You are here
Home > Previous Papers > GEOGRAPHY UGC NTA NET JRF PREVIOUS PAPERS IN HINDIयूजीसी नेट/जेआरएफ परीक्षा‚ दिसम्बर- 2012 भूगोल व्याख्या सहित तृतीय प्रश्न-पत्र का हल 0022.

GEOGRAPHY UGC NTA NET JRF PREVIOUS PAPERS IN HINDIयूजीसी नेट/जेआरएफ परीक्षा‚ दिसम्बर- 2012 भूगोल व्याख्या सहित तृतीय प्रश्न-पत्र का हल 0022.

GEOGRAPHY UGC NTA NET JRF PREVIOUS PAPERS IN HINDIयूजीसी नेट/जेआरएफ परीक्षा‚ दिसम्बर- 2012 भूगोल व्याख्या सहित तृतीय प्रश्न-पत्र का हल

1. वर्तमान स्थलाकृति का अधिकांश विस्तार सम्बन्धित है
(a) कैम्ब्रियन-पूर्व महाकल्प से
(b) पुराजीव महाकल्प से
(c) मध्यजीव महाकल्प से
(d) नवजीव महाकल्प से
उत्तर-(d) : नवजीव महाकल्प से वर्तमान स्थलाकृति का अधिकांश विस्तार सम्बन्धित है। नवजीवी महाकल्प के पैलियोसीन कल्प में आल्पस‚ हिमालय तथा एटलस पर्वतों का निर्माण हुआ तथा इसी महाकल्प के पैलियोसीन में गंगा सिन्धु के बेसिन का निर्माण हुआ तथा हिमालय की तीसरी शृंखला शिवालिक की उत्पत्ति हुयी।
2. यदि आप धूप वाली दोपहर को पुलिन पर समुद्र की ओर मुख करके बैठे हो‚ तो स्थानीय पवन
(a) समुद्र समीर प्रभाव के कारण आपकी पीठ से टकराते हुए समुद्र की ओर चलती रहेगी।
(b) समुद्र समीर प्रभाव के कारण समुद्र से आपकी ओर बहेगी।
(c) ह्नास दर प्रभाव के कारण समुद्र से आपकी ओर बहेगी।
(d) भूमि समीर प्रभाव के कारण आपकी पीठ से टकराते हुए समुद्र की ओर चलती रहेगी।
उत्तर-(b) : उपर्युक्त प्रश्न के अनुसार विशेषक उष्मन की क्रिया के चलते जल की तुलना में स्थल जल्दी गर्म होता है। वहाँ ताप अधिक व दाब कम होता है। जबकि सागर में ताप कम दाब अधिक होता है। अत: 12.00 बजे के लगभग सागर से स्थल की ओर सागरीय समीर का बहाव होता है।
3. जल कण जिस तापमान पर संघनित होते हैं‚ वो है
(a) तुलनात्मक आद्रता (b) संघनन बिन्दु
(c) ओस बिन्दु (d) वाष्पीकरण बिन्दु
उत्तर-(c) : जल कण जिस तापमान पर संघनित होते है‚ वह है ओस बिन्दु। आर्द्रता युक्त वायु जब संवहन प्रक्रिया द्वारा ऊपर उठती है। तब ड्राई एडियाबेटिक लेप्स रेट द्वारा संतृप्त होती है‚ तब संतृप्त वायु संघनित होने लगती है। जब तापमान के 00 से ऊपर होने पर संघनन प्रक्रिया होती है तब उस ताप बिन्दु को ‘Dew Point’ कहते है तथा 00 से नीचे के तापमान पर संघनन प्रक्रिया होती है तब यह ताप बिन्दु को ‘फिजिंग प्वांइट’ कहलाता है।
4. निम्नलिखित कथनों की जाँच कीजिए और नीचे दिये
कूटों की सहायता से सही उत्तर का चयन कीजिये:
1. वायुमंडलीय पवन कभी पूर्णतया शुष्क नहीं होती है।
2. जल कण वायुमंडलीय परिमाण का 4 प्रतिशत तक अधिग्रहण कर सकते हैं।
3. वायुमंडल में जल के कण हमेशा अदृश्य रहते हैं।
कूट:
(a) 1 और 2 सही हैं। (b) 2 और 3 सही हैं।
(c) 1 और 3 सही हैं। (d) 1‚ 2 और 3 सही हैं।
उत्तर-(a) : वायुमण्डलीय पवन कभी पूर्णतया शुष्क नहीं होती है एवं जलकण वायुमण्डलीय परिमाण का 4% तक अधिग्रहण कर सकते हैं इस तरह उपरोक्त कथन (1) एवं (2) सही है।
5. निम्नलिखित में यांत्रिक अपक्षय की तुलना में रासायनिक अपक्षय ज्यादा प्रभावपूर्ण होता है:
(a) अर्द्ध-शुष्क क्षेत्र (b) शुष्क क्षेत्र
(c) तटीय क्षेत्र (d) शीत शीतोष्ण क्षेत्र
उत्तर-(d) : यान्त्रिक अपक्षय की तुलना में रासायनिक अपक्षय ज्यादा शीत शीतोष्ण क्षेत्र में ज्यादा प्रभावपूर्ण होता है। सूर्यातप‚ तुषार तथा वायु द्वारा चट्टानों में विघटन होने की क्रिया को ‘यान्त्रिक अपक्षय’ कहा जाता है। वायुमण्डल के निचले स्तर में आक्सीजन‚ कार्बन डाई आक्साइड गैसों तथा जलवाष्प की प्रधानता होती है‚ परन्तु जब तक इनका संयोग नमी या जल से नही होता है‚ (अर्थात जब तक ये शुष्क होते हैं) तब तक अपक्षय की दृष्टि से ये तत्व क्रियाहीन होते परंतु जैसे ही इनका सहयोग जल से होता है‚ ये सक्रिय घोलक साधक हो जाते हैं। इनके संयोग से चट्टानों में रासायनिक‚ परिवर्तन होने लगते है। यह रासायनिक अपक्षय के अन्तर्गत आते हैं।
6. अपवाह तंत्र जो उस क्षेत्र‚ जहाँ कि वो पाया जाता है‚ के ढाँचे से सम्बन्धित नहीं है क्या कहलाता है?
(a) अरीय अपवाह पैटर्न
(b) जालायित अपवाह पैटर्न
(c) अध्यारोपित अपवाह पैटर्न
(d) द्रुमाकृतिक अपवाह पैटर्न
उत्तर-(d) 204 व्याख्या : द्रुमाकृतिक अपवाह पैटर्न को पादपाकार अपवाह प्रतिरूप भी कहा जाता है। इस प्रकार के अपवाह का विकास सपाट तथा चौरस विस्तृत भागों में होता है। ग्रेनाइट शैल वाले भागों में इनका विकास सर्वाधिक होता है। इनका आकार देखने में वृक्ष के तने तथा उसकी शाखाओं के समान दिखाई पड़ता है। पादपाकार अपवाह प्रतिरूप में क्षेत्र की एक प्रमुख जलधारा होती है और उसकी सहायक तथा सहायक की सहायक‚ उपसहायक आदि शाखाएँ सभी दिशाओं से आकर मुख्य जलधारा से मिल जाती है। आरीय अपवाह पैटर्न में जलधाराएँ एक वृत्त के आकार में फैली होती है। इस तरह के अपवाह प्रतिरूप मुख्य रूप से प्रौढ़ तथा घर्षित गुम्वदीय पर्वतों में विकसित होते है। इन गुम्बदों पर नदियों उनकी परिक्रमा करती हुयी प्रवाहित होती है।
7. निम्नलिखित सूत्र :
3361 प्रतिमील समोच्च रेखा को संख्या समोच्च रेखा अंतराल दस • पर आधारित ढलान की परिगणना किसने की है?
(a) वेंटवर्थ (b) रेंज
(c) हेनरी (d) डेविस
उत्तर-(a) :
3361 प्रतिमील समोच्च रेखा को संख्या समोच्च रेखा अंतराल दस • पर आधारित ढलान की परिगणना वेंटवर्थ ने की थी। डेविस ने भौगोलिक अपरदन चक्र की व्याख्या की है।
8. नीचे दो कथन दिए गए हैं‚ एक को अभिकथन (A) और दूसरे को कारण (R) का नाम दिया गया है।
अभिकथन (A) :
तल संतुलन के एजेन्ट के रूप में वायु का कार्य उतना व्यापक नहीं है जितना कि जल का होता है।
कारण (R) : यह विश्व के केवल मरूस्थल क्षेत्रों में प्रभावी होती है जहाँ वर्षा बहुत कम होती है और मृदा के कण उन्मुक्त होते है। उपर्युक्त दो कथनों के संदर्भ में निम्नलिखित में से कौन सा सही है:
(a) (A) और (R) दोनों सत्य हैं और (R)‚ (A) की सही व्याख्या है।
(b) (A) और (R) दोनों सत्य हैं परन्तु (R)‚ (A) की सही व्याख्या नहीं है।
(c) (A) सत्य है‚ लेकिन (R) असत्य है।
(d) (A) असत्य है‚ लेकिन (R) सत्य है।
उत्तर-(a) : तल संतुलन के एजेंट के रूप में वायु का कार्य उतना व्यापक नही है जितना कि जल का होता है। जल वायु को छोड़कर अन्य सभी अपरदन के कारको में किसी न किसी रूप में सम्मिलित रहता है। इस प्रकार कथन सत्य है तथा कारण कथन की व्याख्या भी कर रहा है।
9. चूनापत्थर की कंदराओं के उद्भव का ‘‘दो-चक्रीय सिद्धांत’’ किसने प्रस्तावित किया था?
