि पर्यावरण निश्चयवाद उपनिवेशक का दर्शन था।
18. नीचे दो कथन दिये गये हैं‚ एक को अभिकथन (A) और दूसरे को कारण (R) कहा गया है। नीचे दिए कूटों से अपने उत्तर का चयन कीजिए :
अभिकथन (A):
अवस्थितिपरक जलवायविक कारकों ने मैकिण्डर के हार्टलैंड को विश्व के कुछ विशाल तथा सुसम्पन्न क्षेत्रों की तुलना में सापेक्षिक प्रतिकूलता की स्थिति में डाल दिया।
कारण (R) : अपनी आंतर स्थलीय अवस्थिति तथा तद्जनित जलवायु विषमताओं के कारण हार्टलैंड स्थायी कठिनाईग्रस्त प्रदेश था।
कूट :
(a) (A)और (R) दोनों सही हैं और (R),(A) का सही स्पष्टीकरण है।
(b) (A) और (R) दोनों सही हैं‚ परन्तु (R), (A) का सही स्पष्टीकरण नहीं है।
(c) (A)सही है‚ परन्तु (R) गलत हैं।
(d) (A)गलत है‚ परन्तु (R) सही है।
उत्तर-(a) : मैकिण्डर ने जिस क्षेत्र को हार्टलैण्ड माना वह क्षेत्र चारों तरफ से स्थलबद्ध था‚ वहाँ तक जाने के लिए जल मार्ग नहीं था। साथ ही साथ उस क्षेत्र में अत्यधिक ठण्ड पड़ती थी जिस कारण वह क्षेत्र सुरक्षित होने के साथ कठिनाईग्रस्त क्षेत्र था।
19. नीचे दो कथन दिये गये हैं‚ एक को अभिकथन(a) और दूसरे को कारण (R) कहा गया है। नीचे दिए कूटों से अपना उत्तर चुनिए :
अभिकथन(a):
दो विश्वयुद्धों के बीच उपनगरीय वृद्धि तथा विकेंद्रीकरण की प्रक्रिया की गति बढ़नी शुरू हो गई।
कारण (R) : इसके पीछे काम करनेवाली शक्तियाँ अतिमंदी के कारण आंशिक रूप में आर्थिक‚ मध्यवर्ग की संख्या में वृद्धि के कारण आंशिक रूप में सामाजिक तथा परिवहन प्रणाली में तीव्र विकास के कारण आंशिक रूप में प्रौद्योगिकीय हैं।
कूट :
(a) (a) तथा (R) दोनों सही हैं और (R),(a) की सही व्याख्या करता है।
(b) (a) तथा (R) दोनों सही हैं‚ परन्तु (R),(a) की सही व्याख्या नहीं करता है।
(c) (a) सही है‚ परन्तु (R) गलत हैं।
(d) (a) गलत है‚ परन्तु (R) सही है।
उत्तर-(b) : दो विश्वयुद्धों के बीच उपनगरीय वृद्धि तथा विकेन्द्रीकरण की प्रक्रिया की गति बटनी शुरू हो गयी। पीछे काम करने वाली शक्तियाँ अतिमंदी के कारण आंखिक रूप में आर्थिक‚ मध्यवर्ग की संख्या में वृद्धि के कारण आंशिक रूप में सामाजिक तथा परिवहन प्रणाली में तीव्र विकास के कारण आंशिक रूप में प्रौद्योगिकीयहै। इस तरह कथन और कारण दोनों सही है लेकिन कारण कथन की सही व्याख्या नहीं कर रहा है।
20. नीचे दो कथन दिये गये हैं‚ एक को अभिकथन (A) और दूसरे को कारण (R) कहा गया है। नीचे दिए गए कूटों से अपना उत्तर चुनिए :
अभिकथन (A):
माल्थस ने कहा है कि जनसंख्या में ज्यामितीय अनुपात से बढ़ने की प्रवृत्ति होती है‚ जबकि खाद्य पदार्थों के उत्पादन में गणितीय अनुपात में बढ़नेकी प्रवृत्ति होती है।
कारण (R) : माल्थस आशावादी थे कि मनुष्य अपनी संख्यात्मक वृद्धि को नियंत्रित कर सकता है।
कूट :
(a) (A) तथा (R) दोनों सही हैं और (R),(A) की सही व्याख्या है।
(b) (A) तथा (R) दोनों सही हैं‚ परन्तु (R),(A) की सही व्याख्या नहीं है।
