You are here
Home > Previous Papers > GEOGRAPHY UGC NTA NET JRF PREVIOUS PAPERS IN HINDIयूजीसी नेट/जेआरएफ परीक्षा‚ जून- 2014 भूगोल व्याख्या सहित द्वितीय प्रश्न-पत्र का हल 0015.

GEOGRAPHY UGC NTA NET JRF PREVIOUS PAPERS IN HINDIयूजीसी नेट/जेआरएफ परीक्षा‚ जून- 2014 भूगोल व्याख्या सहित द्वितीय प्रश्न-पत्र का हल 0015.

GEOGRAPHY UGC NTA NET JRF PREVIOUS PAPERS IN HINDIयूजीसी नेट/जेआरएफ परीक्षा‚ जून- 2014 भूगोल व्याख्या सहित द्वितीय प्रश्न-पत्र का हल

1. एकल प्रमुख भू-आकृतिक प्रक्रिया द्वारा उत्पन्न भूदृश्य कहलाते हैं−
(a) सरल भूदृश्य
(b) मिश्रित भूदृश्य
(c) एक-चक्रीय भूदृश्य
(d) बहु-चक्रीय भूदृश्य
उत्तर-(a) : एकल प्रमुख भू-आकृतिक प्रक्रिया द्वारा उत्पन्न भूदृश्य सरल भूदृश्य कहलाते हैं।
2. दीर्घ आकारीय सपाट शीर्षों के बालू के कटक जो प्रचलित पवनों के समानांतर फैले हैं‚ परंतु निपाती अग्रांतों के बगैर हैं‚ को किस नाम से पुकारा जाता है?
(a) व्हेलबैक (b) सीफ
(c) बरखान (d) बालु का अपोढ़
उत्तर-(a) : ऐसे कटक जो प्रचलित पवनों के समानान्तर फैले हो उन्हें व्हेलबैक कहते हैं। बरखान-बरखान वस्तुत: अनुप्रस्थ बालू के स्तूप के ही विशिष्ट रूप होते है। इनका आकार नवचन्द्राकार होता है ये मुख्य रूप से पवन की दिशा के समकोण पर निर्मित होते हैं इनका पवनमुखी भाग उत्तम तथ विमुखी भाग अवतल होता है। इनके शिखर की ओर पूर्ण विकसित दो सींग होती है‚ जो वायु के चलने की दिशा में निकलती होती है तथा मध्य में सर्वाधिक ऊँचे हैं। इनकी चौड़ाई लम्बाई की अपेक्षा लगभग 12 गुना अधिक होती है।
3. ऐसी नदी घाटियों को जिनके मार्गों का नियंत्रण ऐसे कारकों द्वारा होता है‚ जिन्हें निर्धारित नहीं किया जा सकता‚ को कहते हैं−
(a) अनुवर्ती (b) परवर्ती
(c) अक्रमवर्ती (d) नवानुवर्ती
उत्तर-(c) : जो नदियाँ प्रादेशिक ढाल के अनुरूप न होकर प्रतिकूल दिशा में तथा भौतिकीय संरचना के आर-पार प्रवाहित होती है उन्हें अक्रमवर्ती सरिता कहते हैं। अक्रमवर्ती अपवाह तन्त्र के अन्तर्गत पूर्ववर्ती तथा पूर्वारोपित सरितायें आती है।
4. सूची-I को सूची-II के साथ सुमेलित करें और नीचे दिए कूटों से सही उत्तर का चयन करें− सूची-I सूची-II पुस्तकें लेखक
A. प्रिसिंपल्स ऑफ 1. एल.सी. किंग जियोमॉरफोलॉजी
B. द स्टडी ऑफ लैंड 2. डब्ल्यू. डी. थॉर्नबरी
C. अनेस्टेबल अर्थ 3. आर.जे. स्माल
D. मॉरफोलॉजी ऑफ द अर्थ 4. जे.ए. स्टीयर्स A B C D
(a) 2 3 4 1
(b) 1 2 3 4
(c) 4 3 2 1
(d) 3 1 4 2
उत्तर-(a) : सूची-I सूची-II पुस्तकें लेखक
A. प्रिसिंपल्स ऑफ 1. डब्ल्यू. डी. थॉर्नबरी जियोमॉरफोलॉजी
B. द स्टडी ऑफ लैंड 2. आर.जे. स्माल
C. अनेस्टेबल अर्थ 3. जे.ए. स्टीयर्स
D. मॉरफोलॉजी ऑफ द अर्थ 4. एल.सी. किंग
5. ढाल प्रतिस्थापन मॉडल किसने प्रतिपादित किया था?
(a) वुड (b) डेविस
(c) पेंक (d) स्ट्रॉलर
उत्तर-(c) : ढाल का प्रतिस्थापन मॉडल पेंक ने प्रतिपादित किया था। पेंक ने ढाल से सम्बन्धित विचारों को जर्मन भाषा में प्रस्तुत किया था। पेंक के दृष्टिकोण का वास्तविक प्रदर्शन 1953 में हुआ जब Czech और Boswell ने Die Morphoogische Analyse का अंग्रेजी अनुवाद ‘‘मॉरफोलॉजीकल एनालिसिस ऑफ लैण्डफार्म’’ प्रस्तुत किया। पेंक का ढाल प्रतिस्थापन परिकल्पना में प्रमुख उद्देश्य बहिर्जात प्रक्रमों तथा स्थलरूप के अन्तर्जात प्रक्रमों के साथ सम्बन्ध स्थापित करना था।
6. निम्नलिखित में से किसने अवलोकन किया कि तिब्बती पठार का ग्रीष्म तापन भारत पर मानसूनी परिसंचरण के लिए सर्वाधिक महत्वपूर्ण कारक है?