(a) डेविस (b) स्वीनर्टन
(c) गार्डनर (d) मेलॉट
उत्तर-(a) : चूना पत्थर की कन्दराओं के उद्भव का दो चक्रीय सिद्धांत डेविस ने दिया। चूनापत्थर क्षेत्रों में भूमिगत जल के द्वारा सतह के ऊपर तथा नीचे विभिन्न प्रकार के स्थल रूपों का निर्माण घोलन द्वारा होता है।
10. वो सब प्रक्रियाएँ जो स्थलमण्डल की सतह को सर्वनिष्ठ स्तर तक ले आती हैं सामूहिक रूप से किस नाम से जानी जाती हैं?
(a) तल संतुलन (b) तलावचन
(c) तल्लोचन (d) वृहद् क्षरण
उत्तर-(a) : वे सब प्रक्रियाएँ को स्थलमण्डल की सतह को सर्वनिष्ठ स्तर तक ले आती है‚ सामुहिक रूप से तत्व ‘तल सन्तुलन’ के नाम से जानी जाती है।
11. वायुमंडलीय परतों में से कौन सी परत रेडियो तरंगों को परावर्तित करती है‚ जो कि पृथ्वी से प्रसारित होकर फिर से पृथ्वी की ओर प्रेषित होती है?
(a) मेसोस्फियर (b) आयनमंडल
(c) क्षोभमंडल (d) समतापमंडल
उत्तर-(b) : आयनमण्डल रेडियों तरंगों को परावर्तित करती है‚ जो कि पृथ्वी से प्रसारित होकर फिर पृथ्वी की ओर प्रेषित होती है। 80 किमीÊ से 400 किमीÊ तक के ऊचाई वाले भाग को आयनमण्डल के नाम से जाना जाता है। आयनमण्डल कोई स्वतंत्र मण्डल न होकर तापमण्डल की ही संरचनात्मक उपमेखला है।
12. हेडले के द्वारा प्रस्तावित ‘सिंगल सेल सरकुलेशन’ मॉडल के अनुसार‚ वैश्विक वायुमंडलीय परिसंचरण उत्पन्न करने वाला सर्वाधिक महत्वपूर्ण कारक है:
(a) भूमध्यरेखा पर धंसाव
(b) भूमध्यरेखा तथा ध्रुव के बीच तापमान अंतर
(c) जेट धारा
(d) पृथ्वी का घूर्णन
उत्तर-(b) : हेडले के द्वारा प्रस्तावित ‘सिंगल सेल सर्कुलेशन’ मॉडल के अनुसार‚ वैश्विक वायुमण्डलीय परिसंचरण उत्पन्न करने वाला सर्वाधिक महत्वपूर्ण कारक भूमध्यरेखा तथा धु्रव के बीच तापमान में अंतर है। जार्ज हेडले ने सर्वप्रथम 1735 में घूर्णन करती पृथ्वी पर वायुमण्डलीय परिसंचरण के एककोशिकीय मॉडल का प्रतिपादन किया। हैडले का वायुमण्डल का सामान्य परिसंचरण का मॉडल ‘एकांकी तापीय प्रत्यक्ष कोशिका’ पर आधारित है। इस मॉडल के अनुसार उष्ण कटिबन्धीय भागों में सर्वाधिक सौर्यिक ऊर्जा प्राप्त होती है तथा धु्रवों की ओर निरंतर घटती जाती है। इस तरह हवाएँ सौर्यिक ऊर्जा के अक्षांशीय असंतुलन को दूर करने के लिए प्रवाहित होती है‚ ताकि निम्न अक्षांशों में न तो सौर्यिक ऊर्जा की अधिकता हो और न हीउच्च अक्षांशों में कमी। 205
13. निम्नतम एल्बिडो (श्विती) निम्नलिखित में से किसका हो सकता है?
(a) शीशा/दर्पण (b) उत्तरध्रुवीय में ताजा बर्फ
(c) जोती गई नम मिट्टी (d) घना बादल
उत्तर-(c) : किसी तल द्वारा परिवर्तित विकिरण तथा उस तल द्वारा कुल प्राप्त किए विकिरण के अनुपात को सम्बन्धित तल का एल्बिडो कहते हैं। पृथ्वी का औसत एल्बिडो 30% है। यद्यपि इसकी मात्रा भूमध्यरेखीय क्षेत्रों की अपेक्षा ध्रुवीय क्षेत्रों में एल्बिडो अधिक होती है। एल्बिडो को प्रकाश किरणों के कोण तथा तल की प्रकृति निर्धारित करते हैं। सर्वाधिक एल्बिडो सफेद तथा चिकनी वस्तुओं का पाया जाता है। यही कारण है कि बर्फ‚ बादल तथा सफेद संगमरमर का एल्बिडो सर्वाधिक पाया जाता है।
14. नीचे दो कथन दिए गए हैं‚ एक को अभिकथन (A) और दूसरे को कारण (R) का नाम दिया गया है।
अभिकथन (A) :
भूमध्यरेखा के आसपास हरिकेन नहीं बन सकता है।
कारण (R) : कोरिओलिस बल भूमध्यरेखा पर अधिकतम होता है। उपर्युक्त दो कथनों के संदर्भ में निम्नलिखित में से कौन सा सही है:
(a) (A) और (R) दोनों सत्य हैं और (R)‚ (A) की सही व्याख्या नहीं है।
(b) (A) और (R) दोनों सत्य हैं और (R)‚ (A) की सही व्याख्या है।
(c) (A) सत्य है‚ लेकिन (R) असत्य है।
(d) (A) असत्य है‚ लेकिन (R) सत्य है।
उत्तर-(c) : कई घिरी समदाब रेखाओं वाले विस्तृत उष्ण कटिबन्धीय चक्रवात को हरिकेन कहते है। हरिकेन प्रति घण्टे में 120 किमीÊ की गति से चलते है। हरिकेन‚ आयनरेखाओं के मध्य केवल कुछ भागों में ही उत्पन्न होते है। हरिकेन की समदाब रेखाए अधिक सुडौल तथा वृत्ताकार होती है। केन्द्र से बाहर की ओर वायुदाब तेजी से बढ़ता है‚ जिस कारण दाब प्रवणता अधिक होती है। इसी कारण से हरिकेन प्रचण्ड गति से आगे बढ़ते है। हरिकेन में वर्षा मूसलाधार होती है। कोरिओलिस बल भूमध्यरेखा पर न्यूनतम होता है क्योंकि भूमध्यरेखा पर अपकेन्द्रीय बल के प्रभाव के कारण कोरिओलिस बल का प्रभाव नगण्य हो जाता है।
15. जब सूर्य मकर रेखा के उदग्र चमकता है‚ तो
(a) समस्त विश्व में दिन और रातें एक बराबर होते हैं।
(b) दक्षिण गोलार्ध में रातें दिन की अपेक्षा लम्बी होती हैं।
(c) आर्कटीक क्षेत्र में रातें 24 घंटे के बराबर होती हैं।
(d) ऐन्टार्कटिक क्षेत्र में दिन और रातें 12 घंटे की अवधि के होते हैं।
उत्तर-(c)
16. निम्नलिखित में से कौन सा कथन सही नहीं है?