(c) (A) सही है‚ परन्तु (R) गलत हैं।
(d) (A) गलत है‚ परन्तु (R) सही है।
उत्तर-(c) : ब्रिटिश अर्थशास्त्री थॉमस राबर्ट माल्थस प्रथम विचारक थे जिन्होंने जनसंख्या वृद्धि तथा जनसंख्या संसाधन सम्बन्ध में एक व्यवस्थित सिद्धान्त का प्रतिपादन किया। 1803 में थॉमस राबर्ट माल्थस के नाम से एक लेख प्रकाशित हुआ जिसका शीर्षक था-
An essay on the Principal of Population. माल्थस ने बताया जनसंख्या ज्यामितिय आकार में बढ़ती है- 1‚2‚4‚8‚17‚32‚64 । इस प्रकार 25 वर्षों में जनसंख्या दो गुनी हो जायेगी। जबकि खाद्य पदार्थों में अंकगणितीय वृद्धि होती है- 1‚ 2‚ 3‚ 4‚ 5‚ 6 आदि। माल्थस के अनुसार जनसंख्या नियन्त्रण प्राकृतिक तथा कृत्रिम दोनों कारकों द्वारा होता है। प्राकृतिक नियन्त्रण में युद्ध‚ महामारी‚ निर्धनता व खाद्य पदार्थों के अभाव को सम्मिलित किया जबकि कृत्रिम उपायों में गर्म निरोधक‚ नैतिक संयम को प्रमुख स्थान दिया। माल्थस इन निरोधों के सन्दर्भ में आशावादी नहीं थे।
21. नीचे दो वक्तव्य दिए गए हैं। एक को अभिकथन (A) और दूसरे को कारण (R) कहा गया है। नीचे दिए गए कूटों से अपना उत्तर चुनिए :
अभिकथन (A) :
जनसंख्या संकेंद्रण मुख्यत: नदी-बेसिनों तथा तटीय-मैदानों के प्रदेशों में पाया जाता है।
कारण (R) : जनसंख्या में संकेन्द्रण मुख्यत: मिट्टी‚ खनिज तथा जल जैसे आधारभूत संसाधनों की उपलब्धता के कारण होता है।
कूट :
(a) (A) तथा (R) दोनों सही हैं और (R),(A) की सही व्याख्या है।
(b) (A) तथा (R) दोनों सही हैं‚ परन्तु (R),(A) की सही व्याख्या नहीं है।
(c) (A) सही है‚ परन्तु (R) गलत हैं।
(d) (A) गलत है‚ परन्तु (R) सही है।
उत्तर-(a) : जनसंख्या का संकेन्द्रण नदी बेसिनों तथा तटीय मैदानों के प्रदेशों में पाया जाता है क्योकि इन प्रदेशों में मानव जीवन हेतु आवश्यक तत्व जैसे जल की उपलब्धता‚ उपजाऊ मृदा‚ सिंचाई हेतु जल उपयुक्त जलवायु‚ समतल प्रदेश आसानी से उपलब्ध हो जाते हैं।
22. नीचे दो वक्तव्य दिए गए हैं। एक को अभिकथन(a) और दूसरे को कारण (R) कहा गया है। नीचे दिए गए कूटों से अपना उत्तर चुनिए।
अभिकथन (A):
भारत के पूर्वोत्तर के जनजातीय पहाड़ी क्षेत्रों में ईसाई जनसंख्या अपेक्षाकृत अधिक है।
कारण (R) : अँगरेजी शासन की अवधि में अनेक जनजातियों का ईसाई धर्मान्तरण किया गया।
कूट :
(a) (A) तथा (R) दोनों सही हैं तथा (R), (A) की सही व्याख्या है।
(b) (A) तथा (R) दोनों सही हैं‚ तथा (R), (A) की सही व्याख्या नहीं है।
(c) (A) सही है‚ परन्तु (R) गलत हैं।
(d) (A) गलत है‚ परन्तु (R) सही है।
उत्तर-(a) : भारत के पूर्वात्तर के जनजातीय पहाड़ी क्षेत्रों में ईसाई जनसंख्या अपेक्षाकृत अधिक है। क्योंकि अंग्रेजी शासन की दौरान बहुत सारी जनजातियों को ईसाई धर्म में परिवर्तित किया गया था इस तरह कथन और कारण दोनों सही है और कारण कथन की सही व्याख्या भी कर रहा है।
23. सूती वस्त्र उद्योग स्थापित करने के लिए निम्नलिखित में से कौन सा तत्व अधिक आदर्श है?
