You are here
Home > Previous Papers > GEOGRAPHY UGC NTA NET JRF PREVIOUS PAPERS IN HINDIयूजीसी नेट/जेआरएफ परीक्षा‚ जून- 2014 भूगोल व्याख्या सहित तृतीय प्रश्न-पत्र का हल 0016.

GEOGRAPHY UGC NTA NET JRF PREVIOUS PAPERS IN HINDIयूजीसी नेट/जेआरएफ परीक्षा‚ जून- 2014 भूगोल व्याख्या सहित तृतीय प्रश्न-पत्र का हल 0016.

GEOGRAPHY UGC NTA NET JRF PREVIOUS PAPERS IN HINDIयूजीसी नेट/जेआरएफ परीक्षा‚ जून- 2014 भूगोल व्याख्या सहित तृतीय प्रश्न-पत्र का हल

1. पेडीमेन्ट रचना का पार्श्वीैंय समतलन सिद्धान्त किसके द्वारा प्रतिपादित किया गया है?
(a) लॉसन (b) डेविस
(c) गिलबर्ट (d) मैकगी
उत्तर-(c) : पेडीमेन्ट रचना का पार्श्वीैंय समतलन सिद्धान्त गिलबर्ट द्वारा प्रतिपादित किया गया है। इसके साथ ही गिलबर्ट ने ढाल एवं प्रक्रम संकल्पनाओं में 1909 में एकल प्रक्रम संकल्पना से सम्बन्धित अपना शोध-पत्र प्रस्तुत किया। लॉसन ने भी वर्ष 1932 में ढाल प्रक्रम संकल्पना में एकल प्रक्रम संकल्पना से सम्बन्धित सिद्धान्त प्रस्तुत किया था। अमेरिकी विद्वान विलियम मोरिस डेविस ने भौगोलिक अपरदन चक्र से सम्बन्धित संकल्पना 1899 में प्रस्तुत की थी। डेविस ने बताया कि ‘‘भौगोलिक चक्र समय की वह अवधि है जिसके अन्तर्गत एक अत्यिधिक भूखण्ड अपरदन प्रक्रम द्वारा प्रभावित होकर एक आकृतिविहीन समतल मैदान में बदला जाता है।’’
2. सूची-I को सूची- II के साथ सुमेलित करें और नीचे
कूटों से सही उत्तर का चयन करें:
सूची-I सूची-II
(पुस्तकें) (लेखक)
a. जियोमॉरफोलोजी i. वुडरिज एवं मॉर्गन
b. असेस इन जियोमॉरफोलोजी ii. स्ट्राह्लर
c. फिजीकल जिओग्राफी iii. लोबेक
d. एन आऊटलाइन ऑफ iv. ड्यूरी जियोमॉरफोलोजी
कूट:
a b c d a b c d
(a) iii iv ii i (b) i iv ii iii
(c) iii ii iv i (d) iv iii i ii
उत्तर-(a) :
A. जियोमॉरफोलोजी 1. लोबेक
B. असेस इन जियोमॉरफोलोजी 2. ड्यूरी
C. फिजीकल जियोग्राफी 3. स्ट्राह्लर
D. एन आऊटलाइन ऑफ 4. वुडरिज एवं मॉर्गन जियोमॉरफोलोजी
3. निम्नलिखित में से कौन सा दृढ़ रूप से अनुमानित भ्रंश सक्रिय कगार है?
(a) भ्रंश के पार अध्यारोपित अपवाह
(b) शैल प्रतिरोध और स्थलाकृतिक रूपों के बीच दुर्बल सहसम्बन्ध
(c) बारम्बार तीव्र भूकम्प
(d) कगार के सहारे अभिनिर्धारित वास्तविक भ्रंश समतल
उत्तर-(a) : भ्रंश के पार अध्यारोपित अपवाह दृढ़ रूप से अनुमानित भं्रश का सक्रिय कगार है। भ्रंश वह है जिसमें एक ओर की शिलाएँ अपने मूल स्थान से अपेक्षाकृत नीचे की ओर चली जाती हैं ऐसा भं्रश अनुक्रम भं्रश कहलाता है। भ्रंश के अन्तर्गत एक ओर की शिलाएँ दूसरी ओर की शिलाओं की अपेक्षा नीचे या ऊपर चली जाती है।
4. झीलमाला ठेठ रूप से किसकी विशेषताएँ हैं?
(a) लावा मैदान (b) गिरिपद (पीडमॉन्ट)
(c) मरुस्थल (d) हिमानी द्रोणिका
उत्तर-(d) : झीलमाला ठेठ रूप से हिमानी द्रोणिका की विशेषताएँ हैं। मरुस्थल वह वीरान क्षेत्र जहाँ नमी (आर्द्रता) के अभाव में वनस्पतियों का विकास नहीं हो पाता। यद्यपि तब छोटी-छोटी झाड़ियाँ पायी जा सकती है। वनस्पति विहीन मरुस्थलो को जलवायु कटिबन्धों के अनुसार तीन वर्गो में विभक्त किया जाता है-
(1) उष्ण मरुस्थल- (निम्न अक्षांशों में) जैसे सहारा‚ अरब थार मरुस्थल आदि।
(2) शीतोष्ण मरुस्थल- (मध्य अक्षाशों में) जैसे मोबी और तुर्किस्तान के मरुस्थल
(3) शीत मरुस्थल- (उच्च अक्षांशों में) जैसे ग्रीन लैण्ड‚ अंटार्कटिका जो सदैव हिमाच्छित रहते है।
5. सूची-I को सूची-II के साथ सुमेलित करें और नीचे
कूटों से सही उत्तर का चयन करें:
सूची-I सूची-II
(कंदरा निर्माण सिद्धान्त) (विद्बान)
a. दो चक्रीय सिद्धान्त i. डेविस
b. जल स्तर सिद्धान्त ii. गार्नर
c. स्थैतिक जल खंड सिद्धान्त iii. मालोट
d. अतिक्रमण सिद्धान्त iv. स्वीनर्टन 143
कूट:
a b c d a b c d
(a) i iv ii iii (b) i ii iii iv
(c) iv iii i ii (d) ii i iv iii
उत्तर-(a) :
सूची- I सूची- II कन्दरा निर्माण सिद्धान्त विद्वान
a. दो चक्रीय सिद्धान्त 1. डेविस
b. जल स्तर सिद्धान्त 2. स्वीनर्टन
c. स्थैतिक जल खण्ड सिद्धान्त 3. गार्नर
d. अतिक्रमण सिद्धान्त 4. मालोट
6. निम्नलिखित में से कौन सी प्रक्रिया हिमीय अपरदन के संदर्भ में विशिष्ट स्थान रखती है?
(a) उत्पाटन (b) जलीय कृत्य
(c) अपवाहन (d) संक्षारण
उत्तर-(a) : हिमानी अपरदन के सन्दर्भ में उत्पादन विशिष्ट स्थान रखती है। जब हिमनद चट्टानों के बड़े-बड़े टुकड़ों को तोड़कर अपने साथ कर लेता है तब शैलों के अपरदन क्रिया को इस क्रियाविधि की उत्पादन कहते है। इस क्रिया में मौसमी परिवर्तन या मौसमी दशाओ का विशेष योग रहता है। प्राय: शैलों की संरचना भी इन्हें नियन्त्रित करती है। जब हिम के पिघलने से प्राप्त जल शैलों की सन्धियों के कारण जमकर फैलता है तो इससे शैले कमजोर हो जाती है। इस क्रिया द्वारा कमजोर शैल के बड़े-बड़े टुकड़े टूटकर अलग होते रहते है। हिमनद अपने शीर्ष की ओर इस क्रिया द्वारा अपरदन करता रहता है। सर्क का निर्माण इसी क्रिया द्वारा पर्वतीय भागों में होता है।
7. नीचे दो कथन दिए गए है‚ एक को अभिकथन (A) और दूसरे को कारण (R) का नाम दिया गया है। नीचे दिये गये कूटों से सही उत्तर का चयन कीजिये।
अभिकथन (A) :
चट्टानों का गहन रासायनिक अपक्षय‚ आर्द्र उष्णकटिबंधीय क्षेत्रों की उत्कृष्ट विशेषता है
कारण (R) : रासायनिक अपक्षयण की तीव्रता जल की प्रचुरता तथा उच्च वायु तापमानों पर काफी हद तक निर्भर करती है।
कूट:
(a) (A) और (R) दोनों सत्य हैं और (R), (A) की सही व्याख्या है
(b) (A) और (R) दोनों सत्य हैं‚ परन्तु (R), (A) की सही व्याख्या नहीं है।
(c) (A) सत्य है‚ परन्तु (R) असत्य है।
(d) (R) सत्य है‚ परन्तु (A) असत्य है।
उत्तर-(a) : ऑक्सीजन‚ कार्बनडाई आक्साइड‚ जलवाष्प इत्यादि जब जल के संयोग के साथ चट्टानों के सम्पर्क में आते हैं तो चट्टानों के विभिन्न पदार्थों एवं खनिजों के साथ रासायनिक क्रिया प्रारम्भ हो जाती है जिससे रासायनिक परिवर्तन होने लगता है इससे चट्टानों में वियोजन प्रारम्भ हो जाता है। इसे ही रासायनिक अपक्षय कहते हैं। यह प्रक्रिया आर्द्र-उष्णकटिबंधीय क्षेत्रों की प्रमुख विशेषता है। इस तरह कथन एवं कारण सही है एवं कारण कथन का सही स्पष्टीकरण भी है।
8. डेविस के साथ असहमत होते समय‚ क्रिकमे ने किस शब्द के साथ पेनीप्लेन (स्थली प्राय) को उखाड़ दिया?