(a) फोहन (b) कोटेश्वरम
(c) फ्रॉस्ट (d) हैली
उत्तर-(b) : भूगोलवेत्ता कोटेश्वरम ने अवलोकन किया कि तिब्बती पठार का ग्रीष्म तापन भारत पर मानसूनी परिसंचरण के लिए सर्वाधिक महत्वपूर्ण कारक है।
7. जलवायु वर्गीकरण की कोपेन की योजना के अनुसार ‘ई’ (ध्रुवीय या पर्वतीय) प्रकार की जलवायु कहाँ पाई जाती है?
(a) नागालैंड
(b) अरूणाचल प्रदेश
(c) सिक्किम
(d) जम्मू एण्ड कश्मीर
उत्तर-(d) : भारत की जलवायु के क्रमबद्ध अध्ययन का प्रथम प्रयास एचÊ ईÊ बलैनफोर्ड ने 1889 में किया था। जिन्होंने यहाँ की जलवायु में विश्व व्यापी जलवायु भिन्नताओं का संकेत दिया। बाद में 1918 ईÊ में ब्लाडिमिर कोपेन ने विश्व की जलवायु का अधिक व्यवस्थित वर्गीकरण प्रस्तुत किया। कोपेन ने ई (ध्रुवीय या पर्वतीय जलवायु) जलवायु का विस्तार जम्मू/काश्मीर तथा हिमाचल प्रदेश के क्षेत्रों में बताया। इन क्षेत्रों में सबसे गर्म माह का औसत ताप 100
से. से कम पाया जाता है।
8. निम्नलिखित में से कौन-सा पवन को प्रभावित करने वाला कारक नहीं है?
(a) दाब प्रवणता (b) घर्षण
(c) चुंबकत्व (d) कोरिऑलिस प्रभाव
उत्तर-(c) : दाब प्रवणता‚ घर्षण तथा कोरिऑलिस प्रभाव पवन को प्रभावित करने वाले कारक हैं। दो स्थानों के वायुदाब के अंतर को वायुदाब प्रवणता कहते हैं। वायुसंचरण की दिशा दाब प्रवणता की दिशा पर निर्भर करती है अर्थात वायु की प्रवाह दिशा सर्वदा उच्च वायुदाब प्रवणता से न्यून वायु दाब प्रवणता की ओर होती है अर्थात वायु की दिशा उच्च वायुदाब से न्यून वायुदाब की ओर होता है। घर्षण बल दाब प्रवणता बल की दिशा के विपरीत अर्थात वायु के क्षैतिज प्रवाह के विपरीत कार्य करता है। इस तरह घर्षण बल दाब प्रवणता के सहारे उच्च वायुदाब से निम्न वायुदाब की ओर प्रवाहित होने वाली हवा के स्वतन्त्र प्रवाह में बाधा उपस्थित करता है‚ परिणामस्वरूप यह कोरिऑलिस बल के परिणामस्वरूप हवाएँ उत्तरी गोलार्द्ध में दाहिने ओर तथा दक्षिणी गोलार्द्ध में बायीं ओर मुड़ जाती है।
9. नीचे सूचीबद्ध स्थानों में से किसमें उच्चतम वार्षिक तापान्तर होना चाहिए?
(a) विषुवतीय द्वीप
(b) उष्णकटिबंधीय तट
(c) धु्रवीय हिमटोपी
(d) मध्य अक्षांशीय महाद्वीपीय केंद्र
उत्तर-(d) : मध्य अक्षांशीय महाद्वीपीय केंद्र में दिन के समय तापमान अत्यधिक अधिक हो जाता है जबकि रात के समय तापमान अत्यधिक कम हो जाता है‚ जिस कारण इन क्षेत्रों में उच्चतम वार्षिक तापान्तर पाया जाता है।
10. द्रव स्थिति में गए बगैर ठोस का सीधे गैस में रूपान्तर का वर्णन करने के लिए किस शब्द का उपयोग किया जाता है?
(a) वाष्पीकरण (b) संघनन
(c) ऊर्ध्वपातीकरण (d) हिमीकरण
उत्तर-(c) : द्रव स्थिति में गए बगैर ठोस का सीधे गैस रूप में रूपान्तरण का ऊर्ध्वपातीकरण कहलाता है। H2O का द्रव अवस्था से गैसीय अवस्था में परिवर्तन होना वाष्पीकरण कहलाता है। आर्द्रता युक्त वायु जब संवहन प्रक्रिया द्वारा ऊपर उठती है तब ड्राई एडियाबेटिक लेप्स रेट द्वारा वायु संतृप्त होती है‚ और संतृप्त वायु के द्वारा ही संघनन की क्रिया प्रारम्भ होती है। जब तापमान के 00 से ऊपर होने पर संघनन की प्रक्रिया होती है‚ तब उस ताप बिन्दु को डियू प्वांइट (Dew Point) कहते हैं‚ तथा जब 00 से नीचे के तापमान पर संघनन की प्रक्रिया होती है तब यह ताप बिन्दु फ्रिजिंग प्वांइट कहलाता है।
11. वायु प्रदूषकों के रूप में कार्बन-मोनोऑक्साइड का मुख्य स्त्रोत है−
(a) वसा का तापीय वियोजन (b) रंग बनाना
(c) वात्या-भट्ठी (d) गैसोलीन मोटर निकास
उत्तर-(d) : गैसोलीन मोटर निकास वायु प्रदूषक के रूप में कार्बन मोनोआक्साइड का मुख्य दोत है।
12. अपेक्षाकृत गर्म सतही जल का प्रतिस्थापन करने के लिए गहन महासागरीय परतों से शीतल जल की ऊर्ध्वाकार गति क्या कहलाती है?