(a) बाजार से निकटता
(b) कच्चे-माल की निकट उपलब्धता
(c) जल-संसाधन की निकट उपलब्धता
(d) परिवहन नेटवर्क
उत्तर-(a) : सूती वध्Eा उद्योग स्थानीकरण में निम्न आदर्श तत्व आवश्यक है- कच्चे माल की उपलब्धता‚ बाजार की समीपता‚ पूँजी‚ बन्दरगाह‚ कुशल श्रमिक आदि। परन्तु इनमें बाजार की उपलब्धता सबसे अधिक आदर्श तत्व है। भारत में सूती वध्Eा उत्पादक प्रमुख राज्य निम्न है- महाराष्ट्र (शोलापुर‚ पुणे‚ नागपुर‚ वर्धा‚ अमरावती) गुजरात‚ (बड़ोदरा‚ सूरत‚ मरुच‚ राजकोट‚ भावनगर पोरबन्दर)‚ तमिलनाडु (कोयम्बटूर‚ चेन्नई‚ मदुरै) उत्तर प्रदेश आदि।
24. निम्नलिखित में से किसने शस्य-संयोजन विधि का सर्वप्रथम विकास किया?
(a) वेबर (b) वेग्नर
(c) वीवर (d) विटफोगल
उत्तर-(c) : वीवर ने सर्वप्रथम शस्य संयोजन विधि का विकास किया 1934 में जी.सी. वीवर ने मध्य पश्चिम (संयुक्त राज्य अमेरिका) में फसल संयोजन क्षेत्रों में इस विधि का प्रयोग किया। वीवर ने अपने अध्ययन में प्रत्येक फसल द्वारा अधिकृत कुल शस्य भूमि के क्षेत्र के प्रतिरूप को परिकलित किया।
25. निम्नलिखित लेखकों को कालानुक्रम में व्यवस्थित कीजिए। नीचे दिए गए कूटों का उपयोग कीजिए।
I. स्ट्रैबो
II. टॉलमी
III. हेरोडोटस IV इरेटोस्थनीज
कूट :
(a) हेरोडोटस‚ इरेटोस्थनीज‚ स्ट्रैबो‚ टालमी
(b) इरेटोस्थनीज‚ स्ट्रैबो‚ टालमी‚ हेरोडोटस
(c) हेरोडोटस‚ टालमी‚ स्ट्रैबो‚ इरेटोस्थनीज
(d) इरेटोस्थनीज‚ हेरोडोटस‚ टालमी‚ स्ट्रैबो
उत्तर-(a) :
प्रश्नगत लेखकों का सही कालानुक्रम निम्न है- हेरोडोटस‚ इरेटोस्टसीज‚ स्ट्रेबो‚ टॉलमी हेरोडोटस (484 ई.पू. -425) ई.पू. को इतिहास का पिता कहा जाता है। इन्होंने विश्व भूखण्ड को तीन महाद्वीपों में विभाजित किया- यूरोप एशिया तथा लीबिया। इरेटोस्थनीज (276ई.पू.-194 ई.पू.) ने ज्योग्राफिया नामक ग्रन्थ की रचना की। इन्होंने सर्वप्रथम ज्योग्राफिया नामक शब्द का भी प्रयोग किया स्ट्रेबो (64ई.पू.-20 ई.) रोमन भूगोलवेत्ता थे। इन्होंने भी ज्योग्राफिया नामक पुस्तक की रचना की तथा पृथ्वी को 3600 अंशों में विभक्त किया तथा प्रत्येक की दूरी 700 स्टेडिया बतायी। टॉलमी (90ई. 168ई.) रोमन भूगोलवेत्ता थे इन्होंने गणितीय भूगोल के दाब में महत्वपूर्ण योगदान दिया।
26. नीचे दो कथन दिए गए हैं‚ एक को अभिकथन (A) और दूसरे को कारण (R) का नाम दिया गया है। नीचे दिये गये कूटों से अपने उत्तर का चयन कीजिए :
अभिकथन (A):
भारत में कई जूट मिलें स्वतंत्रता के पश्चात बंद हो गई।
कारण (R) : कच्चे माल की अत्यधिक कमी और जूट माल के लिए विदेशी मांग में भी गिरावट हुई है।
कूट :
(a) (A) और (R) दोनों सही हैं और (R),(A) का सही स्पष्टीकरण है।
(b) (A) और (R) दोनों सही हैं‚ परन्तु (R),(A) का सही स्पष्टीकरण नहीं है।
(c) (A) सही है‚ परन्तु (R) गलत हैं।
(d) (A) गलत है‚ परन्तु (R) सही है।
उत्तर-(a) : स्वतन्त्रता के पश्चात भारत वर्ष की कई जूट मीलें बन्द हो गयी क्योंकि भारत के विभाजन के पश्चात‚ जूट उत्पादक क्षेत्र पाकिस्तान व बंग्लादेश के हिस्सों में चले गये जिस कारण कच्चे माल की आपूर्ति न हो पाने के कारण कई जूट मीलें बन्द हो गयीं।
27. अर्थिक विकास के लिए कौन सा आर्थिक खंड
(सेक्टर) सर्वाधिक महत्त्वपूर्ण है?