(a) पेडिप्लेन
(b) पेनीप्लेन
(c) इचप्लेन
(d) संरचनात्मक समतल भूमि
उत्तर-(b) : सी. एच. क्रिकमे ने विलियम मोरिस डेविस की पेनीप्लेनेशन सकल्पना की कुछ आलोचना की तथा उसका खण्डन करते हुए अपरदन चक्र की अन्तिम अवस्था में स्थलरुपों के निर्माण के लिए अपनी पैनप्लनेशन की संकल्पना का 1933 में प्रतिपादन किया। इनका सिद्धान्त पैनप्लनेशन चक्र के नाम से जाना जाता है। क्रिकमे के अनुसार पैनप्लन पैनप्लनेशन चक्र का अन्तिम परिणाम है तथा इसका निर्माण कई बार मैदानों के मिलने से होता है।
9. अपने पुछल्ले किनारे से दूर उष्णवाताग्र में मेघ प्रकारों का सही अनुक्रम क्या है?
(a) मध्यस्तरी-वर्षास्तरी-पक्षाभ-पक्षाभस्तरी
(b) पक्षाभस्तरी-वर्षास्तरी-मध्यस्तरी- पक्षाभ
(c) पक्षाभ-वर्षास्तरी-मध्यस्तरी-पक्षाभस्तरी
(d) वर्षास्तरी-मध्यस्तरी-पक्षाभस्तरी-पक्षाभ
उत्तर-(d) : अपने पुछल्ले किनारे से दूर उष्णवाताग्र में मेघ प्रकारों का सही अनुक्रम क्या है-
वर्षास्तरी-मध्यस्तरी-पक्षाभस्तरी-पक्षाभ
10. पछुवा हवाएँ किसका उदाहरण हैं?
(a) समष्टि वायुमंडलीय गतियाँ
(b) बवण्डर
(c) सूक्ष्म पैमाने की वायुमंडलीय गतियाँ
(d) झोंका
उत्तर-(a) 144 व्याख्या : पछुवा हवाएँ समष्टि वायुमण्डलीय गतियाँ है। पछुवा हवाएँ उपोष्ण उच्च वायुदाब से (300-350) उप ध्रुवीय निम्न वायुदाब (600-650) के बीच दोनों गोलाद्धो में चलने वाली स्थायी पवन को पछुवा हवा कहते है। इनकी दिशा उत्तरी गोलार्द्ध में दक्षिण पश्चिम से उत्तर पूर्व तथा दक्षिणी गोलार्द्ध में उत्तर पश्चिम से दक्षिण पूर्व की ओर होती है। इन हवाओं की ध्रुवीय सीमा में परिवर्तन होता रहता है। जहाँ पर ये गर्म तथा आर्द्र पछुवा हवाएँ ध्रुवों से आने वाली ठण्डी हवाओं से मिलती है वहाँ पर वाताग्र का निर्माण होता है। व्यापारिक हवाओं की अपेक्षा ये अत्यन्त जटिल होती है। इसी कारण इन्हें 400-500 अक्षांशों गरजती चालीसा 500 दक्षिणी अक्षांश के पास भयंकर पचासा तथा 600 अक्षांश के पास चीखती साठा आदि नामो से पुकारते है।
11. सूची- I को सूची- II के साथ सुमेलित करें और नीचे दिए कूटों से सही उत्तर का चयन करें:
सूची – I सूची – II
a. ऊँचाई के साथ तापमान i. आयनमंडल गिरता है।
b. रेडियो तरंगे वापस पृथ्वी ii. समतापमंडल पर परावर्तित करता है।
c. अधिकांश ओजोन समाहित हैं। iii. क्षोभसीमा
d. तापमान में गिरावट रुक iv. क्षोभमंडल जाती है।
कूट:
a b c d
a b c d
(a) iv ii i iii (b) iii ii iv i
(c) iv i ii iii (d) iv iii i ii
उत्तर-(c) : सूची-I सूची-II
A. ऊचाई के साथ तापमान क्षोभमण्डल गिरता है।
B. रेडियो तरंगे वापस पृथ्वी आयनमण्डल पर परावर्तित करता है
C. अधिकांश ओजोन समतापमण्डल समाहित है
D. तापमान में गिरावट रुक क्षोभसीमा जाती है।
12. यदि सूर्य का उत्थापन कम होता है तो श्विति
(ऐल्बिडो)-
(a) कम होगा। (b) बढ़ेगा।
(c) वही रहेगा। (d) कोई परिवर्तन नहीं होगा।
उत्तर-(b) : यदि सूर्य का उत्थापन कम होता है तो ऐल्बिडो बढ़ेगा। एल्बिडो पृथ्वी या किसी भी खगोलीय पिण्ड की किसी सतह को प्राप्त होने वाली सूर्याताप की मात्रा एवं उसी सतह से परावर्तित की जाने वाली मात्रा के बीच के अनुपात को कहते हैं।
13. भूमि तथा समुद्र के बीच दाब में मौसमी अन्तर क्या उत्पन्न करता है?
(a) मानसून (b) पछुवा हवाएँ
(c) भूमि तथा सागर समीर (d) व्यापारिक पवन
उत्तर-(a) : भूमि तथा समुद्र के बीच दाब में मौसमी अन्तर ‘मानसून’ उत्पन्न करता है। भूमि तथा सागर समीर मुख्य रूप से छोटे पैमाने पर मानसून हवाएँ ही होती है। जिनकी दिशा में 24 घण्टे के अन्दर दो बार परिवर्तन हो जाते है। सागरीय समीर दिन में सागर से स्थल की ओर तथा भूमि समीर रात्रि में स्थल से जल की ओर चला करती है। व्यापारिक हवाएँ अयनवर्ती उच्च वायुदाब से भूमध्यरेखीय निम्न वायुदाब की ओर प्राय: निश्चित रूप से चलती है। उत्तरी गोलार्द्ध में इनकी दिशा उत्तर पूर्व से दक्षिण पश्चिम तथा दक्षिणी गोलार्द्ध में दक्षिण पूर्व से उत्तर पश्चिम होती है। फेरल के नियमानुसार ये हवाएँ उत्तरी गोलार्द्ध में दाहिने ओर तथा दक्षिणी गोलार्द्ध में बायीं ओर मुड़ जाती है।
14. वी. बर्कनीज का मॉडल किससे सम्बन्धित है?
(a) प्रति चक्रवातों के उद्भव
(b) मध्य अक्षांश चक्रवातों के उद्भव
(c) उष्णकटिबंधीय चक्रवातों के उद्भव
(d) मानसून के उद्भव
उत्तर-(b) : वी. जर्कनेस का मॉडल मध्य अक्षांश चक्रवातों के उद्भव से सम्बन्धित है। ध्रुवीय वाताग्र सिद्धान्त या वाताग्री सिद्धान्त या लहर सिद्धान्त या बर्जेन सिद्धान्त का वी. बर्कनीज तथा जे बर्कनीज द्वारा सन् 1918 में प्रतिपादन किया गया।
15. निम्नलिखित में से कौन सा सही नहीं है?
(a) शीत वाताग्र तिकोणीय वृत्तों द्वारा निर्धारित होता है।
(b) उष्ण वाताग्र अर्द्ध वृत्तों द्वारा निर्धारित होता है।
(c) तेजी से आगे बढ़ रहा उष्ण वाताग्र प्रचण्ड उत्थापन उत्पन्न कर सकता है।
(d) टॉरनेडो (बवण्डर) अल्पकालिक झंझा पंक्ति के साथ-साथ विकसित होता है।
उत्तर-(c) : तेजी से आगे बढ़ रहा उष्ण वाताग्र प्रचण्ड उत्थापन उत्पन्न कर सकता है। यह कथन असत्य है शेष अन्य तीनों कथन सत्य है।
16. सूर्यास्त के बाद भी सीमित उष्णता वायुमंडल द्वारा किससे प्राप्त की जाती है?