(a) वाष्पीकरण तापमान के सीधे आनुपातिक होता है।
(b) वाष्पीकरण सागर की तुलना में भूमि पर ज्यादा होता है।
(c) वाष्पीकरण शीत धरातल की तुलना में गर्म धरातल में अधिक होता है।
(d) वायुमंडल में उपलब्ध ऊष्मा की मात्रा को कम करके वाष्पीकरण तापमान कम करता है।
उत्तर-(b) : वाष्पीकरण सागर की तुलना में भूमि पर ज्यादा होता है यह कथन असत्य है। सौर विकिरण द्वारा पृथ्वी के जल को जलवाष्प में परिवर्तित होने की क्रिया को वाष्पीकरण कहते है। जब वायु का तापमान अधिक होता है तथा उसमें उपस्थित आर्द्रता की मात्रा कम होती है तो वाष्पीकरण अधिक होता है। सामान्यत: उष्ण कटिबन्धीय क्षेत्रों में वाष्पीकरण अधिक पाया जाता है क्योंकि इन क्षेत्रों में तापमान अधिक होता है तथा वर्षा की अधिकता के कारण धरातल पर जल की उपलब्धता भी रहती है जो वाष्पीकरण के लिए आवश्यक दशाएँ है।
17. सूची-I को सूची-II के साथ सुमेलित करें और नीचे दिए गए कूटों की सहायता से सही उत्तर का चयन करें:
सूची – I सूची – II
1 उर्ध्वपातन
(सबलिमेशन) i अवशोषित ऊर्जा सतह से निकलने के लिये आवश्यक गति प्रदान करती है। 2 हिमीकरण ii ऊर्जा का निर्मुक्त होना। 3 वाष्पीकरण iii प्रति ग्राम 80 कैलोरी निर्मुक्त करती है। 4 संघनन iv स्थिति बदलने के लिये प्रति ग्राम 680 कैलोरी अवशोषित करती है।
कूट:
(1) (2) (3) (4)
(a) (ii) (iii) (iv) (i)
(b) (i) (iii) (ii) (iv)
(c) (iv) (iii) (i) (ii)
(d) (iii) (ii) (iv) (i)
उत्तर-(c) :
सूची – I सूची – II
उर्ध्वापातन
(सबलिमेशन) स्थिति बदलने के लिये प्रति ग्राम 680 कैलोरी अवशोषित करती है। हिमीकरण प्रति ग्राम 80 कैलोरी निर्मुक्त करती है। वाष्पीकरण अवशोषित ऊर्जा सतह से निकलने के लिये आवश्यक गति प्रदान करती है। संघनन ऊर्जा का निर्मुक्त होना। 206
18. वेलापपर्ती निक्षेपों में शैवाल (या काई) से निकाले पदार्थ होते हैं और अधिकांशत: तरल पंक के रूप में होते हैं जिसे कहते हैं
(a) नीला पंक (b) ऊज (सिंधु पंक)
(c) लाल पंक (d) प्रवाल पंक
उत्तर-(b) : वेलापपर्ती निक्षेपों में शैवाल (या काई) से निकाले गए पदार्थ जो अधिकांशत: तरल पंक के रूप में होते है उन्हें ऊज (सिन्धु पंक) कहते है। ये अधिकांश निक्षेप महीन कणों के पंक होते हैं। स्थलीय निक्षेपों के पदार्थ मुख्य रूप से धरातलीय चट्टानों के विघटन या वियोजन से प्राप्त होते है जिन्हें पवन‚ नदियाँ आदि परिवहन करके महासागरों में लाती है। इन पदार्थों में बजरी‚ रेत‚ पंक ज्वालामुखी आदि कुछ जीवों के अवशेष सम्मिलित किये जाते है। तट से सागर की ओर इस जमाव में पूर्ण श्रेणीकरण पाया जाता है अर्थात तट के पास बड़े व मोटे कण पाये जाते है तथा सागर की ओर इनका क्रम क्रमश: बजरी‚ रेत‚ सिल्ट‚ मृत्तिका तथा पंक के रूप में होता है। इनका रंग नीला‚ पीला तथा लाल होता है।
19. सागर के सतही जल का औसत तापमान होता है
(a) 220C (b) 150C
(c) 26.70C (d) 18.60C
उत्तर-(d) : महासागरीय भागों में तापमान का वितरण सभी जगह समान देखने को नहीं मिलता है। भूमध्य रेखा पर औसत तापमान 260 सेल्शियस तथा 600 अक्षांश पर 10 सेल्शियस देखने को मिलता है। सभी महासागरों का औसत वार्षिक तापमान 630 फारेनहाइट या 18.60 होता है।
20. पारिस्थितिकीय तंत्र के दो संघटक होते हैं जो हैं
(a) पशु एवं पादप (b) वृक्ष तथा खरपतवार
(c) मेंढक तथा मानव (d) अजीव तथा जीव
उत्तर-(d) : सामान्यत: पारिस्थितिक तन्त्र की रचना दो मुख्य संघटकों से होती हैं ये दो संघटक जैविक तथा अजैविक होते है। कुछ विद्वान ऊर्जा को जो कि पारिस्थितिक तन्त्र के संचालन के लिए महत्वपूर्ण होती है‚ पारिस्थितिक तन्त्र का अलग संघटक मानते है।
21. भौगोलिक क्षेत्र में सभी पारिस्थितिकीय तंत्र इकट्ठे ज्यादा बड़ी इकाई बनाते हैं जिसे कहते हैं
(a) समुदाय (b) भूभाग (टेरिटॅरि)
(c) बायोम (d) जीवमण्डल
उत्तर-(c) : जब किसी पारिस्थितिक तन्त्र के समस्त पादपो तथा प्राणियों का सम्मिलित रूप से अध्ययन किया जाता है उसे बायोम कहते है। बायोम के अन्तर्गत प्राय: स्थलीय भाग के समग्र पादप तथा प्राणी समुदायों को ही सम्मिलित किया जाता है‚ क्योंकि सागरीय बायोम का निर्धारण कठिन कार्य होता है।
22. निम्नलिखित में से कौन सी सामुद्रिक जल धाराएँ भारतीय सागर की हैं?
(a) कनारी जलधारा (b) एंटिल्स जलधारा
(c) लेबरोडोर जलधारा (d) एगुलहस जलधारा
उत्तर-(d) : कनारी जलधारा‚ एंटिल्स तथा लेब्राडोर जल धारा अटलांटिक महासागर में प्रवाहित होती है। हिन्द महासागर में दक्षिण विषुवत रेखीय धारा जो पूर्व से पश्चिम की ओर बहती है के पश्चिम में दो भाग हो जाते है। एक भाग अफ्रीका और मेडागास्कर के बीच से होकर गुजरती है जिसे मोजाम्बिक धारा कहते है। दूसरा भाग मेडागास्कर के पूर्व में बहती है जिसे मेडागास्कर धारा कहते है। मेडागास्कर के दक्षिण से ये धाराएँ परस्पर मिलकर अगुलहास धारा कहलाती है। दक्षिण में यह धारा पूर्व की ओर मुड़कर पछुआ पवन प्रवाह से मिल जाती है।
23. ऑस्ट्रेलिया का पश्चिमी तट किस कारण से अधिक लवणता सूचित करता है?
(a) सामुद्रिक जलधाराएँ (b) वायु की दिशा
(c) शुष्क मौसम की स्थिति (d) उपर्युक्त सभी
उत्तर-(c) : आस्ट्रेलिया के पश्चिमी तट पर गर्म जल धारा प्रवाहित होती है जिसकारण तापमान अधिक पाया जाता है तापमान अधिक होने के कारण वाष्पीकरण अधिक मात्रा में होता है जिस कारण लवणता अधिक पायी जाती है।
24. अधिकतम लवणता कहाँ पाई जाती है?
(a) बाल्टिक समुद्र (b) ओखोट्स्क समुद्र
(c) मध्यसागर (d) लाल सागर
उत्तर-(d) : लाल सागर में लवणता की मात्रा 37% से 41% पाया जाता है यह अधिक लवणता वाले सागर के अन्तर्गत आता है। इसके अतिरिक्त फारस की खाड़ी (37% से 38%) तथा भूमध्य सागर
(37% से 39%) अधिक लवणता वाले क्षेत्र है। इन क्षेत्रों में अधिक लवणता का कारण ग्रीष्म ऋतु में शुष्क वायु के प्रभाव से अधिक वाष्पीकरण का होना है। इसके अतिरिक्त इन भागों में किसी बड़ी नदियों द्वारा शुद्ध जल भी इन सागरों में नहीं गिराया जाता है।
25. संपारिस्थितिकी के बारे में कौन सा कथन सही है?
(a) यह वैयक्तिक जातियों का उनके वातावरण के सम्बन्ध में अध्ययन है।
(b) यह जीव समुदाय के जटिल अंत: सम्बन्ध का अध्ययन है।
(c) यह अनिवार्यत: आवास पारिस्थितिकी है।
(d) यह मुख्यत: सामाजिक पारिस्थितिकी है।
उत्तर-(b) : संपारिस्थितिकी जीव समुदाय के जटिल अंत: सम्बन्ध का अध्ययन है।
26. जीवित अथवा मृत जीवों द्वारा निर्मित जैव निक्षेप जो कटक के समान चट्टानी उत्थान बनाते हैं किस नाम से जाने जाते हैं?
(a) प्रवाल (b) गंभीर खड्ड
(c) भित्ति (d) निमग्न द्वीप (गाइऑट)
उत्तर-(c) 207 व्याख्या : जीवित अथवा मृत जीवों द्वारा निर्मित जैव निक्षेप जो कटक के समान चट्टानी उत्थान बनाते है‚ भित्ति के नाम से जाने जाते है। जैसे-एक स्थान पर असंख्य मूंगे एक साथ समूह में रहते है तथा अपने चारों ओर चूने का घोल बनाते है। मूंगा मर जाता है तो उसके ऊपर दूसरा मूंगा अपना खोल बनाने लगता है इस क्रिया के कारण एक लम्बे समय के अन्दर एक विस्तृत भित्ति का निर्माण होता है। महासागरों में गुयॉट या निमग्न द्वीप पर्वत शिखरों की भाँति होते है। गुयॉट का शिखर सपाट होता है। गुयॉट के ऊपर अधिकांशत: प्रवाल का विकास होता है।
27. किस विचारधारा सम्प्रदाय ने सर्वप्रथम संभववाद विकसित किया?