(a) प्राथमिक
(b) द्वितीय
(c) तृतीयक
(d) उपर्युक्त में से कोई नहीं
उत्तर-(b) : आर्थिक विकास के लिए द्वितीयक आर्थिक सेक्टर सर्वाधिक महत्वपूर्ण है। प्राथमिक क्रिया से प्राप्त उत्पादों को परिष्कृत करके नया उत्पाद तैयार करने से सम्बद्ध सम्पूर्ण क्रिया द्वितीयक क्रिया कहलाती है। इस क्रिया में संलग्न व्यक्तियों को Blue coller workers कहा जाता है। इस क्रिया के लिए अपेक्षाकृत बेहतर तकनीकी कुशल श्रम एवं भारी ऊर्जा की आवश्यकता होती है।
28. नीचे दो कथन दिए गए हैं‚ एक को अभिकथन (A) और दूसरे को कारण (R) का नाम दिया गया है। नीचे दिये गये कूटों से अपने उत्तर का चयन कीजिए :
अभिकथन (A):
कृषि-उत्पादकता − भूमि-उत्पादकता‚ श्रमिक उत्पादकता तथा पूँजी- उत्पादकता के समग्र योग को इंगित करता है।
कारण (R) : ये तीनों घटक उत्पादकता के कारक तत्व हैं।
कूट :
(a) (A) और (R) दोनों सही हैं और (R),(A) का सही स्पष्टीकरण है।
(b) (A) और (R) दोनों सही हैं‚ परन्तु (R),(A) का सही स्पष्टीकरण नहीं है।
(c) (A) सही है‚ परन्तु (R) गलत हैं।
(d) (A) गलत है‚ परन्तु (R) सही है।
उत्तर-(a) : कृषि उत्पादकता में तीन कारक महत्वपूर्ण माने जाते हैं जैसे- भूमि उर्वर हो‚ कुशल श्रमिक हो‚ तथा पर्याप्त पूंजी संसाधन। ये तीनों कारक कृषि उत्पादकता बढ़ाने में महत्वपूर्ण संशाधन माने जाते हैं। इस तरह कथन और कारण दोनों सही है और कारण कथन का सही स्पष्टीकरण भी है।
29. भारत और पाकिस्तान के मध्य सीमा रेखा किसका उदाहरण है?
(a) परवर्ती सीमा (b) अध्यारोपित सीमा
(c) अवशिष्ट सीमा (d) पूर्ववर्ती सीमा
उत्तर-(a) : परवर्ती सीमा सांस्कृतिक वातावरण के विकास के बाद अस्तित्व में आती है और साधारणत: मुख्य या गौण प्राकृतिक एवं सांस्कृतिक प्रदेशों से गजरती है‚ ये अनेक बार भाषा‚ धर्म अथवा अन्य प्रजातीय आधार पर विकसित होती है। इस प्रकार की अनेक सीमाएँ यूरोप में हैं जो भाषायी पृथकता को स्पष्टा âरती है। भारतपाकिस्तान की सीमा इसी प्रकार की है। पूर्ववर्ती सीमा- जिसका विकास सांस्कृतिक वातावरण के विकास के पहले होता है।
30. निम्नलिखित में से कौन सी जनजाति का क्रोड परिक्षेपित है?