(a) अदृश्य सौर विकिरण (b) पार्श्िवक ताप
(c) रेडियो सक्रिय प्रक्रियाएँ (d) पार्थिव विकिरण
उत्तर-(d) 145 व्याख्या : सूर्यास्त के बाद सीमित उष्णता वायुमण्डल में पार्थिव विकिरण द्वारा प्राप्त होती है। लघु तरंगों के माध्यम से प्राप्त सौर्य विकिरण से प्राप्त ऊर्जा का पृथ्वी के तल से दीर्घ तरंगों द्वारा होने वाला विकिरण पार्थिव विकिरण कहलाता है। इसी के परिणामस्वरूप वायुमण्डल का निचला भाग गर्म होता है।
17. नीचे दो कथन दिए गए है‚ एक को अभिकथन (A) और दूसरे को कारण (R) का नाम दिया गया है। नीचे दिये
कूटों से सही उत्तर का चयन करें:
अभिकथन (A) :
घास और अन्य वनस्पति वर्धक आवरण सेल्वा क्षेत्र तक सीमित है।
कारण (R) : वृक्षों के पृथक छत्र संलीन हो‚ वन तल के ऊपर गहन छतरी निर्मित करते हैं।
कूट:
(a) (A) और (R) दोनों सत्य हैं और (R), (A) की सही व्याख्या है
(b) (A) और (R) दोनों सत्य हैं‚ परन्तु (R), (A) की सही व्याख्या नहीं है।
(c) (A) सत्य है‚ परन्तु (R) असत्य है।
(d) (R) सत्य है‚ परन्तु (A) असत्य है।
उत्तर-(b) : उपरोक्त कथन एवं कारण दोनों सही हैं लेकिन कारण कथन की सही व्याख्या नहीं कर रहा है। ब्राजील में उष्णकटिबंधीय घास के मैदान को सेल्वा या सेल्वास कहा जाता है। इस क्षेत्र में बड़े-बड़े वृक्षों की बहुलता भी पाई जाती है। जिससे ये वृक्ष छोटे वृक्षों के लिए छतरी का काम करते हैं।
18. ‘मॉन्ट्रियल प्रोटोकॉल’ (पूर्व लेख) का सम्बन्ध है
(a) वैश्विक उष्मीकरण से
(b) ओ़जान नि:शोषण से
(c) वायु प्रदूषण से
(d) जल प्रदूषण से
उत्तर-(b) : मॉन्ट्रियल प्रोटोकॉल का सम्बन्ध ओजोन नि:शोषण से है संयुक्त राष्ट्र संघ के निर्देशन में ओजोन छिद्र से उत्पन्न चिन्ता निवारण हेतु 16 सितम्बर‚ 1987 को मॉष्ट्रियल में एक समझौता हुआ। ओजोन संरक्षण की दिशा में यह पहला व्यापक प्रयास था। इसी सम्मेलन में यह तय किया गया कि 16 सितम्बर को अन्तर्राष्ट्रीय‚ ओजोन संरक्षण दिवस मनाया जायेगा। इसी सम्मेलन में यह भी तय किया गया कि ओजोन का विनाश करने वाले पदार्थ क्लोरोक्लोरो कार्बन (CFC) के उत्पादन एवं उपयोग को सीमित किया जाये।
19. क्योटो प्रोटोकॉल का उद्देश्य ग्रीन हाउस गैस के उत्सर्जन को कब तक कम करने का था?
(a) वर्ष 2010 तक‚ 1995 के औसतन स्तर से 10 प्रतिशत नीचे लाना।
(b) वर्ष 2012 तक‚ 1998 के औसतन स्तर‚ से 8 प्रतिशत नीचे लाना।
(c) वर्ष 2009 तक‚ 1997 के औसतन स्तर से 20 प्रतिशत नीचे लाना।
(d) वर्ष 2012 तक‚ 1990 के औसतन स्तर से 5 प्रतिशत नीचे लाना।
उत्तर-(d) : संयुक्त राष्ट्र की पहल पर ग्लोबल वार्मिग की चुनौती से निपटने के लिए 1992 में यूनाइटेड नेशन्स फ्रेमवर्क कन्वेंशन आन क्लाइमेट चेंज (UNFCCC) अस्तित्व में आया जापान के क्योटो शहर में 11 दिसम्बर‚ 1997 को हुए यू. एन. एफ. सी.
सी. सी. तीसरे सम्मेलन में क्योटो प्रोटोकॉल को स्वीकार किया गया। इसके तहत सन्धि में शामिल 37 विकसित देशों से सामूहिक रूप से ग्रीन हाउस गैसो को उत्सर्जन को 1990 के स्वर पर लाने के लिए 2008 से 2012 तक 5.2% कटौती करने का प्रावधान है।
20. मरुदभिद् वनस्पति निम्न में से किसके विरुद्ध जीवित रह सकती है?
(a) उच्च तापमान (b) अति शीत
(c) आर्द्रता (d) सूखा परिस्थिति
उत्तर-(d) : मरुदभिद् वनस्पति सूखा परिस्थिति के विरुद्ध जीवित रह सकती है। इन पौधों की जड़े लम्बी‚ छालें मोटी तथा पत्तियाँ छोटी एवं मोटी होती है।
21. निम्नलिखित कथनों पर विचार करें:
1. ओ़जोन अधिकांशत्या समताप मंडल में पाया जाता है।
2. ओ़जोन की परत पृथ्वी के सतह से 55-75 कि.मी.
ऊपर स्थित रहता है।
3. ओ़जोन सूर्य से परा बैंगनी किरणों को अवशोषित करता है।
4. पृथ्वी पर जीवन के लिए ओ़जोन की परत का कोई महत्व नहीं है। उपर्युक्त कथनों में से कौन सा सही है?
(a) 1 और 3 (b) 2 और 4
(c) 2 और 3 (d) 1 और 4
उत्तर-(a) : ओजोन की परत पृथ्वी की सतह से 16 से 35 किमी.
ऊपर स्थित रहती है। 22 किमी. की ऊँचाई पर यह सघनतम स्थिति में पायी जाती है। पृथ्वी पर जीवन के लिए ओजोन की परत का विशेष महत्व है। 146
22. नीचे दो कथन दिए गए है‚ एक को अभिकथन (A) और दूसरे को कारण (R) का नाम दिया गया है। नीचे दिये
कूटों से सही उत्तर का चयन करें:
अभिकथन
(A) : भूमध्यवर्ती क्षेत्र में महासागरीय लवणता कम होती है।
कारण (R) : भूमध्यवर्ती क्षेत्र की विशेषताएँ भारी वर्षा‚ मेघाच्छन्नता और आर्द्रता हैं।
कूट:
(a) (A) और (R) दोनों सत्य हैं और (R), (A) का सही व्याख्या है
(b) (A) और (R) दोनों सत्य हैं‚ और (R), (A) का सही व्याख्या नहीं है।
(c) (A) सत्य है‚ परन्तु (R) असत्य है।
(d) (A) असत्य है‚ परन्तु (R) सत्य है।
उत्तर-(a) : भारी वर्षा लवणता को कम कर देती है। भूमध्यवर्ती क्षेत्र में महासागरीय लवणता कम होती है जिसका कारण भूमध्यवर्ती क्षेत्रों में भारी वर्षा‚ मेघाच्छन्नता और आर्द्रता है।
23. ‘‘क्रमबद्ध भूगोल को सैद्धान्तिक क्षेत्रों में चले जाना चाहिए और क्षेत्रीय भूगोल को सामान्य खोज के लिये न कि अनन्य अध्ययनों की खोज के लिए जाना चाहिए’’ यह कथन किसका है?
(a) रिचर्ड हार्टशोर्न (b) इसईया बॉमैन
(c) विलियम बुंगे (d) पीटर हैगेट
उत्तर-(c) : प्रश्नगत कथन विलियम बुंगे का है। ईसाह बोमेन अमेरिकन भूगोलवेत्ता थी। ये सम्भवादी विचारक थी। इनकी प्रमुख पुस्तकें निम्न थी- (1) The new World, (2) Problems in Political Geography in Relation to Social Sciences (3) The Geography of Central Andes (4) The Poineer Frings रिचर्ड हार्टशोर्न अमेरिकन भूगोलवेत्ता थे। इसकी प्रमुख पुस्तकें निम्न है- (1) Nature of Geography (1939), (2) Perspectives on the nature of Geography (1959)
24. परिमाणात्मक क्रान्ति के विकास में‚ नूतन अध्ययन क्षेत्र प्रारम्भ किया गया जो ‘‘सामाजिक भौतिक’’ विज्ञान कहलाता है और जो स्पष्ट करता है कि ‘‘समाज की विमाएँ भौतिक विमाओं के समरूप है और यह लोगों की संख्या‚ दूरी और समय को समाविष्ट करती है।’’ यह किसने प्रारम्भ किया था?