(a) पंकिलता (b) उन्मज्जन
(c) ऊर्ध्वगमन (अपवेलिंग) (d) हैलोक्लाइन
उत्तर-(c) : अपेक्षाकृत गर्म सतही जल का प्रतिस्थापन करने के लिए गहन महासागरीय परतों से शीतल जल की उर्ध्वाधर गति उर्ध्वगमन
(अपवेलिंग) कहलाती है। जल सतह का स्थल भाग से नीचे चला जाना या स्थल भाग का विवर्तनिक क्रिया द्वारा जल भाग से ऊपर उठ जाना ‘उन्मज्जन’ कहलाता है।
13. निम्नलिखित में से कौन-से प्रकार के समुद्री सतही तलछट में चूनायुक्त और सिलिकामय सिंधुपंक समाविष्ट है?
(a) नदीय (b) स्थलजात
(c) जीवजात (बायोजीनस) (d) जलजात (हाइड्रोजीनस)
उत्तर-(c) : जीवजात (बायोजीनस) प्रकार के समुद्री सतही तलछट में चूनायुक्त और सिलिकामय सिंधुपंक समाविष्ट है। इनकी स्थिति 1000 से 2000 फैदम के बीच महासागरों की तली पर पायी जाती है। चूना प्रधान ऊज को टेरोपॉड ऊज तथा ग्लोबिजेरिना ऊज में विभाजित किया जाता है। जबकि सिलिका प्रधान ऊज को रेडियोलरियन ऊज तथा डायटम ऊज में विभाजित किया जाता है।
14. शाकभक्षी और मांसभक्षी पशुओं जैसे कि शेर‚ गीदड़ और लकड़बग्घा की विशाल संख्या पाई जाती है−
(a) विषुवतीय वर्षा-प्रचुर वन में
(b) टैगा में
(c) ब्राजील कम्पोज में
(d) अफ्रीका के सवाना प्रदेश में
उत्तर-(d) : शाकभक्षी एवं मांसभक्षी पशुओं जैसे कि शेर‚ गीदड़ और लकड़बग्घा की विशाल संख्या अफ्रीका के सवाना प्रदेश में पायी जाती है।
15. सूची-I को सूची-II के साथ सुमेलित करें और नीचे दिए कूटों से सही उत्तर का चयन करें− सूची-I सूची-II
A. हरित पादप 1. अपघटक
B. पशु परजीवी 2. प्राथमिक उपभोक्ता
C. पादप परजीवी 3. द्वितीयक उपभोक्ता
D. कवक 4. उत्पादक A B C D
(a) 4 3 2 1
(b) 2 1 4 3
(c) 3 2 1 4
(d) 1 2 4 3
उत्तर-(a) :
सूची-I सूची-II
A. हरित पादप 1. उत्पादक
B. पशु परजीवी 2. द्वितीयक उपभोक्ता
C. पादप परजीवी 3. प्राथमिक उपभोक्ता
D. कवक 4. अपघटक
16. भूगोल में विधि-विषयक उपागम किस पर बल देता है?
(a) आगमनात्मक अध्ययन (b) विधि निर्माण अध्ययन
(c) भाव चित्रात्मक अध्ययन (d) आनुभविक अध्ययन
उत्तर-(b) : भूगोल में विधि-विषयक उपागम विधि-निर्माण अध्ययन पर बल देता है।
17. निम्नलिखित में से कौन-सा युग्म सही सुमेलित नहीं है?
लेखक पुस्तक
(a) इब्न खल्दुन – मुकादिमा
(b) अल बालाखी – किताबुल अशकल
(c) अल मसूदी – रूट्स एवं रियल्म्स
(d) अल बरूनी – किताब-अल-हिंद
उत्तर-(c) : अलमसूदी अरबकालीन भूगोलवेत्ता थे। ये मानसून शब्द के प्रणेता हैं। इनकी प्रमुख रचनायें निम्न हैं-
1. किताब मुराज अल दहब
2. किताब अल-तनम-वल-इशरद
3. किताब अखबार अल जमा
4. किताब अल औसत
5. समय विवर्णणिका
6. सोने के चारागाह व जवाहरात की खानें। अलबरूनी की अन्य पुस्तकें निम्न हैं-
1. शशिकत अल हिन्द
2. अल कानून अल मसूदी
3. तारीखुल हिन्द
4. द बेस्टीज ऑफ द पास्ट
18. सूची-I को सूची-II के साथ सुमेलित करें और नीचे दिए कूटों से सही उत्तर का चयन करें− सूची-I सूचाी-II
(भूगोलवेत्ता) (विकसित अवधारणा)
A. एफ. रैटजेल 1. भूदृश्य विज्ञान
B. सी. रिट्टर 2. क्षेत्रीय विभेद
C. आर. हार्टशॉर्न 3. उद्देश्यवादी विचार
D. ओ. श्लूटर 4. सामाजिक डार्विनवाद A B C D
(a) 4 3 2 1
(b) 3 4 1 2
(c) 2 4 3 1
(d) 4 1 2 3
उत्तर-(a) : सूची-I सूची-II
(भूगोलवेत्ता) (विकसित अवधारणा)
A. एफ. रैटजेल 1. सामाजिक डार्विनवाद
B. सी. रिट्टर 2. उद्देश्यवादी विचार
C. आर. हार्टशॉर्न 3. क्षेत्रीय विभेद
D. ओ. श्लूटर 4. भूदृश्य विज्ञान
19. जर्मन भौगोलिक विचारधारा के विकास के सिलसिले में निम्नलिखित में से किसका सही अनुक्रम है?