(a) आओ (b) गारो
(c) संथाल (d) भील
उत्तर-(d) : भील जनजाति का क्रोड परिक्षेपित है। भील जनजाति का निवास क्षेत्र मध्य प्रदेश‚ राजस्थान तथा गुजरात में पाया जाता है। पूर्वकाल में भील लोग अधिकतर पशुचारण‚ वनों की उपज और आखेट पर निर्भर करते थे परन्तु अब ये लोग अधिकतर स्थायी खेती करते हैं।
31. निम्नलिखित धर्मों को उनकी उत्पत्ति के कालानुक्रम में क्रमबद्ध कीजिए:
(a) यहूदी धर्म‚ ईसाई धर्म‚ इस्लाम धर्म‚ सिक्ख धर्म
(b) सिक्ख धर्म‚ ईसाई धर्म‚ यहूदी धर्म‚ इस्लाम धर्म
(c) इस्लाम धर्म‚ सिक्ख धर्म‚ यहूदी धर्म‚ ईसाई धर्म
(d) यहूदी धर्म‚ इस्लाम धर्म‚ ईसाई धर्म‚ सिक्ख धर्म
उत्तर-(a) : धर्मो की उत्पत्ति का कालानुक्रम इस प्रकार है- यहूदी धर्म →ईसाई धर्म→इस्लाम धर्म →सिक्ख धर्म
32. सूची−I को सूची−II के साथ सुमेलित कीजिए और नीचे दिये गये कूटों से सही उत्तर का चयन कीजिए। सूची−I सूची−II
(जनजातियाँ) (राज्य)
(A) बोडो (i) छत्तीसगढ़
(B) गारो (ii) झारखण्ड
(C) गोंड (iii) असम
(D) संथाल (iv) मेघायल
कूट :
(A) (B) (C) (D)
(a) (i) (ii) (iii) (iv)
(b) (ii) (iii) (iv) (i)
(c) (iii) (iv) (i) (ii)
(d) (iv) (iii) (ii) (i)
उत्तर-(c) : विकल्प का सही मिलान इस प्रकार हैजनजातियाँ राज्य बोडो असम गारो मेघालय गोंड छत्तीसगढ़ संथाल झारखण्ड
33. ‘अरीय नगर’ के सिद्धांत का प्रतिपादक है
(a) ले कारबुजियर (b) अरनेस्ट में
(c) सोरिया वाई. माटा (d) क्लेरेन्स पैरी
उत्तर-(a) : अरीय नगर का सिद्धान्त ले. कार्बूजिएर ने प्रतिपादित किया जब किसी केन्द्रीय स्थिति वाले गॉव में अनेक सड़कें आकर मिलती है तो लोग अपने मकान इन सड़कों के किनारे-किनारे बनाते जाते हैं और ऐसा लगता है कि मकान केन्द्रीय स्थल से विकसित हो गए हैं। ऐसी स्थिति में एक अरीय नगर का विकास होता है।
34. नगर आकारिकी का खण्ड सिद्धान्त :
(a) नगर की सामाजिक संरचना के विकास में यातायात प्रणाली के महत्त्व को सम्मिलित करता है।
(b) पारिस्थितिकी के सिद्धांत से विशेष रूप में सम्बंधित है।
(c) मानता है कि नगर की वृद्धि के लिए बहु केन्द्र अथवा नाभि केन्द्र उत्तरदायी हैं।
(d) दिशापरक होता है।
उत्तर-(a) : नगर आकारिकी का खण्ड सिद्धान्त नगर की सामाजिक संरचना के विकास में यातायात प्रणाली के महत्व को सम्मिलित करता है। इसके अन्तर्गत नगरों के भवन मार्गों‚ बाजारों‚ औद्योगिक क्षेत्रों‚ आवासीय‚ क्षेत्रों सांस्कृतिक एवं प्रशासनिक क्षेत्रों‚ खेल के मैदान उद्यानों तथा नगर में उपस्थित अन्य दृश्य संरचनाओं का अध्ययन किया जाता है।
35. हैरिस तथा उल्मैन मुख्यत: किस क्षेत्र में योगदान के लिए जाने जाते हैं?