(a) भूगोल का जर्मन सम्प्रदाय
(b) भूगोल का रशियन सम्प्रदाय
(c) भूगोल का फ्रांसिसी सम्प्रदाय
(d) भूगोल का ब्रिटिश सम्प्रदाय
उत्तर-(c) : भूगोल के फ्रांसिसी सम्प्रदाय ने सर्वप्रथम सम्भववाद विकसित किया। ‘लुसियन फ्रेबे’ ने सर्वप्रथम सम्भववाद शब्द दिया। सम्भववादियों के लिए पृथ्वी और उसका प्रभाव नही वरन् मानव का कार्य आरम्भ बिन्दु है‚ जिसमें सबसे अधिक महत्वपूर्ण है मानव के चयन करने की स्वतंत्रता। ब्लाश को सम्भववाद को विकसित करने का श्रेय है। फ्रांस में जीन ब्रूस सम्भववाद के कट्टर समर्थक थे।
28. निम्नलिखित में से कौन निश्चयवाद के सिद्धांत के समर्थक नहीं हैं?
(a) वोल्फगैंग हार्टेक (b) आरÊ हार्टशॉर्न
(c) ओÊ एचÊ केÊ स्पैट (d) उपर्युक्त सभी
उत्तर-(d) : वोल्फगैंग हार्टेक‚ आरÊ हार्टशॉर्न‚ ओÊएचÊकेÊस्पैट निश्चयवाद के समर्थक नही थे। निश्चयवाद के अनुसार इतिहास‚ सभ्यता‚ जीवन शैली और समाज के समूह‚ राष्ट्र की विकास की अवस्थाएँ पूर्ण रूप से अथवा अधिकांश में पर्यावरण के भौतिक तत्वों से नियन्त्रित होती है। निश्चयवाद का समर्थन करने वाले प्रमुख भूगोलवेत्ता निम्न है- स्ट्रेबो इमेन्युअल काण्ट‚ वॉन हम्बोल्ट‚ कार्ल रिटर‚ रेटलेट‚ कुमारी एलेन सेम्पल‚ हटिंग्टन आदि।
29. नगरों के आकार और उनकी श्रेणी के बीच नियमितता पर सर्वप्रथम किसने गौर किया?
(a) जिफ (b) जैफरसन
(c) औरबाश (d) क्रिस्टॉलर
उत्तर-(c) : नगरों के आकार और उनकी श्रेणी के बीच नियमितता पर सर्वप्रथम औरबाश ने गौर किया। श्रेणी‚ आकार‚ नियम किसी प्रदेश में नगरीय बस्तियों का उनके आकार के अनुसार वितरण के प्रतिरूप का सही चित्रण प्रस्तुत करता है। औरबाश ने अपना विचार 1913 में प्रस्तुत किया। मार्क जैफरसन प्राइमेट सिटी की संकल्पना के प्रतिपादक है। क्रिस्ट्रालर ने 1933 में केन्द्र स्थल सिद्धांत का प्रतिपादन किया।
30. भूगोल में आदर्शवाद के समर्थक निम्नलिखित में से कौन हैं?
(a) गुएल्के (b) गिलबर्ट
(c) सैम्युल्स (d) पोकॉक
उत्तर-(a) : भूगोल में आदर्शवाद के समर्थक गुएल्के है। गुएल्के ने भूगोल में आदर्शवादी उपागम का विकास तथा मानवतावादी भूगोल का विकास किया। उन्होंने कहा कि हमने मानव के मस्तिष्क में प्रवेश करने की पद्धति विकसित कर ली। उनके अनुसार मात्रात्मक विधियाँ प्रत्यक्षवाद को समझने के लिए तो उपर्युक्त है परन्तु आदर्शवादी विधि के लिए खतरनाक हो सकती है। उन्होंने कहा कि ऐतिहासिक भूगोलवेत्ताओं को अपनी तकनीक नही बल्कि अपने दर्शन के बारे में सोचने की आवश्यकता है। गुएल्के के अनुसार आदर्शवादी दर्शन की दो स्थितियाँ हैतात्विक
(Motaphysical) दृश्यमान विधि (Phonomonal Approach)
31. यह कथन कि वो पद्धति जिसके द्वारा व्यक्ति उन लोगों जिनकी क्रियाओं को वह स्पष्ट करना चाहता है‚ उनकी सोच के बारे में पुन: विचार कर सकता है। मानव भूगोल में किसके दर्शन का संकेत करता है?
(a) परिघटनावाद (b) आदर्शवाद
(c) अस्तित्ववाद (d) प्रत्यक्षवाद
उत्तर-(b) : प्रश्नगत कथन आदर्शवाद का है। अस्तित्ववाद एक दार्शनिक विचार है जो यह मानता है कि मानव स्वयं अपनी प्रकृति का निर्माता है। यह व्यक्तिगत स्वतंत्रता‚ वैयक्तिक निर्णय और वैयक्तिक वचनबद्धता पर बल देता है। अस्तित्ववाद की केन्द्रीय संकल्पना‚ स्थान का अस्तित्व है।
32. भूगोल की आत्मा एवं उद्देश्य के आमूलचूल रूपान्तरण के लिये निम्नलिखित में से क्या उत्तरदायी है?
(a) उत्तर-आधुनिकवाद
(b) मानवतावाद
(c) संरचनावाद
(d) मात्रीकरण (अथवा परिमाणन)
उत्तर-(d) 208 व्याख्या : भूगोल की आत्मा एवं उद्देश्य के आमूलचूल रूपान्तरण के लिए मात्रीकरण (अथवा परिमाणन) उत्तरदायी है। द्वितीय विश्व युद्ध के बाद भूगोलवेत्ताओं ने विशेषकर विकसित देशों में साहित्यिक भाषा की अपेक्षा गणितीय भाषा को महत्व दिया। इस प्रकार भूगोल में अधिकाधिक गणितीय आँकड़ों‚ सांख्यिकीय विधियों का प्रयोग होने लगा। जिसे मात्रात्मक क्रांति कहा गया। मात्रात्मक क्रान्ति के प्रमुख समर्थक पीटर हैगेट‚ रिचर्ड शोलै तथा डेविड हार्वे थे।
33. वेगनर के अनुसार‚ महाद्वीपीय विस्थापन के लिये निम्नांकित में से कौन सा बल/शक्ति उत्तरदायी है?
(a) ज्वारीय बल (b) संवहन धाराएँ
(c) तनाव-मूलक बल (d) दबाव-मूलक बल
उत्तर-(a) : वेगनर के अनुसार‚ महाद्वीपीय विस्थापन के लिए ज्वारीय बल उत्तरदायी है। वेगनर महोदय ने बताया कि महाद्वीपों का प्रवाह पश्चिम की ओर हुआ था। इसका प्रमुख कारण वेगनर ने सूर्य तथा चन्द्रमा के ज्वारीय बल को बताया है। जब चन्द्रमा की भ्रमण गति तीव्र रही होगी‚ उस समय यह बल और प्रबल रहा होगा। पृथ्वी पश्चिम से पूर्व की ओर घूमती है‚ ज्वारीय रगड़ पृथ्वी के भ्रमण पर ब्रेक का काम करती है। फलस्वरूप महाद्वीपीय भाग परिभ्रमण में पृथ्वी का साथ नही दे पाते हैं तथा पीछे छूट जाते हैं। इस कारण स्थल भाग पश्चिम की तरफ प्रवाहित होने लगते हैं।
34. जनगणना 2011 के अनुसार जनसंख्या का उच्चतम घनत्व किस राज्य/संघ राज्य क्षेत्र ने सूचित किया है?
(a) चन्डीगढ़ (b) पश्चिमी बंगाल
(c) केरल (d) महाराष्ट्र
उत्तर-(a) : 2011 की जनगणना के अनुसार जनसंख्या का उच्चतम घनत्व चण्डीगढ़ राज्य का है। चण्डीगढ़ का घनत्व 9258 है। जबकि पश्चिम बंगाल का 1028‚ केरल का 860 एवं महाराष्ट्र का 365 जनसंख्या घनत्व है।
35. यदि किसी क्षेत्र का आर्थिक भूदृश्य अपने सबसे बड़े शहर की 4.0 लाख की जनसंख्या के साथ केन्द्रीय स्थान तंत्र के ‘परिवहन सिद्धांत’ पर आश्रित है तो‚ अगले क्रम के छोटे शहर की जनसंख्या का आकार निम्नलिखित में से क्या होगा?
