You are here
Home > Previous Papers > GEOGRAPHY UGC NTA NET JRF PREVIOUS PAPERS IN HINDIयूजीसी नेट/जेआरएफ परीक्षा‚ दिसम्बर- 2014 भूगोल व्याख्या सहित द्वितीय प्रश्न-पत्र का हल 0013.

GEOGRAPHY UGC NTA NET JRF PREVIOUS PAPERS IN HINDIयूजीसी नेट/जेआरएफ परीक्षा‚ दिसम्बर- 2014 भूगोल व्याख्या सहित द्वितीय प्रश्न-पत्र का हल 0013.

GEOGRAPHY UGC NTA NET JRF PREVIOUS PAPERS IN HINDIयूजीसी नेट/जेआरएफ परीक्षा‚ दिसम्बर- 2014 भूगोल व्याख्या सहित द्वितीय प्रश्न-पत्र का हल

1. ‘सक्रिय परत’ पद संबंधित है−
(a) नदीय निक्षेपण
(b) परिहिमनदीय प्रक्रिया
(c) भूविवर्तनिक
(d) मृदा रचना की प्रक्रिया
उत्तर-(b) : सक्रिय परत परिहिमनदीय प्रक्रिया से सम्बन्धित है। जिन क्षेत्रों में विशुद्ध परिहिमानी जलवायु पाई जाती है और परमाफास्ट का पूर्ण विकास हुआ रहता है वहाँ भी धरातल की ऊपरी सतह का वर्ष भर हिमीकरण नहीं हो पाता है इस प्रकार परमाफास्ट स्तर के ऊपर एक ऐसी सतह होती है जिसमें मौसम के साथ तापक्रम में परिवर्तन होता रहता है। ग्रीष्मकाल के आगमन के साथ जैसे ही तापक्रम 0o सेÊ से ऊपर उठने लगता है‚ हिमीकृत ऊपरी सतह पिघलने लगती है‚ परन्तु गर्मी बढ़ जाने से ऊपरी सतह दिन रात पिघली अवस्था में होती है। शरद के आगमन के साथ यह सतह पुन: जमने लगती है इस तरह इस सतह को सक्रिय सतह कहा जाता है।
2. सूची-I को सूची-II से सुमेलित करें और नीचे दिए गए कूटों से सही उत्तर का चयन करें− सूची-I सूची-II
(अवधारणा/सिद्धांत) (प्रतिपादक)
A. आधार स्तर 1. जी.के. गिलबर्ट
B. समानांतर निवर्तन 2. डब्ल्यू. पेंक
C. अपरदन चक्र 3. जे. डब्ल्यू. पॉवेल
D. धारा दक्षता और क्षमता 4. डब्ल्यू. एम. डेविस A B C D
(a) 3 2 4 1
(b) 2 1 3 4
(c) 3 2 1 4
(d) 2 4 1 3
उत्तर-(a) :
अवधारणा/सिद्धान्त प्रतिपादक
आधार स्तर जेÊ डब्ल्यू पॉवेल सामानांतर निवर्तन डब्ल्यूÊ पेंक अपरदन चक्र डब्ल्यू. एम. डेविस धारा दक्षता और क्षमता जीÊ केÊ गिलबर्ट
3. जलयोजन प्रक्रिया का संबंध है−
(a) भौतिक और जैविक प्रक्रिया से
(b) भौतिक और रासायनिक प्रक्रिया से
(c) जैविक और रासायनिक प्रक्रिया से
(d) रासायनिक प्रक्रिया से
उत्तर-(b) : जलयोजन प्रक्रिया का सम्बन्ध भौतिक और रासायनिक प्रक्रिया से है। जल भौतिक तथा रासायनिक दोनों ही रूपों में अपरदन तथा निक्षेपण करता है। भौतिक रूप से जल नदीय‚ हिमानी तथा पवन से निर्मित स्थलाकृतियों के निर्माण में सहायक होता है तथा रासायनिक दृष्टि से जलयोजन प्रक्रिया भूमिगत स्थलाकृतियों के निर्माण में सहायक है। शुद्ध जल रासायनिक दृष्टि से असक्रिय होता है परन्तु जब जल कार्बन डाई आक्साइड गैस के सम्पर्क में आता है तो यह सक्रिय घोलक कारक हो जाता है। इस प्रकार यह भूमिगत स्थलाकृतियों के निर्माण में सहयोग करता है।
4. बेसाल्टी सागर पर्पटी का औसत घनत्व है−
(a) 2.65 ग्राम/सेमी3
(b) 2.75 ग्राम/सेमी3
(c) 2.90 ग्राम/सेमी3
(d) 3.0 ग्राम/सेमी3
उत्तर-(d) : सागरीय प्लेट का निर्माण प्रमुखत: बेसाल्ट एवं ग्रेबो से हुआ है क्योंकि इन तत्वों में Fe एवं Mg जैसे तत्वों की अधिकता पायी जाती है अत: सागरीय प्लेट का निर्माण अधिक घनत्व वाले तत्वों से होने के कारण इनका घनत्व महाद्वीपीय प्लेट से ज्यादा पाया जाता है। महाद्वीपीय प्लेटों का निर्माण ग्रेनाइट शैलों से होता है ये शैले प्रमुखत: एल्युमिनियम तथा सिलिकेट से निर्मित होती है जिसमें फेल्सफार की प्रधानता होती है महाद्वीपीय प्लेटों का औसत घनत्व 2.75 – 2.9 होता है।
5. भूमध्यसागरीय क्षेत्र में ग्रीष्म काल में सूखे के लिए जिम्मेदार पवन से संबंधित प्रमुख परिघटना क्या है?