(a) ट्रॉल‚ पैशल‚ हेटनर‚ रैटजेल
(b) पैशल‚ रैटजेल‚ हेटनर‚ ट्रॉल
(c) पैशल‚ ट्रॉल‚ हेटनर‚ रैटजेल
(d) रैटजेल‚ पैशल‚ ट्रॉल‚ हेटनर
उत्तर-(b) : पैशल जर्मन में भूगोल के प्रथम प्राध्यापक थे। वे ‘डास आसलैण्ड’ नामक सामाजिक पत्रिका का सम्पादन करते थे‚ जिसमें विदेशी लेखकों के भूगोल सम्बन्धी लेख छापा करते थे। पैशन ने 1870 में एक पुस्तक प्रकाशित की जिसका शीर्षक ‘तुलनात्मक भूविज्ञ् ान की नई समस्या’ था। फ्रेडरिक रेटजेल (1844-1904) द्वारा लिखित पुस्तकें निम्न हैं-
1. मानव भूगोल
2. वाल्फरकुण्डे
3. राजनीतिक भूगोल रेटजेल ने राजनीतिक भूगोल में ‘राज्य की जैविक उत्पत्ति का सिद्धांत’ प्रस्तुत किया। रेटजेल ने लेबिन्सराय की संकल्पना का प्रतिपादन किया। अल्फ्रेट हेटनर (1850-1941) की प्रमुख पुस्तकें निम्न हैं-
1. रूस का भूगोल
2. यूरोप का प्रादेशिक भूगोल
3. इंग्लैण्ड का विश्व पर प्रभुत्व एवं युद्ध
4. महाद्वीपों का धरातलीय स्वरूप
20. ‘विश्वरचना’ (कोस्मोग्राफी) शब्द किसने प्रतिपादित किया और उसे ‘यूरैनोग्राफी तथा ज्यॉग्राफी’ में विभाजित किया?
(a) ओ. पैशल (b) सी. रिट्टर
(c) बी. वरेनीयस (d) ए. हम्बोल्ट
उत्तर-(d) : हम्बोल्ट की महत्वपूर्ण कृति कॉसमास 1845 ईÊ में प्रकाशित हुयी‚ जिसमें उनकी यात्राओं का विस्तृत वर्णन है। हम्बोल्ट प्रेरणिक विधि (Inductive Method) में विश्वास करते थे। उन्होंने अनुसन्धान की आनुभाविक विधि के महत्व पर बल दिया। इन्हें आधुनिक भूगोल का संस्थापक माना जाता था।
21. ‘पर्सपैक्टिव ऑन नेचर ऑफ जियोग्राफी (1959)’ नामक पुस्तक के लेखक कौन हैं?
(a) एलेन चर्चिल सेंपल (b) रूडोल्फ जेलेन
(c) रिचर्ड हार्टशॉर्न (d) इसइया बोमैन
उत्तर-(c) : रिचार्ड हॉर्टशोर्न अमेरिकन भूगोलवेत्ता थे। इन्होंने भूगोल में इंडियोग्राफिक दृष्टिकोण का विकास किया। इन्होनें भूगोल में क्षेत्रीय भिन्नता की अवधारणा को सशक्त किया। हॉर्टशोर्न की प्रमुख पुस्तकें निम्न है। नेचर ऑफ जियोग्राफी (1939)‚ पर्सपैक्टिव ऑन नेचर ऑफ जियोग्राफी (1959) एलन चर्चिल अमेरिकन भूगोलवेत्ता थी‚ तथा रेटजेल की शिष्या थी। इनकी प्रमुख पुस्तकें निम्न थी-
इन्फ्लूयन्स ऑफ जियोग्राफिकल इनवायरमेण्टल‚ जियोग्राफी ऑफ मेडीटरेनियन रीजन। अमेरिकन हिस्ट्री एण्ड इट्स जियोग्राफिकल कन्डीशन। ईसाबोमेन अमेरिकन भूगोलवेत्ता तथा संभववादी विचारक थी। इनकी प्रमुख पुस्तकें निम्न है-
The New World, Problems in Political Geography in Relation to social science, The Geography Of Central Andes,The Pioneer Fringe.
22. शुद्ध (नेट) जनसंख्या परिवर्तन किसके द्वारा निर्धारित होता है?
(a) मर्त्यता (b) प्रवास
(c) प्रजननता (d) ‘a’ और ‘c’ दोनों
उत्तर-(d) : शुद्ध (नेट) जनसंख्या परिवर्तन मर्त्यता तथा प्रवास द्वारा निर्धारित होता है। किसी निश्चित क्षेत्र एवं समयावधि में मृत्युओं या मृतकों की संख्या को मर्त्यता कहते हैं। प्रवास सामान्यत: निवास स्थान को बदलते हुये एक भौगोलिक इकाई से दूसरी इकाई के लिए भौगोलिक गतिशीलता का एक रूप है।
23. ग्रामीण घर किसका सूचक है?
(a) पर्यावरण
(b) प्रजातीय तत्व
(c) फैशन तथा शैली
(d) आधुनिक वास्तुकला डिजाइन
उत्तर-(a) : ग्रामीण घर पर्यावरण का सूचक है।
24. नगरीय वृद्धि की गतिकी में प्रारंभ की अवस्था किससे संबंधित है?
(a) वह कारक जो एक विशेष स्थान में नगर को जन्म देता है
(b) वह प्रक्रिया जिसके द्वारा अलग-अलग प्रकार्यात्मक क्षेत्रों का निर्माण होता है
(c) केंद्र से गतिविधियों की बाहर की ओर‚ प्राय: अरीय‚ गति
(d) गतिविधियों को क्षेत्र से बाहर करने का प्रतिरूप
उत्तर-(a) : नगरीय वृद्धि की गतिकी में प्रारम्भ की अवस्था उस कारक से सम्बन्धित है जो एक विशेष स्थान में नगर को जन्म देता है। नगर को जन्म देने वाले प्रभावी कारक-जल की उपलब्धता उपजाऊ कृषि‚ खनिज संसाधनों की उपलब्धता‚ उपयुक्त जलवायु‚ रोजगार की उपलब्धता आदि है।
25. टुंड्रा में परिवहन का मुख्य साधन है−
(a) ऊँट (b) गधा
(c) स्लेज (d) घोड़ा
उत्तर-(c) : टुण्ड्रा में परिवर्तन का मुख्य साधन स्लेज है। वृक्षहीन आर्कटिक‚ उप आर्कटिक तथा यूरेशिया के उत्तरी क्षेत्र को टुण्ड्रा कहते हैं। टुण्ड्रा प्रदेश में वनस्पतियाँ लघु झाड़ियों के रूप में होती है। इन प्रदेशों में बर्फ पिघलने पर मॉस तथा लाइकेन उग जाती है।
26. चेन्नई-बैंगलुरू गलियारे (कॉरिडोर) का विकास किस पर आधारित है?