(a) राजनैतिक भूगोल (b) नगरीय भूगोल
(c) आर्थिक भूगोल (d) कृषि भूगोल
उत्तर-(b) : हैरिस तथा उल्मैन ने नगरीय भूगोल के क्षेत्र में योगदान दिया। हैरिस तथा उल्मैन बहुकेन्द्रीय सिद्धान्त के जनक हैं। इनका 1945 ई. में सम्मिलित लेख ‘द नेचर आफ सिटीज’ प्रकाशित हुआ। बहुकेन्द्रीय सिद्धान्त के अनुसार नगर भू उपयोग प्रतिरूप प्राय:
अलग-अलग बहुत से केन्द्रों के चारों ओर विकसित होता है न कि केवल एक ही केन्द्र के चारों ओर।
36. क्षेत्रीय उत्पादन संश्लिष्ट किसके साथ सम्बंधित है?
(a) भारतीय विकास का मॉडल
(b) ब्राजीलियन विकास का मॉडल
(c) कोरियन विकास का मॉडल
(d) रशियन विकास का मॉडल
उत्तर-(d) : क्षेत्रीय उत्पादन संश्लिष्ट रशियन विकास मॉडल के साथ सम्बन्धित है।
37. इसका एक क्रोड एवं उपांत क्षेत्र है
(a) आकारिकी प्रदेश (b) बोधात्मक प्रदेश
(c) कार्यात्मक प्रदेश (d) विशिष्ट प्रदेश
उत्तर-(b) : क्रोड तथा उपान्त क्षेत्र बोधात्मक प्रदेश है।
38. प्रादेशिक नियोजन का दार्शनिक आधार किसने प्रस्तुत किया?
(a) बेंटन मैक्ये (b) फ्रेड्रिक ले प्ले
(c) एफ.एस. चेपिन (d) कैरोल आरानोविची
उत्तर-(a) : प्रादेशिक नियोजन का दार्शनिक आधार बेंटन मैक्ये ने प्रस्तुत किया। प्रादेशिक नियोजन का उद्देश्य विभिन्न पारिस्थितिकीय क्षेत्रों के बीच पारम्परिक‚ सांस्कृतिक एवं प्रादेशिक समायोजन का पूर्वानुमान करना और समायोजन को सम्भव बनाना है।
39. सूची−I को सूची−II के साथ सुमेलित कीजिए और नीचे दिये गये कूटों से सही उत्तर का चयन कीजिए। सूची − I सूची − II
(सिद्धान्त) (प्रतिपादक)
(A) उद्यान नगर (i) क्लेरेन्स पैरी
(B) नवीन नगर (ii) सर कोलिन बुकानन
(C) सामीप्य (नेबरहुड) (iii) एबने़जर हॉवर्ड
(D) यातायात विसंयोजन (iv) सर पेट्रिक एबरकोम्बी
कूट :
(A) (B) (C) (D)
(a) (iv) (iii) (i) (ii)
(b) (iii) (iv) (i) (ii)
(c) (i) (ii) (iv) (iii)
(d) (iv) (i) (iii) (ii)
उत्तर-(b) : सिद्धान्त प्रतिपादन उद्यान नगर एबनेजर हॉबर्ड नवीन नगर सर पैंट्रिक एवरकोम्बी समीप्य (नेबरहुड) क्लेरेन्स पैरी यातायात विसंयोजन सर कोलिन बुकानन
40. भारत में विकास केन्द्र का निम्न से उच्च का सही पदानुक्रम क्या है?
(a) विकास केन्द्र‚ विकास बिन्दु‚ विकास ध्रुव‚ सेवा केन्द्र
(b) विकास ध्रुव‚ विकास बिन्दु‚ विकास केन्द्र‚ सेवा केन्द्र
(c) सेवा केन्द्र‚ विकास बिनदु‚ विकास केन्द्र‚ विकास धु्रव
(d) विकास धु्रव‚ विकास केन्द्र‚ विकास बिन्दु‚ सेवा केन्द्र
उत्तर-(b) : भारत में विकास केन्द्र का निम्न से उच्च सही पदानुक्रम इस प्रकार हैविकास ध्रुव- < विकास बिन्दु < विकास केन्द्र < सेवा केन्द्र
41. भारत में मृदा विस्तार का सही अवरोही क्रम क्या है?