(a) ग्रीष्म-काल में व्यापारिक पवनों का ध्रुवों की ओर स्थानांतरित होना।
(b) ग्रीष्म-काल में व्यापारिक पवनों का विषुवतीय क्षेत्र की ओर स्थानांतरित होना।
(c) ग्रीष्म-काल में महाद्वीप से पछुआ हवाओं का बहना।
(d) दक्षिण-पछुआ हवाओं का बहना।
उत्तर-(d) : भूमध्यसागरीय क्षेत्र में ग्रीष्मकाल में व्यापारिक पवनों का ध्रुवों की ओर स्थानान्तरित होना‚ ग्रीष्मकाल में सूखे के लिए जिम्मेदार है।
6. निम्नलिखित में से कौन-सा कारक वायुमंडलीय दबाव को प्रभावित नहीं करता है?
(a) ऊँचाई (b) जलवाष्प की उपस्थिति
(c) तापमान (d) वर्षा
उत्तर-(d) : धरातलीय सतह पर या सागर तल पर प्रति इकाई क्षेत्र
(जैसे एक वर्ग इंच‚ एक वर्ग सेन्टीमीटर‚ एक वर्ग मीटर आदि) पर ऊपर स्थित वायुमण्डल की समस्त परतों के पड़ने वाले समस्त भार को वायुदाब कहते है। उâँचाई अधिक होने पर वायुदाब बढ़ जाता है। वायुमण्डल में जलवाष्प की अधिक उपस्थिति भी वायुदाब बढ़ा देती है और तापमान अधिक होने पर वायुदाब कम हो जाता है और तापमान कम होने पर वायुदाब अधिक हो जाता है। इस पर ऊँचाई‚ जलवाष्प की उपस्थिति तथा तापमान तीनों ही कारक वायुमण्डलीय दबाव को प्रभावित करते है।
7. विषुवत-रेखा से धु्रव की ओर बहने वाली भूमंडलीय हवाओं का सही क्रम क्या है?
(a) पछुआ‚ व्यापारिक‚ ध्रुवीय पवन
(b) व्यापारकि‚ पछुआ‚ ध्रुवीय पवन
(c) व्यापारिक‚ धु्रवीय‚ पछुआ पवन
(d) ध्रुवीय‚ पछुआ‚ व्यापारिक पवन
उत्तर-(b) : विषुवत रेखा से ध्रुवों की ओर बहने वाली भूमण्डलीय हवाओं का सही क्रम इस प्रकार है-
व्यापारिक हवाएँ‚ पछुवा हवाएँ‚ ध्रुवीय हवाएँ
8. वृष्टि-पोषित और वृष्टि छाया क्षेत्र किसकी विशेषता है?
(a) चक्रवातीय वर्षा
(b) संवहनीय वर्षा
(c) पर्वतकृत वर्षा
(d) तापीय वर्षा
उत्तर-(c) : वृष्टि पोषित तथा वृष्टि छाया क्षेत्र पर्वतकृत वर्षा की विशेषता है। आर्द्र तथा उष्ण हवाएँ पर्वत के जिस ढाल पर टकराती है उसे पवनमुखी ढाल (windword slope) या वृष्टि पोषित ढाल कहते है तथा वर्षा इसी ढाल के सहारे होती है। पर्वत के जिस ढाल के सहारे हवा नीचे उतरती है उसे पवनविमुखी ढाल Leeword slope) कहते है। नीचे उतरने के कारण हवाओं का तापमान प्रति 1000 मीटर पर 100c की दर से बढ़ने लगता है जिस कारण वायु की शुष्कता बढ़ती जाती है‚ क्योंकि वायु की आर्द्रता सामर्थ्य में वृद्धि के कारण सापेक्षिक आर्द्रता घटती जाती है परिणामस्वरूप पवनविमुखी ढाल पर वर्षा नहीं हो पाती है। अत:
इस ढाल को वृष्टि छाया प्रदेश कहते है।
9. सूची-I में स्थानीय हवाओं के नाम दिए गए हैं और सूची-II में क्षेत्रों के नाम दिए गए हैं। सूची-I को सूची-II से सुमेलित करें और नीचे दिए गए कूटों से सही उत्तर का चयन करें− सूची-I सूची-II
(स्थानीय हवाएँ) (क्षेत्र)
A. लू 1. रॉकी
B. खमसिन 2. आल्पस
C. चिनूक 3. राजस्थान मरूस्थल
D. फॉन 4. मिदा A B C D
(a) 1 2 3 4
(b) 3 4 1 2
(c) 2 4 3 1
(d) 4 3 2 1
उत्तर-(b) : सूची का सुमेलन इस प्रकार है− स्थानीय हवाएँ क्षेत्र लू राजस्थान मरूस्थल खमसिन मिध्Eा चिनूक रॉकी फॉन आल्पस
10. निम्नलिखित में से किन दो क्षेत्रों के वर्षा की विशेषता कटिबंधीय मानसून वर्षा है?