(a) 3.0 लाख (b) 2.0 लाख
(c) 1.0 लाख (d) 0.5 लाख
उत्तर-(c) : यदि किसी क्षेत्र का आर्थिक भूदृश्य अपने सबसे बड़े शहर की 4.0 लाख की जनसंख्या के साथ केन्द्रीय स्थान तन्त्र के परिवहन सिद्धांत पर आश्रित है तो‚ अगले क्रम के छोटे शहर की जनसंख्या का आकार 1.0 लाख होगा।
36. क्षेत्रीय व्यवस्था‚ आवास गृहों के प्रकार तथा अधिवास पैटर्न की अवधारणा को सर्वप्रथम सम्मिलित करते हुए अधिवास भूगोल को किसने परिभाषित किया?
(a) मेटजन (b) स्टोन
(c) हंटिंगटन (d) ट्रेवार्था
उत्तर-(a) : क्षेत्रीय व्यवस्था‚ आवास गृहों के प्रकार तथा अधिवास पैटर्न की अवधारणा को सर्वप्रथम सम्मिलित करते हुये अधिवास भूगोल को मेटजन ने परिभाषित किया। हंटिंगटन की प्रमुख पुस्तके निम्न है-
1. दि पल्स आफ एशिया
2. पैलेस्टाइन एण्ड इट्स ट्रांसफारमेशन
3. सभ्यता और जलवायु
4. मानव भूगोल के सिद्धांत आदि
37. छितरेपन (विरलता) से बसे देशों में उद्योगों का विकास धीमा होता है क्योंकि
(a) कुशल श्रम की कमी
(b) कम जनसंख्या उपयुक्त बाजार नहीं प्रदान करती है।
(c) (a) और (b) दोनों।
(d) उद्योगों की तुलना में कृषि ज्यादा विकसित होती है।
उत्तर-(c) : छितरेपन (विरलता) से बसे देशों में उद्योगों का विकास धीमा होता है क्योंकि वहाँ मानव बसाव कम होने के कारण कुशल श्रम की उपलब्धता नही हो पाती है तथा कम जनसंख्या के कारण उत्पाद की मांग भी कम रहती है तथा उपर्युक्त बाजार प्रदान नहीं हो पाता है।
38. निम्नलिखित देशों में से किसमें जनसंख्या का घनत्व सबसे अधिक है?
(a) बंगलादेश (b) पाकिस्तान
(c) श्रीलंका (d) भारत
उत्तर-(a) : प्रश्नगत विकल्पों में बांग्लादेश का जनसंख्या घनत्व सर्वाधिक है देश जनघनत्व बांग्लादेश 1179 श्रीलंका 333 पाकिस्तान 225 भारत 382
39. निम्न आयु समूह में जनसंख्या का आकार उन देशों में बड़ा होता है जहाँ:
(a) जन्मदर उच्च है। (b) जन्मदर निम्न है।
(c) मृत्यु दर उच्च है। (d) मृत्युदर निम्न है।
उत्तर-(a) 209 व्याख्या : निम्न आयु समूह में जनसंख्या का आकार उन देशों में बड़ा होता है जहाँ जन्म दर उच्च होती है। मुख्य रूप से जन्म दर हो किसी जनसंख्या के विभिन्न आयु वर्गो में लोगों के अनुपात को प्रभावित करती है। अधिकांशत: जन्म दर उच्च उन देशों में पायी जाती है‚ जहाँ शिक्षा की कमी‚ रोजगार के साधनों की कमी इत्यादि समस्यायें हैं। विकासशील देशों में ही यह स्थिति प्रधान रूप से पायी जाती है।
40. किन देशों में आयु-लिंग पिरामिड का आधार विस्तृत और शिखर संकीर्ण होता है?
(a) विकसित देश (b) विकासशील देश
(c) अल्प विकसित देश (d) उपर्युक्त में से कोई नहीं
उत्तर-(b) : ‘आयु पिरामिड जनसंख्या’ आयु संरचना के विश्लेषण की एक लोकप्रिय तथा सर्वाधिक प्रचलित विधि है। यह एक आरेखीय विधि है जो ध्Eाी जनसंख्या और पुरुष जनसंख्या की आयु संरचना को प्रदर्शित करती है‚ अत: इसे आयु एवं लिंग पिरामिड के नाम से भी जाना जाता है। विकासशील देशों में आयु-लिंग पिरामिड का आधार विस्तृत और शिखर संकीर्ण होता है। इसका अर्थ यह है कि किशोरों की संख्या सबसे अधिक‚ युवकों की संख्या उससे कम तथा वृद्धों की संख्या सबसे कम है। इससे यह भी संकेत मिलता है निकट भविष्य में विकासशील देशों जैसे भारत‚ चीन‚ इत्यादि में जनसंख्या में तीव्र वृद्धि होगी क्योंकि जब 0 – 14 वर्ष की आयु वर्ग के किशोर एवं किशोरियाँ बड़े होकर प्रजनन की अवस्था में प्रवेश करेंगे तो जनसंख्या में प्राकृतिक रूप से वृद्धि होगी।
41. औद्योगिक दृश्यभूमि के दिये आरेख में बाजार की कौन सी अवस्थिति इष्टतम है?
(a) iii (b) ii
(c) iv (d) i
उत्तर-(b) : औद्योगिक दृश्यभूमि में दिए गए आरेख में बाजार की ii स्थित इष्टतम होगी। i ii iii iv
42. स्थानांतरी खेती के सम्बन्ध में निम्नलिखित सुमेलित युग्मों में से कौन सा सही नहीं है?
(a) लाडांग : इंडोनेशिया
(b) रे : वियतनाम
(c) मिल्पा : मैक्सिको
(d) तामराई : ब्राजील
उत्तर-(d) : स्थानान्तरित कृषि देश झूम भारत कोनूको वेनेजुएला तुग्या म्यांमार कैगिन फिलीपीन्स चेन्ना श्रीलंका तमराई थाइलैण्ड चैतगिनी युगांडा मेसोले जायर तावी मैडागास्कर‚ मालगासी लैदांग मलेशिया
43. ध्रुवीय क्षेत्र छितरेपन से बसे होते हैं क्योंकि
(a) निम्न तापमान के कारण उपज तैयार होने का समय कम होता है।
(b) कोई खनिज संसाधन नहीं होते हैं।
(c) क्षेत्रों को वन बना दिया जाता है।
(d) (b) और (c) दोनों।
उत्तर-(a) : ध्रुवीय क्षेत्र छितरेपन से बसे होते है क्योंकि निम्न तापमान के कारण उपज तैयार होने का समय कम होता है। धु्रवीय क्षेत्र में मानव बसाव न होने का प्रमुख कारण‚ वहाँ की जलवायु का मानव के लिए उपर्युक्त न होना है।
44. अभ्रक का मुख्य उत्पादक कौन सा देश है?
(a) भारत (b) यूÊ एसÊ एÊ
(c) ब्राजील (d) चीन
उत्तर-(a) : अभ्रक का मुख्य उत्पादक देश भारत है। अभ्रक आग्नेय और कायान्तरित शैलों में कई रंगों (सफेद‚ गुलाबी‚ हरा‚ काला) में पाया जाता है। यह पारदर्शक‚ लचीला और ताप विद्युत निरोधक है। भारत में अभ्रक के मुख्य उत्पादक राज्य है- आन्ध्रप्रदेश‚ राजस्थान‚ झारखण्ड।
45. सूची – I को सूची – I I के साथ सुमेलित करें और नीचे दिए गए कूटों की सहायता से सही उत्तर का चयन करें:
सूची – I
(क्षेत्र) सूची – II
(आर्थिक गतिविधि)
1 प्राथमिक क्षेत्र i कारोबारी संगठन 2 गौण या द्वितीयक क्षेत्र ii खेती 3 तृतीय क्षेत्र iii हस्तकरघा वध्Eा 4 चतुर्थ महाकल्प iv परिवहन सेवाएँ लागत रेखा उत्पादन रेखा 210
कूट:
(1) (2) (3) (4)
(a) (i) (ii) (iii) (iv)
(b) (ii) (iii) (iv) (i)
(c) (ii) (iii) (i) (iv)
(d) (iv) (iii) (ii) (i)
उत्तर-(b) : क्षेत्र आर्थिक गतिविधियाँ प्राथमिक क्षेत्र खेती गौण या द्वितीयक क्षेत्र हस्तकरघा वस्त्र तृतीय क्षेत्र परिवहन सेवाएँ चतुर्थ महाकल्प कारोबारी संगठन
46. सूची – I को सूची – II के साथ सुमेलित करें और नीचे दिए गए कूटों की सहायता से सही उत्तर का चयन करें:
सूची – I
(औद्योगिक गतिविधियाँ) सूची – II
(स्पष्टीकरण)
1 प्रक्रमण (प्रोसेसिंग गतिविधियाँ) i इनपुट्स (आगतें) प्रक्रमित वस्तुएँ हैं। 2 विरचनाकारी गतिविधियाँ ii मुख्य आगतें कच्चा माल है। 3 समाकलनात्मक गतिविधियाँ iii न तो इनपुट्स न आऊटपुट्स से जुड़ी है। 4 प्रशासनिक गतिविधियाँ iv इनपुट्स प्रक्रमित वस्तुएँ हैं जिनमें थोड़ा बदलाव आ रहा है।
कूट:
(1) (2) (3) (4)
(a) (i) (ii) (iii) (iv)
(b) (ii) (i) (iv) (iii)
(c) (i) (iv) (iii) (ii)
(d) (iii) (ii) (iv) (i)
उत्तर-(b) :
औद्योगिक गतिविधियाँ स्पष्टीकरण
1. प्रक्रमण (प्रोसेसिंग) गतिविधियाँ – मुख्य आगतें कच्चा माल है
2. विरचनाकारी गतिविधियाँ – इनपुट्स (आगतें) प्रक्रमित वस्तुएँ हैं।
3. समाकलनात्मक गतिविधियाँ – इनपुट्स प्रक्रमित वस्तुएँ हैं जिनमें थोड़ा बदलाव आ रहा है।
4. प्रशासनिक गतिविधियाँ – न तो इनपुट्स और न ही आऊटपुट्स से जुड़ी होती है
47. प्रति इकाई कृषि भूमि के सन्दर्भ में व्यक्त व्यक्तियों की संख्या कहलाती है
(a) आर्थिक घनत्व (b) कायिक घनत्व
(c) गणितीय घनत्व (d) कृषिक घनत्व
उत्तर-(b) :
में कृषि संलग्न या कृषि पर आधारित जनसंख्या कृषिक घनत्व • कुल कृषि योग्य भूमि प्रदेश को कुल जनसंख्या कायिक घनत्व • प्रदेश को कुल कâृषि योग्य भूमि देश को कुल जनसंख्या आथिर्व्ाâ घनत्व • देश के सम्पूर्ण सं साधनों का मूल्य (एकल ईकाई में ) प्रदेश को कुल जनसंख्या गणितीय घनत्व • प्रदेश का कुल क्षेत्र
48. पादप तथा पशु जीवन के भौतिक निर्धारकों को मिलाकर वैश्विक पैमाने पर प्राकृतिक क्षेत्रों की शानदार योजना किसने प्रस्तावित की?