(a) ऑटोमोबाइल तथा सूचना प्रौधोगिकी उद्योग
(b) सूती-वस्त्र और कपड़ा उद्योग
(c) औषधीय तथा रासायनिक उद्योग
(d) आवासीय तथा खुदरा विकास
उत्तर-(a) : चेन्नई – बेंगलुरू गलियारे (कोंरिडोर) का विकास ऑटोमोबाइल तथा सूचना प्रोद्योगिकी उद्योग पर आधारित है।
27. हाल ही में नगरीय – औद्योगिक विकास में प्रमुख फोकस किस पर रहता है?
(a) नोडल विकास
(b) गुच्छ विकास
(c) पत्तन नगर उन्मुखी विकास
(d) ‘a’ और ‘c’ दोनों
उत्तर-(b) : हाल ही में नगरीय औद्योगिक विकास में फोकस गुच्छ विकास पर रहता है।
28. उच्च स्तर का प्रबंधकीय तथा कार्यकारिणी प्रशासनिक पद किस श्रेणी में आता है?
(a) प्राथमिक गतिविधियाँ
(b) द्वितीयक गतिविधियाँ
(c) तृतीयक गतिविधियाँ
(d) चतुर्थक गतिविधियाँ
उत्तर-(d) : उच्च स्तर का प्रबन्धकीय तथा कार्यकारिणी प्रशासनिक पर चतुर्थक गतिविधियों की श्रेणी में आता है। चतुर्थक क्रियाओं के अन्तर्गत मूल रूप से मानव संसाधन सेवाओं को शामिल किया जाता है। उच्चतम स्तर की मानवीय कुशलता इसमें शामिल की जाती है। इसमें शामिल होने वाली कुशलता मूलत: अनुसन्धान एवं विकास के माध्यम से प्राप्त होती है। डाक्टर‚ इंजीनियर‚ शिक्षक‚ प्रशासक इसी कोटि में रखे जाते है। इस कोटि के श्रमिकों को white coller worker कहते हैं।
29. निम्नलिखित में से कौन-सा कथन सही है?
1. भूरा कोयला और निम्न श्रेणी का बिटुमिनस कोयला चतुर्थ कल्प में बने।
2. डोलोमाइट का लोहा एवं इस्पात उद्योग में उच्चताप सह सामग्र्री तथा फ्लक्स के रूप में उपयोग होता है।
3. सौर ऊर्जा‚ पवन‚ जलविद्युत तथा बायोगैस नवीकरणीय संसाधन हैं।
(a) 1‚ 2 और 3 (b) 1 और 2
(c) 2 और 3 (d) 1 और 3
उत्तर-(a) : उपरोक्त तीनों कथन सही है।
30. एडवर्ड उल्लमैन के मॉडल में वर्णित स्थानिक अंत:क्रिया के तीन आधार क्या हैं?
(a) पूरकता‚ स्थानान्तरणीयता और अंतरवर्ती अवसर
(b) पूरकता‚ वस्तु विशिष्ट संबंध और अतिरेक अभाव का संबंध
(c) पूरकता‚ सुविधा तथा आवासीय पड़ोस
(d) मानवीय व्यवहार‚ सुविधा और स्थानान्तरणीयता
उत्तर-(c) : पूरकता‚ सुविधा तथा आवासीय पड़ोस एडवर्ड उल्लमैन के मॉडल में वर्णित स्थानिक अंत: क्रिया के प्रमुख तीन आधार हैं।
31. जापान अपने किन कारणों से विश्व में एक अग्रणी औद्योगिक देश है?
1. विकसित जलीय विद्युत के कारण
2. धात्विक खनिजों के विशाल निक्षेप के कारण
3. उच्च स्तर की प्रौद्योगिकीय क्षमता के कारण
4. द्वीपीय अवस्थिति के कारण
(a) 1‚2‚ 3 और 4 (b) 1‚ 2 और 3
(c) 1 और 4 (d) 2 और 4
उत्तर-(c) : जापान के पास विकसित जलीय विद्युत तकनीक है। जिससे वह कोयला व अन्य खनिजों के विशाल निक्षेपों के न होने के कारण भी उच्च कोटि की औद्योगिक क्षमता में विकसित है। इसके साथ ही जापान की द्वीपीय स्थिति के कारण वह कच्चे व भारी माल का आसानी से आयात कर लेता है‚ और उससे उच्च कोटि का सामान निर्मित कर निर्यात करता हैं द्वीपीय अवस्थिति के कारण जापान की जलवायु भी समशीतोष्ण पायी जाती है‚ जो वहाँ की जनसंख्या को उच्च कोटि की कार्यकुशलता प्रदान करती है।
32. नीचे दो कथन दिये गये हैं: एक को अभिकथन (A) और दूसरे को कारण (R) का नाम दिया गया है:
अभिकथन (A) :
उन्नत प्रकार के रबर वृक्षों के विकास और बाद में कृत्रिम रबर के साथ‚ अमेजन बेसिन का रबर स्मृति से ज्यादा कुछ नहीं रह गया है।
कारण (R) : संसाधन मानवीय संस्कृति द्वारा सृजित तथा नष्ट किए जाते है। उपयुक्त दो कथनों के सन्दर्भ में निम्नलिखित में से कौन सा सही है?