(a) जे. क्यू. स्टीवार्ट (b) एडवर्ड उल्लमैन
(c) डब्ल्यू. एल गैरीसन (d) विलियम वैर्न्टस
उत्तर-(a) : प्रश्नगत कथन जे. क्यू. स्टीवार्ट का है। एडवर्ड उल्लमैन ने बहुकेन्द्रीय सिद्धान्त का प्रतिपादन किया था। इन्होंने 1945 के अपने लेख ‘द नेचर ऑफ सिटीज’ में इस सिद्धान्त के अनुसार नगर भू उपयोग प्रतिरूप प्राय: अलग-अलग बहुत से केन्द्रों के चारों ओर विकसित होता है न कि केवल एक ही केन्द्र के चारों ओर।
25. नीचे दो कथन दिए गए है‚ एक को अभिकथन (A) और दूसरे को कारण (R) का नाम दिया गया है:
अभिकथन (A) :
परिमाणात्मक क्रान्ति का मुख्य जोर भूगोल में नियम निर्माण‚ मॉडल निर्माण और सिद्धान्तीकरण को लाना है।
कारण (R) : द्वितीय विश्व युद्ध के बाद‚ युवा भूगोलवेताओं को समझ आया कि आनुभविक विवरणात्मक और ग़जेटियर
(भौगोलिकी) प्रकार के भूगोल को साहित्य की भाषा के बजाय गणितीय भाषा के उपयोग द्वारा त्यागा जाये। नीचे दिए कूटों से सही उत्तर का चयन करें:
कूट:
(a) (A) सही है‚ परन्तु (R) गलत है।
(b) (A) गलत है‚ परन्तु (R) सही है।
(c) (A) और (R) दोनों सही है और (R), (A) की सही व्याख्या है।
(d) (A) और (R) दोनों गलत हैं।
उत्तर-(c) : ब्रिटेन में द्वितीय विश्व युद्ध के बाद भूगोल के क्षेत्र में परिमाणात्मक या मात्रात्मक क्रांति का विकास हुआ। इस संकल्पना का प्रमुख उद्देश्य भौगोलिक भाषा में सुधार करना एवं नियम निर्माण‚ मॉडल निर्माण और सिद्धान्तीकरण करना था। इस तरह कथन एवं कारण दोनों सत्य है और कारण कथन की सही व्याख्या भी कर रहा है।
26. सूची-I को सूची-II के साथ सुमेलित करें और नीचे दिये कूटों से सही उत्तर का चयन करें:
सूची- I सूची-I
i. टी. हैगरस्ट्रेंड a. सैद्धान्तिक भूगोल
ii. विलियम बुंगे b. नवप्रवर्तनों का भौगोलिक प्रसार
iii. गिलबर्ट व्हाईट c. क्षेत्रीय विश्लेषण की पद्धतियाँ
iv. वाल्टर आई़जार्ड d. बाढ़ के प्रति मानव की प्रतिक्रियाएँ
कूट:
a b c d a b c d
(a) ii i iv iii (b) ii iii iv i
(c) iv ii iii i (d) iii iv i ii
उत्तर-(a) 147 व्याख्या : सूची-I सूची-II
1. टी. हैगरस्ट्रेंड नव प्रवर्तनों का भौगोलिक प्रसार
2. विलियम बुंगे सैद्धान्तिक भूगोल
3. गिलबर्ट व्हाईट बाढ़ के प्रति मानव की प्रतिक्रियाएँ
4. वाल्टर आई़जार्ड क्षेत्रीय विश्लेषण की पद्धतियाँ
27. सूची-I को सूची-II के साथ सुमेलित करें और नीचे दिये कूटों से सही उत्तर का चयन करें:
सूची-I सूची-I
i. ओटो श्लूटर a. पोलिटिकल जिऑग्राफी
ii. वॉन रिचथोफेन b. दास ऑसलैण्ड
iii. ओस्कार पैशल c. चीन का अध्ययन
iv. फ्रेडरिक रैट़जल d. भूदृश्य के दृश्यगत विषय-वस्तु
कूट:
a b c d a b c d
(a) iv i ii iii (b) iv iii ii i
(c) iii iv i ii (d) ii i iv iii
उत्तर-(b) : सूची-I सूची-II
1. ओटो श्लूटर भूदृश्य के दृश्यगत विषय-वस्तु
2. वॉन रिचथोफेन चीन का अध्ययन
3. ओस्कार पैशल दास ऑसलैण्ड
4. फ्रेडरिक रैट़जल पोलिटिकल जिऑग्राफी
28. भूगोल में मानववाद के बारे में कौन सा कथन सत्य नहीं हैं?
(a) मानववाद मानव को मशीन के रूप में नहीं लेता है।
(b) मानववादी भूगोल मानवीय जागरूकता‚ मानव चेतना और मानव सृजनात्मकता को महत्व देता है।
(c) मानववादी‚ सतह की ज्यामितीय अवधारणाओं के स्थान पर ‘‘स्पेस’’ एवं ‘‘प्लेस’’ के न्यूनीकरण को स्वीकार करते हैं।
(d) मानववाद‚ प्रत्यक्षवाद तथा परिमाणात्मक क्रान्ति के विरुद्ध आलोचना के रूप में विकसित हुआ।
उत्तर-(c) : मानववाद की संकल्पना को निर्मित करने में प्राथमिक तौर पर विलियम क्रीक ने पहल की परन्तु मानववाद शब्द के पहले उपयोगकर्ता तुआन थे। तुआन के अनुसार मानवाद वह परिदृष्टि है जिसमें मानव या स्थान के बीच के सम्बन्धों को वैज्ञानिक रूप से व्याख्यायित किया जाता है।
29. सूची- I को सूची- II के साथ सुमेलित करें और नीचे दिये कूटों से सही उत्तर का चयन करें:
सूची – I सूची – I
(दार्शनिक उपागम) (समर्थक)
i. आदर्शवादी a. रॉल्फ
ii. घटना क्रिया विज्ञान b. हेरिस एवं गुलके सम्बन्धी
iii. अत्यान्तिक c. स्मिथ
iv. कल्याण d. बुंगे
कूट:
a b c d a b c d
(a) iv ii i iii (b) ii i iv iii
(c) iii iv ii i (d) ii iii i iv
उत्तर-(b) : सूची-I सूची-II
1. आदर्शवादी हेरिस एवं गुलके
2. घटना क्रिया विज्ञान रॉल्फ सम्बन्धी
3. अ त्यान्तिक बुंगे
4. कल्याण स्मिथ
30. निम्नलिखित में से कौन ‘‘टेलियोलोजिकल’’
(उद्देश्यवादी) विचारों के दृढ़ समर्थक है?
(a) ग्युयोट (b) पैशल
(c) गरलैंड (d) रैट़जल
उत्तर-(a) : ग्युयोट टेलियोलॉजिकल विचारों के दृढ़ समर्थक थे। रेटजेल जर्मनी भूगोलवेत्ता थे। ये नियतिवादी प्रवर्तक थे। इन्हें मानव भूगोल तथा राजनीतिक भूगोल का जनक कहा जाता है। रेटजेल ने लेबेन्सराम की संकल्पना दी है। इनकी प्रमुख पुस्तकें निम्न है-
एन्थ्रोपोज्योग्राफी‚ पॉलिटिकल ज्योग्राफी
31. बड़े नगर अधिवासों से दूर जनसंख्या विकेन्द्रीकरण की प्रक्रिया का गैर महानगरीय क्षेत्रों में होना क्या कहलाता है?
(a) नगरीय छितराव (b) नगरीय अवस्थित फैलाव
(c) प्रति-नगरीयकरण (d) उपनगरीयकरण
उत्तर-(c) : बड़े नगर अधिवासों से दूर जनसंख्या विकेन्द्रीकरण की प्रक्रिया का गैर-महानगरीय क्षेत्रों में होना प्रति-नगरीयकरण कहलाता है।
32. नगरीकरण की त्वरित अवस्था में‚ नगरीय जनसंख्या में संघटित होता है
(a) राज्य की कुल जनसंख्या का 70% से ज्यादा
(b) 25% से 70%
(c) 10% से 25%
(d) 10% से कम
उत्तर-(b) 148 व्याख्या : नगरीकरण की त्वरित अवस्था में‚ नगरीय जनसंख्या से संघटित होता है- 25% से 70%
33. प्रमुख नगर की अवधारणा किसने प्रतिपादित की है?