(a) अनस्टेड (b) हर्बर्टसन
(c) विट्टलसे (d) डिकिंसन
उत्तर-(b) : पादप तथा पशु जीवन के भौतिक निर्धारकों को मिलाकर वैश्विक पैमाने पर प्राकृतिक क्षेत्रों की शानदार योजना हर्बर्टसन ने प्रस्तावित की। हर्बर्टसन ने सर्वप्रथम विश्व को प्राकृतिक प्रदेशों में विभाजित किया।
49. ब्रूनीस ने मानव भूगोल के अनिवार्य तथ्य के रूप में किसका जिक्र नहीं किया है?
(a) मृदा के अनुत्पादक उपयोग के तथ्य
(b) पादप तथा पशु विजय के तत्थ
(c) विनाशकारी शोषण के तथ्य
(d) विनिर्माण के तथ्य
उत्तर-(d) : ब्रूनीस ने मानव भूगोल के अनिवार्य तथ्य के रूप में विनिर्माण के तथ्य का जिक्र नही किया है।
50. निम्नलिखित कारकों में से मतदान व्यवहार को कौन सा कारक प्रभावित नहीं कर रहा है?
(a) धर्म (b) जाति
(c) साक्षरता का उच्च स्तर (d) भू-जोत का आकार
उत्तर-(d) : भारत एक लोकतंत्रात्मक गणराज्य है यहाँ पर सार्वभौमिक मताधिकार की व्यवस्था है। अनुच्छेद 326 के तहत लोकसभा तथा विधानसभा के सदस्यों का चुनाव वयस्क मताधिकार के माध्यम से होता है। पहले मत देने की आयु 21 वर्ष थी। 61वें संवैधानिक संशोधन द्वारा 1989 ई0 में घटाकर 18 वर्ष कर दी गयी। मतदान व्यवहार को धर्म‚ जाति‚ शिक्षा‚ विकास आदि प्रभावित करते हैं। जबकि भूजोत का आकार मतदान व्यवहार को प्रभावित नही करता।
51. सामाजिक-कल्याण का श्रेष्ठ सूचक निम्नलिखित में से कौन सा है?
(a) जनसंख्या संवृद्धि दर (b) साक्षरता दर
(c) जीवन प्रत्याशा (d) प्रति-व्यक्ति आय
उत्तर-(c) 211 व्याख्या : विकास के आर्थिक कारक विकास की सही तस्वीर प्रस्तुत नही करते है। उदाहरण के लिए मध्य पूर्व के देशों में खनिज तेल से हुई आमदनी से प्रति व्यक्ति आय अधिक है परन्तु ये देश समाजिक रूप से पिछड़े हुये है। अत: आर्थिक संकेतकों के साथ विकास के सामाजिक संकेतक भी महत्वपूर्ण है। सबसे पहले 1979 में मौरिस डेविस ने सामाजिक संकेतकों को आर्थिक विकास के निर्धारण में सूचकांक के रूप में प्रयोग किया। इसमें तीन संकेतक शामिल है-
1. शिशु मृत्यु दर
2. जीवन प्रत्याशा
3. 15 वर्ष की उम्र में साक्षरता
52. ‘रिमलैंड सिद्धांत’ की अवधारणा निम्नलिखित में से किसने प्रस्तुत की थी?
(a) एÊ रैटजल (b) ओÊ एचÊ केÊ स्पैट
(c) स्पाइकमैन (d) ग्रिफिथ टेलर
उत्तर-(c) : ‘रिमलैण्ड सिद्धांत’ की अवधारणा स्पाइकमैन ने प्रस्तुत की। स्पाइकमैन ने 1944 में ‘शान्ति का भूगोल’ नामक पुस्तक लिखी जिसमें उन्होंने ‘रिमलैण्ड के सिद्धांत’ को प्रस्तुत किया। उन्होंने मैकिण्डर के विचारों के विपरीत विचार प्रकट किया तथा बताया कि हृदयस्थल तथा रिमलैण्ड का सापेक्षिक महत्व है। हृदयस्थल के इर्द –
गिर्द रिमलैण्ड है जो अंशत: महाद्विपीय तथा अंशत: महासागरीय है। स्पाइकमैन की मान्यता है कि हृदयस्थल की तुलना में रिमलैण्ड अधिक महत्वपूर्ण है।
53. राजनीतिक भूगोल में ‘हार्टलैण्ड’ का सिद्धांत किसने प्रतिपादित किया?
(a) मैकिण्डर (b) स्पाइकमैन
(c) स्मिथ (d) रैज
उत्तर-(a) : राजनीतिक भूगोल में हार्टलैण्ड का सिद्धांत मैकिण्डर ने प्रतिपादित किया। मैकिण्डर ने सर्वप्रथम 1904 में अपने निबन्घ ‘इतिहास की भौगोलिक धुरी’ में इसे प्रस्तुत किया। मैकिण्डर ने एशिया‚ यूरोप और अफ्रीका में केवल उत्तरी भाग को मिलाकर विश्व द्वीप की संज्ञा दी। विश्व द्वीप के आन्तरिक आर्कटिक जल प्रवाह के क्षेत्र जो तीन और से पर्वतीय शृंखलाओं तथा उत्तर की ओर हमेशा बर्फ से ढके रहने वाले आर्कटिक सागर से घिरे है‚ को मैकिण्डर ने धुरी क्षेत्र नाम दिया। बाद में उन्होंने धुरी का नाम बदलकर हृदय क्षेत्र रख दिया।
54. कार्यात्मक क्षेत्र किसके आधार पर निरूपित किया जाता है?
(a) प्रशासनिक परिसीमाएँ (b) अंत:क्रियाओं का क्षेत्र
(c) सममान रेखाएँ (d) भौतिक प्रभाग
उत्तर-(b) : क्षेत्रीय स्वरूप में विभिन्नता होते हुये भी जब कोई क्षेत्र या प्रदेश किसी एक केन्द्र से कार्यात्मक अन्तर्सम्बन्धों में घनिष्ठ रूप से जुड़ा होता है तो उसे कार्यात्मक प्रदेश कहते हैं। कार्यात्मक क्षेत्र अंत:क्रियाओं के आधार पर निरूपित किए जाते हैं।
55. भारत में शहरों के कार्यात्मक वर्गीकरण के लिये जनगणना में त्रिआधारी आरेख किसने प्रस्तुत किया?