(a) A सही हैं‚ परन्त्ुा R गलत है
(b) A गलत है‚ परन्तु R सही है
(c) A और R दोनों सही हैं और R, A की सही व्याख्या है
(d) A और R दोनों गलत हैं
उत्तर-(c) : उन्नत प्रकार के रबर वृक्षों के विकास और बाद में कृत्रिम रबर के साथ अमेजन बेसिन का रबर स्मृति से ज्यादा कुछ नही रह गया है‚ क्योंकि संसाधन मानवीय संस्कृति द्वारा सृजित तथा नष्ट किए जाते हैं। अमेजन बेसिन में उच्च कोटि के मानवीय संसाधन की कुशलता का अभाव पाया जाता है।
33. निम्नलिखित में से किस संस्कृति क्षेत्र की विशेषताएँ हैं
(i) प्राचीन सभ्यता और क्लासिकीय संस्कृति की परंपरा‚ (ii) प्राचीन नगर-राज्यों का उत्थान और
(iii) कृषि और अंगूर की खेती समेत बागवानी का महत्व?
(a) पूर्वी यूरोपीय (b) भारतीय
(c) भूमध्यसागरीय (d) चीनी
उत्तर-(c) : उपरोक्त विशेषताएं भूमध्यसागरीय संस्कृति क्षेत्र की विशेषताएं हैं।
34. पितृसत्तात्मक समाज और स्त्रियों की प्रभावशाली स्थिति के सह अस्तित्व की विरोधाभासी स्थिति किस जनजाति की विशेषता है?
(a) खासी जनजाति (b) भील जनजाति
(c) गौंड जनजाति (d) थारू जनजाति
उत्तर-(d) : प्रश्नगत विशेषताएँ थारू जनजाति में पायी जाती है। थारू जनजाति का निवास क्षेत्र उत्तर प्रदेश में तरई और भॉवर की संकीर्ण पट्टी का प्रदेश है। जो कुछ पूर्व के बिहार के उत्तरी भाग में फैला हुआ है। थारू प्रदेश का मुख्य भाग नैनीताल जिले में कीछा खातिमा‚ रामपुरा‚ सितारगंज‚ नामकमट्टा तथा वनवास्य आदि क्षेत्र है। इन क्षेत्रों की जलवायु मानसूनी है। थारू लोगों का भोजन चावल का भात‚ मछली‚ दाल‚ भैंस-गाय का दूध दही और जंगल में आखेट किये गये जन्तुओं का मांस है। पुरुषों की पोशाक धोती-कुर्ता तथा टोपी है। ध्Eिायों की पोशाक धोती और छोटी अंगरक्षी है। थारू लोगों का मुख्य व्यवसाय स्थायी कृषि हैं।
35. लोक नीति का भूगोल किसके भौगोलिक अध्ययन के साथ संबंधित है?
1. लोक नीतियों का सृजन और क्रियान्वयन
2. लोक नीतियों का क्रियान्वयन और निगरानी
3. लोक नीतियों का सृजन और मूल्यांकन
4. लोक नीतियों का मूल्यांकन
(a) 1 और 2 सही हैं (b) 2 और 3 सही हैं
(c) 2 और 4 सही हैं (d) 1 और 3 सही हैं
उत्तर-(c) : लोकनीति का भूगोल लोकनीतियों का क्रियान्वयन एवं निगरानी और लोकनीतियों का मूल्यांकन भौगोलिक अध्ययन के साथ सम्बन्धित है।
36. निम्नलिखित में से कौन-सी भाषा सेमिटो-हेमीटिक भाषाई परिवार से है?
(a) गोंडी (b) हिब्रू
(c) स्प्ेानिश (d) डच
उत्तर-(b) : सेमेटिक भाषा मुख्यत: पश्चिमी एशिया में फैला हुआ एक प्रमुख भाषा परिवार है। जिसमें विश्व के दो प्रमुख धर्मों – यहूदी और इस्लाम की धार्मिक पुस्तकें लिखी गयी है। अत: इस भाषा परिवार का अनतर्राष्ट्रीय महत्व बोलने वाले लोगों की संख्या की तुलना में धार्मिक कारण से अधिक है। इस भाषा परिवार की शाखाएँ हैं-
(i) पूर्वी शाखा (ii) उत्तरी शाखा (iii) दक्षिणी शाखा पूर्वी शाखा के अन्तर्गत अक्कादीन और बेबीलोनियन भाषाएँ समाहित है‚ जिनका ऐतिहासिक महत्व अधिक है। उत्तरी शाखाओं में दो प्रमुख भाषाएँ आती हैं – हिब्रू और फोनेशियन। हिब्रू पश्चिमी एशिया मुख्यता इजरायल की मूल भाषा है जिसमें प्राचीन बाइबिल का अधिकांश भाग लिखा गया है।
37. ‘‘जो पूर्वी यूरोप पर शासन करता है‚ वह हृदयस्थल पर शासन करता है‚ जो हृदयस्थल पर शासन करता है वह विश्व द्वीप को वश में रखता है।’’ यह किसका कथन है?