(a) जेफरसन (b) ़िजफ
(c) ममफोर्ड (d) स्जोबर्ग
उत्तर-(a) : प्रमुख नगर की अवधारणा का प्रतिपादन जैफरसन ने किया था। किसी वृहद प्रदेश का सबसे बड़ा नगर वहाँ का प्रमुख नगर कहलाता है जिसकी विशेषता विशालतम नगर होने के कारण समूचे प्रदेश को नेतृत्व व प्रतिनिधित्व प्रदान करना है।
जे. के. जिफ ने कोटि आकार नियम का प्रतिपादन किया था।
34. नीचे दो कथन दिए गए है‚ एक को अभिकथन (A) और दूसरे को कारण (R) का नाम दिया गया है। नीचे दिये
कूटों से सही उत्तर का चयन करें:
अभिकथन (A) :
क्रिस्टॉलर के मॉडल की अपेक्षा लॉश का मॉडल कम प्रतिबंधात्मक है।
कारण (R) : लॉश प्रत्येक कार्य का पृथक परास‚ पृथक सीमा और पृथक षट्कोणीय भीतरी प्रदेश मानता है।
कूट:
(a) (A) और (R) दोनों सत्य हैं और (R), (A) की सही व्याख्या है
(b) (A) और (R) दोनों सत्य हैं‚ और (R), (A) की सही व्याख्या नहीं है।
(c) (A) सत्य है‚ परन्तु (R) असत्य है।
(d) (A) असत्य है‚ परन्तु (R) सत्य है।
उत्तर-(a) : लॉश प्रत्येक कार्य का पृथक परास‚ पृथक सीमा और पृथक षटकोणीय भीतरी प्रदेश की सीमा मानता है। क्योंकि लॉश का मॉडल क्रिस्टालर की अपेक्षा कम प्रतिबन्धात्मक है। इस तरह कथन एवं कारण दोनों सही हैं तथा कारण कथन की सही व्याख्या भी कर रहा है।
35. निम्नलिखित में से कौन सी अवस्था जनांकिकीय संक्रमण (या परिवर्तन) की दूसरी अवस्था को चरित्रांकित करती है?
(a) निम्न जन्म दर‚ उच्च मृत्यु दर
(b) उच्च जन्म दर‚ उच्च मृत्यु दर
(c) उच्च जन्म दर‚ ह्रासमान मृत्यु दर
(d) निम्न जन्म दर‚ निम्न मृत्यु दर
उत्तर-(c) : जनांकिकीय संक्रमण की द्वितीय अवस्था में जन्मदर उच्च तथा लगभग स्थायी रहती है किन्तु मृत्युदर में ह्रास होने लगता है जिससे कुल जनसंख्या में क्रमश: वृद्धि होती जाती है। इस अवस्था में जन्मदर 35 प्रति हजार या इससे ऊपर रहती है किन्तु मृत्यु दर 25 से 15 प्रति हजार के मध्य पायी जाती है। मृत्यु दर में ह्रास के कई कारण उत्तरदायी है जिनमे पोषण स्वास्थ्य सुविधाओं का विकास‚ बिमारियों पर नियन्त्रण आदि है। इस अवस्था में जनसंख्या त्वरित गति से बढ़ती जाती है।
36. सूची- I को सूची- II के साथ सुमेलित करें और नीचे दिये कूटों से सही उत्तर का चयन करें:
सूची – I सूची – II
(पुस्तकें) (लेखक)
a. दि नेचर ऑफ जिओग्राफी i. डी. हार्वे
b. दि अरबन क्वेश्चन ii. पी. हैगेट
c. सोशल जस्टिस एण्ड दी सिटी iii. आर. हार्टशोर्न
d. लोकेशनल एनालिसिस इन iv. एम. कैस्टेल्स ह्यूमेन जिओग्राफी
कूट:
a b c d
a b c d
(a) iv i ii iii (b) iii iv i ii
(c) i ii iii iv (d) ii iii iv i
उत्तर-(b) : सूची – I सूची – II
(पुस्तकें) (लेखक)
a. द नेचर ऑफ जिओग्राफी 1. आर हार्टशोर्न
b. द अरबन क्वेश्चन 2. एम. कैस्टेलस
c. सोशल जस्टिस एण्ड 3. डी हार्वे दी सिटी
d. लोकेशन एनालिसिस इन 4. पी हैगेट हयूमन जिओग्राफी
37. ‘शृंखला प्रवसन’ (चेन माइग्रेशन) किस पर आधारित है?
(a) काम के अवसर
(b) नातेदारी
(c) पूर्वकालिक आवासीय स्थान से समीपता
(d) (A) और (C) दोनों
उत्तर-(b) : शृंखला प्रवसन नातेदारी पर आधारित है।
38. निम्नलिखित युग्मों में से कौन सा सही सुमेलित नहीं है?
(a) ई. डब्ल्यू. बर्जेस- मेगालोपोलिस की अवधारणा
(b) डब्ल्यू. जे. रेली – रिटेल गुरुत्वाकर्षण का नियम
(c) जी. के. ़िजफ – कोटि-आकार नियम
(d) पैट्रिक गिडि्डस – सन्नगर की अवधारणा
उत्तर-(a) : विद्वान अवधारणा
a. ई. डब्ल्यू. वर्गेस 1. राकेन्द्रीय पेटी सिद्धान्त
b. डब्ल्यू. जे. रेली 2. रिटेल गुरुत्वाकर्षण का नियम
c. जी. के. जिफ 3. कोटि आकार नियम
d. पेट्रिक गिडि्डस 4. सन्नगर की अवधारणा 149
39. निम्नलिखित कथनों पर विचार कीजिए और निम्नलिखित कूटों से सही उत्तर का चयन कीजिए:
1. अधिकांश मत्स्यन क्षेत्र ऐसे क्षेत्रों में बनते हैं‚ जहाँ महाद्वीपीय शेल्फ चौड़ा होता है।
2. मत्स्य क्रियाकलाप गरम उष्णकटिबंधीय समुद्रीजल में काफी विकसित है।
3. गरम और ठंडी धाराओं के मिलने के कारण मछलियों के लिए पादप पोषण मिलता है।
4. भारत में अन्तर्देशी मत्स्य-उद्योग अन्य प्रकारों से अधिक महत्त्वपूर्ण है
कूट:
(a) 1 और 2 सही हैं। (b) 1 और 3 सही है।
(c) 2, 3 और 4 सही हैं। (d) 1, 2 और 3 सही हैं।
उत्तर-(d) : मत्स्यन उद्योग के सन्दर्भ में कथन (4) को छोड़कर शेष अन्य कथन सही है। मत्स्य पालन का सर्वाधिक विकास शांत महासागरीय क्षेत्र में होता है जहाँ पर गर्म एवं ठंडी जल धारायें आकर मिलती हैं।
40. नीचे दो कथन दिए गए है‚ जिनमें से एक अभिकथन
(A) और दूसरा कारण (R) है:
अभिकथन
(A) : अर्थव्यवस्था के स्थानिक संगठन में क्षेत्रीय असंगतियाँ होती हैं।
कारण (R) : आर्थिक क्रियाकलापों में अंतर्जात कारकों के बीच अंत:क्रियाएँ स्थानिक संगठनों के गठन को प्रभावित करती हैं। उपर्युक्त दो कथनों के संदर्भ में निम्नलिखित में से कौन सा सही है?
कूट:
(a) (A) और (R) दोनों सत्य हैं और (R), (A) की सही व्याख्या है
(b) (A) और (R) दोनों सत्य हैं‚ परन्तु (R), (A) की सही व्याख्या नहीं है।
(c) (A) सत्य है‚ परन्तु (R) असत्य है।
(d) (A) असत्य है‚ परन्तु (R) सत्य है।
उत्तर-(a) : अर्थव्यवस्था के स्थानिक संगठन में क्षेत्रीय असंगतियों होती है क्योंकि आर्थिक क्रियाकलापों में अन्तर्जात करकों के बीच अन्त:क्रियाऍ स्थानिक संगठनों के गठन को प्रभावित करती है।
41. निम्नलिखित में से कौन सी फसल प्रथा फसल चक्रानुसरण (या हेरफेर) का संकेत करती है?
(a) एक ही खेत में भिन्न ऋतुओं में एक से ज्यादा फसल की खेती करना
(b) एक ही खेत में भिन्न ऋतुओं में एक ही फसल लेना
(c) एक ही खेत में एक ही ऋतु में बहुत सी फसलें लेना
(d) एक ही खेत में एक ऋतु में एक फसल लेना और अगली ऋतु में भिन्न फसल की खेती करना।
उत्तर-(d) : एक ही खेत में एक ऋतु में एक फसल लेना और अगली ऋतु में भिन्न फसल की खेती करना फसल चक्रानुसरण कहलाता है। इस प्रक्रिया के माध्यम से खेत की उर्वरता में वृद्धि होती है।
42. जब उद्योग में उपयोग किया जाने वाला कच्चा माल स्थूलकाय और सर्वव्यापक होता है‚ तो फर्म की अवस्थिति क्या होगी?