1. सह्याद्री 2. गंगा डेल्टा
3. कश्मीर घाटी 4. लद्दाख क्षेत्र
(a) 1 तथा 3 (b) 2 तथा 4
(c) 1 तथा 2 (d) 3 तथा 4
उत्तर-(c) : सह्याद्री और गंगा डेल्टा क्षेत्रों के वर्षा की विशेषता कटिबन्धीय मानसून वर्षा है।
11. नीचे दो कथन दिए गए हैं‚ एक का अभिकथन (A) और दूसरे को कारण (R) कहा गया है। नीचे दिए गए कूटों से सही उत्तर का चयन करें :
अभिकथन (A) :
वनोन्मूलन के परिणामस्वरूप वायुमंडल में कार्बन डाइऑक्साइड के संवंâेद्रण में वृद्धि हुई है।
कारण (R) : भोजन बनाने के लिए प्रकाश-संश्लेषण प्रक्रिया के दौरान वन कार्बन डाइऑक्साइड का उपयोग करते हैं।
(a) A और R दोनों सत्य हैं और R, A की सही व्याख्या है
(b) A और R दोनों सत्य हैं परन्तु R, A की सही व्याख्या नहीं है
(c) A सत्य हैं‚ परन्त्ुा R असत्य है
(d) A असत्य है‚ परन्तु R सत्य है
उत्तर-(a) : वनोन्मूलन के परिणामस्वरूप वायुमण्डल में कार्बन डाई ऑक्साइड के संकेन्द्रण में वृद्धि हुई है क्योंकि भोजन बनाने के लिए प्रकाश-संश्लेषण प्रक्रिया के दौरान वन कार्बन डाई आक्साइड का उपयोग करते है। इस प्रकार कथन तथा कारण दोनों सत्य है। अत: अगर हम अधिकाधिक मात्रा में वनों की कटाई करेंगे तो हमारे वायुमण्डल में कार्बन-डॉईआक्साइड की मात्रा बढ़ती जायेगी क्योंकि वन श्वसन क्रिया द्वारा कार्बन डाई आक्साइड को अवशोषित कर लेते है जिससे हमारा वायुमण्डल हमारे लिए अनुकूलित बन जाता है।
12. सूची-I को सूची-II से साथ सुमेलित करें और नीचे दिए गए कूटों से सही उत्तर का चयन करें− सूची-I सूची-II
A. गोर 1. स्थलमंडल
B. द्रोणिका 2. वेलांचल
C. गेब्रो 3. वायूढ़ क्षेत्र
D. ग्रोइन 4. पर्वतन पट्टी A B C D
(a) 3 4 1 2
(b) 3 4 2 1
(c) 2 4 3 1
(d) 3 2 1 4
उत्तर-(a) : सूची-I सूचाी-I गोर राजस्थान मरूस्थल द्रोणिका पर्वतन पट्टी ग्रेब्रो स्थलखण्ड ग्रोइन वेलांचल
13. ‘तरंग कर्तित वेदी’ पाई जाती है−
(a) कैलिफोर्निया तट (b) होकैडो तट
(c) मेडागास्कर तट (d) मालाबार तट
उत्तर-(a) : तरंग कर्तित वेदी कैलिफोर्निया तट पर पाई जाती है। क्लिफ से सागरीय तरंगे टकरा कर उसके आधार पर खाँच
(notch) का निर्माण करती है। धीरे-धीरे खाँच के विस्तृत होने पर क्लिफ का ऊपरी लटकता भाग टूट कर गिरने लगता है तथा क्लिफ निरन्तर पीछे हटता जाता है इस क्रिया के कारण क्लिफ के सामने तटीय भाग पर जल के अन्दर एक मैदान का निर्माण हो जाता है जिसे तरंग घर्षित मैदान (wave-cut-plain) कहते हैं।
14. ‘विषुवतीय प्रतिधारा’ की औसत गहराई है−
(a) 50 मी. (b) 100 मी.
(c) 150 मी. (d) 200 मी.
उत्तर-(b) : विषुवत रेखीय प्रतिधारा की औसत गहराई 100 मीÊ है। इस धारा की उत्पत्ति प्रशान्त महासागर तथा अटलांटिक महासागर में उत्तरी विषुवत रेखीय धारा तथा दक्षिणी विषुवत रेखीय धारा के मध्य होती है। विषुवतीय प्रतिधारा की दिशा उत्तरी विषुवत रेखीय धारा तथा दक्षिणी विषुवत रेखीय धारा के विपरीत होती है। विषुवत रेखीय प्रति धारा की दिशा पश्चिम से पूर्व की ओर होती है ये ढाल प्रवणता के कारण प्रवाहित होती है।
15. गल्फ-स्ट्रीम और क्यूरोशियों धाराएँ किस कारण तेजी से उत्तर की ओर बहती हैं?
(a) पश्चिमी तीव्रीकरण (b) पूर्वी तीव्रीकरण
(c) उत्तरी तीव्रीकरण (d) दक्षिणी तीव्रीकरण
उत्तर-(a) : गल्फ स्ट्रीम और क्यूरोशियों धाराएँ पश्चिमी तीव्रीकरण के कारण तेजी से ऊपर उठती है। ये दोनों ही गर्म जल धाराएँ है। गल्फ स्ट्रीम की उत्पत्ति आन्ध्र महासागर में फ्लोरिडा और अंटलिस धारा के मिलने से होती है। इसका अस्तित्व केप हेटनर से उत्तर में मध्य अक्षांश (450) से उत्तरी अटलांटिक ड्रिफ्ट तक बना रहता है इसके दाहिने ओर सारगैसो सागर तथा बाई ओर लेब्रोडोर की ठण्डी धारा का अस्तित्व रहता है। क्यूरोशियों धारा प्रशान्त महासागर में प्रवाहित होती है।
16. ‘द प्रिंसिपल्स ऑफ ह्यूमन जिओग्राफी’ के लेखक हैं?
(a) ई. हंटिगटन (b) एच.एच. बोरो
(c) एफ. रेट्जेल (d) ई.सी. सेम्पल
उत्तर-(a) : एल्सवर्थ हटिगंटन अमेरिकन भूगोलवेत्ता था। ये नियत्तिवादी विचारक थे जिन्होंने बताया किसी भी संस्कृति के विकास में जलवायु की भिन्नता का प्रत्यक्ष प्रभाव पड़ता है। उन्होंने जलवायु के आधार पर विश्व को विभिन्न प्रदेशों में विभक्त किया। इनकी प्रमुख पुस्तकें है-
1. द प्रिंसिपल्स ऑफ ह्यूमन जिओग्राफी
2. द पल्स ऑफ एशिया (1907)
3. सिविलाइजेशन एण्ड क्लाइमेट (1915)
4. करेक्टर एण्ड रेसेज
5. मेन स्प्रिंग ऑफ सिविलाइजेशन
6. इकोनामी एण्ड सोशल जिओग्राफी
17. ‘कॉस्मोग्राफी’ पद की रचना किसने की थी?