(a) मैकिण्डर (b) स्पाइकमैन
(c) अल्फ्रेड महान (d) ह्वट्लैसी
उत्तर-(a) : प्रश्नगत कथन मैकिण्डर का है। ब्रिटिश भूगोलवेत्ता एचÊ जेÊ मैकिण्डर ने 25 जून 1904 को लन्दन में ‘रॉयल जियोग्राफिकल सोसायटी के समक्ष एक शोधपत्र प्रस्तुत किया जिसका शीर्षक था- ‘द जियोग्राफिकल पाूयवट ऑफ हिस्ट्री’। मैकिण्डर ने यूरेशिया के आन्तरिक क्षेत्र को धुरी क्षेत्र बताया। 1919 में मैकिण्डर ने अपनी पुस्तक ‘डेमोक्रेटिक आइडियाज एण्ड रियल्टिज’ प्रकाशित की। 1943 में एक अन्य लेख ‘द राउण्ड वर्ल्ड एवं विनिंग आफ द पीस’ प्रकाशित किया। इस संकल्पना में विश्व शक्ति का आधार हृदय स्थल के समान ही उत्तरी अटलांटिक पूर्वी यूÊ एसÊ एÊ‚ पश्चिमी यूरोप को भी मान लिया और इसे ‘मिडलैण्ड बेसिन’ कहा।
38. भारत में समस्त नियोजन तकनीक किसके द्वारा तैयार किए गए मॉडल पर आधारित है?
(a) पी. सी. महालानोबिस (b) फील्डमैन
(c) डोमर (d) वी.एम. दांडेकर
उत्तर-(a) : भारत में समस्त नियोजन तकनीक पीÊसीÊ महालनोबिस के द्वारा तैयार किए गए मॉडल् पर आधारित है। भारत में प्रादेशिक नियोजन का शुभारम्भ स्वतन्त्रता के तुरन्त उपरान्त हो गया था। स्वतन्त्रता के केवल चार वर्ष बाद ही देश में पहली पंचवर्षीय योजना 1951 में लागू कर दी गयी। भारत विकासशील देशों के उन चुनिन्दा कुछेक देशों में से है‚ जहाँ प्रादेशिक नियोजन को संवैधानिक मान्यता प्राप्त है‚ तथा जहाँ प्रादेशिक नियोजन का संस्थागत ढाँचा उपलब्ध है।
39. प्रादेशिक विकास है−
(a) एकल-प्रकार्यात्मक उपागम
(b) बहु-प्रकार्यात्मक उपागम
(c) स्थान समृद्धता
(d) जनसंख्या वितरण की तर्कसंगतता
उत्तर-(b) : प्रादेशिक विकास बहुप्रकार्यात्मक उपागम है।
40. हफश्मिट के अनुसार‚ प्रादेशिक नियोजन के पिछले 100 वर्षों के इतिहास में उसके विकास के मुख्य चरणों में कालानुक्रमिक अनुक्रम बताइए−
1. सांस्कृतिक प्रदेशवाद अभिमुखता
2. महानगरीय अभिमुखता
3. प्राकृतिक संसाधन अभिमुखता
4. प्रादेशिक विज्ञान अभिमुखता
(a) 3‚ 2‚ 4‚ 1 (b) 1‚ 3‚ 4‚ 2
(c) 4‚ 1‚ 3‚ 2 (d) 3‚ 1‚ 4‚ 2
उत्तर-(d) : हफश्मिट के अनुसार प्रादेशिक नियोजन के पिछले सौ वर्षों के इतिहास में उसके विकास के मुख्य चरणों में कालानुक्रमिक इस प्रकार है-
(1) प्रादेशिक संसाधन अभिमुखता
(2) सांस्कृतिक प्रदेशवाद अभिमुखा
(3) प्रादेशिक विज्ञान अभिमुखा
(4) महानगरीय अभिमुखता
41. किसने यह व्याख्या की है कि ‘‘केवल एक प्रदेश है− पृथ्वी की सतह‚ जिस पर मानवता को अपना आवास मिला है’’?
(a) मिनशुल (b) विडाल डी ला ब्लाश
(c) फेनेमैन (d) हर्बर्टसन
उत्तर-(a) : प्रश्नगत कथन मिनशुल द्वारा कहा गया है। विडाल डी ला ब्लाश को मानव भूगोल का पिता कहा जाता है‚ तथा ब्लाश सम्भववादी विचारधारा के प्रतिपादक है। ब्लाश ने एनाल्स-डी-ज्याग्राफी नामक पत्रिका की स्थापना की तथा उनकी पुस्तकें निम्न हैं-
(i) टेबला-डि-ला-ज्याग्राफी-डि-ला-फ्रांस
(ii) मानव भूगोल के सिद्धांत ब्लाश ने फ्रांस में लघु स्वरूपीय क्षेत्रों को पेज कह है। एन्ड्रयू जॉन हरबर्टसन (1865-1975) ने सर्वप्रथम विश्व के प्राकृतिक प्रदेशों का सीमांकन किया था तथा इन्होंने सर्वप्रथम विश्व को 15 प्राकृतिक प्रदेशों में विभाजित किया था।
42. कृषि क्षेत्र है−
(a) समरूप प्रदेश (b) कार्यात्मक प्रदेश
(c) मॉडल प्रदेश (d) प्राकृतिक प्रदेश
उत्तर-(a) : कृषि प्रदेश समरूप प्रदेश है। कार्यात्मक प्रदेश- कार्यात्मक प्रदेश तत्वों के पारस्परिक क्रियाशीलता से जनित कार्यात्मक संगठन की एकरूपता पर आधारित क्षेत्रीय इकाई है। इनकी सीमाओं का निर्धारण क्षेत्रीय स्तर पर व्याप्त व्यवहारिक क्रियाशीलता के आधार पर किया जाता है। प्राकृतिक प्रदेश- प्राकृतिक प्रदेश ऐसे प्रदेश हैं जिनका निर्माण प्राकृतिक तत्वों के पारस्परिक अर्न्तसम्बन्धों से होता है‚ तथा तत्वों के वितरण प्रतिरूप में समरूपता समांगता‚ लाक्षणिक विशिष्टता आदि के आधार पर इसका निर्धारण किया जाता है। जैसे- जलवायु प्रदेश‚ विषुवतरेखीय प्रदेश इत्यादि।
43. दक्षिण से उत्तर तक हिमालय की श्रेणिायों के निम्नलिखित अनुक्रमों में से कौन-सा सही है?