(a) कच्चे माल के दोत के समीप
(b) कच्चे माल के दोत और बा़जार के बीच कहीं भी।
(c) बा़जार के समीप
(d) राजधानी नगर के समीप
उत्तर-(c) : जब उद्योग में उपयोग किया जाने वाला कच्चा माल स्थूलकाय और सर्वव्यापक होता है‚ तो कर्म की अवस्थिति बाजार के समीप होगी इस प्रकार उद्योग के स्थानीयकरण का सिद्धान्त जर्मन अर्थशाध्Eा एल्फ्रेड बेवर ने 1909 में दिया था। बेवर के अनुसार कच्चे माल के समीप फर्म की अवस्थिति तब होगी जब कच्ची सामग्री मिश्रित पदार्थ हो। मिश्रित पदार्थ- वे पदार्थ जिनका वजन उत्पादन प्रक्रिया में मिश्रित हो जाता है।
43. ग्रेट ब्रिटेन में‚ बहुत कम लुगदी उत्पादित की जाती है‚ परन्तु कागज निर्माण महत्त्वपूर्ण है‚ जबकि स्वीडन में लुगदी विनिर्माण कागज निर्माण की तुलना में बहुत ज्यादा महत्त्वपूर्ण होता है क्योंकि
(a) ग्रेट ब्रिटेन स्वीडन की तुलना में प्रौद्योगिकीय रूप से उन्नत है।
(b) लुगदी निर्माण कच्चा माल उन्मुखी है‚ कागज निर्माण ज्यादा बा़जार उन्मुखी होता है।
(c) स्वीडन गरीब देश है।
(d) ग्रेट ब्रिटेन में कागज निर्माण के लिये प्रचुर मात्रा में वन संसाधन हैं।
उत्तर-(b) : ग्रेट ब्रिटेन में‚ बहुत कम लुगदी उत्पादित की जाती है‚ परन्तु कागज निर्माण महत्वपूर्ण है‚ जबकि स्वीडन में लुगदी विनिर्माण कागज निर्माण की तुलना में बहुत ज्यादा महत्वपूर्ण होता है क्योंकि लुगदी निर्माण कच्चा माल उन्मुखी है‚ कागज निर्माण ज्यादा बाजार उन्मुखी होता है। 150
44. सूची- I को सूची- II के साथ सुमेलित करें और नीचे दिये कूटों से सही उत्तर का चयन करें:
सूची – I सूची – II
(अवस्थिति) (उद्योग)
a. डेट्रॉयट 1. लौह एवं इस्पात
b. योकोहामा 2. संश्लिष्ट रबर
c. अकरोन 3. जहाज निर्माण
d. ग्लासगो 4. ऑटोमोबाइल
कूट:
a b c d a b c d
(a) 2 1 3 4 (b) 4 3 2 1
(c) 3 2 1 4 (d) 1 2 3 4
उत्तर-(b) : सूची का सुमेलन इस प्रकार हैसूची – I सूची – II
(अवस्थिति) (उद्योग)
A. डेट्रॉयट 1. ऑटोमोबाइल
B. योकोहामा 2. जहाज निर्माण
C. अकरोन 3. संश्लिष्ट रबर
D. ग्लासगो 4. लौह एवं इस्पात
45. आयतन-भंग बिन्दु वो स्थान है जहाँ:
(a) बड़े आकार की और भारी या स्थूल वस्तुएँ पीसी जाती हैं।
(b) वस्तुएँ परिवहन के एक तरीके से दूसरे को हस्तांतरित की जाती हैं।
(c) भारी या स्थूल वस्तुओं की पैकेजिंग बड़े पैमाने पर की जाती है।
(d) स्थान भारी या स्थूल उत्पादों के परिवहन के लिये हैं।
उत्तर-(b) : आयतन-भंग बिन्दु वो स्थान है जहाँ वस्तुएँ परिवहन के एक तरीके से दूसरे को हस्तांतरित की जाती हैं।
46. क्षेत्र का निम्नलिखित सड़क नेटवर्क आरेख पर विचार करें:
उपर्युक्त नेटवर्क के लिये सही सम्बन्धता मैट्रिक्स का चयन करें:

उत्तर-(b) : विकल्प (b) उपरोक्त क्षेत्र में सड़क नेटवर्क के लिए सम्बन्धता मैट्रिक्स का सही चयन है।
47. निम्नलिखित में से कौन सा सिद्धान्त नीति उन्मुखी अवधारणाओें जैसे कि नोदक फर्में अग्रग्रामी उद्योग और संचय पर बल देता है?
(a) केन्द्रीय स्थान सिद्धान्त
(b) औद्योगिक अवस्थिति का सिद्धान्त
(c) विकास ध्रुव सिद्धान्त
(d) स्थानिक संगठन का सिद्धान्त
उत्तर-(c) : विकास ध्रुव सिद्धान्त के प्रतिपादक पैराक्स है। केन्द्र स्थल सिद्धान्त का प्रतिपादन जर्मन अर्थशाध्Eाी वाल्टर क्रिस्टालर ने 1933 ई. में दक्षिणी जर्मनी के आधार पर किया था। यद्यपि नगरों के लिए केन्द्रीय स्थान शब्द का प्रयोग मार्क जैफरसन ने 1931 ई. में किया था। क्रिस्टालर ने तृतीयक आर्थिक क्रिया की व्याख्या के लिए अपना सिद्धान्त प्रस्तुत किया। ओद्योगिक अवस्थित सिद्धान्त का प्रतिपादन करने का प्रथम प्रयास जर्मन अर्थशाध्Eाी एल्फ्रेड बेवर ने 1909 में किया।
48. प्रकार्यात्मक क्षेत्रों के वास्तविक चित्रण के लिये कौन सी तकनीकों को सामान्यत्या नियोजित किया जाता है?
(a) प्रवाह तथा गुरुत्वाकर्षण विश्लेषण
(b) सरल सहसम्बन्ध विश्लेषण
(c) मिश्रित सूचकांक पद्धति विश्लेषण
(d) श्रेणीकरण गुणांक पद्धति विश्लेषण
उत्तर-(a) : प्रक्रार्यात्मक क्षेत्रों के वास्तविक चित्रण के लिए प्रवाह तथा गुरुत्वाकर्षण विश्लेषण तकनीकों को सामान्यता नियोजित किया जाता है।
49. नाभिक प्रदेशों की पहचान करने में गुरुत्व सिद्धांत बताता है कि दो भौगोलिक बिन्दुओं के बीच अंत:क्रिया सीधी सम्बन्धित है:
(a) उनकी जनता से
(b) उनकी दूरी से
(c) उनके परिवहन के तरीके से
(d) उनके अधिवास के आकार से
उत्तर-(a) : नाभिक प्रदेशों की पहचान करने में गुरुत्व सिद्धान्त बताता है कि दो भौगोलिक बिन्दुओं के बीच अन्त:क्रिया उनकी जनता से सीधी सम्बन्धित है। 151
50. निम्नलिखित को सुमेलित करें:
सूची – I सूची – II
(क्षेत्रीय नियोजक) (भारत के लिये पहचाने मुख्य नियोजन क्षेत्रों की संख्या)
i. वी. नाथ a. 13
ii. भट्ट एवं राव b. 19
iii. सेन गुप्ता एवं सदास्युक c. 11
iv. सी.एस. चन्द्रशेखर d. 15
कूट:
a b c d a b c d
(a) iv iii ii i (b) iv ii iii i
(c) iii iv i ii (d) ii iii iv i
उत्तर-(a)
Ans:
(a) सूची का सुमेलन इस प्रकार हैसूची – I सूची – II
(क्षेत्रीय नियोजक) (भारत के लिये पहचाने मुख्य नियोजन क्षेत्रों की संख्या)
i. वी. नाथ a. 15
ii. भट्ट एवं राव b. 11
iii. सेन गुप्ता एवं सदास्युक c. 19
iv. सी.एस. चन्द्रशेखर d. 13
51. नीचे दो कथन दिए गए है‚ एक को अभिकथन (A) और दूसरे को कारण (R) का नाम दिया गया है :
अभिकथन
(A) : नियोजन क्षेत्र इतना बड़ा होना चाहिए कि उसमें संसाधनों की विविधता‚ दशाएं और विशेषताएँ हों जिससे कि वो वांछित कोटि को आर्थिक व्यवहार्यता के लिये कार्य कर सके।
कारण (R) : उसकी संसाधन स्थिति ऐसी हो कि उपभोग के लिये तथा विनिमय के लिए संतोषजनक स्तर पर उत्पाद संयोजन साध्यक्षम हो। नीचे दिये कूटों से सही उत्तर का चयन करें:
कूट:
(a) (A) और (R) दोनों सत्य हैं और (R), (A) की सही व्याख्या है
(b) (A) और (R) दोनों सत्य हैं‚ परन्तु (R), (A) की सही व्याख्या नहीं है।
(c) (A) सत्य है‚ परन्तु (R) असत्य है।
(d) (A) असत्य है‚ परन्तु (R) सत्य है।
उत्तर-(a) : अर्थव्यवस्था के क्षेत्र में नियोजन क्षेत्र का विशेष महत्व है क्योंकि इसी क्षेत्र के माध्यम से ही विविध संसाधनों का संचालन होता है। नियोजन के संतुलित रहने से ही अर्थव्यवस्था को अच्छा माना जाता हैं इस तरह कथन एवं कारण दोनों सही है एवं कारण कथन की सही व्याख्या भी कर रहा है।
52. क्षेत्रीय आधार पर उपयोजना तैयार करने का कार्य किसमें लिया गया था?