(a) जलोढ़ मिट्टी‚ काली मिट्टी‚ लाल मिट्टी‚ लैटेराइट मिट्टी
(b) जलोढ मिट्टी‚ लाल मिट्टी‚ काली मिट्टी‚ लैटेराइट मिट्टा
(c) लाल मिट्टी‚ लैटेराइट मिट्टी‚ काली मिट्टी‚ जलोढ मिट्टी
(d) लाल मिट्टी‚ काली मिट्टी‚ लैटेराइट मिट्टी‚ जलोढ मिट्टी
उत्तर-(b) : भारत में मृदा विस्तार का सही अवरोही क्रम इस प्रकार है- जलोढ़ मिटटी > लाल मिटटी > काली मिटटी > लेटेराइट जलोढ़ मिट्टी में पोटाश‚ फास्फोरस एसिड‚ चूना तथा जैव पदार्थों की प्रचुरता पाई जाती है परन्तु इसमें नाइट्रोजन तथा ह्यूमस की कमी पायी जाती है। लाल मिट्टी में चूना मैग्नेशियम‚ फास्फेट‚ नाइट्रोजन ह्यूमस तथा पोटाश की कमी पायी जाती है। सिंचाई का प्रयोग कर इस मृदा में बाजरा‚ कपास‚ दाल‚ गेंहूँ‚ तम्बाकू‚ अलसी‚ मूंगफली आदि का उत्पादन किया जाता है। काली मिट्टी में लोहा‚ चूना‚ कैल्शियम‚ पोटाश एल्युमिनियम तथा मैग्नेशियम कार्बोनेट की प्रचुरता पायी जाती है। परन्तु इसमें नाइट्रोजन‚ फास्फेट तथा जैव पदार्थों की कमी मिलती है।
42. वर्ष 2001 में भारत के राज्यों में घटते क्रम में जनसंख्या घनत्व में निम्नलिखित में से कौनसा क्रम सही है?
(a) पश्चिम बंगाल‚ उत्तर प्रदेश‚ बिहार‚ केरल
(b) उत्तर प्रदेश‚ पश्चिम बंगाल‚ केरल‚ बिहार
(c) पश्चिम बंगाल‚ बिहार‚ केरल‚ उत्तर प्रदेश
(d) बिहार‚ पश्चिम बंगाल‚ केरल‚ उत्तर प्रदेश
उत्तर-(c) : राज्यों की जनसंख्या घनत्व का क्रम इस प्रकार हैपश्चिम बंगाल‚ बिहार‚ केरल एवं उत्तर प्रदेश।
43. निम्नलिखित में से किस मानचित्रीय विधि का सामान्यत: उपयोग जनसंख्या घनत्व को प्रदिर्शित करने में किया जाता है?
(a) समोच्य रेखा (b) छाया मानचित्र
(c) बिन्दु विधि (d) सममान मानचित्र
उत्तर-(b) : छायामानचित्र का सामान्यत: उपयोग जनसंख्या घनत्व को प्रदर्शित करने के लिए किया जाता है।
44. लॉरेंज वक्र किसका माप है?
(a) वक्रता (b) असमानता
(c) समानता (d) विविधता
उत्तर-(b) : लॉरेंज वक्र असमानता का माप है।
45. निम्नलिखित मानचित्रों को लघु से बृहत मापनी के क्रम में क्रमबद्ध कीजिए। नीचे दिए गये कूट का प्रयोग कीजिए।
I. विश्व मानचित्र
II. स्थलाकृति पत्रक
III. भूकर मानचित्र
IV. राज्य मानचित्र
कूट :
(a) II, I, IV, III
(b) III, II, I, IV
(c) I, IV, II, III
(d) IV, III, I, II
उत्तर-(c) : दिए गए मानचित्रों का लघु से वृहत मापनी का क्रम इस प्रकार हैविश्व मानचित्र ↓राज्य मानचित्र ↓स्थलाकृति पत्रक ↓भूकर मानचित्र
46. सूची-I को सूची-II के साथ सुमेलित कीजिए और नीचे दिए गए कूटों से सही उत्तर का चयन कीजिए। सूची−I सूची−II
(उपग्रह) (छोड़ने वाला)
(A) लैंडसैट (i) फ्रांस
(B) स्पॉट (ii) नासा
(C) आई.आर.एस. (iii) यूरोप
(D) ई.आर.एस. (iv) भारत
(v) रूस
कूट :
(A) (B) (C) (D)
(a) (iii) (ii) (v) (i)
(b) (ii) (i) (iv) (iii)
(c) (ii) (iii) (i) (iv)
(d) (iii) (i) (v) (ii)
उत्तर-(b) : (उपग्रह) (छोड़ने वाला)
(a) लैंडसैट नासा
(b) स्पॉट फ्रांस