(a) कराकोरम – लद्दाख – जास्कर – पीर पंजाल
(b) लद्दाख – जास्कर – पीर पंजाल – कराकोरम
(c) जास्कर – पीर पंजाल – कराकोरम – लद्दाख
(d) पीर पंजाल – जास्कर – लद्दाख – कराकोरम
उत्तर-(d) : दक्षिण से उत्तर तक हिमालय की श्रेणियों का क्रम इस प्रकार है- पीरपंजाल- जास्कर- लद्दाख – कराकोरम।
44. कोयले के उत्पादन की मात्रा तथा गुणवत्ता के संबंध में भारत का सबसे पुरातन तथा सबसे समृद्ध कोयला-क्षेत्र कौन-सा है?
(a) बोकारो (b) झरिया
(c) रानीगंज (d) माकूम-नजीरा
उत्तर-(c) : कोयले के उत्पादन की मात्रा तथा गुणवत्ता के संबन्ध में भारत का सबसे पुरातन तथा सबसे समृद्ध कोयला क्षेत्र रानीगंज
(पश्चिम बंगाल) है। रानीगंज दामोदर घाटी क्षेत्र का सबसे महत्वपूर्ण तथा बड़ा कोयला क्षेत्र है। इस क्षेत्र से देश का 35% कोयला प्राप्त होता है। झरिया कोयला क्षेत्र धनबाद जिले में स्थित झारखण्ड राज्य का सबसे बड़ा कोयला उत्पादक क्षेत्र है। देश के 90% से अधिक कोकिंग कोयले का भण्डार यहाँ स्थित है। कोयला धोवन शालाएँ सुदामडिह तथा मोनिडिह में स्थित है। बोकारो क्षेत्र यह हजारी बाग में स्थित है। यहाँ भी कोक बनाने योग्य उत्तम कोयला मिलता है। यहाँ कोयले की मुख्य तह करगाली है जो लगभग 66 मीटर मोटी है।
45. 2001 और 2011 की अवधि में उच्चतम तथा निम्नतम जनसंख्या घनत्व में अंतर क्रमश: कहाँ अंकित किया गया?
(a) हरियाणा और अरूणाचल प्रदेश
(b) उत्तर प्रदेश और तमिलनाडु
(c) पश्चिम बंगाल और नागालैंड
(d) बिहार और नागालैंड
उत्तर-(d) : 2011 की जनगणना के अनुसार भारत के पांच जनघनत्व वाले राज्य इस प्रकार हैं-
(1) बिहार – 1106
(2) पश्चिम बंगाल – 1028
(3) केरल – 860
(4) उत्तर प्रदेश – 829
(5) हरियाणा – ्र 573 उपरोक्त विकल्प में बिहार एवं नागालैण्ड में जनघनत्व का सर्वाधिक अन्तर दर्ज किया गया।
46. वृहद् भारतीय मरूस्थल (थार) में सिंचाई का सर्वाधिक महत्वपूर्ण स्त्रोत क्या है?
(a) नहर (b) कुँआ
(c) नल-कूप (d) उक्त सभी
उत्तर-(a) : नहर वृहद भारतीय मरुस्थल (थार) में सिंचाई का सर्वाधिक महत्वपूर्ण श्रोत है।
47. सबसे लंबी पश्चिम की ओर बहने वाली प्रायद्वीपीय नदी कौन-सी है?
(a) गोदावरी (b) कृष्णा
(c) नर्मदा (d) ताप्ती
उत्तर-(c) : सबसे लम्बी पश्चिम की ओर बहने वाली प्रायद्वीपीय नदी नर्मदा है। नर्मदा की उत्पत्ति अमरकंटक नामक स्थान से होती है। नर्मदा की प्रमुख सहायक नदियाँ तवा‚ हिरन‚ शक्कर‚ दूधी।
48. सूची-I को सूची-II के साथ सुमेलित करें और नीचे दिए कूटों से सही उत्तर का चयन करें− सूची-I सूचाी-II
(स्पेक्ट्रमी बैंड) (तरंगदैर्ध्य)
A. दृश्यमान क्षेत्र 1. 8-12 सूक्ष्म मीटर
B. लगभग-अवरक्त 2. 1 मिमी -1.0 मीटर
C. सूक्ष्मतरंग 3. 0.7-3.0 सूक्ष्म मीटर
D. तापीय अवरक्त 4. 0.4-0.7 सूक्ष्म मीटर A B C D
(a) 4 2 3 1
(b) 3 4 1 2
(c) 4 3 2 1
(d) 3 4 2 1
उत्तर-(c) : सूची-I सूची-II
(स्पेक्ट्रमी बैंड) (तरंगदैर्ध्य)
A. दृश्यमान क्षेत्र 1. 0.4 – 0.7 सूक्ष्म मीटर
B. लगभग-अवरक्त 2. 0.7-3.0 सूक्ष्म मीटर
C. सूक्ष्मतरंग 3. 1 मिमी -1.0 मीटर
D. तापीय अवरक्त 4. 8-12 सूक्ष्म मीटर
49. निम्नलिखित मे से किस प्रकार के आँकड़े का वितरण दर्शाने के लिए प्रवाही मानचित्रों का उपयोग किया जाता है?
(a) रेखा
(b) क्षेत्रीय
(c) बिंदु
(d) आयतन
उत्तर-(a) : रेखा आँकड़े का वितरण दर्शाने के लिए प्रवाही मानचित्रों का उपयोग किया जाता है।
50. संचयी आवृत्ति वितरण किसके द्वारा दर्शाया जाता है?
(a) आयतचित्र
(b) आवृत्ति वक्र
(c) तोरण (ओगिव)
(d) पाई आरेख
उत्तर-(c) : संचयी आवृत्ति वितरण तोरण (ओगिव) द्वारा दर्शाया जाता है। 142

Top
error: Content is protected !!