(a) पीÊ पद्मानाभा (b) एÊ आरÊ नंदा
(c) अशोक मित्रा (d) चन्द्रशेखर
उत्तर-(c) : भारत में शहरों के कार्यात्मक वर्गीकरण के लिए जनगणना में त्रिआधारी आरेख अशोक मित्रा ने प्रस्तुत किया। सी एस चन्द्रशेखर ने भारत को 13 स्थल प्रदेशों में विभक्त किया उनका प्रादेशीकरण द्वि-स्तरीय था। दूसरे स्तर पर 35 मध्य स्तरीय प्रदेश थे। ऐसे प्रदेशों को उन्होंने नियोजन प्रदेशों की संज्ञा दी।
56. सूची – I को सूची – I I के साथ सुमेलित करें और नीचे दिए गए कूटों से सही उत्तर का चयन करें:
सूची – I
(लेखक) सूची – II
(पुस्तक)
1 डब्ल्यूÊ क्रिस्टॉलर i रूरल सैट्टलमेंट एण्ड लैण्ड यूज 2 वीÊ एलÊ एसÊ प्रकाश रॉय ii मेट्रोपोलिटन हैदराबाद एण्ड इट्स रीजन 3 मंजूर आलम एवं डब्लुÊ खान iii रीजनल प्लैनिंग 4 एमÊ किसोल्म iv सेन्ट्रल प्लेसिस इन साऊथर्न जर्मनी
कूट:
(1) (2) (3) (4)
(a) (i) (iii) (iv) (ii)
(b) (ii) (i) (iii) (iv)
(c) (iv) (iii) (ii) (i)
(d) (i) (ii) (iii) (iv)
उत्तर-(c) :
लेखक पुस्तक
1. डब्ल्यूÊ क्रिस्टॉलर – सेन्ट्रल प्लेसिस इन साऊथर्न जर्मनी
2. वीÊ एलÊ एसÊ प्रकाश रॉय – रीजनल प्लैनिंग
3. मंजूर आलम एवं डब्लुÊ खान – मेट्रोपोलिटन हैदराबाद एण्ड इट्स रीजन
4. एमÊ किसोल्म – रूरल सैट्टलमेंट एण्ड लैण्ड यूज
57. ‘ग्रोथ पोल एण्ड ग्रोथ सेंटरस् फोर रीजनल इकोनोमिक डेवलपमेंट इन इंडिया’ नामक पुस्तक के लेखक कौन हैं?
(a) सेन एवं वनमाली
(b) सदास्युक एण्ड सेनगुप्ता
(c) मिश्रा‚ राव एवं सुन्दरम्
(d) राव एवं सुन्दम्
उत्तर-(c) 212 व्याख्या : ‘ग्रोथ पोल एण्ड ग्रोथ सेंटरस् फोर रीजनल इकोनोमिक डेवलपमेंट इन इंडिया’ नामक पुस्तक मिश्रा‚ राव एवं सुन्दरम् द्वारा लिखी गयी है। भारत में प्रकाश राव पहले भूगोलविद थे जिन्होंने वर्ष 1949 में देश को नियोजन की दृष्टि से प्रदेशों के महत्व को सर्वप्रथम बताया था।
58. जनगणना के रिकॉर्ड के अनुसार‚ वर्ष 2001 और वर्ष 2011 के बीच के काल के दौरान जनसंख्या की उच्चतम दशकीय वृद्धि किस राज्य में सूचित की गई?
(a) बिहार (b) उत्तर प्रदेश
(c) राजस्थान (d) अरूणाचल प्रदेश
उत्तर-(d) : जनगणना 2011 के अनुसार भारत की दशकी वृद्धि दर 17.64 प्रतिशत थी। राज्य दशकी वृद्धि दर %
1. अरूणांचल प्रदेश 25.92%
2. बिहार 25.07%
3. राजस्थान 21.44%
4. उत्तर प्रदेश 20.09%
59. सूची – I को सूची – I I के साथ सुमेलित करें और नीचे दिए गए कूटों की सहायता से सही उत्तर का चयन करें:
सूची – I
(जलवायु का प्रकार) सूची – II
(क्षेत्र)
1 Aw i कर्नाटक का वर्षा छायांकित मंडल 2 Amw ii थार मरूस्थल 3 BShw iii पÊ बंगाल एवं बिहार 4 BWhw iv मलाबार तट
कूट:
(1) (2) (3) (4)
(a) (iii) (iv) (i) (ii)
(b) (iii) (i) (iv) (ii)
(c) (ii) (i) (iv) (iii)
(d) (ii) (iv) (i) (iii)
उत्तर-(a) :
जलवायु का प्रकार क्षेत्र
(a) Aw – पं. बंगाल एवं बिहार
(b) Amw – मलाबार तट
(c) BShw – कर्नाटक का वर्षा छायांकित मंडल
(d) BWhw – थार मरूस्थल
60. निम्नलिखित नदियों में से कौन सी नदी डेल्टा नहीं बनाती है?
(a) महानदी (b) गोदावरी
(c) ताप्ती (d) गंगा
उत्तर-(c) : ताप्ती नदी डेल्टा नही बनाती है क्योंकि वह भ्रंश घाटी से होकर प्रवाहित होती है। भ्रंश घाटी से प्रवाहित होने के कारण इसमें मलवा का अभाव पाया जाता है। पश्चिम की ओर प्रवाहित होने वाली ताप्ती नदी का उद्भव बेतुल जनपद में मुल्ताई के पास सतपुड़ा श्रेणी से होता है। यह 724 किमीÊ लम्बी है। ताप्ती नदी महाराष्ट्र‚ गुजरात तथा मध्यप्रदेश राज्यों से होकर गुजरती है। काकरापारा और उकाई परियोजनाओं द्वारा इसके जल का उपयोग किया जा रहा है।
61. कौन सी नदी हिमाचल प्रदेश के रास्ते से होकर नहीं बहती है?
(a) झेलम (b) ब्यास
(c) चेनाब (d) रावी
उत्तर-(a) : झेलम हिमाचल प्रदेश के रास्ते से होकर नही बहती है। झेलम सिन्धु की प्रमुख सहायक नदी हैं यह शेषनाम झील से निकलकर वूलर झील से होती हुई पाकिस्तान सीमा के पास वासमंगल के निकट एक गहरा महाखड्ड बनाती है। कश्मीर में यह परिवहन तथा व्यापार के लिए अति उपयोगी है।
62. सूची – I को सूची – I I के साथ सुमेलित करें और नीचे दिए गए कूटों की सहायता से सही उत्तर का चयन कीजिये:
सूची – I
(नदी) सूची – II
(उनकी सहायक नदियाँ)
1 कृष्णा i चम्बल 2 ब्रह्मपुत्र ii इन्द्रावती 3 गोदावरी iii तीस्ता 4 यमुना iv भीमा
कूट:
(1) (2) (3) (4)
(a) (iv) (iii) (ii) (i)
(b) (iii) (iv) (ii) (i)
(c) (iv) (iii) (i) (ii)
(d) (i) (iv) (iii) (ii)
उत्तर-(a) :
नदी उनकी सहायक नदियाँ
1. कृष्णा – भीमा
2. ब्रह्मपुत्र – तीस्ता
3. गोदावरी – इन्द्रावती
4. यमुना – चम्बल 213
63. सूची-I को सूची-II के साथ सुमेलित करें और नीचे दिए गए कूटों की सहायता से सही उत्तर का चयन करें:
सूची – I
(मृदा) सूची – II
(राज्य)
1 जलोढ़ i राजस्थान 2 काली मिट्टी (रेगर) ii उत्तर प्रदेश 3 मरूस्थल iii महाराष्ट्र 4 लाल iv मेघालय
कूट:
(1) (2) (3) (4)
(a) (i) (ii) (iii) (iv)
(b) (ii) (iii) (iv) (i)
(c) (ii) (iii) (i) (iv)
(d) (iv) (ii) (iii) (i)
उत्तर-(c) :
सूची – I सूची – II
1. जलोढ़ उत्तर प्रदेश
2. काली मिट्टी महाराष्ट्र
3. मरूस्थल राजस्थान
4. लाल मेघालय
64. कौन से राज्य में जनवरी के महीने में निम्नतम सामान्य तापमान दर्ज किया जाता है?
(a) बीकानेर (b) बंगलौर
(c) जैसलमेर (d) फिरोजपुर
उत्तर-(d) : राजस्थान के बीकानेर एवं जैसलमेर का तापमान जनवरी महीने में तापामन 100 से – 150 सेल्सियश के बीच रहता है। फिरोजपुर (पंजाब) का जनवरी महीने का तापमान 100 से 150 के बीच रहता है। बंगलौर (कर्नाटक) का जनवरी महीने का तापमान 200 सेल्सियस से 250 सेल्सियस के बीच रहता है। परन्तु पश्चिमी विक्षोभ के कारण तापमान जनवरी महीने में अधिक गिरा रहता है।
65. सूची-I को सूची-II के साथ सुमेलित करें और नीचे दिए गए कूटों की सहायता से सही उत्तर का चयन कीजिये:
सूची-I
(दर्रा) सूची-II
(राज्य)
1 शिपकिला i अरूणाचल प्रदेश 2 नीति दर्रा ii हिमाचल प्रदेश 3 नाथुला iii उत्तराखण्ड 4 बोमडिला iv सिक्किम
कूट:
(1) (2) (3) (4)
(a) (ii) (iii) (iv) (i)
(b) (ii) (iii) (i) (iv)
(c) (iv) (ii) (i) (iii)
(d) (iv) (ii) (iii) (i)
उत्तर-(a) :
दर्रा राज्य
1. शिपकीला हिमाचल प्रदेश
2. नीति दर्रा उत्तराखण्ड
3. नाथुला सिक्किम
4. बोमडिला अरूणाचल
66. अनुसूचित जनजातियों का निम्नतम प्रतिशत निम्नलिखित में से किस राज्य में है?
