You are here
Home > Current Affairs Hindi > हिंदी करेंट अफेयर्स प्रश्नोत्तरी : 31 मई, 2019

हिंदी करेंट अफेयर्स प्रश्नोत्तरी : 31 मई, 2019

1. विश्व तम्बाकू निषेध दिवस कब मनाया जाता है?


उत्तर – 31 मई


31 मई को पूरे विश्व में विश्व तंबाकू निषेध दिवस मनाया जाता है। विश्व तंबाकू निषेध दिवस मनाने का उदेश्य लोगों को तंबाकू और धूम्रपान से होने वाले सभी स्वास्थ्य संबंधी खतरों और परेशानियों से अवगत कराते हुये सम्पूर्ण विश्व को तंबाकू मुक्त और स्वस्थ बनाना है।


मुख्य बिन्दु


वर्ष 1987 में विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) द्वारा विश्व तंबाकू निषेध दिवस मनाने की घोषणा की गयी थी। विश्व तंबाकू निषेध दिवस के उत्सव पर विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने तंबाकू उत्पादो पर कर बढ़वाने की भी सभी देशो से अपील की है, ताकि तंबाकू सेवन के आदी होने वाले लोगों की आगामी संख्या मे गिरावट आ सके। विश्व स्वास्थ्य संगठन द्वारा प्रस्तुत आंकड़ों से पता चलता है, कि हर साल 10 में से कम से कम एक व्यक्ति और दुनिया भर में 60 लाख लोग तंबाकू के सेवन के कारण मर जाते हैं। यदि इस समस्या को नियंत्रित नहीं किया गया तो अनुमान लगाया जा रहा है, कि वर्ष 2030 तक प्रतिवर्ष मरने वाले लोगों की संख्या 60 लाख से बढ़कर 80 लाख तक पहुँच सकती है।


2. हाल ही में किस राज्य ने ई-सिगरेट पर प्रतिबन्ध लगाया?


उत्तर – राजस्थान


राजस्थान सरकार ने हाल ही में ई-सिगरेट के उत्पादन, वितरण, बिक्री तथा विज्ञापन पर प्रतिबन्ध लगा दिया है।


मुख्य बिंदु


राजस्थान की कांग्रेस सरकार ने अपने मैनिफेस्टो ने युवाओं में तम्बाकू के उपयोग को करने करने के लिए प्रतिबद्धता ज़ाहिर की थी। राजस्थान सरकार ने ऑनलाइन तथा ऑफलाइन ई-सिगरेट के विज्ञापन पर रोक लगाई है। इसके अतिरिक्त राजस्थान में ई-सिगरेट के उप्तादन, भण्डारण, वितरण तथा भण्डारण पर रोक लगायी है। इस निर्णय की घोषण 31 मई, 2019 को विश्व तम्बाकू निषेध दिवस के अवसर पर की गयी।


ई-सिगरेट व इलेक्ट्रॉनिक निकोटीन डिलीवरी सिस्टम (ENDS)


ENDS एक प्रकार की डिवाइस होती हैं जो एक विलय को ऊष्मा प्रदान करके एरोसोल का निर्माण करती हैं, इसमें फ्लेवर होते हैं। ई-सिगरेट ENDS का एक प्रमुख प्रोटोटाइप है। यह डिवाइस जलती नहीं है और न ही यह तम्बाकू का उपयोग करती हैं। यह डिवाइस विलय को वाष्पीकृत करती है, जिसे उपभोक्ता श्वास के साथ अन्दर लेता है। इसके विलय में निकोटीन, प्रोपाइलिन ग्लाइकोल इत्यादि का उपयोग किया जाता है।