(a) मेकिंडर हेलफोर्ड जे (b) हम्बोल्ट
(c) कांट इमैनुअल (d) टॉलेमी
उत्तर-(b) : जर्मन भूगोलवेत्ता अलेक्जेंडर वॉन हम्बोल्ट ने क्रमबद्ध तथा प्रादेशिक भूगोल में अन्तर स्पष्ट किया। इन्होंने पृथ्वी को मानव का घर बताया। उनकी प्रमुख पुस्तकें निम्न हैकॉ समास तथा एशिया सेन्ट्रले। हम्बोल्ट कार्य कारण अर्न्तसम्बन्ध में विश्वास रखते थे। ये क्रमबद्ध पद्धति के पक्षधर थे।
18. सूची-I को सूची-II से सुमेलित करें और नीचे दिए
कूटों से सही उत्तर का चयन करें− सूची-I सूची-II
A. विविधता में एकता 1. वाइडल-डी-ला.ब्लाश
B. सामाजिक निश्चयवाद 2. जीन ब्रूंस
C. समग्र स्थलीय
(टेरेस्ट्रीयल होल) 3. कार्ल रिटर
D. अन्योन्यक्रिया 4. फ्रेडरिक रेटजेल A B C D
(a) 1 2 3 4
(b) 2 3 4 1
(c) 2 3 1 4
(d) 4 3 2 1
उत्तर-(c) :
सूची-I सूची-II
विविधता में एकता कार्ल रिटर सामाजिक निश्चयवाद फ्रेडरिक रेटजेल समग्र स्थलीय बाइडल डी. ला. ब्लाश
(टेरेस्ट्रीयल होल) अन्योन्याक्रिया जीन बू्रन्स
19. ‘प्रसारी’ और ‘पश्च धावन’ अवधारणा आरंभ की गई थी−
(a) ए.ओ. हर्षमैन (b) गुन्नार मिर्डल
(c) गुंडर फ्रेंक (d) समीर अमीन
उत्तर-(b) : ‘प्रसारी’ और ‘पश्च धावन’ अवधारणा स्वीडिश अर्थशाध्Eाी गुन्नार मिर्डल ने आरम्भ की थी। इन्होंने विकास का संचयी करणत्व सिद्धान्त (Cumulative Causation theory) का विकास किया। इनकी प्रमुख पुस्तकें निम्न है- एशियन ड्रामा‚ अगेस्ट द स्ट्रीम। मिर्डल के सिद्धान्त के अनुसार बाजारी शक्तियों के कारण असमानता घटने के बजाए बढ़ती है क्योंकि पश्चगामी प्रभाव प्रसरण प्रभावों की तुलना में अधिक शक्तिशाली होते है।
20. वह दार्शनिक विचार जिसके अनुसार व्यक्ति अपनी प्रकृति की रचना के लिए स्वयं जिम्मेवार है‚ जाना जाता है−
(a) प्रत्यक्षवाद (b) प्रकार्यवाद
(c) अस्तित्ववाद (d) उपयोगितावाद
उत्तर-(a) : प्रत्यक्षवाद के अनुसार व्यक्ति अपनी प्रकृति की रचना के लिए स्वयं जिम्मेवार माना जाता है। प्रत्यक्षवाद का प्रार्दुभाव फ्रांस ने 1830 के दशक में फ्रांसीसि क्रान्ति के पश्वात ऑगस्ट काम्टे द्वारा हुआ था। विज्ञान को प्रत्यक्ष अनुभव से जोड़ने का प्रयास प्रत्यक्षवाद या अनुभविकतावाद कहलाता है। प्रत्यक्षवाद के विचारकों का मानना था कि प्राकृतिक विज्ञानों की ही भाँति सामाजिक विज्ञान भी कार्य कारण आधार पर विकसित होते है। अत: सामाजिक सम्बन्धों का भी विज्ञान होना चाहिए।
21. सूची-I को सूची-II से सुमेलित करें और नीचे दिए
कूटों से सही उत्तर का चयन करें− सूची-I सूची-II
(लेखक) (बसावट)
A. क्रिस्टालर 1. बाजार केंद्र
B. गॉलफिन 2. औद्योगिक नोड
C. लॉश 3. केंद्रीय स्थल
D. वेबर 4. ग्रामीण-शहरी केंद्र A B C D
(a) 3 4 1 2
(b) 4 3 2 1
(c) 1 2 3 4
(d) 2 1 4 3
उत्तर-(a) : सूची I सूची II लेखक बसावट क्रिस्टालर केन्द्रीय स्थल गॉलिफन ग्रामीण-शहरी केन्द्र लॉश बाजार केन्द्र बेवर औद्योगिक नोड
22. सूची-I को सूची-II से सुमेलित करें और नीचे दिए
कूटों से सही उत्तर का चयन करें− सूची-I सूची-II
(राज्य) (जनजाति)
A. अरूणाचल प्रदेश 1. अदियम‚कम्मार‚कोंडकप्पु
B. जम्मू और काश्मीर 2. असुर‚बिहोर लेपचा‚कोरवा
C. पश्चिम बंगाल 3. डाफला‚खम्पती‚सिंगपो
D. केरल 4. गारा‚ गद्दी A B C D
(a) 4 3 1 2
(b) 4 1 3 2
(c) 3 4 2 1
(d) 3 2 4 1
उत्तर-(c) : सूची I सूची II राज्य जनजाति अरूणाचल प्रदेश डाफला‚ खाम्पती‚ सिंगपो जम्मू और काश्मीर गारा‚ गद्दी पश्चिम बंगाल असुर‚ बिहोर‚ लेपचा‚ कोरवा केरल अदियम‚ कम्मार‚ कोंडकप्पु
23. वर्ष 2001-2011 की जनगणना के अनुसार सबसे कम वृद्धि दर दर्ज करने वाला भारतीय राज्य है−
(a) केरल
(b) पश्चिम बंगाल
(c) राजस्थान
(d) बिहार