(a) अरूणाचल प्रदेश (b) मणिपुर
(c) मिजोरम (d) नागालैंड
उत्तर-(c) : अनुसूचित जनजातियाँ का निम्नतम प्रतिशत मिजोरम राज्य में है। जबकि अनुसूचित जाति की सर्वाधिक जनसंख्या वाला राज्य/केन्द्रशासित प्रदेश उत्तर प्रदेश है।
67. छोटानागपुर पठार का उत्तर पूर्वी छोर कौन सी पहाड़ियों से बना है?
(a) राजमहल पहाड़ियाँ (b) मिकिर पहाड़ियाँ
(c) पारसनाथ पहाड़ियाँ (d) जावडी पहाड़ियाँ
उत्तर-(a) : छोटानागपुर पठार का उत्तर-पूर्वी छोर राजमहल की पहाड़ियों से बना है। यह पठार झारखण्ड के पलामू‚ धनबाद‚ गया‚ हजारीबाग व राँची जिला में विस्तृत है। महानदी सोन‚ स्वर्णरेखा व दामोदर नदी पठार की प्रमुख नदी है महानदी इसकी दक्षिणी सीमा बनाते हुए दक्षिण पूर्व दिशा में प्रवाहित होती है। दामोदर नदी के उत्तर में हजारीबाग तथा कोडरमा का पठार तथा दक्षिण में राँची का पठार विस्तृत है। यह पठार भारत का खनिज भण्डार कहलाता है। इसे भारत का रूर प्रदेश भी कहते है।
68. निम्नलिखित कथनों पर विचार करें और नीचे दिये कूटों से सही उत्तर का चयन करें:
1. प्रतिनिधि भिन्न में अंश हमेशा एक होता है।
2. प्रतिनिधि भिन्न के पैमाने में‚ हर की इकाई हमेशा अंश की इकाई के समान होती है।
3. मानचित्र पर पैमाना दर्शाने के लिये R.F. उपयुक्त तकनीक नहीं है।
4. स्टेटमेंट स्केल‚ उदाहरण के लिये‚ 1 सेमी से 1 किमी‚ मानचित्र पर उपयुक्त पैमाना है।
कूट:
(a) 1‚ 2 और 3 सही है। (b) 1‚ 3 और 4 सही है।
(c) 2‚ 3 और 4 सही है। (d) 1‚ 2 और 4 सही है।
उत्तर-(d) : प्रतिनिधि भिन्न में अंश हमेशा 1 होते हैं तथा प्रतिनिधि भिन्न के पैमाने में हर की इकाई हमेशा अंश के इकाई के समान होती है और स्टेटमेंट स्केल उदाहरण के लिए 1 से.मी. से 1 कि.मी.
मानचित्र पर उपयुक्त पैमाना है और मानचित्र पर पैमाना दर्शाने के लिए R.F. उपयुक्त तकनीक है। 214
69. यदि मानचित्र का प्रतिनिधि प्रभाग (रिप्रेसेंटेटिव फ्रैक्शन) 1/5000 है जिसे तीन गुना कम किया गया है‚ तो छोटे किये गये मानचित्र के लिये कौन सा R.F.
सही है?
(a) 1/2,500 (b) 1/1,000
(c) 1/15,000 (d) 1/25,000
उत्तर-(c) : मापक को जितना गुना कम करना होता है उस संख्या से मापक में के हर में गुणा कर देते है। 1/5000 का 3 गुना कम • 5000 × 3 • 15000
70. निम्नलिखित कथनों पर विचार करें और नीचे दिये कूटों से सही उत्तर का चयन करें:
1. भारत में नेशनल नेचुरल रिसोर्सिस मैनेजमेंट सिस्टम (एनÊ एनÊ आरÊ एमÊ एसÊ) का आधार आईÊ आरÊ एसÊ है।
2. भारत में पृथ्वी ऑब्जर्वेशन की विकासात्मक तथा परिचालनात्मक जिम्मेदारियों का नेशनल रिमोट सेसिंग एजेंसी (एनÊ आरÊ एसÊ एÊ) के द्वारा निरीक्षण किया जाता हैं।
(a) सिर्फ 1 सही है।
(b) सिर्फ 2 सही है।
(c) 1 और 2 दोनों सही है।
(d) न 1 और न ही 2 सही हैं।
उत्तर-(a) : भारत में नेशनल नेचुरल रिसोर्स मैनेजमेंट सिस्टम
(एन.एन.आर. एम.एस.) का आधार आई.आर.एस. है। ध्यातव्य है कि राष्ट्रीय प्राकृतिक संसाधन प्रणाली की स्थापना 1983 में योजना आयोग भारत सरकार के संरक्षण में की गई थी।
71. जनसंख्या वितरण दर्शाने के लिये उपयोग किये जाने वाली स्टेन-डे-गियर की पद्धति के संदर्भ में निम्नलिखित में से कौन सा कथन सही है?
(a) ग्रामीण जनसंख्या पिंड विधि द्वारा दर्शाई जाती है।
(b) नगरीय जनसंख्या बिन्दु पद्धति द्वारा दर्शाई जाती है।
(c) स्फयरस् (क्षेत्र) दर्शाने के लिये पैमाने के घन वर्गों का उपयोग किया जाता है।
(d) स्फेयरस् मानचित्र पर ज्यादा बड़ा स्थान घेरते हैं।
उत्तर-(c) : जनसंख्या वितरण दर्शाने के लिए उपयोग किए जाने वाली स्टेन-डे-गियर पद्धति के सन्दर्भ में स्फेयरस (क्षेत्र) दर्शाने के लिए पैमाने के घन वर्गों का उपयोग किया जाता है।
72. किसानों की जोत के आकार के आधार पर उनकी आय के असमान वितरण के मापन के लिये कौन सी माप विधि का उपयोग किया जाता है?
(a) मानक विचलन (b) विचरण गुणांक
(c) गिनी सूचकांक (d) सहसम्बन्ध गुणांक
उत्तर-(c) : किसानों की जोत के आकार के आधार पर उनकी आय के असमान वितरण के मापन के लिए गिनी सूचकांक विधि का उपयोग किया जाता है। सहसम्बन्ध गुणांक सहसंबन्ध की मात्रा तथा दिशा का बोध कराता है। सह सम्बन्ध गुणांक + तथा -1 के मध्य का कोई अंक होता है। जब सह सम्बन्ध गुणांक का मान शून्य होता है तो दोनों चरों के बीच सहसम्बन्ध नही पाया जाता है।
73. निम्नलिखित कथनों पर विचार करें और नीचे दिये कूटों से सही उत्तर का चयन करें:
1. यादृच्छिक प्रतिचयन को संभाव्यता प्रतिचयन भी कहा जाता है।
2. यादृच्छिक प्रतिचयन यादृच्छिक सारिणी की सहायता से किया जाता है।
3. भूदृश्य तत्व सामान्य तौर पर यो ही बिखरा दिये जाते हैं।
(a) 1 और 2 सही हैं। (b) 2 और 3 सही हैं।
(c) 1 और 3 सही हैं। (d) 1‚ 2 और 3 सही हैं।
उत्तर-(a) : भूदृश्य तत्व सामान्य तौर पर यों ही बिखरा दिये जाते। यह कथन असत्य है। जबकि शेष अन्य कथन सत्य है।
74. सूची-I को सूची-II के साथ सुमेलित करें और नीचे दिए गए कूटों की सहायता से सही उत्तर का चयन करें:
सूची-I
(मानचित्रण विधि) सूची-II s
1 कोरोक्रोमैटिक i समोच्च रेखा 2 वर्णप्रतीकी ii प्रशासनिक मानचित्र 3 सममान रेखा iii अक्षरों का उपयोग जैसे आर • राइस‚ डब्ल्यू • व्हीट 4 वर्णमात्री iv जनसंख्या का घनत्व
कूट:
(1) (2) (3) (4)
(a) (ii) (iii) (iv) (i)
(b) (ii) (iii) (i) (iv)
(c) (iii) (ii) (iv) (i)
(d) (iii) (ii) (i) (iv)
उत्तर-(b) :
मानचित्रण विधि मानचित्र
1. कोरोक्रोमैटिक – प्रशासनिक मानचित्र
2. वर्णप्रतीकी – अक्षरों का उपयोग जैसे आर • राइस‚ डब्ल्यू • व्हीट
3. सममान रेखा – समोच्च रेखा
4. वर्णमात्री – जनसंख्या का घनत्व
75. समीपतम पड़ोस सूचकांक के अनुसार‚ पूर्ण एकरूप अधिवास वितरण के लिये अधिकतम मान क्या होगा?
(a) 0.00 (b) 2.15
(c) 1.55 (d) 2.89
उत्तर-(b) : समीपतम पड़ोस सूचकांक के अनुसार पूर्ण एकरूप अधिवास वितरण के लिए अधिकतम मान 2.15 होगा।

Top
error: Content is protected !!