(a) चौथी योजना (b) पाँचवीं योजना
(c) छठी योजना (d) सातवीं योजना
उत्तर-(b) : क्षेत्रीय आधार पर उपयोजना तैयार करने का कार्य पाँचवी योजना में किया गया था। पाँचवी पंचवर्षीय योजना में चौथी पंचवर्षीय योजना के दौरान प्रादेशिक तथा क्षेत्रीय विकास हेतु उठाये गये कदमों को जारी रखने के साथ उनमें व्यापक्ता लाई गयी। पाँचवी पंचवर्षीय योजना के दौरान समन्वित ग्रामीण विकास कार्यक्रम सर्वप्रथम 1966-67 में 2300 विकास खण्डों में शुरू किया गया। इसका मुख्य उद्देश्य ग्रामीण‚ निर्बल‚ गरीब‚ खासकर अछूतों की सहायता करना तथा ग्रामीण क्षेत्रों में रोजगार के साधन उपलब्ध कराना था।
53. निम्नलिखित में से किसने आर्थिक क्षेत्रों की सोवियत अवधारणा और उत्पादन विशिष्टीकरण के अनुवर्ती भिन्न व्यवस्थाओं के आर्थिक क्षेत्रों की रूपरेखा प्रस्तुत की?
(a) पी. सेनगुप्ता (b) वी. नाथ
(c) एस.पी. चैटर्जी (d) भट्ट एवं प्रकाशा राव
उत्तर-(a) : पी. सेन गुप्ता ने आर्थिक क्षेत्रों की सोवियत अवधारणा और उत्पादन विशिष्टीकरण के अनुवर्ती भिन्न व्यवस्थाओं के आर्थिक क्षेत्रों की रूपरेखा प्रस्तुत की। पी. सेन गुप्ता ने भारत को 6 आर्थिक नियोजन प्रदेशों में विभाजित किया है।
54. निम्नलिखित में से किस राज्य में 2001-2011 के दौरान साक्षरों की वृद्धि दर निम्नतम रही?
(a) तमिलनाडु (b) नागालैंड
(c) केरल (d) गोआ
उत्तर-(c) : केरल में 2001-2011 के दौरान साक्षरों की दर निम्नतम रही परन्तु केरल राज्य की साक्षरता 2001-2011 के दौरान सर्वाधिक है। प्रश्नगत पूछे गये राज्यों की साक्षरता दर निम्न है। राज्य साक्षरता दर केरल 94.0% गोवा 88.1% तमिलनाडु 80.1% नागालैण्ड 79.6% 152
55. भारत में निम्नलिखित में से कौन सा स्थान सूरज की उर्ध्वाकार किरणों को नहीं पाता है?
(a) श्रीनगर (जे.एण्ड.के.) (b) मुम्बई
(c) चैन्नई (d) तिरुवनंतपुरम
उत्तर-(a) : श्रीनगर (जे.एण्ड के.) सूरज की उर्ध्वाकार किरणों को नहीं पाता है।
56. निम्नलिखित में से कौन सा परमाणु ऊर्जा (पावर) संयंत्र तमिलनाडु में अवस्थित है?
(a) तारापुर (b) कोटा
(c) कलपक्कम (d) नरौरा
उत्तर-(c) : परमाणु ऊर्जा संयन्त्र राज्य कलपक्कम तमिलनाडु तारापुर महाराष्ट्र कोटा राजस्थान नरौरा उत्तर प्रदेश
57. निम्नलिखित में से कौन सा युग्म सही मेलित नहीं है?
(a) हिमाद्री- वृहद्तर हिमालय
(b) शिवालिक – बाहरी हिमालय
(c) पश्चिमी घाट- प्रायद्वीपीय भारत
(d) गोडवाना भूमि – लघु हिमालय
उत्तर-(d) :
(a) हिमाद्री- वृहद्तर हिमालय
(b) शिवालिक – बाहरी हिमालय
(c) पश्चिमी घाट- प्रायद्वीपीय भारत
(d) गोडवाना भूमि – दक्कन पठार इस तरह लघु हिमालय गोडवाना भूमि का भाग नहीं है।
58. भारत में निम्नलिखित में से कौन से बन्दरगाह का प्राकृतिक पोताश्रय नहीं है?
(a) मुम्बई (b) कोचीन
(c) मर्मगाव (d) पारादीप
उत्तर-(d) : पारादीप एक कृत्रिम तथा निर्यात प्रधान बन्दरगाह है। यह एक मात्र उड़ीसा का बड़ा समुद्री बन्दरगाह है जो देश के पूर्वी तथा मध्य क्षेत्र की सेवाएँ प्रदान करता है। इसके पृष्ठभूमि का परिक्षेत्र उड़ीसा के बाहर झारखण्ड‚ पश्चिम बंगाल‚ मध्यप्रदेश तथा बिहार तक है।
59. योजना आयोग के अनुसार‚ भारत में कृषि-जलवायु क्षेत्रों की संख्या है
(a) बारह (b) तेरह
(c) चौदह (d) पन्द्रह
उत्तर-(d) : सन् 1988 में योजना आयोग ने देश को 15 कृषि जलवायुविक कटिबन्ध में विभाजित किया। इन कटिबन्धों का गठन कृषि एवं सम्बन्धित खण्डों के समन्वित विकास योजनाओं के व्यवस्थापन हेतु किया गया है। जिसमें पशुपालन मुर्गीपालन‚ फूलों और फलों के निर्यात‚ दुग्ध उद्योग‚ रेशम के कीड़े का पालन‚ मत्स्य पालन पर बल दिया गया है।
60. भारत में मैंगनीज अयस्क का लगभग तीन चौथाई भाग कहाँ पाया जाता है?
(a) ओड़ीसा‚ मध्यप्रदेश‚ महाराष्ट्र‚ गोआ
(b) कर्नाटका‚ ओड़ीसा‚ मध्यप्रदेश‚ महाराष्ट्र
(c) कर्नाटका‚ मध्यप्रदेश‚ गोआ‚ आंध्रप्रदेश
(d) मध्यप्रदेश‚ महाराष्ट्र‚ आंध्रप्रदेश‚ झारखंड
उत्तर-(b) : भारत में मैंगनीज अयस्क का लगभग तीन चौथाई भाग कर्नाटक‚ उड़ीसा‚ मध्य प्रदेश‚ महाराष्ट्र से प्राप्त होता है। राज्य प्रमुख खाने कर्नाटक बेल्लारी शिमोगा उड़ीसा क्योंझर और सुन्दरगढ़ मध्यप्रदेश बालाघाट महाराष्ट्र नागपुर‚ मण्डारा
61. सूची- I को सूची- II के साथ सुमेलित करें और नीचे दिये कूटों से सही उत्तर का चयन करें:
सूची – I सूची – II
(सांख्यिकी) (विश्लेषण)
a. मानक दूरी i. मुख्य संघटक
b. निकटतम पड़ोसी ii. विकीर्ण आरेख
c. सहसम्बन्ध iii. अधिवास पैटर्न
d. आइ़जेन मूल्य iv. केन्द्रलेखीय माप
कूट :
a b c d a b c d
(a) iii iv i ii (b) iv iii ii i
(c) i iv iii ii (d) ii iii iv i
उत्तर-(b) :
सूची – I सूची – II सांख्यिकी विश्लेषण
a. मानक दूरी 1. केन्द्रलेखीय माप
b. निकटतम पड़ोसी 2. अधिवास पैटर्न
c. सहसम्बन्ध 3. विकर्ण आरेख
d. आइ़जेन मूल्य 4. मुख्य संघटक 153
62. निम्नलिखित में से कौन सा जी.आई.एस. ऑपरेशन है?
(a) बिम्ब प्रदर्शन (b) अन्तर तनन
(c) मानचित्र ओवरलेइंग (d) मानचित्र डिजाइन करना
उत्तर-(c) : मानचित्र ओवरलेइंग जी.आई.एस. ऑपरेशन है।
63. किसी क्षेत्र में भिन्न भूमि उपयोगों के अनुपात दर्शाने के लिये कौन से आरेख का उपयोग किया जाता है?