उत्तर-(a) : वर्ष 2001 – 2011 की जनगणना के अनुसार सबसे कम वृद्धि दर करने वाला भारतीय राज्य केरल है। प्रश्नगत दिये गये राज्यों की जनसंख्या वृद्धि दर निम्न है। राज्य जनसंख्या वृद्धि दर (2011 की जनगणना के अनुसार % में) केरल 4.9 पश्चिम बंगाल 13.8 राजस्थान 21.3 बिहार 25.4 नीचे दो कथन दिए गए हैं‚ एक को अभिकथन (A) और दूसरे को कारण (R) कहा गया है। नीचे दिए गए कूटों से सही उत्तर का चयन करें−
24. अभिकथन (A)
: 400 व्यक्ति/किमी2 से ज्यादा का जनसंख्या घनत्व का विस्तार ऊपरी सिन्धु-सतलुज-गंगाब्रह्मपुत्र् ा घाटी और डेल्टा तक है।
कारण (R) : इस परिघटना का कारण उपजाऊ जलोढ़ मिट्टी‚ समतल भूमि‚ चावल और गेहँू की खेती‚ सिंचाई सुविधाएँ और अनुकूल जलवायु स्थितियों का पाया जाना है।
(a) A और R दोनों सत्य हैं और R, A की सही व्याख्या है
(b) A और R दोनों सत्य हैं परन्तु R, A की सही व्याख्या नहीं है
(c) A सत्य हैं‚ परन्त्ुा R असत्य है
(d) A असत्य है‚ परन्तु R सत्य है
उत्तर-(a) : 400 व्यक्ति /किमी2 से ज्यादा का जनसंख्या घनत्व का विस्तार ऊपरी सिन्धु-सतलज-गंगा-ब्रह्मपुत्र घाटी और डेल्टा तक है। क्योंकि परिघटना का कारण उपजाऊ जलोढ़ मिट्टी‚ समतल भूमि‚ चावल और गेहँू की खेती‚ सिचाई सुविधाएँ और अनुकूल जलवायु स्थितियों का पाया जाना है।
25. जनगणना 2001 के अनुसार जनसंख्या की दशकीय वृद्धि दर (1991-2001) है−
(a) 23.86% (b) 21.34%
(c) 24.66% (d) 24.80%
उत्तर-(b) : जनगणना 2001 के अनुसार जनसंख्या की दशकीय वृद्धि दर (1991 – 2001) 21.34 % है।
26. निम्नलिखित में से कौन-सा प्राकृतिक संसाधन लोगों को ज्यादा आजीविका प्रदान कर रहा है?
(a) जल (b) भूमि
(c) वन (d) खनिज
उत्तर-(b) : प्रश्नगत प्राकृतिक संसाधनों में भूमि से सर्वाधिक आजीविका प्रदान कर रही है। भारत एक कृषि प्रधान देश है। भारत की 70% जनसंख्या कृषि कार्यों में प्रत्यक्ष तथा अप्रत्यक्ष रूप से लगी हुयी है। भारत में काफी जनसंख्या प्राथमिक क्रिया में संलग्न है। प्राथमिक क्रिया का सीधा सम्बन्ध भूमि से है। इस प्रकार वर्तमान समय में भारत जनसंख्या का अधिकांश भाग अपनी आजीविका का भूमि से प्राप्त कर रहा है।
27. कृषि विकास के लिए निम्नलिखित में से कौन सा कारक ज्यादा महत्वपूर्ण प्रदान कर रहा है।
(a) ट्रैक्टर (b) उर्वरक
(c) सिंचाई (d) मंद ढाल
उत्तर-(c) : कृषि विकास के लिए सिचाई सर्वाधिक आजीविका प्रदान करने वाला कारक है। टैक्टर‚ उर्वरक‚ तथा मन्द ढाल होने पर भी अगर सिचाई की सुविधा नहीं रहेगी तो कृषि का विकास सम्भव नहीं है। वर्षा के अभाव में कृत्रिम रूप से खेतों तक जल पहँुचाने की क्रिया को सिचाई कहते है। नीचे दो कथन दिए गए हैं‚ जिसमें एक को अभिकथन
(A) और दूसरे को कारण (R) का नाम दिया गया है। नीचे दिए गए कूटों में से सही उत्तर का चयन करें।
28. अभिकथन (A) :
चीन की अर्थव्यवस्था विश्व की अत्यंत तेजी से बढ़ती अर्थव्यवस्था है।
कारण (R) : चीन के पास समृद्ध खनिज संसाधन और विविधतापूर्ण श्रम शक्ति है।
(a) A सत्य हैं‚ परन्त्ुा R असत्य है
(b) A असत्य है‚ परन्तु R सत्य ह
(c) A और R दोनों सत्य हैं‚ परन्तु R, A की सही व्याख्या नहीं है
(d) A और R दोनों सत्य हैं और R, A की सही व्याख्या है
उत्तर-(d) : चीन की अर्थव्यवस्था विश्व की अत्यन्त तेजी से बढ़ती अर्थव्यवस्था है इस कथन का कारण है कि चीन के पास समृद्ध खनिज संसाधन और विविधतापूर्ण श्रम शक्ति है। इस प्रकार कथन भी सत्य है और कारण भी सत्य है और कारण कथन की व्याख्या कर रहा है।
29. गन्ने की वृद्धि के लिए आदर्श न्यूनतम तापमान क्या है?
(a) 10o C (b) 15o C
(c) 20o C (d) 25o C
उत्तर-(d) : गन्ना उपोष्ण तथा उष्ण कटिबन्धिय पौधा है जिसके लिए औसत तापमान 20-25 सेÊग्रेÊ आवश्यक है। मेघाच्छादन तथा पाला गन्ने के लिए हानिकारक होते है। 100 सेमीÊ वार्षिक वर्षा उत्तम है। नमीयुक्त उपजाऊ गहरी दोमट मिट्टी अधिक उपयुक्त होती है। प्रमुख गन्ना उत्पादक राज्य- महाराष्ट्र‚ तमिलनाडु‚ कर्नाटक और आन्ध्र प्रदेश है।
30. कृषि क्षमता के माप की तकनीक का विकास किसने किया था?