विश्व स्वास्थ्य संगठन के अनुसार मॉरिशस, ऑस्ट्रेलिया, सिंगापुर, दक्षिण कोरिया, श्रीलंका, थाईलैंड, ब्राज़ील, मेक्सिको, उरुग्वे, बहरीन, ईरान, सऊदी अरब और संयुक्त अरब अमीरात में ENDS पर प्रतिबन्ध लगाया जा चुका है। ENDS का सेवन गर्भवती महिलाओं व बच्चों के लिए काफी नुकसानदेह होता है। इसमें निकोटीन तथा अन्य मादक पदार्थों व रसायनों का उपयोग किया जाता है। ENDS का सेवन गर्भवती महिलाओं में भ्रूण के विकास को प्रभावित कर सकता है। इसके सेवन से कार्डियोवैस्कुलर बीमारियाँ भी हो सकती हैं।


3. हाल ही में भारत की नौसेना का प्रमुख किसे नियुक्त किया गया?


उत्तर – करमबीर सिंह


करमबीर सिंह भारतीय नौसेना के नए चीफ बने, उन्होंने एडमिरल सुनील लाम्बा का स्थान लिया है। एडमिरल सुनील लाम्बा 31 मई को सेवानिवृत्त हुए। इससे पहले वाईस एडमिरल करमबीर सिंह पूर्वी नौसैनिक कमांड में फ्लैग ऑफिसर कमांडिंग इन चीफ के रूप में कार्यरत्त थे।


भारतीय नौसेना


देश की समुद्री सीमाओं की सुरक्षा का भार भारतीय नौसेना पर है। वर्तमान में भारतीय नौसेना में 67,228 सैनिक/कर्मचारी कार्यरत्त हैं। भारतीय नौसेना की स्थापना 1612 ईसवी में हुई थी। महान मराठा शासक छत्रपति शिवाजी को भारतीय नौसेना का पिता कहा जाता है।भारतीय नौसेना का आदर्श वाक्य “शं नो वरुणः” है।


मार्च 2018 के अनुसार भारतीय नौसेना के पास एक एयरक्राफ्ट कैरिएर, 1 उभयचर परिवहन डॉक, 8 लैंडिंग शिप टैंक, 11 डिस्ट्रॉयर, 13 फ्रिगेट, 1 परमाणु उर्जा संचालित पनडुब्बी, 1 बैलिस्टिक मिसाइल युक्त पनडुब्बी, 14 परंपरागत पनडुब्बीयां, 22 कार्वेट, 4 फ्लीट टैंकर तथा अन्य कई पोत हैं।


4. हाल ही में किस राज्य के पुलिस बल ने ओवर-स्पीडिंग को रोकने के लिए लेजर गन का उपयोग करने का निर्णय लिया है?


उत्तर – गुजरात


गुजरात सरकार ने राज्य की ट्रैफिक पुलिस को ओवर-स्पीडिंग डिटेक्ट करने के लिए “लेज़र गन” प्रदान करना है। गुजरात की ट्रैफिक पुलिस ने 3.9 करोड़ रुपये की लागत से 39 लेजर गन खरीदी हैं। इन लेज़र गन के द्वारा वाहनों को ओवर-स्पीडिंग का पता लगाया जा सकता है। इसके द्वारा एक किलोमीटर दूर भी एक सेकंड में तीन वाहनों की गति एक साथ रिकॉर्ड की जा सकती है। यह स्पीड गन एक किस्म की ऑनलाइन डिवाइस है, इसके द्वारा वाहन के फोटो को ई-मेमो के साथ वाहन के मालिक को भेजा जा सकता है। इसके द्वारा आवश्यकता पड़ने पर चालान को ऑफलाइन भी ऑन द स्पॉट प्रिंट किया जा सकता है। इसके द्वारा ओवर-स्पीडिंग वाहन के विडियो भी रिकॉर्ड किये जा सकते हैं।


5. हाल ही में किस IIT ने अधोसंरचना परियोजनाओं पर एकीकृत डेटाबेस (IDIP) को लांच किया?


