You are here
Home > Books > 5. यातायात (EVS Environment Studies for CTET & TET in Hindi)

5. यातायात (EVS Environment Studies for CTET & TET in Hindi)

5. यातायात

परिचय

एक स्थान से दूसरे स्थान पर आने-जाने की प्रक्रिया को यातायात कहते हैं अर्थात् एक स्थान से दूसरे स्थान की यात्रा। यात्रा दो प्रकार से की जा सकती है। एक तो पैदल और दूसरी परिवहन द्वारा। सामान्य यात्रा, तो पैदल भी की जा सकती है, परंतु लंबी यात्रा के लिए परिवहन की आवश्यकता पड़ती है।

यातायात के साधन

यात्रा को सहज और सफल बनाने में यातायात के चार प्रमुख साधन हैं। सड़क मार्ग, रेल मार्ग, जल मार्ग एवं वायु मार्ग।
सड़क मार्ग: सड़क हमारी यात्रा को सफल बनाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। सड़कें छोटे-छोटे गावों से लेकर बड़े-बड़े शहरों, कस्बों, पहाड़ों, रेगिस्तानों तथा पर्वतों पर फैली हुई हैं। भारत में अनेक राष्ट्रीय एवं राज्य राजमार्ग हैं। प्रति 100 वर्ग किमी क्षेत्र में सड़कों की लंबाई को सड़क घनत्व कहा जाता है। भारतवर्ष में सड़कों का वितरण एक समान नहीं है। वर्ष 1996-97 ई. में सड़कों का औसत राष्ट्रीय घनत्व 75 किमी प्रति 100 वर्ग कि.मी था। सड़कों को निम्न छ: वर्गों में विभक्त किया गया है।

Top
error: Content is protected !!