(a) एस.एस. भाटिया
(b) आर.एल. सिंह
(c) एस.एम. रफिउल्लाह
(d) एल.डी. स्टाम्प
उत्तर-(a) : कृषि क्षमता की माप की तकनीक का विकास एसÊएसÊ भाटिया ने किया था।
31. अभिकथन (A) : पंचायती राज अधिनियम ने नियोजन प्रक्रिया में सहभागिता हेतु स्थानीय निकायों को अधिकार प्रदान किया।
कारण (R) : पंचायती राज संस्थानों में नियोजन हेतु त्रिस्तरीय प्रणाली है और ये अपने अधिकार क्षेत्र में विकास परियोजनाओं को कार्यान्वित कर रहे हैं।
(a) A सत्य हैं‚ परन्त्ुा R असत्य है
(b) A असत्य है‚ परन्तु R सत्य है
(c) A और R दोनों सत्य हैं और R, A की सही व्याख्या है
(d) A और R दोनों सत्य हैं लेकिन R, A की सही व्याख्या नहीं है
उत्तर-(c) : 73वें संवैधानिक संशोधन अधिनियम द्वारा संविधान में पंचायती राज व्यवस्था का प्रावधान किया गया। पंचायती राज प्रणाली त्रिस्तरीय ढाँचा है जिसमें नागरिकों को नियोजन में अधिक से अधिक सहभागी बनाने का प्रयास किया गया है। इसमें हर स्तर पर अपने अधिकार क्षेत्र को क्रियान्वित करने का दायित्व प्रदान किया गया है। इस तरह कथन एवं कारण दोनों सत्य हैं एवं कारण कथन की सही व्याख्या भी कर रहा है।
32. राजनीतिक भूगोल में प्रयुक्त हर्टलैंड सिद्धांत के प्रतिपादक कौन थे?
(a) अल्फ्रेड मेकिंडर (b) ओ.एच.के. स्पेट
(c) आर्थर गेड्डस (d) जे.ए. स्टीयर्स
उत्तर-(a) : राजनीतिक भूगोल में प्रयुक्त हर्टलैण्ड सिद्धान्त के प्रतिपादक अल्फ्रेड मैकिण्डर थे। इस परिकल्पना के द्वारा मैकिण्डर ने तत्कालीन विश्व के राजनैतिक स्वरूप के आधार पर भावी शक्तिशाली क्षेत्रों का उल्लेख किया। मैकिण्डर ने 25 जनवरी 1904 को रायल ‘जियोग्राफी आफ लन्दन’ के समक्ष ‘इतिहास का भौगोलिक धुरी क्षेत्र’ नामक शोध पत्र प्रस्तुत किया। मैकिण्डर ने यूरेशिया के आन्तरिक क्षेत्र को धुरी क्षेत्र बताया। 1919 में मैकिण्डर ने ‘डेमोक्रेटिक आइडियाज एण्ड रियलटिज’ नामक पुस्तक प्रकाशित की। मैकिण्डर ने 1943 में ‘द राउण्ड वर्ड ए विनिंग ऑफ द पीस’ नामक लेख भी प्रस्तुत किया।
33. राजनीतिक भूगोल में ‘वास स्थान’ से आपका क्या तात्पर्य है?
(a) अवास स्थल (b) वास स्थल
(c) प्रशासनिक इकाई (d) धार्मिक संगठन
उत्तर-(b) : राजनीतिक भूगोल में ‘वास स्थान’ से तात्पर्य वास स्थल से है। इस संकल्पना का प्रतिपादन रेटजेल ने किया था। इसका अर्थ होता है ऐसा भौगोलिक क्षेत्र जिसमें जीवित प्राणियों का विकास होता है। रेटजेल ने ही ‘राज्य की जैविक उत्पत्ति’ का सिद्धान्त प्रस्तुत किया। रेटजेल की प्रमुख पुस्तकें निम्न है-
1. एन्थ्रोपोज्योग्राफी
2. वाल्करकुण्डे
3. राजनैतिक भूगोल
34. निम्नलिखित में से कौन-सा कारक भारत के वर्तमान मतदान व्यवहार को अधिक प्रभावित कर रहा है?
(a) विकास
(b) जाति प्रथा
(c) धार्मिक आधार
(d) राजनीतिक दलों का पुराना आधार
उत्तर-(a) : वर्तमान सन्दर्भ में विकास‚ भारत के वर्तमान मतदान व्यवहार को सर्वाधिक प्रभावित कर रहा है।
35. ‘सिफ्टिंग कल्टीवेशन’ (स्थानांतरी कृषि) को ओडिशा में किस नाम से जाना जाता है?
(a) पोडू (b) बेवार
(c) पेंडू (d) झूम
उत्तर-(a) : सिफ्टिंग कल्टीवेशन को ओड़िशा में पोडू के नाम से जाना जाता है। इस कृषि में फसलों के हेर-फेर के स्थान पर खेतों का हेर-फेर होता है। इस कृषि में कई फसले एक साथ उगायी जाती है। खेतों का औसत आकार 0.5 से 1.5 हेक्टेयर तक होता है।
36. भारत को 13 वृहद् नियोजन क्षेत्रों में बाँटा गया है। किस लेखक ने भारत के नियोजन क्षेत्रों की रूपरेखा प्रस्तुत की है?
(a) पी. सेन गुप्ता और सदास्यूक गैलिना
(b) आर.पी. मिश्रा‚ के.वी. सुंदरम और वी.एल.एस. प्रकाश राव
(c) एल.एस. भट्ट
(d) ओ.एच.के. स्पेट और लियरमंथ
उत्तर-(b) : आरÊपीÊमिश्रा‚ केÊवीÊ सुन्दरम और पीÊएलÊ एसÊ प्रकाश राव ने भारत को 13 वृहद तथा 36 मध्यम नियोजन क्षेत्रों में बाँटा। इनके विभाजन का आधार आर्थिक विकास स्तर‚ संसाधनों का विवरण तथा उपयोग आदि है। पीÊसेन गुप्ता तथा गैलिना सदास्युक ने भारत को 6 नियेाजन प्रदेशों में विभाजित किया।
37. निम्नलिखित में से किस भूगोलवेत्ता ने प्रदेश को ‘‘भौगोलिक क्षेत्र के सांस्कृतिक रूप से एकीकृत‚ प्रथमत: आर्थिक रूप से एकीकृत और बाद में विचार‚ शिक्षा‚ मनोरंजन इत्यादि के मतैक्य से एकीकृत क्षेत्र के रूप में परिभाषित किया है‚ जो इसे अन्य क्षेत्रों से पृथक्â् करता है’’?