(c) आई.आर.एस. भारत
(d) ई.आर.एस. यूरोप नीचे दिए गए परिच्छेद को पढ़िए तथा इसके बाद दिए गए प्रश्नों के उत्तर दीजिए। संयुक्त राज्य अमेरिका में अनेक व्यक्ति अर्थिक विकास को एक आवश्यकता मानते हैं। जहाँ कुछ लोग अभी भी ‘किसी भी किमत पर विकास’ की अभिवृत्ति का समर्थन करते हैं‚ वहीं अधिसंख्यक व्यक्ति दीर्घकालीन आर्थिक विकास के पर्यावरणीय लागत के प्रति जागरुक हो रहे हैं। 1970 के दशक में विकासोन्माद के प्रति लोक-असंतुष्टि अनेक रूपों में प्रदर्शित हुई। उदाहाणार्थ‚ ओरेगनवासियों ने यह कहना प्रारम्भ किया कि आगंतुकों का तो स्वागत है‚ परन्तु नवीन आवासियों का नहीं। कोलोरैडो में कोलोरैडो के कैलिफोर्नियाकरण की निन्दा करने वाले बम्पर स्टिकर चिपकाए गए। कैलिफोर्निया में निर्वाचकों ने ‘प्रोपोजीशन-20’ प्रस्ताव पारित किया जिसमें समस्त तटीय-क्षेत्रों के विकासों पर कठोर नियंत्रण लगाए जाने का प्रावधान था। अनेक स्थानों पर समुदायों द्वारा केवल कुछ चुनिन्दा उद्योगों को प्रारम्भ करने की स्वीकृति दी गयी‚ गन्दगी फैलाने वाले उद्योगों को नहीं‚ बल्कि साफ-सुथरे उद्योगों को वांछनीय माना गया।
47. संयुक्त राज्य अमेरिका में अनेक व्यक्ति आर्थिक विकास को एक आवश्यकता मानते हैं। इसका कारण क्या है?
(a) अतिरिक्त रोजगार सम्भाव्यता
(b) सरकार के लिए अतिरिक्त कर संसाधन
(c) सकल घरेलू उत्पाद की उच्च वृद्धि की संभाव्यता
(d) उच्च व्यक्तिगत आय की संभाव्यता
उत्तर-(c) : सकल घरेलू उत्पाद की उच्च वृद्धि की संभाव्यता के कारण संयुक्त राज्य अमेरिका में अनेक व्यक्ति आर्थिक विकास को एक आवश्यकता मानते हैं।
48. हाल के समय में अनेक अमरीकी पर्यावरण के प्रति जागरूक हो रहे हैं। इसका कारण क्या है?
(a) पर्यावरणीय जागरूकता का प्रसार
(b) पर्यावरणीय हितैषी प्रौद्योगिकीया. रोजगार में वृद्धि करती हैं।
(c) आर्थिक विकास तथा पर्यावरणीय लागतों के बीच प्रतिस्पर्धात्मक आदान-प्रदान की समझ
(d) आर्थिक विकास वांछनीय है‚ आवश्यक नहीं।
उत्तर-(c) : आर्थिक विकास तथा पर्यावरणीय लागतों के बीच प्रतिस्पधात्मक आदान-प्रदान की समझ के कारण अनेक अमेरिकी पर्यावरण के प्रति जागरूक हो रहे हैं।
49. विकासोन्माद किसे इंगित करता है?
(a) विकास के प्रति विमुखता
(b) केवल विकास की अभिव्यक्ति
(c) रोजगार की वृद्धि
(d) पर्यावरणीय सरोकार के साथ वृद्धि
उत्तर-(b) : विकासोन्माद केवल विकास की अभिव्यक्ति को इंगित करता है।
50. अनेक अमेरिकी राज्य पर्यटकों के आगमन का अनुमोदन करते हैं परन्तु प्रवासियों का नहीं‚ क्योंकि
(a) पर्यटकों के आगमन से रोजगार बढ़ते हैं।
(b) प्रवासी गैर अँगरेजी-भाषी होते हैं।
(c) प्रवासी स्थानीय लोगों की नौकरियाँ छीन लेते हैं।
(d) पर्यटकों से पैसा मिलता है।
उत्तर-(a) : पर्यटकों के आगमन से रोजगार बढ़ने की संभाव्यता को देखकर अनेक अमेरिकी राज्य पर्यटकों के आगमन का अनुमोदन करते हैं‚ परन्तु प्रवासियों का नहीं।

Top
error: Content is protected !!