(a) पाई (b) विंड रो़ज
(c) लाइन (d) फ्लो-चार्ट
उत्तर-(a) : भूमि उपयोगों के अनुपात दर्शाने के लिए पाई आरेख का उपयोग किया जाता है। पाई आरेख में संख्या का कुल योग प्रकट करने वाले किसी वृत्त के क्षेत्रफल की उस संख्या के विभिन्न उपविभागों या घटकों मूल्यों के अनुपात में बाँट देते है। अत: इस आरेख को विभाजित वृत्त आरेख भी कहा जाता है।
64. यदि मानों का बंटन निम्नलिखित है तो माध्य‚ माध्यिका तथा बहुलक अनुरूप (या सम्पाती) होते हैं :
(a) ऋणात्मक रूप से ढ़लवाँ
(b) सामान्य
(c) धनात्मक रूप से ढ़लवाँ
(d) पायसों
उत्तर-(b) : यदि मानों का बंटन निम्नलिखित है तो माध्य‚ माध्यिका तथा बहुलक सामान्य के अनुरूप होते हैं।
65. SOI के स्थलाकृतिक मानचित्र में 1/50‚000 पैमाने के साथ किस समोच्चरेखीय अंतराल का अनुपालन किया जाता है?
(a) 20 मीटर (b) 50 मीटर
(c) 100 मीटर (d) 150 मीटर
उत्तर-(a) : SOI के स्थलाकृतिक मानचित्र में 1/50000 पैमाने के साथ 20 मी. समोच्चरेखीय अंतराल का अनुपालन किया जाता है।
66. सूची- I को सूची- II के साथ सुमेलित करें और नीचे दिये कूटों से सही उत्तर का चयन करें:
सूची – I सूची – II
(उपकरण) (कार्य)
a. जी. पी. एस. बेस i. दूरी और क्षेत्र
b. पैन्टोग्राफ (आलेखिन्न) ii. 3-डी वि़िजन
c. प्लैनीमीटर iii. वैश्विक अवस्थिति
d. स्टीरियोस्कोप (त्रिविमचित्र) iv. घटाना और बढ़ाना
कूट:
a b c d a b c d
(a) iii i iv ii (b) ii iv iii i
(c) iii iv i ii (d) i ii iii iv
उत्तर-(c) :
सूची – I सूची – II
(उपकरण) (कार्य)
A. जी. पी. एस. बेस 1. वैश्विक अवस्थिति
B. पैन्टोग्राफ (आलेखित) 2. घटाना और बढ़ाना
C. प्लैनीमीटर 3. दूरी और क्षेत्र
D. स्टीरियोस्कोप (त्रिविमचित्र) 4. 3-डी विजन
67. क्षेत्र की विषमजातीय जनसंख्या को निरूपित करने के लिए सर्वाधिक उपयुक्त प्रतिचयन तकनीक है
(a) गुच्छ (b) यादृच्छिक स्तरित
(c) व्यवस्थित (d) सोद्देश्य
उत्तर-(b) : क्षेत्र की विषमजातीय जनसंख्या केा निरुपित करने के लिए सर्वाधिक उपयुक्त यादृच्छिक स्तरित प्रतिचयन तकनीक है।
68. भारतीय संघवाद की निम्नलिखित मुख्य विशेषताओं में से किसका भौगोलिक आधार नहीं है?
(a) विशाल क्षेत्र आकार
(b) भौतिक तथा सांस्कृतिक विविधताएँ
(c) सामाजिक-आर्थिक विकास में क्षेत्रीय असमानताएँ
(d) संघ राज्य क्षेत्र और राज्यों के बीच सत्ता और कार्यो का विभाजन
उत्तर-(d) : न्यूमैन (1955) के अनुसार ‘‘संघवाद एक ऐसी युक्ति है जिसके माध्यम से विभिन्न प्रतिस्पद्धी शक्ति इकाइयों द्वारा शक्ति के अलग उपयोग को नियन्त्रित किया जाता है। इसमें नागरिक दोहरी न्याय प्रणाली एक संघ सरकार के तथा दूसरी प्रान्तीय सरकार के अधीन रहती है।
69. निम्नलिखित में से कौन सा देश विश्व में मानव प्रजातियों के अद्भुत समुच्चय के रूप में जाना जाता है?
(a) दक्षिण अफ्रीका संघ (b) यू. एस. ए.
(c) इंडोनेशिया (d) भारत
उत्तर-(d) : भारत विश्व में मानव प्रजातियों के अद्भुत समुच्चय के रूप में जाना जाता है। भारत विविधताओं का देश है। भौतिक विभिन्नता भारत भूमि की और प्रजातिय विभिन्नता भारतीय जनसंख्या की विशिष्टता है। प्रख्यात मानवशाध्Eाी वी एस गुहा के अनुसार‚ भारतीय जनसंख्या में स्थित प्रजातीय वर्ग अत्यन्त प्राचीन (आदिम) लक्षणों से युक्त है जो सम्पूर्ण मानव जाति के प्रमुख प्रकारों के तत्वों का प्रतिनिधित्व करते है जो इतनी बड़ी संख्या में अन्यत्र नहीं मिलते है। 154
70. विश्व को दस क्षेत्रों में विभाजित करने वाला ‘भू सामरिक मॉडल’ किसने प्रतिपादित किया था?
(a) पी. जे. टेलर
(b) जॉन शॉर्ट
(c) जॉन एगन्यु
(d) सॉल कोहेन
उत्तर-(d) : विश्व को 10 क्षेत्रों में विभाजित करने वाला ‘भू सामरिक मॉडल’ संकल्पना का प्रतिपादन सॉल कोहेन ने किया है।
71. सूची- I को सूची- II से सुमेलित कीजिए और नीचे दिये गए कूटों का उपयोग करते हुए सही उत्तर का चयन कीजिए :
सूची – I सूची – II
(प्रशासनिक इकाई का (देश का नाम) नाम)
a. जिला 1. फ्रांस
b. विभाग 2. भारत
c. देश 3. जर्मनी
d. क्राइस 4. ग्रेट ब्रिटेन
कूट:
a b c d
(a) 1 2 3 4
(b) 4 2 3 1
(c) 2 1 4 3
(d) 3 2 1 4
उत्तर-(c) :
सूची – I सूची – II प्रशासनिक इकाई का नाम देश का नाम
A. जिला 1. भारत
B. विभाग 2. फ्रांस
C. देश 3. ग्रेट ब्रिटेन
D. क्राइस 4. जर्मनी
72. निर्वाचन सीमाओं में परिवर्तनों की सफलता को मापने के लिए हम निम्नलिखित की संकल्पना का उपयोग करते हैं?
(a) प्रतिनिधित्व
(b) दुरसंविभाजन
(c) वैध प्रतिभागिता
(d) गैर-वैध प्रतिभागिता
उत्तर-(b) : निर्वाचन सीमाओं में परिवर्तनों की सफलता मापने के लिए हम दुरसंविभाजन की संकल्पना का उपयोग करते है।
73. भौगोलिक अध्ययनों में कल्याण उपागम के स्थानिक अंतरों पर बल दिया जाता है
(a) सामाजिक आर्थिक विकास
(b) विकास में सरकारी-प्राइवेट प्रतिभागिता
(c) अवसंरचनात्मक विकास
(d) जीवन की गुणवत्ता
उत्तर-(d) : भौगोलिक अध्ययनों में कल्याण उपागम के अन्तर्गत जीवन की गुणवत्ता सम्बन्धी स्थानिक अंतरों पर बल दिया जाता है।
74. भूगोल में ‘सांस्कृतिक घुमाव’ किसके लिये जिम्मेदार है?
(a) सामाजिक तथा सांस्कृतिक भूगोल को एक दूसरे के समीप लाना
(b) सामाजिक भूगोल का सांस्कृतिक भूगोल के ऊपर होना।
(c) सामाजिक और सांस्कृतिक भूगोल के बीच रिक्तता उत्पन्न करना।
(d) सामाजिक भूगोल के महत्व को कम करना।
उत्तर-(a) : सांस्कृतिक घुमाव सामाजिक तथा सांस्कृतिक भूगोल को एक दूसरे के समीप लाने के लिए जिम्मेदार है।
75. सूची- I को सूची- II के साथ सुमेलित करें और नीचे दिये कूटों से सही उत्तर का चयन करें:
सूची – I सूची – II
(उद्योग) (अवस्थिति)
a. ऐलुमिनियम i. मैसूर
b. ताँबा प्रगलन ii. रेनूकूट
c. जस्ता प्रगलन iii. विशाखापट्टनम
d. रेशम iv. खेतड़ी
कूट:
a b c d
(a) ii iv iii i
(b) i ii iv iii
(c) iv iii i ii
(d) iii ii iv i
उत्तर-(a) :
सूची – I सूची – II उद्योग अवस्थिति
A. ऐलुमिनियम 1. रेनूकूट
B. ताँबा प्रगलन 2. खेतड़ी
C. जस्ता प्रगलन 3. विशाखापट्टनम
D. रेशम 4. मैसूर

Top
error: Content is protected !!