(a) वाइडल-डि-ला-ब्लाश (b) ए.जे. हरबर्टसन
(c) आर.ई. डिकिन्सन (d) के. यंग
उत्तर-(d) : के. यंग ने प्रदेश की भौगोलिक क्षेत्र के सांस्कृतिक रूप से एकीकृति प्रथमत: आर्थिक रूप से एकीकृत और बाद में विचार‚ शिक्षा‚ मनोरंजन इत्यादि के मतैक्य से एकीकृत क्षेत्र के रूप में परिभाषित किया है‚ जो इसे अन्य क्षेत्रों से पृथक् करता है।
38. ‘द अर्डकुंडे’ वर्ष 1817 में प्रकाशित हुई थी। इसके लेखक निम्नलिखित में से कौन हैं?
(a) ओ. पास्कल (b) कार्ल रिटर
(c) डब्ल्यू.एम. डेविस (d) जी. टेलर
उत्तर-(b) : कार्ल रिटर की सबसे महत्वपूर्ण कृति ‘द अर्डकुंडे’ थी जो 1817 से 1859 तक के वर्षो में 19 खण्डों में प्रकाशित हुयी। इनके अनुसार जिस प्रकार शरीर आत्मा के लिए होती है उसी प्रकार पृथ्वी मानव के लिए है। रिटर की अन्य रचना यूरोप‚ एक भौगोलिक ऐतिहासिक एवं सांख्यिकिय चित्रण थी जो दो खण्डों में प्रकाशित हुयी तथा क्रमबद्ध पद्धति पर आधारित है। कार्ल रिटर ने प्रादेशिक उपागम का अनुसरण किया।
39. आर्थिक विकास का क्षेत्रीय असंतुलन निम्नलिखित में से किस कारक द्वारा मुख्यत: प्रभावित होता है?
(a) संसाधनों में क्षेत्रीय असमानता
(b) निम्न संसाधन उपयोग
(c) शिक्षा की कमी
(d) व्यक्तियों द्वारा कम माँग
उत्तर-(b) : आर्थिक विकास का क्षेत्रीय असन्तुलन निम्न संसाधन उपयोग द्वारा मुख्यत: प्रभावित होता है।
40. निम्नलिखित सूची-I को सूची-II से सुमेलित करें और नीचे दिए गए कूटों से सही उत्तर का चयन करें− सूची-I सूची-II
(पुस्तक) (भूगोलवेत्ता)
A. जियोग्राफिया 1. एलेक्जेंडर वॉन हम्बोल्ट
B. कॉसमॉस 2. रेक्लूज
C. नेशंस एंड नेशनलिटीज 3. रेटजेल
D. एंथ्रोपोजियोग्राफी 4. स्ट्रैबो A B C D
(a) 2 3 1 4
(b) 1 2 3 4
(c) 4 1 2 3
(d) 3 2 4 1
उत्तर-(c) :
सूची I सूची II पुस्तक भूगोलवेत्ता
जियोग्राफिया स्ट्रेबो कॉसमॉस एलेक्जेण्डर वॉन हाम्बोल्ट नेशंस एण्ड नेशनलिटीज रेक्लूज एन्थ्रोपोजियोग्राफी रेटजेल
41. पीर पंजाल श्रेणी स्थित है−
(a) बाह्य हिमालय में (b) ट्रांस हिमालय में
(c) वृहत् हिमालय में (d) मध्य हिमालय में
उत्तर-(d) : पीरपंजाल श्रेणी मध्य हिमालय में स्थित है। यह मध्य हिमालय की सबसे लम्बी श्रेणी है। इसकी स्थिति काली तथा तिस्ता नदियों के मध्य पायी जाती है पीरपंजाल के दक्षिण पूर्व की ओर धौलाधर श्रेणी है जिस पर शिमला नगर स्थित है। मध्य हिमालय की अन्य श्रेणियाँ−नागटिब्बा मसूरी तथा महाभारत है। मध्य हिमालय की अधिकतम ऊँचाई 4500 मीÊ है।
42. सूची-I को सूची-II से सुमेलित करें और नीचे दिए गए कूटों से सही उत्तर का चयन करें− सूची-I सूची-II
(प्रमुख नदियाँ) (सहायक नदियाँ)
A. वैगेइ 1. तिस्ता
B. कावेरी 2. यमुना
C. ब्रह्मपुत्र 3. सुरूली
D. गंगा 4. अमरावती A B C D
(a) 1 3 4 2
(b) 3 4 2 1
(c) 3 4 1 2
(d) 1 3 2 4
उत्तर-(c) : प्रमुख नदियाँ सहायक नदियाँ वैगेइ सुरूली कावेरी अमरावती ब्रह्मपुत्र तिस्ता गंगा यमुना
43. निम्नलिखित में से कौन-सा कथन बहुकेन्द्रित शहर की मुख्य विशेषता दर्शाता है?
(a) परिधिगत शहरी पट्टी
(b) उप-शहरी को शहरी से प्रतिस्थापित करना
(c) सभी सड़कें व्यापार केंद्राभिमुख की ओर जाती है
(d) अनेक व्यापार केंद्राभिमुख
उत्तर-(d) : अनेक व्यापार केन्द्राभिमुख‚ बहुकेन्द्रित शहर की मुख्य विशेषता को दर्शाता है।
44. निम्नलिखित में से राज्यों की कौन-सी संख्या भारत के ‘एम्पावर्ड एक्शन-ग्रुप-स्टेट्स’ के संदर्भ में सही है?