उत्तर – IIT मद्रास


IIT मद्रास ने हाल ही में अधोसंरचना परियोजनाओं पर एकीकृत डेटाबेस (IDIP) को लांच किया। इस डेटाबेस को IIT बॉम्बे में आयोजित 15वीं विश्व परिवहन अनुसन्धान कांफ्रेंस में लांच किया गया। इस डाटा प्लेटफार्म का उद्देश्य अधोसंरचना विकास की दक्षता को बढ़ावा देना है और प्रभावशाली निर्णय निर्माण को सुनिश्चित करना है। इसका मुख्य फोकस सड़कों पर है। अधोसंरचना सेक्टर में सड़कों के लिए सबसे अधिक निजी निवेश प्राप्त हुआ है। भारत के सड़क सेक्टर का PPP (पब्लिक-प्राइवेट पार्टनरशिप) कार्यक्रम विश्व में सबसे बड़ा है। इस प्लेटफार्म के द्वारा प्रोजेक्ट लाइफ साइकिल को कवर किया जाएगा।


6. हाल ही में मध्य प्रदेश के किस हवाईअड्डे को अंतर्राष्ट्रीय हवाईअड्डा घोषित किया गया?


उत्तर – देवी अहिल्या बाई होल्कर हवाईअड्डा, इंदौर


मध्य प्रदेश के देवी अहिल्या बाई होल्कर हवाईअड्डे को अंतर्राष्ट्रीय हवाईअड्डा घोषित किया गया। केंद्र सरकार ने पासपोर्ट (भारत में प्रवेश) नियम, 1950 के नियम 3 के उप-नियम (बी) के तहत इस हवाईअड्डे को अंतर्राष्ट्रीय स्टेटस प्रदान किया गया। इस हवाईअड्डे का नाम इंदौर की महारानी अहिल्या बाई होल्कर के नाम पर रखा गया है। यह क्षेत्र के सबसे व्यस्त हवाईअड्डों में से एक है।


7. किस IIT ने अन्तरिक्ष टेक्नोलॉजी के लिए इसरो के साथ समझौते पर हस्ताक्षर किये हैं?


उत्तर – IIT गुवाहाटी


IIT गुवाहाटी ने हाल ही में इसरो के साथ समझौते पर हस्ताक्षर किये, इस समझौते के तहत IIT गुवाहाटी के प्रांगण में स्पेस टेक्नोलॉजी सेल (STC) की स्थापना की जायेगी। यह STC उत्तर-पूर्व क्षेत्र में अपनी तरह की पहली सेल होगी, इसका उद्देश्य अन्तरिक्ष टेक्नोलॉजी के क्षेत्र में अनुसन्धान व क्षमता निर्माण प्रक्रिया को बढ़ावा देना है। STC के द्वारा इसरो और IIT गुवाहाटी आधुनिक विश्व की अन्तरिक्ष विज्ञान से सम्बंधित समस्याओं के समाधान के लिए मिलकर कार्य कर सकते हैं।


8. अमेरिका ने हाल ही में किस देश को जनरलाइज्ड सिस्टम ऑफ़ प्रेफेरंस के तहत मिलने वाले लाभों को समाप्त किया?


उत्तर – भारत


व्यापार व निवेश नीतियों पर बढ़ते विवाद को लेकर अमेरिका भारत को जनरलाइज्ड सिस्टम ऑफ़ प्रेफरेंस (GSP) के तहत मिलने वाले लाभों को समाप्त कर दिया है। हाल ही में राष्ट्रपति ट्रम्प ने कांग्रेस को इस सन्दर्भ में अधिसूचित किया है।


अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने बड़ी अर्थव्यवस्थाओं के साथ व्यापार घाटे को कम करने के लिए कड़ी कारवाई करने के लिए प्रतिबद्धता जताई थी।


जनरलाइज्ड सिस्टम ऑफ़ प्रेफरेंस (GSP)