(a) 5 (b) 12
(c) 8 (d) 16
उत्तर-(c) : एम्पावर्ड एक्शन-ग्रुप-स्टेट्स में राज्यों की संख्या 8 है। इस ग्रुप में सम्मिलित राज्य निम्न है- बिहार‚ झारखण्ड‚ मध्य प्रदेश‚ छत्तीसगढ़‚उड़ीसा‚ राजस्थान‚ उत्तर प्रदेश‚ उत्तराखण्ड।
45. भारत के निम्नलिखित क्षेत्रों में ज्यादा से कम वर्षा वाले क्षेत्रों के क्रम की पहचान करें−
1. गंगा डेल्टा 2. सह्याद्रि
3. पूर्वी उत्तर प्रदेश 4. उत्तरी गुजरात
(a) 1‚ 2‚ 3‚ 4 (b) 2‚ 1‚ 3‚ 4
(c) 3‚ 4‚ 2‚ 1 (d) 4‚ 3‚ 2‚ 1
उत्तर-(b) : भारत में ज्यादा से कम वर्षा वाले क्षेत्रों का सही क्रम निम्न है- सह्यद्रि-गंगा डेल्टा-पूर्वी उत्तर प्रदेश-उत्तरी गुजरात। सह्यद्रि प्रदेश में 200 सेमीÊ वर्षा होती है। जबकि भारत की औसत वार्षिक वर्षा 125 सेमीÊ है। लेकिन इसमें क्षेत्रीय विषमता बहुत अधिक है।
46. निम्नलिखित में कौन-सी सांख्यिकीय तकनीक में अनेक विचरणों को लघु आयामों में संक्षिप्तिकरण करना पड़ता है?
(a) काई-स्क्वायर (b) सहसंबंध
(c) घटक विश्लेषण (d) समाश्रयण
उत्तर-(c) : घटक विश्लेषण सांख्यिकीय तकनीक में अनेक विचरणों को लघु आयामों में संक्षिप्तीकरण करना पड़ता है। सहसम्बन्घ – इसके अन्तर्गत यह ज्ञात किया जाता है कि दो या दो से अधिक समंक श्रेणियों के चर मूल्यों में कोई पारस्परिक सम्बन्ध है अथवा नहीं है। और यदि कोई पारस्परिक सम्बन्ध है तो उसकी दिशा व परिणाम क्या है। सह-सम्बन्ध गुणांक हमेशा +1 तथा -1 के मध्य का कोई अंक होता है। जब सह सम्बन्ध का मान शून्य होता है तो दोनों चरों के मध्य सह-सम्बन्ध नहीं पाया जाता है।
47. निम्नलिखित में से कौन-सा औसत केंद्रीय प्रवृत्ति का माप नहीं है?
(a) सुसंगत माध्य (b) भौगोलिक माध्य केंद्र
(c) ज्यामितिक माध्य (d) अंकगणितीय माध्य
उत्तर-(b) : भौगोलिक माध्य केन्द्र औसत केन्द्रीय प्रवृत्ति का माप नहीं है। औसत केन्द्रीय प्रवृत्ति की माप है- सुसंगत माध्य ज्यामितिक माध्य‚ अंकगणितीय माध्य।
1. सुसंगत माध्य/हरात्मक माध्य/Harmonic Mean किसी समंक-श्रेणी में दिये गये मूल्यों के व्युत्क्रमों के समान्तर माध्य का व्युत्क्रम‚ उस श्रेणी का सुसंगत माध्य कहलाता है। यह माध्य प्रति घण्टा औसत वेग ज्ञात करने के लिए यह माध्य उपयोगी है।
2. ज्यामितिय माध्य/गुणोत्तर माध्य/Geometric Mean अनुपातों तथा प्रतिशत वृद्धि दरों का औसत ज्ञात करने के लिए यह माध्य उपयोगी रहता है। यही कारण है कि जनसंख्या वृद्धि तथा किसी वस्तु के उत्पादन‚ उपभोग आयात व निर्यात आदि मूल्यों में होने वाले-प्रतिशत परिवर्तनों की औसत दर ज्ञात करने के लिए इस माध्य का प्रयोग किया जाता है।
3. अंकगणितीय माध्य साधारण बोलचाल की भाषा में समान्तर माध्य का अर्थ औसत से है। माध्यिका बहुलक के विपरीत यह माध्य विशिष्ट बीजगणितीय गुणों के कारण सांख्यिकीय विश्लेषण में अनेक विधियों जैसेविष् ामता‚ सह-सम्बन्ध आदि में इसका काफी उपयोग किया जाता है।
48. सूची-I को सूची-II के साथ सुमेलित करें और नीचे दिए कूटों से सही उत्तर का चयन करें− सूची-I सूची-II
(उपग्रह) (देश)
A. IRS 1. भारत
B. SPOT 2. यूरोप
C. ENVISAT 3. यू.एस.ए.
D. IKONOS 4. फ्रांस A B C D
(a) 1 4 3 2
(b) 1 3 4 2
(c) 2 1 3 4
(d) 4 3 1 2
उत्तर-(b) :
उपग्रह देश
IRS भारत SPOT यूÊएसÊएÊ ENVISAT फ्रांस 1KONOS यूरोप
49. निम्नलिखित में से कौन-सा आरेख नगरीय केंद्रों के स्थानिक विस्तार के नगरीय भूमि उपयोग के प्रकारों के वितरण को सर्वाधिक उपयुक्त रूप से चित्रित करता है?
(a) आयतचित्र (b) गोलाकार
(c) बार (d) पाई
उत्तर-(d) : पाई आरेख नगरीय केन्द्रों के स्थानिक विस्तार के नगरीय भूमि उपयोग के प्रकारों के वितरण को सर्वाधिक उपयुक्त रूप से चिन्हित करता है।
50. 1/50, 000 पैमाने वाले मानचित्र के आकार में 5-गुना वृद्धि की जाती है‚ बड़े मानचित्र के लिए निम्नलिखित में से कौन-सा पैमाना सही है?


उत्तर-(c)

Top
error: Content is protected !!