जनरलाइज्डसिस्टम ऑफ़ प्रेफरेंस (GSP) की स्थापना 1976 में व्यापार अधिनियम, 1974 के तहत की गयी थी। यह अमेरिका का एक व्यापारिक कार्यक्रम है। इसका उद्देश्य विकासशील देशों के आर्थिक विकास को बढ़ावा देना है। इसके तहत 129 देशों के 4,800 उत्पादों को निशुल्क प्रवेश की सुविधा प्रदान की जाती है।


भारत के साथ व्यापार पर असर


भारत को जनरलाइज्ड सिस्टम ऑफ़ परेफरेंस (GSP) की सुविधा समाप्त करने से लगभग 2,000 भारतीय उत्पादों को निशुल्क प्रवेश की सुविधा नहीं मिल पाएगी। इससे छोटे व मझौले उद्योगों को काफी नुकसान हो सकता है। इससे अमेरिका में भारतीय निर्यातों पर भी विपरीत प्रभाव पड़ेगा।


9. हाल ही में सुर्ख़ियों में रहा ईस्ट कंटेनर टर्मिनल किस देश में स्थित है?


उत्तर – श्रीलंका


श्रीलंका, भारत और जापान ने ईस्ट कंटेनर टर्मिनल को संयुक्त रूप से विकसित करने के लिए MoC (Memorandum of Cooperation) पर हस्ताक्षर किये हैं। यह टर्मिनल श्रीलंका के कोलोंबो बंदरगाह में स्थित है।


मुख्य बिंदु


यह तीनों देशों ईस्ट कंटेनर टर्मिनल ने विकास के लिए 2018 से समझौता वार्ता कर रहे थे। यह टर्मिनल चीन के सहयोग से निर्मित की जा रही अंतर्राष्ट्रीय फाइनेंशियल सिटी (पोर्ट सिटी) से मात्र तीन किलोमीटर दूर है।


ईस्ट कंटेनर टर्मिनल का 100% स्वामित्व श्रीलंका पोर्ट्स अथॉरिटी (SLPA) का पास ही रहेगा। इस टर्मिनल का कार्य “टर्मिनल ऑपरेशंस कंपनी” द्वारा किया जाएगा, इस कंपनी का स्वामित्व संयुक्त होगा। इस प्रोजेक्ट में श्रीलंका का हिस्सा 51% होगा। शेष 49% हिस्सा भारत और जापान के पास होगा।


इस संयुक्त परियोजना की लागत 500 मिलियन डॉलर से 700 मिलियन डॉलर तक आ सकती है। इसके लिए जापान 40 वर्ष की अवधि के लिए 0.1% ब्याज दर पर सॉफ्ट लोन प्रदान करेगा।


ईस्ट कंटेनर टर्मिनल का 70% परिवहन कार्य भारत के साथ होगा है, इसलिए इस टर्मिनल का भारत के लिए काफी अधिक वाणिज्यिक महत्व है।


10. इसरो ने अंतरिक्षयात्रियों के प्रशिक्षण के लिए किस सैन्य बल के साथ समझौते पर हस्ताक्षर किये हैं?


उत्तर – भारतीय वायु सेना


इसरो और भारतीय वायुसेना ने मिशन गगनयान के लिए अंतरिक्षयात्रियों को प्रशिक्षण प्रदान करने के लिए एक समझौते पर हस्ताक्षर किये हैं। इस समझौते में बेंगलुरु में बेस्ड भारतीय वायुसेना की मेडिकल शाखा “इंस्टिट्यूट ऑफ़ एयरोस्पेस मेडिसिन” को शामिल किया गया है, यह भारत के पहले अंतरिक्षयात्रियों के प्रशिक्षण के लिए नोडल केंद्र के रूप में कार्य करेगा। गौरतलब है कि मिशन गगनयान 2022 में लांच किया जायेगा, इसके द्वारा भारतीय अंतरिक्षयात्रियों को अन्तरिक्ष में भेजा जायेगा।

« पिछला अपडेटअगला अपडेट »

Advertisement

Top
error: Content is protected !!